Madrashighcourt, Itrules, Pressfreedom, मद्रासहाईकोर्ट, आईटीनियम, प्रेसफ्रीडम, मीडियाकीआजादी

Madrashighcourt, Itrules

बॉम्बे हाईकोर्ट के बाद मद्रास उच्च न्यायालय ने नए आईटी नियमों के कुछ प्रावधानों पर रोक लगाई

बॉम्बे हाईकोर्ट के बाद मद्रास उच्च न्यायालय ने नए आईटी नियमों के कुछ प्रावधानों पर रोक लगाई #MadrasHighCourt #ITrules #PressFreedom #मद्रासहाईकोर्ट #आईटीनियम #प्रेसफ्रीडम #मीडियाकीआजादी

18-09-2021 00:30:00

बॉम्बे हाईकोर्ट के बाद मद्रास उच्च न्यायालय ने नए आईटी नियमों के कुछ प्रावधानों पर रोक लगाई MadrasHighCourt ITrules PressFreedom मद्रासहाईकोर्ट आईटीनियम प्रेसफ्रीडम मीडियाकीआजादी

डिजिटल न्यूज़ पब्लिशर्स एसोसिएशन, पत्रकार मुकुंद पद्मनाभन और संगीतकार टीएम कृष्णा की नए आईटी नियमों की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली जनहित याचिकाओं पर अदालत ने नियम 9 के उपबंध (1) एवं (3) पर रोक लगाई है. ये उप-खंड आचार संहिता के पालन को निर्धारित करते हैं.

नई दिल्ली:मद्रास हाईकोर्ट ने बीते गुरुवार को हाल ही में लागू, जिसे नए आईटी नियम के नाम से भी जाना जाता है, के कुछ प्रावधानों पर रोक लगा दी.पिछले महीने ऐसे ही मामले मेंबॉम्बे हाईकोर्ट ने ऐसा ही आदेशपारित किया था.अदालत ने नियम 9 के उपबंध (1) एवं (3) पर रोक लगा दी. ये उप-खंड आचार संहिता के पालन को निर्धारित करते हैं. इन उपबंधों को इस साल फरवरी में मूल आईटी नियमों में शामिल किया गया था.

महंगे पेट्रोल पर प्रियंका गांधी का तंज, हवाई चप्पल वालों का सड़क पर सफर भी मुश्किल पश्चिम बंगाल में बीजेपी नेता की गोली लगने से मौत, राजनीतिक विवाद तेज - BBC Hindi पाकिस्तान में महिला ने एक साथ सात बच्चों को दिया जन्म - BBC News हिंदी

बॉम्बे हाईकोर्ट ने 14 अगस्त को सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) नियम, 2021 के कुछ हिस्सों पर अंतरिम रोक लगा दी थी. नियम के तहत यह जरूरी है कि सभी ऑनलाइन प्रकाशक ‘आचार संहिता’ का पालन करें.मद्रास उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश संजीव बनर्जी और जस्टिस पीडी ऑडिकेसवालु की पीठ ने प्रख्यात संगीतकार टीएम कृष्णा, पत्रकार मुकुंद पद्मनाभन और डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स एसोसिएशन की जनहित याचिकाओं पर अंतरिम आदेश पारित करते हुए यह रोक लगाई है.

इस एसोसिएशन में 13 मीडिया संस्थान और अन्य लोग शामिल हैं. इन याचिकाओं में नए नियमों की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई है. इन याचिकाओं में विशेष रूप से आईटी नियम 2021 के नियम 9 को चुनौती दी गई थी, जो केंद्र सरकार को निगरानी तंत्र स्थापित करने की अनुमति देता है. headtopics.com

इसके पहले चरण में प्रकाशकों द्वारा स्वत: विनियमन, दूसरे चरण में प्रकाशकों के स्वत: विनियामक निकायों द्वारा स्वत: विनियमन और तीसरे चरण में केंद्रीय सरकार द्वारा निरीक्षण तंत्र स्थापित करने का प्रावधान है.पीठ ने कहा कि याचिकाकर्ताओं की इस दलील में प्रथमदृष्टया आधार है कि सरकार द्वारा मीडिया को नियंत्रित करने का तंत्र प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक दोनों मीडिया को उनकी आजादी और लोकतांत्रिक सिद्धांतों से वंचित कर सकता है.

दूसरी ओर वरिष्ठ अधिवक्ता राजशेखर राव द्वारा यह भी अदालत के ध्यान में लाया गया कि आईटी नियमों के नियम 3 और 7 सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 के मूल कानून में शामिल किए बिना ही लागू कर दिए गए हैं.अदालत को बताया गया कि उच्चतम न्यायालय में इसी तरह के मामले लंबित हैं और उन पर अगले महीने के पहले सप्ताह में सुनवाई होनी है. इस पर उच्च न्यायालय ने मामले की सुनवाई अक्टूबर के अंतिम सप्ताह के लिए स्थगित कर दी.

बता दें किसूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम, 2021(आईटी नियम) को चुनौती देने वाली कई याचिकाएं दिल्ली और मद्रास हाईकोर्ट सहित विभिन्न उच्च न्यायालयों में लंबित हैं.याचिकाएं आईटी नियमों की संवैधानिक वैधता को चुनौती देती हैं, जिसमें विशेष रूप से नियमों के भाग III को चुनौती दी गई है, जो डिजिटल मीडिया प्रकाशनों को विनियमित करना चाहता है.

याचिकाओं का तर्क है, नियमों का भाग III आईटी अधिनियम (जिसके तहत नियमों को फ्रेम किया गया है) द्वारा निर्धारित अधिकार क्षेत्र से परे है और यह संविधान के विपरीत भी है.कई व्यक्तियों और संगठनों- जिनमेंद वायर, द न्यूज मिनट की धन्या राजेंद्रन, द वायर के एमके वेणु, द क्विंट, प्रतिध्वनि और लाइव लॉ अपने-अपने राज्यों में विशेष रूप से महाराष्ट्र, केरल, दिल्ली और तमिलनाडु के उच्च न्यायालयों का रुख कर चुके हैं. headtopics.com

केरल में पिछले 24 घंटे में बारिश में आई कमी, मौसम विभाग का अब उत्‍तराखंड और वेस्‍ट यूपी को लेकर रेड अलर्ट विभिन्न मानवाधिकार उल्लंघनों के बीच आयोग के अध्यक्ष द्वारा सरकार की तारीफ़ के क्या मायने हैं पंजाब : दो लड़कियों को रौंदते निकल गई कार, CCTV फुटेज से पकड़ा गया आरोपी इंस्पेक्टर

वहीं, डिजिटल न्यूज में बड़ी हिस्सेदारी रखने वाले 13 परंपरागत अखबार और टेलीविजन मीडिया की कंपनियों ने भी डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स एसोसिएशन (डीएनपीए) के तहतमद्रास हाईकोर्ट में एक रिट याचिकादायर करते हुए इंफॉरमेशन टेक्नोलॉजी (इंटरमीडियरी गाइडलाइंस एंड डिजिटल मीडिया एथिक्स कोड) रूल्स, 2021 को संविधान विरोधी, अवैध और संविधान के अनुच्छेद 14, अनुच्छेद 19 (1) क और अनुच्छेद 19 (1) छ का उल्लंघन करने वाला घोषित करने की मांग की है.

पत्रकार निखिल वागले और वेबसाइट द लीफलेट ने नियमों को बॉम्बे हाईकोर्ट में चुनौती दी है. कन्नड समाचार आउटलेट प्रतिध्वनि ने कर्नाटक उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है. भारत की सबसे बड़ी समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) ने भी नियमों के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया है.

बीते 9 जुलाई को लाइव लॉ को दी गई इसी तरह की सुरक्षा का हवाला देते हुए केरल उच्च न्यायालय ने यह भी आदेश दिया कि सरकार द्वारा आईटी नियमों के तहतन्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जा सकतीहै. एनबीए कई समाचार चैनलों का प्रतिनिधित्व करता है.

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने आईटी नियमों को चुनौती देने वाले मामलों की विभिन्न हाईकोर्टों में चल रहीकर दिया था.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

दैनिक भास्कर से बोलीं कश्मीर की बेटी श्रद्धा बिंद्रू: मैं दुनिया को बताना चाहती हूं कि कश्मीर हमारा है, कोई डरा-धमकाकर हमारे हौसले को पस्त नहीं कर सकता

‘तुम सिर्फ शरीर को मार सकते हो, मेरे पिता की आत्मा को नहीं। अगर हिम्मत है तो सामने आओ, तुम लोग केवल पत्थर फेंक सकते हो या पीछे से गोली चला सकते हो। मैंने हिंदू होते हुए भी कुरान पढ़ी है। कुरान कहती है कि शरीर का जो चोला है, यह तो बदल जाएगा, लेकिन इंसान का जो जज्बा है, वह कहीं नहीं जाएगा। माखनलाल बिंद्रू इसी जज्बे में हमेशा जिंदा रहेंगे।’ यह कहना है आतंकियों को सरेआम ललकारने वालीं श्रीनगर में कश्मीर... | वुमन भास्कर ने श्रद्धा बिंद्रू से बात की। उन्होंने कश्मीर और कश्मीरियत का हवाला देते हुए कहा-हम इसी मिट्‌टी में पैदा हुए हैं, हमें इससे प्यार है। हमारे पिता ने भी इसी के लिए जान दी।

Farm Laws के एक साल पर SAD का Protest, पुलिस ने बॉर्डर पर ही रोका, देखेंकृषि कानूनों का विरोध करने के लिए दिल्ली आ रहे अकाली दल के कार्यकर्ताओं और पुलिस में तनातनी है. दिल्ली पुलिस ने जगह जगह बैरिकेडिंग लगा कर इन्हें रोक दिया है. अकाली दल के कार्यकर्ताओं ने पुलिस और सरकार के खिलाफ नारेबाज़ी भी की. तीन कृषि कानूनों को बने एक साल पूरा होने पर अकाली दल ने इस दिन को काला दिवस मनाने का एलान किया है. गुरद्वारा रक़ाबगंज से संसद तक प्रोटेस्ट मार्च निकलने के लिए बड़ी तादाद में रात में ही पंजाब से लोगों को बुलाया था. देखें NationalUnemploymentDay

अफगानिस्तान की स्थिति पर अमेरिका से बात, भारतीय नागरिक के अपहरण पर MEA ने दिया बयानभारत के विदेश मंत्रालय ने जारी बयान में साफ कर दिया है कि अफगानिस्तान स्थिति पर देश की कई दूसरे मुल्कों संग बातचीत जारी है. अमेरिका से भी लगातार संवाद स्थापित किया जा रहा है.

'भड़काऊ ': शीर्ष मेडिकल संस्‍था के प्रमुख ने कोविड के असर पर अमेरिकी रिपोर्ट को नकाराआईसीएमआर के प्रमुख बलराम भार्गव ने भी कहा, यह एक भड़काने वाला और जबरन ध्‍यान आकर्षित करने वाला लेख है. इसे तब प्रकाशित किया गया है जब भारत इस दिशा में अच्‍छा कर रहा है. हमारा वैक्‍सीनेशन शानदार है और यह ध्‍यान को हटाने की कोशिश है. जिन मुद्दों को उठाया गया है, वे पहले ही खत्‍म हो चुके हैं और इन पर ध्‍यान देने की जरूरत नहीं है.

दिल्ली सरकार ने दिवाली के दौरान पटाखों के भंडारण, बिक्री और उपयोग पर लगाई रोकदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले साल व्यापारियों द्वारा पटाखों के भंडारण के बाद प्रदूषण की गंभीरता को देखते हुए देर से पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया, जिससे व्यापारियों को नुकसान हुआ था. सभी व्यापारियों से अपील है कि इस बार पूर्ण प्रतिबंध को देखते हुए किसी भी तरह का भंडारण न करें. बिल्कुल सही निर्णय राष्ट्र द्रोही लोगों को सहन होगा!

रक्षा मंत्रालय के नए भवन का प्रधानमंत्री मोदी ने किया उद्घाटन, विरोधियों पर साधा निशाना, बोले...रक्षा मंत्रालय के नए भवन का प्रधानमंत्री मोदी ने किया उद्घाटन, विरोधियों पर साधा निशाना, बोले- जिस सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के पीछे डंडा लेकर पड़े थे लोग, उसी का हिस्सा है ये

आर्थिक पतन के कगार पर अफगानिस्तान, नकदी संकट ने बढ़ाई तालिबान सरकार की मुश्किलेंअफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान का कब्ज़ा हुए अब एक महीने का वक़्त हो गया है। इस बीच अफगानिस्तान में कैश की भारी किल्लत है और फिलहाल तालिबान के सामने सबसे बड़ी चुनौती सामने मुंह बाये खड़े आर्थिक संकट का समाधान खोजना है।