बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा, CAA के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले गद्दार नहीं

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा, CAA के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले गद्दार नहीं: प्रेस रिव्यू

15-02-2020 06:58:00

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा, CAA के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले गद्दार नहीं: प्रेस रिव्यू

हैदराबाद के निज़ाम का ख़ज़ाना आएगा भारत और बीदर में जेल में बंद दोनों महिलाओं को मिली ज़मानत.

शेयर पैनल को बंद करेंइमेज कॉपीरइटEPAअगर कोई केंद्र सरकार के नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करता है तो उसे गद्दार नहीं कहा जा सकता. ये कहना है बॉम्बे हाई कोर्ट की औरंगाबाद बेंच का.इंडियन एक्सप्रेसमें छपी एक ख़बर के मुताबिक़ बॉम्बे हाई कोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने महाराष्ट्र के बीड में विरोध प्रदर्शन की अनुमति के मामले में एडिशनल ज़िला मजिस्ट्रेट के दिए आदेश को पलटते हुए कहा है कि किसी को सिर्फ़ इसलिए राष्ट्र-विरोधी नहीं कहा जा सकता क्योंकि वो किसी क़ानून का विरोध करना चाहता है.

भोपाल में फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में क्या क्या हुआ - BBC News हिंदी चुनाव आयोग ने कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा छीना, अब प्रचार किया तो पूरा खर्च कैंडिडेट उठाएगा अमेठी में दलित प्रधान के पति को जिंदा जलाया, सांसद स्मृति के दखल के बाद एक गिरफ्तार

कोर्ट के दो जजों की डिवीज़नल बेंच ने कहा कि किसी विरोध को सिर्फ़ इसलिए रोका नहीं जा सकता क्योंकि वो सरकार के ख़िलाफ़ है.बीड में रहने वाले 45 वर्षीय इफ्तिख़ार शेख़ ने बीते महीने अनिश्चितकालीन धरने पर बैठने के लिए पुलिस से इजाज़त मांगी थी. एडिशनल ज़िला मजिस्ट्रेट के एक आदेश के हवाला देते हुए पुलिस ने उनकी अर्जी को खारिज कर दिया गया था. इसके बाद इफ्तिख़ार ने कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था.

अख़बार कहता है कि कोर्ट ने कहा कि नौकरशाही को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अगर लोगों को लगता है कि कोई ख़ास क़ानून उनके अधिकारों पर हमला है तो वे अपने हकों की रक्षा के लिए आगे आ सकते हैं. साथ ही कोर्ट ने कहा कि हम नहीं तय कर सकते कि अधिकारों के पालन के कारण कानून व्यवस्था की समस्या होगी या नहीं.

कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि वो देश और धर्म या देश की संप्रभुता के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी नहीं करेंगे और शांतिपूर्ण विरोध करेंगे.हैदराबाद के निज़ाम काख़ज़ानाजनसत्तामें छपी एक खबर के अनुसार लंदन की एक अदालत में चल रहा हैदराबाद के निज़ाम के ख़ज़ाने का मामला भारत ने जीत लिया है. इसके बाद अब इस ख़ज़ाने के 35 मिलियन पाउंड (3 करोड़ 50 लाख पाउंड) भारत को मिल गए हैं.

70 साल पुराने इस मामले में पाकिस्तान हार गया है और अब उसे भारत को केस लड़ने में हुए खर्च का 65 फीसद हिस्सा यानी करीब 2.8 मिलियन पाउंड भी चुकाने पड़ेंगे.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहापाकिस्तान के पास निज़ाम के लाखों पाउंड?ये मामला 1948 का है जब सातवें निज़ाम मीर उस्मान अली ख़ान सिद्दीक़ी के दरबार में वित्त मंत्री रहे नवाब मोइन नवाज़ जंग ने 10 लाख पाउंड की रक़म ब्रिटेन में पाकिस्तान के तत्कालीन उच्चायुक्त हबीब इब्राहिम रहमतुल्लाह के लंदन स्थित बैंक खाते में जमा करायी थी. ये पैसा अब बढ़कर 35 मिलियन हो चुका है.

बाद में जब सातवें निज़ाम को पैसों के ट्रांसफर के बारे में पता चला तो उन्होंने पाकिस्तान से कहा कि उनके पैसे जल्द लौटा दे. लेकिन रहमतुल्ला ने पैसे वापस देने से इनकार कर दिया और कहा कि ये अब पाकिस्तान की संपत्ति बन गई है. और पढो: BBC News Hindi »

विशेष: मोदी से डर गया पाकिस्तान, हमले के डर से अभिनंदन को लौटाया

पाकिस्तान ने कबूल कर लिया है कि पुलवामा हमला उसी ने कराया था. पाकिस्तान की नेशनल एसेंबली में मंत्री फवाद चौधरी ने न केवल पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ कबूल किया बल्कि इसे इमरान खान की बड़ी कामयाबी भी बताया. इस बयान से पाकिस्तान का आतंकी चेहरा फिर से बेनकाब हो गया है. देखिए विशेष.

HumKaghaz Great judge free from any fear. Fearless judiciary is the pillar of democracy. rajazzmantra देश का हर एक नागरिक चाहे वो सडक़ पर सोने वाला हो या महलों में सोने वाला सभी राष्ट्रभक्त हैं और भारतीय हैं Nice word kha HC ने शांतिपूर्ण भी कहा है , बसों गाडियों , मकान जलानेवाले शांति समुदाय गद्दार है ।

देश हितैशी भी नही ! In the name of demonstration no one can disturb public life. Right Sukriya judge sahab कुछ तो अच्छा सुनने मिला ! ਸਹੀ ਕਿਹਾ ✅ਜੀ Shaheenbaghoff1 👏👏👏 Very nice post But they aren't patriots either. ये भी बोला है कि देश के टुकड़े करने की सोचने वाले गद्दार है। इसका अर्थ यह है कि अगर किसी भी प्रकार के कार्य,नौकरी,या कानूनी कार्रवाई करने के लिए ,सुरक्षा व्यवस्था के नाम पर, डमिसाईल के नाम पर कोर्ट-कचहरी में या सरकारी नौकरी में पहचान के लिए किसी भी किसी भी प्रकार के पहचान पत्र की जरूरत नहीं ।

Full support कानून की किताब जिसे पढ़ कर लोग वकील तथा जज बनते हैं, किसी केस में एक जज कहता है यह लाल है, दूसरा कहता है यह पिला है और तीसरा कहता है नही ये हरा है ? ऐसा क्यों होता है जबकि कानून की किताब एक ही है ? आज तक ये रहस्य मेरी समझ मे नही आया ? कृपया मुझे बताएँ कि ऐसा क्यों होता है ? भारत मां की जय बोलने वाले गद्दार होते हैं कोर्ट का यही है निर्णय भारत तेरे टुकड़े हो हजार यह कहने वाले भारत माता के सपूत होते हैं यह है कोर्ट का नजर यह मुंबई कोर्ट का नजर है

मेरे विचार में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना अनुचित नहीं है परन्तु आम रास्ता रोककर प्रदर्शन करना अनुचित ही नहीं अपितु एक देशद्रोही कदम है। Bombay high court has no idea about the power of Shah and Modi. आग लगाने वाले तो गद्दारों में हैं। मेरी नज़र में प्रदर्शन करने वाले गद्दार नही है। गद्दार वो है जो देश तोड़ने की बात करते है और जो ऐसे लोग का समर्थन करते है।

Pradarshan kyun? अब न समझे तो नासमझ लगते हो! हमारी तकलीफ में बराबर शामिल लगते हो। गाजीबाग_जबलपुर शाहीन_गाजीबाग जबलपुर_गाजीबाग gajibaag गाजीबाग gajibaag_jabalpur shaheen_gajibaag jabalpur_gajibaag VoiceofmyBharat ReallySwara MuslimAwaz thewirehindi QuintHindi FreeKafeelKhan भारत रत्न दिलवा देते हैं इन दंगाइयों फिर इस बार

Please correct, Court says peaceful protest is not illegal. Hamara samvidhan court k liye alag aur bjp sarkar ko alag hai kya ? Un gadhon koun samjhaye. Mumbai High court se modi ko kuch sikhna chahiye Gaddar to tu hai...sale kamine ki aulad पर चूतिये ज़रूर है। .YADI LOGO PE CONTEMPT OF COURT CHAL SAKTA H TO CONTEMPT OF PARLIAMENT KYO NAHI? narendramodi

मूर्ख कोर्ट ने कहा जो शातिपूर्ण विरोध कर रहे हैं नाकि देश की सम्पत्ति जलाने वाले न ही बिना इजाजत सडक पर घुसपैठ करने वाले पूरा सच तू नहीं बोलेगा 1947 तक वाले घुसपैठिए जो शांति से है वो नहीं है जिस मै बसे जली दुकानें जली वो तो है किसने कहा CAA के विरोध करने वाले गद्दार है गद्दार वो है जो देश तोड़ने की बात करता है

MahaMorcha_AzadMaidan MumbaiAgainstCAA_NPR To woh kis category main aate hain... Apko pata hona chaiye yehi court CAA aur NRC aur npr karne ka order pass Kiya hai, isme kya dikkat hota hai. भारतीय कोर्ट में अभी जान बाक़ी है 😎 कश्मीरी हिंदुओं भगाने वाले आज खुद सड़क पर हैं,,, जैसे को तैसा😀 ماشاءاللہ इनको कोर्ट में अनशन करने के लिए वहां ही बैठा दे मुम्बई हाई कोर्ट।

आजकल उच्च न्यायालय सर्वोच्च न्यायालय का काम कर रहा है। जब कि यह बात को सर्वोच्च न्यायालयका कहाना था। सी ए ए के खिलाफ धरना देना देशद्रोह नहीं है यह हम भी मानते हैं उस मंच से देश को तोड़ना जेसी बातें बोलना क्या गद्दारी नहीं है, देश के प्रधानमंत्री व ग्रह मंत्री को अ शब्द बोलना और जिससे लाखों लोग परेशान हो रहे हैं सुप्रीम कोर्ट को यह भी संज्ञान लेना चाहिए

Lekin BBC Channel.. Aatanki aur Arban Naxales Supporters Channel hai.. Tanveer87913618 Sirf Kahate Hain lekin yah Kala Kanoon ko reject Nahin karte kya Maloom Kiska Dar Hai Dr.Kafeel par phir CAA khilaf bolne par RASHTRA DROH ka case kiyon..? Jisne huminity ke kaam kiye camps lagaye bachhon ke liye free medical check up camps lagaye. etc...

FarooquiAnas2 हा, वो भटके हुए नौजवानों के उतप्तिकार हैं🤣 लोकतंत्र जिंदाबाद, मुम्बई हाईकोर्ट जिंदाबाद ⚖️ Ramesh18498367 पर BBC news वाले चुतिये जरूर ह भटके हुए भी तो हो सकते है 😅😅 गद्दारों के इशारे पर यह प्रदर्शन चल रहा है, प्रदर्शनकारियों को गद्दार नहीं तो जाहिल तो कह सकते हैं न? 👍🏻👍🏻 Jab savidhan hai too phir muslim personal law board dharam k aadhar pr kyo hai

इंडियन एक्सप्रेस में ख़बर के मुताबिक़ बॉम्बे हाई कोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने महाराष्ट्र के बीड में विरोध प्रदर्शनअनुमति मामले में एडिशनल ज़िला मजिस्ट्रेट के दिए आदेश को पलटते हुए कहा किसी को सिर्फ़ इसलिए राष्ट्र-विरोधी नहीं कहा जा सकता क्योंकि वो किसी क़ानून का विरोध करना चाहता है. देशभक्त हे ऐसा कहा क्या..😂

Asal Gaddar to Gaddi nasheen hain phir wo koi bhi q na ho mtlb smjhiye Aur Jo 'Gaddar' Goli Maro' Pakistan' Jao Kahe Rahe Hai Unke Khilaf Kanooni Karwai Honi Chayye (Jaj Saab ) प्रदर्शन करने वाले गद्दार नहीं लेकिन उसकी आड़ में हिंसा, आगजनी और देश काटने की बात करने वाले तो गद्दार हैं ही... गधे और बेवकूफ कुत्ते की दुम हरदम भारत के खिलाफ जहर उगलते रहते हो हरामजादों तुमलोगों के चैनल में गधे और बेवकूफ कुत्तों की फौज है क्या कोर्ट ने तो जैसे तुम गधों को हीं बताया है

Shukria .. Abhi bhi judiciary me kam k hi sahi lekin haq kahne k liye zamir zinda hn.. thanks to him वे गद्दार नहीं पर भारतीय भी नहीं हैं..! धर्म के आधार पर ही यह देश बांटा गया था अतः खुद ही बंटवारा के समय वाला भूल सुधार कर लें... हमें अब उनपर भरोसा नहीं है..!! Aaj v kuch logo ka Jameer jinda hai No they r not gaddars no way but one thing is very clear that they do not want to understand why r they getting misleaded even after assurance from modiji that nobody's citizenship is goung to b taken away then why this chaos this creates doubt on them

जो भी सरकार के खिलाफ आवाज उठाए सबको गद्दार देशद्रोही बता दिया जाता है यह बन्द होना चाहिए वाह भैया हमारी अक्ल इतनी खत्म हुई है कि हमें यह बात भी हाईकोर्ट से पूछ नहीं पड़ रही है? शर्म आनी चाहिए गोबर छाप लोगों को, I doff my hat for protesters predominantly our sisters You have urgued what was right हम कहते है को गद्दार नहीं है ।।परंतु विरोध किस बात का ये तो बताए क्या हम हिन्दुओं को नागरिकता न दे। इस एक्ट से इनको कोई समस्या है तो बताए।।लेकिन इनका उद्देश्य केवल यह है कि हिन्दुओं का एवम् बीजेपी का विरोध करना है। बात कुछ हो इससे कोई मतलब नहीं। उचित अनुचित तो देखो फिर विरोध करो

मोदी जी अमित शाह जी आप भी सुन लीजिए बांबे हाईकोर्ट ने क्या कहा ये जज लोया भी बंबई हाई कोर्ट से थे ना? ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे। मुंबई हाई कोर्ट ने गद्दार नहीं कहा इसका हम समर्थन करते हैं पर विरोध किस बात का कर रहे हैं क्यों कर रहे हैं सच में यह हिंदुस्तानी नहीं है तो सिटीजन पाने के सरकारी कायदे कानून से कागज जमा करें और सिटीजन पाए कायदा है कायदे को महत्व दे गैरकानूनी काम ना करें ।

गद्दार न सही, पर गद्दारो से कम भी नही.... क्योंकि उनका नेतृत्व करनेवाले टुकड़े टुकड़े गैंग के लोग ही है... मुद्दा भले अलग हो, पर उनकी नियत अलगाववादियों वाली ही है। पर सरकार का विरोध और अपमान करना, देश और बहुमत का विरोध और अपमान करना ही तो हुआ l सरकार देश और बहुमत को ही तो प्रतिनिधित्व करती है l PMOIndia

It's the duty of supreme Court to put a stay on a unconstitutiinal CAA. ianuragthakur amitmalviya Real_Anuj padh lo jaraa dostooo ab goli kisko maaroge absolutely nobody denies right for expression thiaughts speech protest but how about when such womensmarch become comedycentral of anti thenatlinterest nationals movement where conspiracy policy against own the_nation plan cause public harassment

इस तरह से सरकार को सोच कर देखना चाहिए सुनो शाहहुसैन के सालो... अदालत क्या कह रही है गद्दार नही है मगर पाकिस्तान समर्थक है।

असम में डाटा गायब होने के मामले में पूर्व एनआरसी अधिकारी के खिलाफ एफआईआरअसम में डाटा गायब होने के मामले में पूर्व एनआरसी अधिकारी के खिलाफ एफआईआर CAA Assam FIR CAA_NRCProtests DetentionCenter HMOIndia HMOIndia केवल उस है बली का बकरा बनाया क्यूं जा रहा है ? Chronology master के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। HMOIndia जान बूझकर गायब किया होगा। HMOIndia Important information/data is handled by contract employee,what is going on.

दिल्ली में हार के बाद कांग्रेस में बदलाव की मांग, राज्यसभा सीटों पर खींचतान के आसारइस साल कांग्रेस के18 सदस्य राज्यसभा से सेवानिवृत्त हो रहे हैं, हालांकि कांग्रेस राज्यसभा में सिर्फ 9 सदस्य भेज सकती है. 😂क्यू मजाक करते हो भाई अभी दो चार दिन पहले तो ये सब अपनी हार को सेलिब्रेट कर रहे थे सभी सैलरी पेड नौकर चाकर हैं बौस तो राहुल गांधी है। बीजेपी को रोकने के चक्कर में काग्रेंस खत्म हो गई, चमचों ने बाप बदल लिया,

सचिन के फैंस के लिए खुशखबरी, इस दिग्गज के साथ बैटिंग करते दिखेंगे मुंबई मेंCricket: क्रिकेट फैंस को भारत में होने वाली रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज सचिन लारा सहित कई दिग्गजों को खेलते देखने को मिलेगा. sachin_rt Wow

छत्तीसगढ़ जिला पंचायत चुनाव में 20 जिलों में कांग्रेस और 7 में भाजपा के अध्यक्ष निर्वाचितछत्तीसगढ़ जिला पंचायत चुनाव में 20 जिलों में कांग्रेस और 7 में भाजपा के अध्यक्ष निर्वाचित Chhattisgarh ChhattisgarhZillaPanchayatElection जनता जाग गयी है

WhatsApp के यूजरबेस में हुआ बड़ा इजाफा, यूजर्स की संख्या 1 अरब के पारReport reveals WhatsApp has two billion users: व्हाट्सएप ने ताजा आकड़े जारी करते हुए कहा है कि इस समय हमारे प्लेटफॉर्म के साथ करीब 2 अरब यूजर्स जुड़े

2012 Delhi Nirbhaya Case : इस तरह के बेहद गंभीर मामलों में सजा में इतनी देरी क्यों?2012 Delhi Nirbhaya case 7 वर्षों से अधिक समय बीत जाने और उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा सुनाए जाने के बावजूद उन्हें अब तक फांसी पर नहीं लटकाया गया है