Writer, Society, Author, Basic Condition, Respect Of Truth And Justice, Will Not Lie, Fear Of The Author, Not Right, Country, Time And Society, Realities And Truths, Writer, Columns News İn Hindi, Opinion News İn Hindi, Opinion Hindi News

Writer, Society

बुनियादी शर्त: डरा हुआ लेखक समाज के काम का नहीं

बुनियादी शर्त: डरा हुआ लेखक समाज के काम का नहीं #Writer #Society

27-09-2021 03:55:00

बुनियादी शर्त: डरा हुआ लेखक समाज के काम का नहीं Writer Society

दिल्ली के पंत अस्पताल में भर्ती होने को मुझे पहियेदार कुर्सी पर बिठाकर ले जाया गया, तो अस्पताल के गलियारों में तेज चाल

छियालिस-सैंतालिस वर्ष मुझे लिखते-छपते बीते, लेकिन आज तक शायद चार-पांच साक्षात्कार भी नहीं हैं। हिंदी साहित्य का यह दुर्भाग्य है कि यहां ऐसी वास्तविकताओं को छापने का नैतिक साहस लगभग नदारद है। सच्चाइयों से इन्कार वाला साहित्य समाज में कोई वैचारिक या संवेदनात्मक आलोड़न-विलोड़न उत्पन्न नहीं कर सकता। आज लेखकों की कोई ऐसी सामाजिक साख नहीं रह गई, जिससे कि राज्य व्यवस्था से जुड़े लोग अनुभव करें कि नहीं, लेखकों को केवल पद, पुरस्कार और विदेशी उड़ानों के लालचों तक सीमित मानना ठीक नहीं।

महिलाओं के अधिकार के लिए आज भी डटे हैं : UP में 40% टिकट महिलाओं को देने पर राहुल गांधी आर्यन खान के सपोर्ट में आए जावेद अख्तर, कहा- 'फिल्म इंडस्ट्री हाई प्रोफाइल होने की सजा भुगत रही' बड़े लोगों पर कीचड़ उछालने में सबको मजा आता है...आर्यन के समर्थन में जावेद अख्‍तर

लेखक की तो यह बुनियादी शर्त है कि वह सच्चाई और न्याय का सम्मान ही नहीं करे, बल्कि इनसे प्रतिश्रुत हो, उसकी यह साख हो कि वह झूठ नहीं बोलेगा। राजनीति में गांधी और साहित्य में प्रेमचंद, प्रसाद और निराला की साख रही है। इस संदर्भ में मुक्तिबोध का नाम भी लेना होगा। लड़ना-झगड़ना मेरा शौक या प्रवृत्ति नहीं। मुझे चारों ओर की बाड़ेबंदियों से लिखना पड़ा, विरोध या असहमति में, और इसके जितने जोखिम उठाए और जो कुछ भुगता, केवल मैं ही जानता हूं।

आज मैं लगभग पूरी तरह टूट चुका हूं। इलाहाबाद से उजड़ ही गया। आगे भी बहुत अंधेरा है। लेकिन आज भी यही मानता हूं कि लिखते-बोलते समय लेखक का भयभीत रहना ठीक नहीं। डरा हुआ लेखक समाज के काम का नहीं रह जाता और लिखना देश, काल और समाज की वास्तविकताओं और सच्चाइयों से प्रतिश्रुत नहीं, तो फिर बावन गज की ऊंचाई भी किसी काम नहीं आती। लेखक को वर्तमान की धुरी पर से अतीत और भविष्य, दोनों को झांकना होता है। headtopics.com

जब से परिवार हुआ, मेरे लिए परिवार पहली प्राथमिकता रहा है, उसके बाद लिखना। लेकिन कदाचित समय आ पड़े, तो लेखक को परिवार के डर से भी उबरना जरूरी होगा। बिना भांति-भांति के डरों से उबरे लेखक के लिखे में समाज की पारदर्शी और कालजयी उजास संभव नहीं। पद, पुरस्कारों और विदेश भ्रमणों तथा सत्ताधारियों की निकटता के आनंद से वंचित हो जाने का डर भी ऐसा ही डर है। मैं भयाक्रांत हूं, स्वयं की असाध्य व्याधि और परिवार के बिखर जाने को लेकर।

राज्य व्यवस्था का जो अमानुषिक स्वरूप दिन पर दिन विकराल होता जा रहा है, जैसे लेखक संगठन वास्तव में 'लेखकों के गिरोहों' की शक्ल लेते जा रहे हैं, यह सब डरावना तो है ही, यह भी कि भविष्य का सामना कैसे संभव होगा, लेकिन रास्ता दूसरा कोई नहीं है। साहित्य सृजन का काम पूरे समय की मांग करता है, लेकिन अब दूर-दूर तक ऐसा संभव नहीं दिखता।

मेरे पास सिवा साहित्य के कोई विकल्प न था, न है और न ही आगे की संभावना दिखती है। किंतु साहित्य के क्षेत्र में गुटबंदियों और लेखकों को स्वयं के प्रचार-प्रसार में इस्तेमाल करने के मुरीद संपादकों का दौर आगे बढ़ता गया। इसने आज स्थितियों को एक ऐसे मोड़ पर पहुंचा दिया है, जहां कोई नई पीढ़ी का लेखक लेखन से ही जीविका उपार्जित करने का सपना भी नहीं देख सकता।

विस्तार से आते-जाते लोगों को देखकर एहसास हुआ कि-नहीं, शायद अब जीवन में स्वयं भी ऐसे ही चल-फिर सकना संभव नहीं होगा। विषाद समस्त इंद्रियों में व्याप्त अनुभव होता था, व्याकुलता चित्त को आक्रांत किए रहती थी। भविष्य की ओर किसी उजाड़ अंधकूप में झांक रहे होने की अनुभूति होती थी। headtopics.com

भरतपुरः पिता-भाई को बंधक बनाकर नाबालिग से गैंगरेप, जाते-जाते फसल भी जला गए आरोपी अमरिंदर स‍िंह बनाएंगे नई पार्टी, कहा - पंजाब चुनाव में बीजेपी से सीटों के समझौते को तैयार प्रियंका लड़की हैं, लड़ सकती हैं

विज्ञापनछियालिस-सैंतालिस वर्ष मुझे लिखते-छपते बीते, लेकिन आज तक शायद चार-पांच साक्षात्कार भी नहीं हैं। हिंदी साहित्य का यह दुर्भाग्य है कि यहां ऐसी वास्तविकताओं को छापने का नैतिक साहस लगभग नदारद है। सच्चाइयों से इन्कार वाला साहित्य समाज में कोई वैचारिक या संवेदनात्मक आलोड़न-विलोड़न उत्पन्न नहीं कर सकता। आज लेखकों की कोई ऐसी सामाजिक साख नहीं रह गई, जिससे कि राज्य व्यवस्था से जुड़े लोग अनुभव करें कि नहीं, लेखकों को केवल पद, पुरस्कार और विदेशी उड़ानों के लालचों तक सीमित मानना ठीक नहीं।

लेखक की तो यह बुनियादी शर्त है कि वह सच्चाई और न्याय का सम्मान ही नहीं करे, बल्कि इनसे प्रतिश्रुत हो, उसकी यह साख हो कि वह झूठ नहीं बोलेगा। राजनीति में गांधी और साहित्य में प्रेमचंद, प्रसाद और निराला की साख रही है। इस संदर्भ में मुक्तिबोध का नाम भी लेना होगा। लड़ना-झगड़ना मेरा शौक या प्रवृत्ति नहीं। मुझे चारों ओर की बाड़ेबंदियों से लिखना पड़ा, विरोध या असहमति में, और इसके जितने जोखिम उठाए और जो कुछ भुगता, केवल मैं ही जानता हूं।

आज मैं लगभग पूरी तरह टूट चुका हूं। इलाहाबाद से उजड़ ही गया। आगे भी बहुत अंधेरा है। लेकिन आज भी यही मानता हूं कि लिखते-बोलते समय लेखक का भयभीत रहना ठीक नहीं। डरा हुआ लेखक समाज के काम का नहीं रह जाता और लिखना देश, काल और समाज की वास्तविकताओं और सच्चाइयों से प्रतिश्रुत नहीं, तो फिर बावन गज की ऊंचाई भी किसी काम नहीं आती। लेखक को वर्तमान की धुरी पर से अतीत और भविष्य, दोनों को झांकना होता है।

जब से परिवार हुआ, मेरे लिए परिवार पहली प्राथमिकता रहा है, उसके बाद लिखना। लेकिन कदाचित समय आ पड़े, तो लेखक को परिवार के डर से भी उबरना जरूरी होगा। बिना भांति-भांति के डरों से उबरे लेखक के लिखे में समाज की पारदर्शी और कालजयी उजास संभव नहीं। पद, पुरस्कारों और विदेश भ्रमणों तथा सत्ताधारियों की निकटता के आनंद से वंचित हो जाने का डर भी ऐसा ही डर है। मैं भयाक्रांत हूं, स्वयं की असाध्य व्याधि और परिवार के बिखर जाने को लेकर। headtopics.com

राज्य व्यवस्था का जो अमानुषिक स्वरूप दिन पर दिन विकराल होता जा रहा है, जैसे लेखक संगठन वास्तव में 'लेखकों के गिरोहों' की शक्ल लेते जा रहे हैं, यह सब डरावना तो है ही, यह भी कि भविष्य का सामना कैसे संभव होगा, लेकिन रास्ता दूसरा कोई नहीं है। साहित्य सृजन का काम पूरे समय की मांग करता है, लेकिन अब दूर-दूर तक ऐसा संभव नहीं दिखता।

मेरे पास सिवा साहित्य के कोई विकल्प न था, न है और न ही आगे की संभावना दिखती है। किंतु साहित्य के क्षेत्र में गुटबंदियों और लेखकों को स्वयं के प्रचार-प्रसार में इस्तेमाल करने के मुरीद संपादकों का दौर आगे बढ़ता गया। इसने आज स्थितियों को एक ऐसे मोड़ पर पहुंचा दिया है, जहां कोई नई पीढ़ी का लेखक लेखन से ही जीविका उपार्जित करने का सपना भी नहीं देख सकता।

उत्तराखंड में बारिश से तबाही, 34 लोगों की मौत, PM मोदी बोले- फंसे लोगों को बचाने के प्रयास जारी शिल्पा शेट्टी और राज कुंद्रा ने शर्लिन चोपड़ा के खिलाफ दाखिल किया 50 करोड़ का मानहानि का केस फरीदाबादः सेक्टर 25 इलाके में पड़ा था लावारिस बैग, पुलिस ने खोलकर देखा तो निकली नवजात बच्ची

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Uttarakhand Rains Live Updates: उत्तराखंड में जारी बारिश का कहर, रामनगर-रानीखेत रूट पर रिजॉर्ट में 100 लोग फंसे

उत्तराखंड में सोमवार को भूस्खलन में पांच व्यक्तियों की मौत हो गई। भारी बारिश और बर्फबारी लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। इससे नदी-नाले उफान पर आ गए और चारधाम यात्रा ठप हो गई। रामनगर-रानीखेत रूट पर एक रिजॉर्ट में करीब 100 लोग फंस गए। केरल में बाढ़ और भारी बारिश में मरने वालों की संख्या 35 तक पहुंच गई है। लगभग 4,000 लोग अब राज्य के विभिन्न शिविरों में रह रहे हैं। सितंबर के बाद अक्टूबर में भी बारिश के रेकॉर्ड तोड़ने का सिलसिला कायम है। अक्टूबर की बारिश ने दिल्ली (सफदरजंग) में 61 सालों का रेकॉर्ड तोड़ दिया है, पालम में भी 24 घंटे के अंतराल पर इतनी बारिश पहले कभी नहीं हुई। हालांकि आज से मौसम साफ हो जाएगा। दिल्ली सफदरजंग में बीते 24 घंटे के अंतराल में 87.9 एमएम बारिश हो चुकी है। पल-पल के अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ...

राहुल गांधी से चर्चा के बाद पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों के नाम तय : सूत्रपंजाब में मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने अपने मंत्रिमंडल के लिए नामों को अंतिम रूप दे दिया है. सूत्रों के मुताबिक, चन्‍नी ने राहुल गांधी के साथ मिलकर के पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों  के नाम तय किए हैं. कैबिनेट में बदलाव को  लेकरबातचीत के लिए चन्‍नी तीन बार दिल्‍ली आए थे. कितना भी सीएम बना लो गुलामी नहीं जाएगी क्या राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं या पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष आखिर क्यों उनसे पूछ कर कैबिनेट का विस्तार किया जाएगा यह एक गुलामी वाली सोच है

Google के Wear OS 2 के साथ Fossil Gen 6 स्मार्टवॉच लॉन्च, जानें कीमतFossil Gen 6 स्मार्टवॉच दो वेरिएंट में आती है- 42mm डायल वेरिएंट और 44mm डायल वेरिएंट। बहुत अच्छा

पवई लेक को बचाने के लिए BMC के खिलाफ प्रदर्शन, साइक्लिंग ट्रैक बनाने की है योजनामुंबई के पवई इलाके में पर्यावरण प्रेमी पवई लेक को बचाने के लिए प्रदर्शन करते नजर आए. बीएमसी की ओर से साइक्लिंग ट्रैक बनाने की योजना है जिसके लिए पवई लेक के एक हिस्से का इस्तेमाल किया जाएगा. आदरणीय योगी जी आप के कार्यकाल में मैनपुरी में सभी अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं नगर कुसमरा में वार्ड संख्या 3 में डेंगू का विस्फोट हो चुका है मैं कई बार शिकायत कर चुका हूं लेकिन अभी तक स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने नहीं आई है जबकि मेरे मोहल्ले में कई केस हैmyogiadityanath Great iron lady

मोदी और जापान के पीएम सुगा ने स्वतंत्र, खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए प्रतिबद्धता जताईविदेश सचिव हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने कहा, ‘चीन के बड़े वैश्विक ताकत के रूप में उभरने के मुद्दे पर बातचीत हुई।’ दोनों प्रधानमंत्रियों ने भारत-जापान के बीच बढ़ते आर्थिक संपर्क का भी स्वागत किया। narendramodi,myogiadityanath RahulGandhi ,priyankagandhi,सोनिया गांधी का राहुल और प्रियंका वाड्रा प्रेम कांग्रेस को ले डूबा।नरेन्द्र मोदी का अमित शाह प्रेम बीजेपी को ले डूबेगा।मोदी जी का अमित शाह प्रेम दिल्ली बंगाल चुनाव ले डूबा।2024 के चुनाव में इनको गटर में फेक देना होगा।

इस वजह से आमिर खान के साथ डिनर के दौरान इमोशनल हुए नागार्जुनबॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान जल्द ही 'लाल सिंह चड्ढा' में नजर आने वाले हैं। इस फिल्म में उनके साथ साउथ स्टार नाग चैतन्य भी दिखेंगे। हाल ही में आमिर खान अपने सह-कलाकार नाग चैतन्य की आगामी फिल्म 'लव स्टोरी' को प्रमोट करने के लिए हैदराबाद गए थे।

मुंबई इंडियंस के मेंटर ने दिया बड़ा अपडेट, IPL के अगले मुकाबले में खेलेंगे हार्दिक पंड्या?हार्दिक पंड्या 2019 में सर्जरी के बाद से लगातार फिटनेस से जूझ रहे हैं। आईपीएल 2021 के दूसरे चरण में उन्हें मुंबई इंडियंस के लिए दोनों मुकाबलों में खेलते हुए नहीं देखा गया था। इसे लेकर टीम के मेंटर जहीर खान ने बड़ा अपडेट शेयर किया है।