बीएसपी का ब्राह्मण सम्मेलन: शंखनाद के साथ लगे 'जय श्रीराम' के नारे - BBC News हिंदी

बीएसपी का ब्राह्मण सम्मेलन: शंखनाद के साथ लगे 'जय श्रीराम' के नारे

24-07-2021 10:52:00

बीएसपी का ब्राह्मण सम्मेलन: शंखनाद के साथ लगे 'जय श्रीराम' के नारे

बहुजन समाज पार्टी की अगले साल होने वाले चुनाव को ध्यान में रखते हुए ब्राह्मणों को अपने साथ लाने की पहल. कैसा रहा पहला आयोजन?

समाप्तमायावती यूपी चुनाव अकेले लड़ेंगी पर वो और उनकी बसपा कितनी सक्रिय हैं?सतीश चंद्र मिश्र यह बताना भी नहीं भूले कि सम्मेलन में क़रीब दो घंटे की देरी से पहुंचने की वजह यह थी कि यहां आने से पहले वे रामलला और हनुमानगढ़ी में दर्शन करने गए थे और फिर सरयू आरती में भी शामिल हुए थे. उन्होंने बीजेपी और विश्व हिन्दू परिषद पर कई तीखे सवाल दागे.

Lucknow Rain: चंद घंटों की बारिश में शहर में सैलाब सा नजारा! देखें क्या हैं हालात कोहली के फैसले पर बोले BCCI के सचिव जय शाह- छह महीने से चल रही थी चर्चा विराट कोहली ने टी20 वर्ल्ड कप के बाद, टी20 की कप्तानी छोड़ने का एलान किया - BBC Hindi

इमेज स्रोत,Samiratmaj Mishra/BBCराम मंदिर के चंदे पर सवालसतीश चंद्र मिश्र का कहना था, "पिछले 30 साल में जमा किए पैसे का हिसाब दें, जो इन्होंने अयोध्या के नाम पर लाखों-करोड़ों रुपये इकट्ठा किए हैं. हर जगह से इन्होंने चंदा लिया. अब फिर चंदा मांग रहे हैं. भगवान राम के लिए आप झोला लेकर घूम रहे हैं. एक साल में मंदिर की नींव भी नहीं बन पा रही है. मंदिर बनेगा या नहीं, ये आज भी प्रश्न है. मैं कहना चाहता हूं कि इनका असली चेहरा पहचानिए."

अयोध्या-लखनऊ राजमार्ग पर एक रीसॉर्ट में आयोजित इस सम्मेलन में कोविड प्रोटोकॉल को देखते हुए पचास लोगों के शामिल होने की अनुमति दी गई थी लेकिन वहां मौजूद लोगों की संख्या कुछ नहीं तो इस संख्या की सौ गुनी तो रही ही होगी. हालांकि लोगों को मास्क लगाए रखने की बार-बार मंच से हिदायत दी जा रही थी. ख़ुद सतीश मिश्र यह कह रहे थे कि अभी तमाम लोग बाहर ही खड़े हैं और कुछ लोग तो अपनी गाड़ियों में ही बैठे हैं. headtopics.com

वीडियो कैप्शन,मायावती को क्यों आ रही ब्राह्मणों की याद?इससे पहले, शुक्रवार की सुबह अयोध्या शहर में रहने वाले सर्वेश कुमार पांडेय से मुलाक़ात हुई थी. जगह-जगह बीएसपी के इस प्रबुद्ध सम्मेलन वाले पोस्टर्स लगे थे. सर्वेश कुमार पांडेय किसी राजनीतिक दल से जुड़े नहीं हैं लेकिन बीएसपी के इस सम्मेलन को लेकर भी बहुत उत्साहित नहीं थे. कारण पूछने पर बताया कि 'चार साल से तो ब्राह्मणों की याद नहीं आई. अब अचानक क्यों याद आ रही है?'

उनके इस सवाल का जवाब सम्मेलन में मौजूद और गोरखपुर के रहने वाले अमरचंद्र दुबे ने दिया, "ऐसा नहीं है कि बीएसपी ने चार साल कुछ नहीं किया. इससे पहले भी कई सम्मेलन हो चुके हैं और अब तो पूरी सूची ही जारी हो चुकी है. पिछले साल भी कानपुर में विकास दुबे के एनकाउंटर पर बीएसपी ने विरोध जताया था. हर चीज़ का समय होता है. अब हम 2022 में इन्हें सबक सिखाएंगे."

इमेज स्रोत,Ajay Aggarwal/ Hindustan Times via Getty Imagesपूरे प्रदेश में आयोजन का सिलसिलासतीश चंद्र मिश्र ने ब्राह्मण समाज की एकजुटता के महत्व को बताते हुए बीएसपी के साथ उसके जुड़नी की वजह कुछ इस तरह बताई, "सत्ता की चाभी लेने के लिए 13 फ़ीसद ब्राह्मण अगर 23 फ़ीसद वाले दलित समाज के साथ मिल जाएं तो जीत सुनिश्चित है. जिसकी जितनी तैयारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी. हमने 45 ब्राह्मण विधायक बनाए थे."

सतीश मिश्र ने कानपुर में विकास दुबे और उनके साथियों की कथित पुलिस मुठभेड़ में हुई मौत पर कई बार सवाल उठाए. ख़ासतौर पर ख़ुशी दुबे पर. उन्होंने दावा किया कि यूपी में पिछले चार सालों में सैकड़ों ब्राह्मणों की हत्या हो चुकी है.इस विचार सम्मेलन में महिलाओं की भागीदारी लगभग न के बराबर थी लेकिन जब अयोध्या की रहने वाली शशिबाला चौधरी से मैंने यह सवाल पूछा तो उनका कहना था, "गर्मी बहुत है, फिर भी महिलाएँ आई हैं. महिलाओं के पास वैसे भी कई काम होते हैं, फिर भी बहुत सी महिलाएं आई हुई हैं." headtopics.com

विराट कोहली छोड़ेंगे टी20 की कप्तानी, लेकिन कौन बनेगा उत्तराधिकारी? - BBC News हिंदी बिहार में हैरान करने वाला मामला: कटिहार के 2 छात्रों के बैंक खाते में आ गए 911 करोड़, गांव में हर कोई चेक करा रहा अपना अकाउंट Ayodhya Ram Mandir: बुनियाद भरने का काम खत्म, पहली बार सामने आईं मंदिर निर्माण की तस्वीरें

अयोध्या के बाद बीएसपी इस ब्राह्मण सम्मेलन यानी प्रबुद्ध वर्ग विचार संगोष्ठी को, आंबेडकर नगर, प्रयागराज, प्रतापगढ़, कौशांबी और सुल्तानपुर में आयोजित करेगी. इसके बाद इनके अगले चरण शुरू होंगे और अंत में राजधानी लखनऊ में एक बड़ा सम्मेलन आयोजित होगा. कार्यक्रम में सतीश चंद्र मिश्र ने बताया कि 15 अक्तूबर तक लगभग पूरे प्रदेश में इस तरह के सम्मेलन आयोजित होंगे.

यूपी की राजनीति में इतने अहम कैसे हो गए परशुराम?कार्यक्रम में सतीश चंद्र मिश्र ने परशुराम का कई बार ज़िक्र किया और ब्राह्मणों को उनका वंशज बताया लेकिन वहीं मौजूद बस्ती ज़िले के रहने वाले दिनेश तिवारी का कहना था कि 'मंच पर जिन महापुरुषों की तस्वीरें लगी हैं, उन पर तो कहीं भी परशुराम नहीं दिख रहे हैं.'

इमेज स्रोत,Samiratmaj Mishra/BBCमंच पर सतीश चंद्र मिश्रा का बेटा भी मौजूदहमने वहां मौजूद बीएसपी के नेता से जब यही चाहा चाहा तो उनका कहना था, "अभी तो शुरुआत है, आगे देखिए, क्या होता है. मंच पर तो तस्वीर उन्हीं की मिलेगी जिन्होंने दलितों के लिए कुछ किया है."

बहुजन समाज पार्टी ने इससे पहले साल 2007 में सोशल इंजीनियरिंग के तहत ब्राह्मणों को अपनी ओर जोड़ने का बड़ा अभियान चलाया था जिसकी बदौलत राज्य में पहली बार उसकी बहुमत की सरकार बनी थी. उस दौर में बीएसपी से जुड़े तमाम बड़े नेता, जिनमें कई ब्राह्मण भी हैं, आज दूसरी पार्टियो में शामिल हो चुके हैं. क़रीब 14 साल बाद बीएसपी उसी सोशल इंजीनियरिंग के फ़ॉर्मूले को एक बार फिर अपनाना चाहती है. headtopics.com

बीएसपी का राजनीतिक वनवास क्या ब्राह्मणों को साथ लेकर ख़त्म होगा?चुनाव पूर्व सोशल इंजीनियरिंग का परिणाम साल 2022 के विधानसभा चुनाव में कितना असरकारी होता है, ये तो वक़्त ही बताएगा लेकिन बीएसपी की इस प्रबुद्ध विचार संगोष्ठी में काले रंग की पठान सूट में महासचिव सतीश चंद्र मिश्र के ठीक बगल में बैठा एक युवक सभी के आकर्षण का केंद्र बना रहा. यह युवक कपिल मिश्र थे जो सतीश चंद्र के बेटे हैं.

मंच पर सतीश चंद्र मिश्र के ठीक बगल में उनकी कुर्सी लगी हुई थी जबकि नकुल दुबे, पवन पांडेय जैसे कई वरिष्ठ नेता उनसे दूर बैठे थे. कपिल मिश्र ने किसी भी मीडिया से कोई बातचीत नहीं की लेकिन मीडिया से दूर रहने की कोशिश भी नहीं की.सम्मेलन में शामिल बीएसपी के एक नेता का कहना था, "राजनीतिक लॉन्चिंग के लिए रामनगरी से ज़्यादा शुभ जगह भला कौन सी होगी?"

तस्वीरों में देखिए कितना बना राम मंदिर: 48 लेयर में बन रही नींव का काम खत्म; अब मिर्जापुर से आए पत्थरों पर बनेगा राम चबूतरा, चंपतराय बोले- हजारों साल तक रहेगा मंदिर का वजूद पीएम मोदी के जन्मदिन पर देश भर में बीजेपी की क्या है तैयारी - BBC News हिंदी गुजरात: भूपेंद्र पटेल के मंत्रिमंडल में किसे क्या मिली जिम्मेदारी, सामने आई लिस्ट और पढो: BBC News Hindi »

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल

तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा कर दी है. इस अंतरिम सरकार में प्रधानमंत्री यानी सरकार के प्रमुख की भूमिका में मुल्ला हसन अखुंद होंगे. मुल्ला हसन अखुंद तालिबान की रहबरी शूरा यानी लीडरशिप काउंसिल का चीफ है और तालिबान प्रमुख मुल्ला हिब्तुल्लाह अखुंदजादा के बेहद करीबियों में शामिल हैं. मुल्ला बरादर को तालिबान सरकार में डिप्टी पीएम बनाया गया है. डिप्टी पीएम की भूमिका में मुल्ला हन्नाफी की भी भूमिका रहेगी. इसके अलावा मुल्ला याकूब तालिबान सरकार में रक्षा मंत्री होगा और सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों का मंत्री होगा. शेर मोहम्मद अब्बास स्तनकजई तालिबान सरकार में उपविदेश मंत्री होगा. खैरुल्लाह खैरख्वा तालिबान सरकार में सूचना मंत्री होगा. जबकि तालिबान प्रवक्ता जैबुल्लाह मुजाहिद को उप सूचना मंत्री की जिम्मेदारी मिल रही है. अब्दुल हकीम को तालिबान सरकार का न्याय मंत्री बनाया गया है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें खबरदार.

...... और 'RSS' कामयाब हो गयी. mmrnadwii दलित_ब्राह्मण अगर एक हो गया तो सभी पार्टियों की राजनीति खत्म हो जाएगी। फ़र्जी दलित नेता बनकर 70 वर्षों से दलितों के नाम पर अपने महल कोठियां बना रहे हैं दलित समाज आज भी गरीब और मजदूरी करने पर मजबूर है। ब्राह्मण_हाथी_की_सवारी_करेगा 2022_में_बसपा बसपा_का_बढ़ता_जनाधार BoycottBJP

2014 में भाजपा के आने के बाद से कम से कम यह तो देखने को अच्छा लगता हैं की अब सभी दल “जय श्री राम” प्राथमिकता से बोलने लग गए हैं, यूपी में योगी जी ने तो चमत्कार ही कर दिया हैं, देखा जाए तो यही तो हैं रामराज्य 🚩 UttarPradesh BJP Democracy JantaSpeaks मिश्रा जी के आस पास के लोग तो भाजपा मै जा चुके है । ramveermla

Vichar dhara ?😂 वाह! क्या सीन है Mayawati जी काहे पेर पर कुल्हाड़ी मार ली। हम श्री राम के गुरु जी के वंशज हैं अपने अपमान को नहीं भूलते मायावती हमें अपमानजनक शब्दों से नवाजा था कांग्रेस ने हम पर गोलियां चलवाई थी मुलायम सिंह ने कारसेवकों पर गोली चलवाई थी अंग्रेजों हम नहीं भूल पाएंगे बीबीसी वाले अंग्रेजों बरनोल लगा लो वोट तो हम योगी को दे रहे हैं हम नहीं भूल सकते मायावती कहती थी ब्राह्मणों को जूतों के माला पहनाओ

alokkirti1990 जो विद्वान वही ब्राह्मण जातिवाद हमारी व्यवस्था पर कलंक आओ निजीक्षेत्र के बजाय निजीकरण से लड़े पूंजीपतियों के बजाय पूंजीवाद से लड़े भारत का सरकारी रोजगार निजीकरण से बचाएं नही तो साहूकारी तंत्र पुनः स्थापित होते देर न लगेगी Mayawati yadavakhilesh ArvindKejriwal satishcmisra Caste politics is the based on this bsp party. The caste card should be finished in New modern days of development

एक साथ दो तरह का कोरोना: बेल्जियम के बाद भारत में डबल इंफेक्शन का पहला मामला मिला, असम की डॉक्टर अल्फा के साथ डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित हुईंवैक्सीन की दोनों डोज लगी होने की वजह से नहीं बिगड़ी हालत,एक्सपर्ट बोले- लोगों को जल्द से जल्द लगे कोरोना वैक्सीन | कोरोना की दूसरी लहर में नए केस की संख्या कम होने की नाम नहीं ले रही है। पूर्वी असम के डिब्रूगढ़ जिले में एक महिला डॉक्टर कोरोनावायरस के 'अल्फा' और 'डेल्टा' दोनों रूपों से संक्रमित हो गई। एक्सपर्ट्स ने इसे देश में इस तरह का पहला मामला बताया है।

एक ,समय की बात है,bsp का नारा था,मिले, मुलायम,कांशीराम,हवा,में उड़ गए ,जय,श्री राम,,,,,, ajitanjum BSP बीजेपी की B टीम बन गई है। ब्राम्हण BJP को वोट नहीं देगा। तो कहीं कॉंग्रेस या सपा के साथ न चला जाए इसीलिए CBI, ED के आदेशानुसार BSP ब्राम्हणों के वोट को काटने के लिए निशाना साधे बैठी है। क्या ब्राम्हण बेवकूफ है?

रामजी को राजनीति में लाने वाले पहले व्यक्ति कौन हैं मनुवाद से ही परेशानी और वोट भी मनुवादियो का चाहिए एक दिन सभी को राम के चरणों मे आर्शीवाद लेने आना ही होगा। abe yaar🤦‍♂️🤦‍♂️ 24 हजार हिंदुओ की अमरनाथ यात्रा के लिए 40000 कमांडो पैरामिलिट्री फोर्स.,,अपने मरे हुए जमीर से पूछिए खतरे में कौन है!! As a citizen I never find myself connected directly or indirectly with these politicians. I consider them as liability on me n my family

bsp ab khulke bjp rss ki raah pe chal rhi h muslimo hosiyar asteen ke sanp ko pahchano

सियासी टेंशन के बीच अपनी 'पलटन' के साथ थिरके कैप्टन अमरिंदर, शेयर किया Video79 वर्षीय कैप्टन अमरिंदर सिंह ने जवानों से व्यक्तिगत रूप से मुलाकात की. फिर उनके साथ तस्वीरें खिंचवाई और पंजाबी गानों पर डांस किया. इससे जुड़ा वीडियो ट्वीट करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लिखा, 'अपनी जगह पर अपनी पलटन के जवानों के साथ...जय हिंद'

ये है मोदीजी का जलवा, ये डर अच्छा है। Chalo BJP walon ne Jai Shree Ram bolna Sikha Diya माननीय कांसीराम जी के बाद इस पार्टी का क्या हुआ, देश और उत्तर प्रदेश के प्रत्येक व्यक्ति को नजर आ रहा है। पार्टी को जिन लोगो के लिए बनाया गया था उन्हीं को पार्टी से निकाल दिया गया, पार्टी पैसे के लिए किसी को भी चुनाव मैं उतर सकती है । भारत भारतीय India Indian

अन्य मीडिया संस्थानों की तरह बीबीसी हिन्दी के ब्राह्मण पत्रकार भी बीएसपी के प्रति भेदभावपूर्ण रिपोर्टिंग करते हैं। उस सम्मेलन में जय भीम जय भारत के भी नारे लगे थे लेकिन समीरात्मक मिश्र ने इस ख़बर को जानबूझकर हेडलाइन में नहीं प्रकाशित किया।! अगर ऐसा ही था तो 'तिलक तराजू और तलवार, इनके मारो जूते चार' क्या था ? Mayawati जी

Profdilipmandal काफ़ी गर्व महसूस हो रहा होगा आपको सर जी। 😀😀😀😀😀 मैडम सम्मेलन अच्छा है,पर अभी अभी एक दलित लड़के की मूछें उची जाति वालो ने सार्वजनिक वीडियो बनाकर काट दी,आखिर समाज से ये भेदभाव खत्म करने के लिए आप क्या कर रही है..? mayavati ब्राह्मण_सम्मेलन DalitLivesMatter BhimArmyChief If something is getting away from BJP, they are put on to catch and bring back under the umbrella of the BJP.

😁😁

Zomato: 53 फीसदी प्रीमियम के साथ सूचीबद्ध हुआ शेयर, एक लाख करोड़ के पार बाजार पूंजीकरणZomato: 53 फीसदी प्रीमियम के साथ सूचीबद्ध हुआ शेयर, एक लाख करोड़ के पार बाजार पूंजीकरण ZomatoIPO Zomato ZomatoListing sharemarket

मुर्दा पार्टी में जान डालने की कोशिश साडे 4 साल तक इस पार्टी का कुछ भी पता नहीं चल पा रहा था यहां तक कि हाथरस कांड में भी कोई बयान तक नहीं आया Election aate hi party harkat mein a rahi hai शायद बहुजन समाज पार्टी को किसी खास 'धर्म सम्प्रदाय' से मोह भंग हो गया है. गजब कर दी मोदी ने,भाड़े से भी ब्राह्मण नही मिल रहे है, सब ने राष्ट्र और राष्ट्रवाद की धूनी जमा लिया है तन और मन पर,.... खैर मैं ब्राह्मण सम्मेलन स्थगित करता हूं, .....सिर्फ दबे कुचले, अगड़े पीछड़े, गिरे खड़े, शोषित परितोषीत, अल्पसंख्यक बहु वृद्धि जनसँख्यक, इनका ही सम्मेलन करूँगा,

Ram ko mazak banakar rakh diya hai तिलक तराजू और तलवार इनको मारो जूते चार का क्या हुआ ? यह नारा ब्राह्मण भूल गए हैं या मायावती ? कल अयोध्या में बसपा का ब्राह्मण सम्मेलन था और कल ही अमर शहीद चन्द्रशेखर तिवारी उर्फ चन्द्रशेखर आजाद की जयंती थी।मैंने बसपा सुप्रीमो मायावती का ट्विटर हैण्डिल आज चेक किया लेकिन मुझे एक भी ट्वीट नहीं मिला। अब इसे चूक तो कहा नहीं जा सकता?

नई भाजपा ajitanjum मान्यवर कांशीराम जी के जाने के बाद, बसपा अब ( ब्राह्मण_समाज_पार्टी) बन चुकी है। मायावती जी केटेगरी से भले ही दलित है, लेकिन विचारधारा से ब्राह्मण बन गयीं है।🧐 Jai shree ram 'अब पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत' अब कुछ नहीं होने वाला

ओलंपिक मेडल के लिए शूटर मनु भाकर ने अपने कोच के साथ बनाया है यह प्लानशूटिंग रेंज में तीन महीने से कम अभ्यास के दौरान कोच रौनक पंडित और मनु भाकर ने एक TeamIndia TokyoOlympics2021 ManuBhaker RaunakPandit Cheer4India भारतीयस्वतंत्रतासंग्राम 2020Tokyocity NBCOlympics Tokyo2020 WeAreTeamIndia ManubhakerFC

Shameless people of bsp leadership they are greedy It's a drama by duplicate Brahmins to please Bhaisawati. The original Brahmins stay 12 feet away from Filthy class. मुस्लिम वोट बैंक की गंदी राजनीति ।मुस्लिम कट्टरता इस्लामिक आतंकबाद जो हिंदुस्थान वर्षो से झेल रहा हे जो पार्टी इस नासूर को जड़ से उखाड़ फेके हिंदुसस्थान के लोग उसी पार्टी को पूर्णबहुमत से लाएगे और बो पार्टी हे बीजेपी जो देश हित जनहित मे कड़े से कड़े फेसले ले सकती हे देशहीत मे

धर्म की राजनीति भारतीय राजनीति का नया तरीका बन गया है इससे हमारा देश बरबादी की एक नई दास्तान लिखेगा यही तो है अच्छे दिन दलित के साथ ब्राह्मण बैठे करें दोनों विश्व कल्याण। राम से पहले परसुराम थे भगवान / पालन हार राम मंदिर मे मोदी योगी से पहले हमारा वत्स ब्राह्मण चौहान देवरा क्षत्रिय और उदयपुर वंश राम का अधिकार! इस सम्मेलन मे हो चर्चा!

Now BSP = BJP राजनीति का समान .... जय श्री राम ... ! सब दोगले राम भक्त है . . . जो चुनावों के लिए इसका इस्तेमाल करते है . . ! ajitanjum Dilip Mandal ji ko yes report dekhni chahiye. Jai shree ram

भाजपा अध्‍यक्ष ने पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों और प्रदेश अध्यक्षों के साथ बैठक की, जानें वजहभारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (BJP President JP Nadda) ने शुक्रवार को राष्ट्रीय पदाधिकारियों और पार्टी के प्रदेश अध्यक्षों के साथ बैठक की। अभी तक इस बैठक को लेकर विस्‍तृत जानकारी सामने नहीं आई है। bihar_needs_physical_teachers bihar_needs_physical_teachers

Ajib hai sab God k naam par politics, sab k sab opportunistic hai बीजेपी के चौतरफा वार से यूपी को अब बहन जी बचा शक्ति हैं सूर्य पश्चिम से निकलता हुआ, देखा!!? इतिहास में पहली बार, जबरजस्त चुनावी स्टंट। सतीश ने गदा उठा कर जैसे ही राम और हनुमान का जयकारा लगाया बैसे ही सम्पूर्ण ब्रह्मांड का समस्त ब्राह्मण बसपा की तरफ हो गया और उसने प्रभु श्री राम को साक्षी मान कर कसम खाई कि वो आने वाले चुनाव में बसपा को वोट देने का विचार करेगा। 🤣🤣

क्या बीएसपी आरणक्ष का आधार सिर्फ आर्थिक हो, इसका समर्थन करेगी? मायावती जी मनुवादी किसे कहती हैं Inko yahi kam hain.... हम जय भीम के आगे एक हीं सलाम जोड़ते हैं यानी 'जय भीम लाल सलाम', लेकिन बसपा जय भीम के आगे जय श्री राम या भगवा सलाम जोड़ने की तैयारी कर रहीं हैं। जयभीम_लालसलाम ajitanjum देखते जाओ सब शरण में आएंगे , ओवैसी भी । जय श्री राम🙏

Gaddari ki bhi had hoti hai,jo satish khud brahman hai magar fir brahmano ko mayavati ke charno me nat mastak karvana chahta hai.

खरीद में भ्रष्टाचार के आरोप: भारत बायोटेक ने ब्राजील के पार्टनरों के साथ कोवैक्सिन की डील खत्म की, अब ड्रग रेगुलेटरी के साथ अप्रूवल प्रोसेस पूरा करेगीभ्रष्टाचार के आरोपों के बाद भारत बायोटेक ने ब्राजील के पार्टनरों के साथ कोवैक्सिन की डील खत्म कर दी है। कंपनी अब वैक्सीन की रेगुलेटरी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए ब्राजील की ड्रग रेगुलेटर ANVISA के साथ काम करेगी। | Bharat Biotech ends Covaxin deal with Brazilian partners, now the company will complete the approval process with the drug regulator BharatBiotech ये खबर आपने क्यों नहीं छापी अगर आप भ्रष्टाचार के खिलाफ हो तो इस खबर को छापने में डर क्यों 👇

Brahman vote nahi aaye aur musalman vote chale gaye phir kya hoga जय श्री राम Only yogi ..jai dada prsuram क्या ये किसी वर्ग की अनुकंपा प्राप्त करना नहीं है.... हम किस दिशा और धारा की ओर अग्रसर हो रहे है विचार करना ही पड़ेगा। Brahmno dhoka hoga sirf b j p ..hi des k liye hinduo k liye jruri h मुझे कोई दिक्कत नहीं हैं, क्योंकि वो उनकी पार्टी वो कुछ भी करें मन्दिर जाएं या मस्जिद जाएं. लेकिन ये हीं काम कांग्रेस करें तो कई तथाकथित अम्बेडकरवादियो के पेंट में मरोड़ उठ जाती हैं ब्राह्मणवादी_कांग्रेस ट्रेंड हों जाता हैं, अब बताओ बसपा ब्राह्मणवादी हैं या नहीं

अब बस सपा और कांग्रेस जय श्री राम के नारे लगा दें| भाजपा की मजबुती सार्थक हो जाए | जय जय श्री सीताराम मायावती जो कार्ड खेलने की कोशिश कर रही है ना, वह हो नहीं पाएगा। पहले मायावती ने दलितों को धोखा दिया अपना पेट भररा चार चार बंगले बना लिए, सोचा क्या करें मिश्रा जी को आगे करके ब्राह्मण कार्ड खेला जाएगा।

वैसे राम चंद्र किसी की बपौती नही है लेकिन राम का नाम लेकर बसपा द्वारा ब्राह्मण सम्मेलन करना राजनीतिक मजबूरी समझे या चोला बदलना या तथाकथित सोशल इंजीनियरिंग। जय श्री राम से जलने वाले आ गए श्री राम के चरणों में

बीजेपी bsp औबेसी क्या अलग है? Is there anything they can't do for votes? Jatti waad ko bhadava dete logo ka jhund hain…dusro ka kya karenge kalyan….caste your vote only for those who talk about all …..No cast No religion ….everyone wants development and opportunities…..inko bhagao pradesh bachao…..👍 पहले बसपा मे जय भीम बोला जाता था आज जय श्रीराम और जय परशुराम बोला जाता है..😊

तिलक, तराजू,और तलवार इनको मारो वाला नारा हिन्दू समाज कभी नहीं भूलेगा, दलित समाज, सवर्ण सब एक हैं। BSP का ब्राह्मणीकरण या भाजपाकरण?