प्रियंका गांधी का 'फीमेल कार्ड' UP में लगाएगा नैया पार, 32 साल से सत्ता से बाहर कांग्रेस को मिलेगा फायदा?

प्रियंका गांधी का 'फीमेल कार्ड' UP में लगाएगा नैया पार, 32 साल से सत्ता से बाहर कांग्रेस को मिलेगा फायदा?

19-10-2021 16:30:00

प्रियंका गांधी का 'फीमेल कार्ड' UP में लगाएगा नैया पार, 32 साल से सत्ता से बाहर कांग्रेस को मिलेगा फायदा?

प्रियंका गांधी धर्म और जाति में बंटी यूपी की सियासत में एक नया विमर्श लेकर आई हैं. कांग्रेस के इस नए मंसूबे के लिए एक नया पोस्टर बना, जिसका नारा है लड़की हूं, लड़ सकती हूं.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देगी. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज लखनऊ में ये ऐलान करते हुए कहा कि महिलाएं ही समाज में बदलाव ला सकती हैं. इस तरह प्रियंका गांधी धर्म और जाति में बंटी यूपी की सियासत में एक नया विमर्श लेकर आई हैं. कांग्रेस के इस नए मंसूबे के लिए एक नया पोस्टर बना, जिसका नारा है 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं.' पार्टी दफ्तर में भी लड़ने को तैयार लड़कियों का हुजूम था. वो हर तरफ से चलती आ रही थीं. आज उनका दिन था. देश की चुनावी सियासत में प्रियंका गांधी ने 27 सैकेंड में उनके यह लिए यह सबसे बड़ा ऐलान किया.

त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं Delimitation : परिसीमन का प्रारूप तैयार, जम्मू संभाग की सात और सीटें बढ़ेंगी

यह भी पढ़ेंकांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा, 'हमने तय किया है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देगी. हमारी प्रतिज्ञा है कि महिलाएं उत्तर प्रदेश की राजनीति में पूरी तरह से भागीदार होंगी.'

प्रियंका सड़कों पर लड़ते हुई नजर आती हैं. कभी मिर्जापुर के किसी चौराहे पर धरने पर बैठी हैं, कभी पुलिस के रुकावट बनने पर स्कूटी पर बैठकर मंजिल पर पहुंचते तो कभी लखीमपुर के किसानों से मिलने को पुलिस से भिड़ती हुई दिखी रही हैं.कांग्रेस महासचिव श्रीमती @priyankagandhi जी ने @INCUttarPradesh कार्यालय पर प्रेस वार्ता को संबोधित किया। headtopics.com

हमारी नीति और नीयत स्पष्ट है- महिला शक्ति को उत्तर प्रदेश चुनावों में 40% टिकट देंगे।महिला शक्ति को अधिकार दिलाकर सशक्त बनायेंगे।#लड़की_हूँ_लड़_सकती_हूँ#40KiShaktipic.twitter.com/EL8PIAdP29— Congress (@INCIndia) October 19, 2021प्रियंका गांधी ने साथ ही कहा, 'यह निर्णय उस महिला के लिए लिया है, जिसने गंगा यात्रा के दौरान मेरी नाव को तट पर लाकर कहा कि मेरे गांव में पाठशाला नहीं है. मैं अपने बच्चों को पढ़ाना चाहती हूं. यह निर्णय प्रयागराज की एक लड़की पारो के लिए लिया गया है, जिसने मेरा हाथ पकड़कर मुझसे कहा कि दीदी मैं बड़ी होकर नेता बनना चाहती हूं. यह निर्णय उन्नाव की उस लड़की के लिए लिया है, जिसको जलाया गया, मारा गया. यह निर्णय हाथरस की उस मां के लिए लिया गया है, जिसने मुझे गले लगाकर कहा कि मुझे न्याय चाहिए.'

लेकिन, सिर्फ धर्म और जाति में बंटे एक समाज में यह कदम क्रांतिकारी तो है. लेकिन बहुत खतरनाक भी. खासकर तब जब पार्टी यूपी में 32 सालों से सत्ता से बाहर है और संगठन कमजोर है. महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण बड़ा मुद्दा रहा है. लेकिन मौजूदा हालात में इसके अपने फायदे नुकसान हैं. 

क्या हो सकते हैं इसके फायदे :-- यूपी में करीब 6.5 करोड़ महिला मतदाता हैं. - प्रियंका उन्हें सिर्फ महिला की तरह पेश कर रही हैं.- प्रियंका एक बड़ी लकीर खींच के चुनौती दे रही हैं.- धर्म पर, जाति पर विरोध हो सकता है, लेकिन इस मुद्दे पर नहीं.कहां हो सकता है नुकसान :-

- कांग्रेस के पुरुष दावेदार इसे नापसंद करेंगे.- किन पुरुष के टिकट काटे जाएं ये भी बड़ी चुनौती है.- लड़ने लायक 161 महिलाओं को खड़ा करना भी चुनौती है.- धर्म-जाति के बीच एक महिला विमर्श खड़ा करना भी खतरनाक है.लेकिन कई बार इसका फायदा भी होता है. अमेठी के चुनाव में जब सोनिया गांधी के खिलाफ अमेठी राज घराने के संजय सिंह खड़े हुए तो वहां महिलाओं ने महिला को पसंद किया. headtopics.com

PM Modi Mann Ki Baat Live: पीएम मोदी बोले- सत्ता में नहीं, सेवा में रहना चाहता हूं; मैं सिर्फ जनता का सेवक CM Yogi Visit: देवरिया में बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, टीईटी परीक्षा में धांधली करने वालों के घरों पर चलेगा बुलडोजर सऊदी अरब पाकिस्तान की करेगा मदद, उसके बैंक में रखेगा अरबों डॉलर और देगा तेल - BBC News हिंदी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.comसवाल इंडिया काः जातीय गणित के बीच प्रियंका गांधी का 'लेडीज़ फर्स्ट' कितना कारगर?Priyanka GandhiUP Assembly electionटिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | कोरोनावायरस के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें |

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

Sawal nahi नको Apt slogan 🙏🙏सवाल फिर वहीं घूम फिर के आता है कि जब आलू पराठा खाने का मन हो तो जगह नहीं देखी जाती बल्कि जहां मिले भर पेट खाओ 🙏🙏 फायदा पार्टी का होगा जनता का क्या कोई पार्टी हो पिसने आम आदमी को हे । राज.मे संविदा कर्मी को नियमित कि घोषणा के बाद भी नजर अंदाज कर दिया जा रहा हे। एक शब्द है नजरिये अर्थात हम किसी चीज को किस तरह से समझे?अर्थात जब मैं एक दिन भूखा-प्यासा था तो पहले ख्वाब घर के खाने के थे लेकिन शाम होते होते समझ आया कि पेट को सिर्फ और सिर्फ भर पेट खाना चाहिए बस और कुछ नहीं लेकिन खाना कैसा भी पेट को सब पसंद है🙏सत्य आधारित लेख by social worker

पार्टी का लाभ हो ना हो महिलाओं का मनोबल जरूर बढ़ेगा बिल्कुल, बिना शक। तीनो लोकों मे इस निर्णय की प्रशंसा हो रही है, देवता पुष्प वर्षा कर रहे हैं, अब तो आप मुख्यमंत्री के चेहरे पर विचार विमर्श शुरू करें महिलाओं की सत्ता में 40%भागीदारी,यह कांग्रेस के लिए गेम चेंजर साबित होगी 4 seat aayegi 🤣

ये'फीमेल कार्ड' क्या है ?! अखबारों को अपनी सोच और भाषा पे ध्यान देना चाहिए। NDTV ने बोल दिया है, तो हो ही जाएगा..😂😂 51% could have impact immensely Ghnta mc China shall be offering Chinese Presidential Position to Yogi Ji after dismissal from Uttar Pradesh CM Position by BJP bcz his continous work done with full pleadge and faith

Bhai ji congress ko jnta se zameen pr akr milna hoga 🙏