Farmer, Movement, Supreme Court, Polic, Road Block, Witness

Farmer, Movement

पुलिस पर सवाल

पुलिस पर सवाल in a new tab)

28-10-2021 01:23:00

पुलिस पर सवाल in a new tab)

लखीमपुर खीरी मामले में एक बार फिर सर्वोच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश पुलिस को कड़ी फटकार लगाई है।

दरअसल, घटना के दिन से ही उत्तर प्रदेश पुलिस की जिस तरह आरोपियों को बचाने की मंशा नजर आने लगी थी, उससे इस घटना को लेकर निष्पक्ष जांच पर संदेह जताया जाने लगा था। मगर जब सर्वोच्च न्यायालय ने इस घटना का स्वत: संज्ञान लिया और उत्तर प्रदेश पुलिस को तत्काल सारे साक्ष्य पेश करने का आदेश दिया तब पुसिल हरकत में आई। फिर भी दो बार फटकार के बाद ही मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया जा सका। दरअसल, इस घटना के पीछे केंद्रीय गृह राज्यमंत्री का बेटा मुख्य आरोपी है, इसलिए पुलिस की जांच पर सवाल उठते रहे हैं। विपक्षियों और किसान नेताओं की आपत्ति बनी हुई है कि जब तक गृह राज्यमंत्री अपने पद पर बने रहेंगे, तब तक इस जांच की निष्पक्षता को लेकर संदेह बना रहेगा। मगर केंद्र सरकार ने उन्हें हटाने की कोई पहल नहीं की है।

किसानों की एक और मांग के सामने झुकी सरकार, अब पराली जलाना क्राइम नहीं, मंत्री बोले- 'घर लौटें किसान' कृषि मंत्री तोमर MSP पर बोले और किसानों से भी की अपील - BBC Hindi भारत सरकार ने एलन मस्क की इंटरनेट कंपनी पर रोक लगाई - BBC Hindi

इस घटना पर उत्तर प्रदेश पुलिस की जांच को लेकर सवाल कई हैं। जो लोग इस घटना में घायल हो गए, उनसे अब तक पुलिस ने बयान दर्ज नहीं किया है। जिन तेईस लोगों के बयान दर्ज करने का उसने हवाला दिया है, वह भी सर्वोच्च न्यायालय की डांट के बाद ही उसने दर्ज किए हैं। पिछली तारीख पर सिर्फ चार लोगों के बयान दर्ज होने की बात उसने स्वीकार की थी। अदालती फटकार के बाद उसने बाकी उन्नीस लोगों के बयान दर्ज किए हैं।

मगर उस घटना की जो तस्वीरें सामने आर्इं, उनमें अगली धार में चल रहे लोगों, जैसे किसान नेता विर्क और उनके साथियों, का बयान पुलिस ने अदालत की ताजा फटकार तक दर्ज नहीं किया था। उनमें से कई किसान नेता दूसरे राज्यों के हैं, जो इलाज कराने के बाद अपने घर लौट चुके हैं। उनका भी बयान लिया जाना चाहिए था। मगर हैरानी की बात है कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने इसे जरूरी क्यों नहीं समझा। सुनवाई के समय एक पीड़ित परिवार की तरफ से, स्वतंत्र रूप से पेश हुए वकील ने अदालत से गुहार लगाई कि उस घटना में मारे गए एक व्यक्ति की पत्नी को बयान देने से रोकने के लिए डराया-धमकाया जा रहा है। headtopics.com

यानी जाहिर है कि पुलिस ने जिन लोगों के बयान दर्ज किए हैं, उनकी निष्पक्षता पर भी संदेह है। मगर सर्वोच्च न्यायालय से उत्तर प्रदेश पुलिस की कारगुजारियां छिपी नहीं हैं। अदालत को यह भी पता है कि इस मामले में दस्तावेजों, सबूतों आदि को मिटाने के उच्च स्तरीय प्रयास भी हो सकते हैं। इसलिए वह लगातार उत्तर प्रदेश पुलिस के कामकाज पर नजर बनाए हुए है और उसके रवैए से जाहिर है कि वह किसी भी रूप में इस घटना के पीड़ितों को न्याय से वंचित नहीं होने देना चाहती। अदालत की इस कड़ाई से स्वाभाविक ही केंद्र और राज्य दोनों सरकारों के सामने भी मुश्किलें खड़ी हो गई हैं। अगर सरकारें इसी तरह जांच को प्रभावित करने या पुलिस पर लीपापोती करने का दबाव बनाए रखेंगी, तो उन्हें और किरकिरी झेलनी पड़ सकती है।

और पढो: Jansatta »

वारदात: तेज हो गई समीर-नवाब की तकरार, क्या है स्कूल सर्टिफिकेट की सच्चाई?

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई के जोनल हेड समीर वानखेड़े के बर्थ सर्टिफिकेट और मैरिज सर्टिफिकेट के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक कथित रूप से उनके ये दो नए सर्टिफिकेट लेकर आए हैं. नवाब मलिक के मुताबिक समीर दादर के सेंट पॉल हाईस्कूल से प्राथमिक शिक्षा ली थी. इस सर्टिफिकेट में समीर वानखेड़े का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. यहां ये भी लिखा है कि छात्र की जाति और उपजाति तभी बताई जाए जब वो पिछड़े वर्ग, या अनुसूचचित जाति-जनजाति से आए. जबकि धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. इसके बाद समीर वडाला के सेंट जॉसेफ हाईस्कूल में पढने गए. यहां के स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट में समीर का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. और धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. दरअसल नवाब मलिक समीर वानखेड़े को मुसलमान साबित करने के लिए इसलिए जुटे हैं क्योंकि अगर उनकी बात सही साबित हो गई तो समीर वानखेड़े के नौकरी खतरे में पड़ जाएगी. देखें वीडियो.

यूपी चुनाव में अखिलेश यादव से गठबंधन करने के सवाल पर राजा भैया ने दिया जवाबगौरतलब है कि 2018 में यूपी की 10 राज्यसभा सीटों के लिए हुए चुनाव के दौरान वोटिंग को लेकर राजा भैया और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बीच रिश्तों में दरार आ गई थी।

यूपी पुलिस ने कट्टर हिंदुत्ववादी नेता यति नरसिंहानंद पर ग़ुंडा एक्ट लगाने की प्रक्रिया शुरू कीकट्टर हिंदुत्ववादी नेता यति नरसिंहानंद ग़ाज़ियाबाद स्थित डासना देवी मंदिर के महंत हैं. वह नरसिंहानंद अपनी मुस्लिम विरोधी टिप्पणियों को लेकर चर्चा में रहते हैं. इस महीने की शुरुआत में उन्होंने आरोप लगाया था कि एक मुस्लिम लड़के को उनकी जासूसी के लिए भेजा गया था. इसी साल मार्च में डासना मंदिर में एक मुस्लिम लड़के के पानी पीने लेने से उसकी पिटाई की गई थी. जिस शख़्स ने लड़के को पीटा था, नरसिंहानंद ने उसका समर्थन किया था. Jab tak election aayega fir kuch aur NSA UAPA ओर लोकतांत्रिक देश का खुला आतंकवादी का टैग लगाओ ओर ये हैं भी जेल में डालो इसे

Breaking News : सिंघु बॉर्डर पर अचानक मचा बवाल, पुलिस ने किया बल प्रयोग, देखिए वीडियोक्रूज ड्रग्‍स केस में शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) को बुधवार को भी जमानत नहीं मिली। अब इस मामले में गुरुवार को दोपहर 2:30 बजे के बाद सुनवाई होगी और ASG अनिल सिंह NCB की ओर से जमानत का विरोध करेंगे। ओलिंपिक चैंपियन नीरज चोपड़ा और रजत पदक विजेता पहलवान रवि दहिया सहित 11 एथलीटों को वर्ष 2021 के खेल रत्न पुरस्कार के लिए नामित किया गया है। उधर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पेगासस जासूसी केस की जांच तीन सदस्यीय समिति करेगी। कमेटी को जांच करने के लिए 8 सप्ताह का समय दिया है। देश दुनिया की ब्रेकिंग न्यूज (Breaking News) और लेटेस्ट न्यूज (Latest News in Hindi) के लिए बने रहिए नवभारतटाइम्स ऑनलाइन के साथ

भाजपा दो सीटों पर पिछड़ी, दो पर सीधी टक्करमुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की प्रतिष्ठा का सवाल बन चुके अर्की, जुब्ब्ल कोटखाई और फतेहपुर विधानसभा हलकों के अलावा संसदीय हलका मंडी जैसे उपचुनावों में जीत हासिल करना बेशक लाजमी हो गया है।

पेगासस मामले पर राहुल गांधी का मोदी-शाह पर हमला, पात्रा का पलटवार - BBC Hindiकांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को पेगासस मामले की जाँच के लिए तीन साइबर विशेषज्ञों की एक समिति नियुक्त करने के सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को एक बड़ा क़दम बताया है और आशा जताई है कि सच सामने आ जाएगा. खा भारत के रहे-गा पाकिस्तान की रहे ! बढ़िया हुआ👍 Good myogiadityanath ji 🙏🙏

POK पर फिलहाल कब्जे की योजना नहीं पर 'पूरा कश्मीर' एक दिन भारत का होगाश्रीनगर। भारतीय वायुसेना के एक शीर्ष अधिकारी ने बुधवार को कहा कि कश्मीर के, पाकिस्तान के कब्जे वाले हिस्से (POK) पर कब्जा करने की ‘फिलहाल’ कोई योजना नहीं है, लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई कि एक दिन भारत के पास ‘पूरा कश्मीर’ होगा।