Coronavirus, Coronaupdatesonbhaskar, Covid 19, Coronavaccine, Prime Minister, Narendra Modi, Modi Meeting With Chief Ministers, Covıd19 Situation

Coronavirus, Coronaupdatesonbhaskar

पीएम की मुख्यमंत्रियों से 9वीं बैठक: मोदी बोले- वैक्सीन की कीमत क्या होगी और इसके कितने डोज होंगे, इसका जवाब अभी हमारे पास नहीं है

कोरोना वैक्सीन पर मोदी की मीटिंग: पीएम ने कहा- अभी तय नहीं है कि वैक्सीन का एक डोज होगा या दो, कीमत भी क्या होगी, तय नहीं #Coronavirus #CoronaUpdatesOnBhaskar #Covid19 #CoronaVaccine @narendramodi @PMOIndia @AmitShah

24-11-2020 12:43:00

कोरोना वैक्सीन पर मोदी की मीटिंग: पीएम ने कहा- अभी तय नहीं है कि वैक्सीन का एक डोज होगा या दो, कीमत भी क्या होगी, तय नहीं Coronavirus CoronaUpdatesOnBhaskar Covid19 CoronaVaccine narendramodi PMOIndia AmitShah

कोरोना पर मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा में मोदी ने कहा कि अभी वैक्सीन की कीमत और डोज तय नहीं है। इस पर काम चल रहा है और व्यवस्था के तहत ही ये आएगी। हमें यह निश्चित करना है कि यह सबसे निचले पायदान तक पहुंचे। हमें कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लापरवाही नहीं बरतनी है। हम मुश्किल के गहरे समुद्र से निकलकर किनारे की तरफ निकल रहे हैं। कहीं ऐसा न हो कि हमारी कश्ती वहीं डूबे, जहां पानी कम था। हमें ऐसा नहीं होना... | Narendra Modi Coronavirus Situation Meeting Update; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना की स्थिति पर मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग कर रहे हैं। मीटिंग में गृह मंत्री अमित शाह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन भी मौजूद हैं।

कोरोना की स्थिति पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ 9वीं बार मीटिंग की। पिछली बार 23 सितंबर 7 राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की थी।कोरोना पर मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा में मोदी ने कहा कि अभी वैक्सीन की कीमत और डोज तय नहीं है। इस पर काम चल रहा है और व्यवस्था के तहत ही ये आएगी। हमें यह निश्चित करना है कि यह सबसे निचले पायदान तक पहुंचे। हमें कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लापरवाही नहीं बरतनी है। हम मुश्किल के गहरे समुद्र से निकलकर किनारे की तरफ निकल रहे हैं। कहीं ऐसा न हो कि हमारी कश्ती वहीं डूबे, जहां पानी कम था। हमें ऐसा नहीं होना। कोरोना काल में मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ ये 9वीं बैठक है।

अमेरिकी इतिहास का नया अध्याय: यूनिटी के वादे के साथ अमेरिका के सबसे उम्रदराज राष्ट्रपति बने बाइडेन, कमला पहली महिला उपराष्ट्रपति बाइडन का ट्रंप पर निशाना, कहा- 'ताक़त और लाभ के लिए झूठ बोले गए' - BBC News हिंदी बाइडन पहली कॉल ट्रूडो को करेंगे, पुतिन से फिलहाल कोई बात नहीं – आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi

मीटिंग में मोदी ने कही ये 6 बातें1. भारत संभली हुई स्थिति में है:वैक्सीन की स्थिति और डिस्ट्रीब्यूशन को लेकर जो चर्चाएं हुई हैं, उस पर हमें सिस्टम के तहत आगे बढ़ना होगा। एक समय था कि अंजान ताकत से लड़ने की चुनौती थी। देश के संगठित प्रयासों से इसका सामना किया गया। नुकसान कम से कम रखा गया। रिकवरी और फैटलटी रेट के मामले में भारत संभली हुई स्थिति में है। टेस्टिंग और ट्रीटमेंट का बहुत बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है।

2. अलग चरणों में लोगों का व्यवहार अलग था:कोरोना के दौरान भारत के लोगों का व्यवहार भी अलग-अलग चरणों में अलग-अलग रहा है। पहले चरण में डर था। दूसरे चरण में भय के साथ संदेह भी जुड़ा। बीमारी की वजह से समाज से कटने का डर भी लगने लगा। लोग संक्रमण को छिपाने लगे। उससे भी हम बाहर आए। तीसरे चरण में काफी हद तक समझने लगे और संक्रमण को बताने लगे। आसपास लोगों को समझाने लगे। गंभीरता भी आने लगी। चौथे चरण में कोरोना से रिकवरी का रेट बढ़ा तो लोगों को लगा कि वायरस कमजोर हो गया, नुकसान नहीं कर रहा है। बीमार हो भी गए तो ठीक हो जाएंगे, इसकी वजह से इस स्टेज में लापरवाही बढ़ गई है। headtopics.com

त्योहारों से पहले मैंने हाथ जोड़कर प्रार्थना की थी िक कोई दवाई-वैक्सीन नहीं है और आप ढिलाई मत बरतिए। चौथे चरण में जो गलती की हैं, हमें उन्हें सुधारना होगा। हमें तो कोरोना पर ही फोकस करना है।3. पॉजिटिविटी रेट 5% के दायरे में रखना है:अब हमारे पास टीम तैयार है। जो-जो चीज तैयार करें, उसे इम्प्लीमेंट करें। कोरोना बढ़े ना कोई गड़बड़ ना हो। आपदा के गहरे समुद्र से निकलकर हम किनारे की तरफ बढ़ रहे हैं। ऐसा न हो जाए कि हमारी कश्ती वहां डुबी, जहां पानी कम था। वो स्थिति नहीं आने देनी है हमें। हमें ट्रांसमिशन को कम करने के लिए अपने प्रयासों को और गति देनी होगी। पॉजिटिविटी रेट को 5% के दायरे में लाना ही होगा। फैटिलिटी रेट 1% के दायरे में लाएं।

4. अभी डोज और कीमत का जवाब नहीं है:वैक्सीन की रिसर्च आखिरी दौर में पहुंची है। भारत सरकार हर डेवलपमेंट पर बारीकी से नजर रख रही है। अभी यह तय नहीं है कि वैक्सीन की एक डोज होगी, दो डोज होगी। कीमत भी तय नहीं है। इन सवालों के जवाब हमारे पास नहीं हैं। जो वैक्सीन बनाने वाले हैं, कॉरपोरेट वर्ल्ड का भी कंपटीशन है। हम इंडियन डेवलपर्स और दूसरे मैन्युफैक्चर्स के साथ भी काम रहे हैं।

5. प्राथमिकता वैक्सीन सभी तक पहुंचाना:वैक्सीन आने के बाद यही प्राथमिकता हो कि सभी तक पहुंचे। अभियान बड़ा होगा और लंबा चलने वाला है। हमें एकजुट होकर एक टीम के रूप में काम करना ही पड़ेगा। वैक्सीन को लेकर भारत के पास जैसा अनुभव है, वो बड़े-बड़े देशों को नहीं। भारत जो भी वैक्सीन देगा, वो वैज्ञानिक तौर पर खरी होगी। वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन राज्यों के साथ मिलकर खाका रखा गया है। फिर भी ये निर्णय तो हम सब मिलकर करेंगे।

6. डिस्ट्रीब्यूशन में राज्यों का अनुभव काम आएगा:हम सब जानते हैं कि हम वैज्ञानिक नहीं हैं। व्यवस्था के तहत जो चीज आती है, उसी को स्वीकार करना होगा। मन में जो योजना हो, खासतौर पर वैक्सीन के संबंध में कि कैसे नीचे तक ले जाएंगे। राज्यों का अनुभव काम आएगा। वैक्सीन अपनी जगह पर है, वो काम होना है और करेंगे। थोड़ी सी भी ढिलाई कोरोना के खिलाफ लड़ाई में नहीं आनी चाहिए। headtopics.com

शिवानी कटारिया: तैराकी शिविर से ग्रीष्मकालीन ओलंपिक तक का सफ़र - BBC News हिंदी चीन ने ट्रंप के विदेश मंत्री रहे माइक पोम्पियो पर लगाया प्रतिबंध - BBC News हिंदी कृषि क़ानून: केंद्र सरकार के नए प्रस्ताव से क्या ख़ुश हैं किसान? - BBC News हिंदी

4 चरणों में होगा वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशनदेश में 5 वैक्सीन डेवलपमेंट के एडवांस स्टेज में हैं। इनमें से 4 फेज-2 या फेज-3 में हैं। आज की मीटिंग में वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन की स्ट्रैटजी पर चर्चा की गई। सरकार ने इस बारे में काम शुरू कर दिया है कि कोरोना वैक्सीन बाजार में आने के बाद इसका तेजी से और प्रभावी डिस्ट्रीब्यूशन कैसे किया जाएगा।

मीटिंग में शामिल हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर ने बताया कि वैक्सीन पहले फेज में हेल्थकेयर वर्कर्स और बेहद जरूरतमंदों को दी जाएगी। इसके बाद फ्रंट लाइन वर्कर्स को दी जाएगी। फिर दो चरणों में उम्र के हिसाब से इसका डिस्ट्रीब्यूशन होगा। यानी 4 चरणों में वैक्सीन दी जाएगी।

मीटिंग की तारीखक्या चर्चा हुईकोरोना के केसकोरोना से मौतें20 मार्चमोदी ने सोशल डिस्टेंसिंग और 22 मार्च के जनता कर्फ्यू पर फोकस किया।24952 अप्रैल9 मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा हुई। मोदी ने कहा- लॉकडाउन के बाद धीरे-धीरे छूट देना ही बेहतर होगा।2,5437211 अप्रैल

लॉकडाउन 30 अप्रैल तक बढ़ाने पर सहमति बनी। मीटिंग में शामिल 10 मुख्यमंत्रियों ने समर्थन किया।8,44628827 अप्रैलहॉटस्पॉट के बाहर 4 मई को लॉकडाउन खोलने पर सहमति बनी। पांच राज्य 3 मई के बाद भी लॉकडाउन बढ़ाने के फेवर में थे।29,45193911 मईमोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा- 15 मई तक बताएं कि अपने राज्य में कैसा लॉकडाउन चाहते हैं। headtopics.com

70,7682,29416-17 जूनप्रधानमंत्री ने कोरोना से बचाव के तरीकों, लॉकडाउन के असर, अनलॉक-1, इकोनॉमी और रिफॉर्म्स की बात की।3,67,26312,26218 अगस्तमोदी ने कहा कि 72 घंटे के फॉर्मूले पर बात की। उन्होंने कहा कि 72 घंटे में संक्रमित व्यक्ति के आस-पास वालों की भी टेस्टिंग हो जानी चाहिए।

27666275301523 सितंबरमोदी ने कहा- देश में करीब 700 जिले हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 7 राज्यों के 60 जिले ही चिंता की वजह हैं। इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को सलाह देता हूं कि वे 7 दिन तक जिला और ब्लॉक स्तर पर लोगों से वर्चुअल कॉन्फ्रेंस करें। और पढो: Dainik Bhaskar »

सस्ती एसयूवी: 10 लाख से कम है बजट! तो जल्द आ रही हैं रेनो किगर से लेकर सिट्रोएन C3 तक ये पांच छोटी एसयूवी, देखें लिस्ट

मैग्नाइट की तरह किगर भी CMF-A+ मॉड्यूलर प्लेटफॉर्म पर बेस्ड होगी,टाटा HBX को कंपनी पिछले साल ऑटो एक्सपो 2020 में शोकेस कर चुकी है | 10 लाख से कम है बजट! तो जल्द आ रही हैं रेनो किगर से लेकर सिट्रोएन C3 तक ये पांच छोटी एसयूवी, देखें लिस्ट, From Renault Kiger To Citroen C3, 5 Upcoming SUVs Under Rs 10 Lakh In India, Check list

PRAMODkADAM6711 narendramodi narendramodi PMOIndia AmitShah अभी जब तक वैक्सीन नहीं आती है तब तक लोगों को मास्क लगाना कर ही बाहर निकलना चाहिए और प्रत्येक बार हाथ जरूर धोना चाहिए भीड़भाड़ वाले इलाके से दूर रहना चाहिए लोगों को प्रतिदिन नीम की मुखारी से मुंह धोना चाहिए और गर्म पानी पीना चाहिए और सोने के पहले हल्दी दूध का सेवन करना चाहिए

narendramodi PMOIndia AmitShah Chief ministers ki MBBS, MD, FRCS degree holders ke sath meeting... corona to aise hi darr gaya hoga aaj to in dono scientists ko dekh kar.... narendramodi PMOIndia AmitShah कोरोना वैक्सीन वितरण एवं टीका लगाने का काम इलेक्शन कमीशन के हवाले कर दिया जाए तो कैसा रहेगा? जैसे पूरे देश में इलेक्शन कमिशन चुनाव का इंतजाम करता है उसी तरीके से टीका लगाने का काम भी हो सकता है, सामाजिक एवं राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को ले आएंगे

narendramodi WE HAVE PREVENTIVE AND CURATIVE MEDS OF CORONA IN HOMEOPATHY CURABLE WITH IN A DAY . NO FAILURE YET. GOVT MAY TESTIFY ! narendramodi बिहार में तो भोट मिला है