पिता की अंतिम इच्छा पूरी की: भाई ने बग्घी में निकाली बहन की बरात, दुल्हन ने किया डांस; पिता कहते थे- मेरे बेटा-बेटी बराबर हैं

पिता की अंतिम इच्छा पूरी की:भाई ने बग्घी में निकाली बहन की बरात, दुल्हन ने किया डांस; पिता कहते थे- मेरे बेटा-बेटी बराबर हैं #Bride #DanceVideo #ViralMarriage #burhanpur #MadhyaPradesh

Bride, Dancevideo

02-12-2021 20:05:00

पिता की अंतिम इच्छा पूरी की:भाई ने बग्घी में निकाली बहन की बरात, दुल्हन ने किया डांस; पिता कहते थे- मेरे बेटा-बेटी बराबर हैं Bride DanceVideo ViralMarriage burhanpur MadhyaPradesh

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए दूल्हे की तर्ज पर घर से दुल्हन की बरात निकासी हुई। भाई ने बग्घी बुलाई। उस पर सवार होकर दुल्हन ने पालकी मैं होके सवार चली रे...मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे....गाने पर जमकर डांस किया। ये देखकर हर कोई हैरान था। बुरहानपुर में ही एक दिन पहले भी एक दूल्हा इसी तरह डीजे पर चढ़कर डांस करता नजर आया था। | पालकी में होके सवार चली रे....मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे...गीत पर दुल्हन ने किया डांस

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए दूल्हे की तर्ज पर घर से दुल्हन की बरात निकासी हुई। भाई ने बग्घी बुलाई। उस पर सवार होकर दुल्हन ने पालकी मैं होके सवार चली रे...मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे....गाने पर जमकर डांस किया। ये देखकर हर कोई हैरान था। बुरहानपुर में ही एक दिन पहले भी

एक दूल्हा इसी तरह डीजे पर चढ़कर डांस करता नजर आया था।यह वीडियो शहर के सरस्वती नगर निवासी राजानी परिवार की बेटी दीपिका पंजूमल राजानी का है। इनका विवाह एक दिन पहले इंदौर में हुआ है। इंदौर जाने से पहले दीपिका के भाई जय राजानी ने अपनी बहन की इस तरह शानोशौकत से बरात निकाली। दीपिका के पिता का सपना था कि उनकी बेटी की बरात धूमधाम से निकले, लेकिन पिता की मृत्यु होने के बाद उनके पुत्र जय राजानी ने उनके इस सपने को पूरा किया। वीडियो के सोशल मीडिया में आने के बाद जमकर तारीफ हो रही है। जब दुल्हन डांस कर रही थी तब बराती दुल्हन के डांस के साथ सेल्फी लेते नजर आए।

बग्गी पर डांसी करती दुल्हन।समाज को समानता का संदेश देने के लिए निकाली बहन की बरातसिंधी समाज में विवाह में वधु पक्ष के लोगों द्वारा वर पक्ष के यहां जाकर शादी करने की परंपरा है। जब दीपिका राजानी का परिवार विवाह के लिए इंदौर के लिए रवाना हो रहा था तो उनके भाई जय राजानी ने लड़का-लड़की में समानता का समाज में संदेश देने के लिए अपनी बहन की इस तरह से बारात निकाली। दुल्हन बनी दीपिका अपने साजन के घर जाने से पहले जमकर नाचीं। headtopics.com

Bal Thackrey Birth Anniversary: सीएम उद्धव ठकरे ने कहा- शिवसेना ने भाजपा के साथ रहकर 25 साल बर्बाद कर दिये

और इधर... बैलगाड़ी से बेटी को लेने ससुराल पहुंचा पिताबैलगाड़ी से बेटी को ससुराल से लेना आया पूरा परिवार।नेपानगर क्षेत्र के अंधारवाड़ी गांव में परंपरागत पद्धति से भारतीय संस्कृति के अनुसार बैलगाड़ी द्वारा बेटी को लेने चौहान परिवार के सदस्य पाटणकर परिवार के घर बैलगाड़ी से पहुंचे। वहां पहुंचकर उन्होंने अपनी बेटी पूजा चौहान को बैलगाड़ी पर बैठाकर अपने घर लाए। जहां ग्रामीणों ने भी उनका स्वागत किया। ग्रामीण बैलगाड़ी को देखने के लिए काफी उत्साहित रहे। यहां दो दिन पहले ही दुल्हन पूजा पिता भागवत राव चौहान का विवाह दूल्हे शुभम संभाजी पाटणकर के साथ संपन्न हुआ था। दोनों एक ही गांव के हैं।

और पढो: Dainik Bhaskar »

सरकार: 2017 में BJP के भारी बहुमत से जीत के बाद Yogi Adityanath कैसे चुने गए CM?

मार्च 2017 की बात है. फागुन की पूरनमासी से पहले ही यूपी में बीजेपी की पूरनमासी हो गई. यूपी के बड़े बड़े लड़ैया मोदी के आगे ढेर हो गए. प्रचंड बहुमत से बीजेपी को जीत मिली थी, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी. लेकिन इसके बाद चुनना था एक ऐसा चेहरा जो इस भारी भरकम जनादेश के साथ न्याय कर सकता था, उत्तर प्रदेश का नया मुख्यमंत्री. चर्चा थी तीन नामों की - यूपी के सीएम रह चुके राजनाथ सिंह, गाज़ीपुर से तत्कालीन सांसद मनोज सिंहा और तब के यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य. लेकिन जो फैसला लिया गया वो कयासों से बिलकुल उलट था. घोषणा हो गई एक ऐसे नाम की जिनकी किसी ने चर्चा ही नहीं की थी. बाकि तो छोड़िए, खुद योगी आदित्यनाथ को नहीं मालूम था कि उनकी बारी ऐसे आ जाएगी. देखें सरकार. और पढो >>

देश को बचा लो, तभी शादी ब्याह हो पायेंगे। नया वेरिएंट आ रहा है। अगर विदेशों से एक व्यक्ति भी वायरस के साथ आ गया तो सारा देश ग्रसित हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि सभी विदेशी उड़ानों पर आने-जाने के लिए प्रतिबंध लगा दिया जाए।अनेक देश इस काम में आगे बढ चुके हैं और वही सुरक्षित रहेंगे।

मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में गड़बड़ी, 65 में से 15 लोगों की निकालनी पड़ी आंखजानकारी के लिए बता दें कि बीते 22 नवंबर को मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पिटल में 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. जिसमें ज्यादातर लोगों की आंखों में इंफेक्शन हो गया.

Omicron संकट : इंदौर का बैडमिंटन खिलाड़ी बोत्सवाना में फंसा, परिवार ने लगाई मदद की गुहारइंदौर। कोरोनावायरस के नए स्वरूप ओमिक्रॉन के प्रसार को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर पाबंदी के चलते मध्यप्रदेश के इंदौर के युवा बैडमिंटन खिलाड़ी प्रियांश खुशवानी अफ्रीकी देश बोत्सवाना में फंस गए हैं जिसके बाद उनके चिंतित परिवार ने उनकी जल्द से जल्द स्वदेश वापसी के लिए भारत सरकार से मदद की गुहार लगाई है। गौरतलब है कि बोत्सवाना में कोरोना वायरस के नवीन स्वरूप ओमिक्रॉन का पता चला है जिससे दुनियाभर में महामारी को लेकर नई चिंताएं उत्पन्न हो गई हैं।

गाजियाबाद : इंदिरापुरम की सोसायटी की एक बिल्डिंग में 5वें माले पर आग, दिखा भयानक मंजरवहां मौजूद लोगों ने तत्काल इस घटना की जानकारी दमकल विभाग को दी. सूचना पर दमकल की टीम मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास कर रही है

Covid-19: देशभर में पिछले 24 घंटों में 9,765 नए केस, 477 की मौतदेश में फिलहाल रिकवरी रेट 98.35 फीसदी दर्ज की गई है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे ज्यादा है. पिछले 24 घंटों में देशभर में कुल 8,548 मरीज कोविड महामारी से स्वस्थ हुए हैं. अब तक देशभर में कुल 3 करोड़, 40 लाख, 37 हजार, 054 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं. pikaso_me screen shot this Lagta hai ki ab '0' nhi hone denge...kbhi

शाह रुख खान की राजनीतिक बलि दी गई, मुंबई में बोलीं बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जीबंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा कि शाह रुख खान की राजनीतिक बलि दी गई है। बता दें कि दो अक्टूबर को शाह रुखके पुत्र आर्यन खान को नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की एक कार्रवाई में गिरफ्तार किया गया था। Ha sahi kaha mamata ji ne vah jis raste se jaa rahi hai, To aisa lagna swabhavik hai. अब ये भी बोल दो की बांग्लादेश को भी इंडिया में मिलाया जा सकता था लेकिन वहां मुस्लिम थे उस लिए उनको अलग देश बनाया गया 😔😔 छापा मारा था लोगों को तो नहीं ।

अंतरिक्ष में मिले 5 लाख ऐसे तारे...जो भविष्य में बन सकते हैं धरती की 'बैटरी'भारतीय वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में ऐसे पांच लाख तारों की खोज की है, जो लिथियम से भरे हुए हैं. अगर किसी तरह से इन तारों से लिथियम लाने की व्यवस्था या तकनीक विकसित कर ली जाए तो सैकड़ों सालों दुनिया को ग्रीन और क्लीन एनर्जी का स्रोत मिल जाएगा. JusticeForRailwayStudent railway_exam_calander railway_hay_hay