परीक्षा में धांधली का दंश

परीक्षा में धांधली का दंश

Jansatta Editorial, Jansatta Editorial Comment

04-12-2021 01:29:00

परीक्षा में धांधली का दंश

पर्चे लीक होने का सिलसिला हाल के वर्षों में इतना बढ़ा है कि शायद ही कोई प्रतिष्ठित परीक्षा इसकी चपेट में आने से बच पाई हो। पता चला है कि पचास हजार से पांच लाख रुपए तक में बिके प्रश्नपत्र सोशल मीडिया पर मुहैया कराए गए। यह भी संभव है कि जिन मामलों का खुलासा नहीं हुआ, वहां ऐसे चोर रास्तों से शायद सैकड़ों लोग नौकरी या प्रतिष्ठित पाठ्यक्रमों में दाखिला पा गए हों। ऐसे में यह सवाल बना रहेगा कि क्या कभी हमारी प्रतियोगी परीक्षाएं इस बीमारी से निजात पा सकेंगी।

भले यूपी सरकार ने एक महीने में इस परीक्षा को दुबारा आयोजित करने का आश्वासन दिया है, लेकिन चुनावी माहौल में आचार संहिता लागू होने की संभावनाओं के मद्देजर कोई नहीं जानता कि एक बार टली ये परीक्षाएं फिर कब होंगी। पर अनिश्चय इतना भर नहीं है। यह भी है कि क्या आगे होने वाली परीक्षाओं का पर्चा लीक नहीं होगा।

UP: 'विधायक जी...इस बार MLA बनकर दिखा दो', मुजफ्फरनगर में ग्रामीणों ने BJP प्रत्याशी को खदेड़ा

देश की तकरीबन हर प्रतियोगी परीक्षा के पर्चे लीक करा चुके गिरोहों, तंत्र में गहरे पैठे भ्रष्टाचारियों और हर बार सरकार के बड़े-बड़े दावों के खोखले निकल जाने की घटनाओं ने अतीत की ज्यादातर परीक्षाओं की सत्यता को संदेह के घेरे में ला दिया है। यही नहीं, जिन परीक्षाओं को हर योग्यता का मानक बनाया गया है, वे अब बेमानी प्रतीत होने लगी हैं।

ऐसे ज्यादातर मामलों में किसी जांच को नतीजे तक ले जाने में नाकाम रहने वाली सरकारें अपने तंत्र और निकम्मे अधिकारियों और पर्चा लीक कराने वाले अपराधियों पर कोई अंकुश लगा पाएंगी, यह उम्मीद तो अब कोई नहीं करता। हालांकि वे अगर ऐसा करना चाहें और राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखाएं, तो इसमें कोई समस्या नहीं है। headtopics.com

यहां सबसे बड़ा सवाल प्रतियोगी या प्रवेश परीक्षाओं में बैठने वाले उम्मीदवारों की हताशा का है। अहम प्रतियोगी परीक्षाओं और प्रतिष्ठित पाठ्यक्रमों की प्रवेश परीक्षा के पर्चे अगर पहले से लीक हो जाएं, भर्तियों में पैसे लेकर धांधली की जाए या सांठगांठ कर नकल कराते हुए परीक्षार्थियों को उत्तीर्ण करा लिया जाए, तो सबसे ज्यादा कष्ट उन मेहनती परीक्षार्थियों और उम्मीदवारों को होता है जो प्रतिभा के बल पर किसी परीक्षा में अपनी योग्यता साबित करने का जतन करते हैं।

शराबबंदी कानून पर ढीले पड़ेंगे नीतीश कुमार, फरवरी में पेश हो सकता है संशोधन बिल

पर्चा लीक कांडों का यह अनवरत सिलसिला परीक्षार्थियों को परीक्षा के लिए दुबारा तैयारी करने से लेकर आने-जाने और तमाम खर्चे उठाने का विकल्प छोड़ता है, जिसकी भरपाई कोई सरकार नहीं करती। इस बार यूपी की योगी सरकार ने परीक्षा की फीस दुबारा भरने से छूट और अभ्यर्थियों को यूपी रोडवेड की बसों में वापसी की मुफ्त यात्रा का विकल्प दिया है, लेकिन इन हादसों से लगे घाव इतने गहरे हैं कि ऐसे मरहम ज्यादा राहत नहीं देते।

ये घटनाएं लाखों बेरोजगारों को कैसे आक्रोश से भर देती हैं, उसका एक उदाहरण तीन साल पहले कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) के तहत 17-21 फरवरी, 2018 को हुई संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा है। आनलाइन परीक्षा के दौरान ही सोशल मीडिया पर इसका प्रश्नपत्र लीक हो गया था। फिर परीक्षा रोक दी गई। इस पर छात्रों का आक्रोशित होना स्वाभाविक था, क्योंकि इससे उन्हें परीक्षा के लिए दुबारा मेहनत करने और पैसा खर्च करने की जरूरत थी। इस पर हजारों छात्र धरने-प्रदर्शन पर उतर आए थे।

समाजसेवी अण्णा हजारे समेत कुछ राजनीति दलों ने भी उसकी सीबीआई जांच की मांग करते हुए आंदोलन का समर्थन किया था। आखिर सरकार पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच को राजी हो गई थी। इस घटना और इसके आगे-पीछे हुई तमाम घटनाओं ने साबित किया है कि अब छात्रों को यह बर्दाश्त नहीं कि व्यवस्था की खामियों का नतीजा वे भुगतें। उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती की ताजा परीक्षा में पेपर लीक ने फिर साबित कर दिया कि इस मर्ज का कोई इलाज सरकारों के पास नहीं है। headtopics.com

ICC टी-20 टीम में छाया पाकिस्तान, बाबर बने कप्तान - BBC Hindi

पर्चे लीक होने का सिलसिला हाल के वर्षों में इतना बढ़ा है कि शायद ही कोई प्रतिष्ठित परीक्षा इसकी चपेट में आने से बच पाई हो। शिक्षक भर्ती के अलावा यूपी-पीसीएस, यूपी कंबाइड प्री-मेडिकल टेस्ट, यूपी-सीपीएमटी, एसएससी, ओएनजीसी और रेलवे भर्ती बोर्ड की परीक्षाओं के पेपर हाल के कुछ वर्षों में लीक हुए हैं। यह भी पता चला है कि पचास हजार रुपए से पांच लाख रुपए तक में बिके प्रश्नपत्र सोशल मीडिया पर मुहैया कराए गए। यह भी संभव है कि जिन मामलों का खुलासा नहीं हुआ, वहां ऐसे चोर रास्तों से शायद सैकड़ों लोग नौकरी या प्रतिष्ठित पाठ्यक्रमों में दाखिला पा गए हों। ऐसे में यह सवाल बना रहेगा कि क्या कभी हमारी प्रतियोगी परीक्षाएं इस बीमारी से निजात पा सकेंगी।

असल में, आज देश का शायद ही कोई ऐसा कोना बचा हो, जहां पर्चा लीक कराने वाले गिरोहों ने अपना कारनामा न किया हो। यहां तक कि सीबीएसई जैसे विश्वसनीय शैक्षणिक संगठन में भी पर्चा लीक गिरोह सेंध लगा चुका है। पेपर लीक कराने के लिए कुख्यात रहे कई अपराधियों की गिरफ्तारी भी हुई है। लेकिन इसका न रुक पाना साबित करता है कि योग्यता का मापदंड तय करने वाली परीक्षा प्रणाली की व्यवस्था पूरी तरह लुंजपुंज हो गई है। सरकारें पर्चे की लीकेज को बहुत हल्के में लेती हैं, ऐसे में यह मर्ज लाइलाज बनता जा रहा है।

इसका एक पहलू बेरोजगारी और सरकारी नौकरी की चाह से भी जुड़ा है। ऐसी ज्यादातर परीक्षाओं में कुछ सौ या हजार पदों के लिए आवेदकों की संख्या लाखों में होती है। शिक्षक भर्ती जैसी नौकरियों के लिए योग्यता हासिल करने वाली टीईटी और सीटीईटी जैसी प्रतियोगी परीक्षाएं एक कदम आगे बढ़ गई हैं। ये परीक्षाएं न तो कोई शैक्षिक योग्यता प्रदान करती हैं और न ही नौकरी दिलाती हैं, लेकिन नौकरी के लिए योग्य होने की ऐसी सीढ़ी बन गई हैं, जिसके माध्यम से नौकरी का सिर्फ आश्वासन मिलता है।

फिर भी आलम यह है कि इसके आवेदकों की संख्या लाखों में होती है। इसी तरह अन्य सरकारी नौकरियों और मेडिकल और इंजीनियरिंग कालेजों की प्रवेश परीक्षाओं में तो आठ-दस लाख परीक्षार्थियों का शामिल होना अब आम बात है। इस सबका कुल अर्थ यह है कि चाहे प्रोफेशनल कोर्स की बात हो या नौकरी की, हर जगह स्थिति एक अनार-सौ बीमार वाली है। मांग ज्यादा है, आपूर्ति कम। जहां भी ऐसे हालात पैदा होते हैं, वहां पैसे और अवैध हथकंडों की भूमिका स्वाभाविक रूप से बढ़ जाती है। headtopics.com

यहां हमारे समाज का एक विद्रूप सामने आता है। बहुतेरे अभिभावक पैसे के बल पर अपने बच्चों, नाते-रिश्तेदारों को सामाजिक प्रतिष्ठा दिलाने वाली कोई भी सरकारी नौकरी दिलाना चाहते हैं। उन्हें लगता है कि किसी भी वैध-अवैध तरीके से अगर एक बार सरकारी नौकरी मिल गई, तो पूरा जीवन संवर जाएगा। ऐसे ही लोगों में से एक बड़ी संख्या उनकी है, जो डोनेशन देकर अच्छे संस्थानों की सीटें खरीदते हैं और मौका मिल जाए तो किसी भी प्रवेश या भर्ती परीक्षा का पर्चा हासिल करने की कोशिश करते हैं।

पर इन कुछ सौ या हजार लोगों की वजह से उन लाखों युवाओं की मेहनत और प्रतिभा व्यर्थ हो जाती है, जो अपनी काबिलियत के बल पर अपना भविष्य बनाना चाहते हैं। इसके लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत है। समझना होगा कि परीक्षाओं को आनलाइन कर देने या पर्चों को अंदर बंद कर देने भर से इंसानी अवगुणों पर पहरा नहीं बैठ जाता है। उसके लिए दोषियों की धरपकड़ कर उन्हें सख्त सजा देने की जरूरत होती है।

और पढो: Jansatta »

मुलायम के परिवार में BJP की सेंधमारी, SP को कितना घाटा, देखें दगंल

चुनावी मौसम में नेताओं के दल बदल का खेल जारी है. टिकटों के एलान के साथ बगावतियों की संख्या बढ़ती जा रही हैं. आज बीजेपी ने एक बड़ा दांव खेला और मुलायम परिवार में एक और सेंधमारी की. मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव ने समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी का हाथ थामा है यानी पहले मुलायम के समधी और अब बहू अपर्णा अब बीजेपी के लिए वोट मांगते नजर आने वाले हैं. इस पर देखें दंगल में बड़ी बहस.

मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में गड़बड़ी, 65 में से 15 लोगों की निकालनी पड़ी आंखजानकारी के लिए बता दें कि बीते 22 नवंबर को मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पिटल में 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. जिसमें ज्यादातर लोगों की आंखों में इंफेक्शन हो गया.

पंजाब किंग्स से टूटा केएल राहुल का नाता, फैंस बोले- मुस्कुराइए आप लखनऊ में हैंभारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज केएल राहुल इंडियन प्रीमियर लीग यानी आइपीएल के इतिहास के सबसे महंगे खिलाड़ी बन सकते हैं क्योंकि उन्होंने पंजाब किंग्स के साथ अपना नाता तोड़ लिया है और ऐसे में वे लखनऊ के लिए खेलते नजर आ सकते हैं। हम पंजाब वालों को ये चाहिए भी नहीं ये टीम के लिए कहां खेलता है अपने लिए खेलता है कोन 50 गेंदों में कौन 80 रन बनाता है IPL में

प्रशांत किशोर की एंट्री से 'देश में विपक्ष कौन' का मुद्दा और गरमाया - BBC News हिंदीममता बनर्जी ने ये कह कर बहस छेड़ ही है कि 'कोई यूपीए नहीं है'. गुरुवार को इस बहस को और हवा देते हुए प्रशांत किशोर की एंट्री हुई और वे एक बार फिर कांग्रेस पर हमलावर हुए. पढ़ें क्या है पूरा मुद्दा? टूलकिट पर चर्चा कोई मायने नहीं रखता... हाँ अब बेशक प्रशांत की सरकारी नौकरी हैं और बंदा मालामाल हो गया मोदी हैं तो मुमकिन है This man must now work for national welfare instead of using his skills for personal benefits only ! NationFirst bjp की राजनैतिक चातुर्य है कि आज भारत में मज़बूत विपक्ष ही नहीं है,विपक्ष के रूप में कई सारे क्षैत्रिय दल,सभी की अपनी अपनी महत्वाकांक्षाएँ कभी उनको एकजुट होने नहीं देगी। महत्वाकांक्षी मनोवृत्ति में फूट आसानी से डाली जा सकती है,यही bjp की सबसे बड़ी ताक़त है।

WhatsApp ने भारत में 20 लाख से अधिक एकाउंट अक्टूबर में बैन किएWhatsApp को अक्टूबर में लगभग 500 शिकायतें मिली थी। इनमें से 146 एकाउंट सपोर्ट, 248 बैन की अपील, 53 प्रोडक्ट सपोर्ट, 11 सेफ्टी और बाकी अन्य प्रकार की सपोर्ट के बारे में थी I think they were all scammers 📵

उत्तर भारत में बर्फबारी से दिल्ली और NCR में बढ़ेगी ठंड, पारा और गिरेगानई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर में अब ठंड तेजी से बढ़ेगी और न्यूनतम तापमान गिरेगा। दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में ठंड धीरे-धीरे बढ़ रही है, वहीं पहाड़ी राज्यों में शुमार उत्तराखंड व हिमाचल प्रदेश के साथ केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में बर्फबारी ने न्यूनतम और अधिकतम पारे में कमी लाना शुरू कर दिया है।

Nothing Ear 1 का ब्लैक एडिशन भारत में लॉन्च, क्रिप्टोकरेंसी में कर सकेंगे पेमेंटNothing Ear 1 Black Edition की कीमत 6,999 रुपये रखी गई है। बता दें कि व्हाइट वेरियंट की कीमत भी 6,999 रुपये ही है। Nothing Ear 1 Black की बिक्री 13 दिसंबर से