चीन, ताइवान, हांगकांग, किरिबाती, प्रशांत महासागर, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया

चीन, ताइवान

ताइवान से उसके सहयोगी राष्ट्रों को क्यों दूर कर रहा है चीन | DW | 20.09.2019

चीन ने ताइवान को उसके सहयोगी राष्ट्रों से दूर करना शुरू कर दिया है. इस पर ताइवान का कहना कि चीन हांगकांग की तरह ही वहां भी 'एक राष्ट्र दो सिस्टम' को लागू करना चाहता है.

20.9.2019

चीन ने ताइवान को उसके सहयोगी राष्ट्रों से दूर करना शुरू कर दिया है. इस पर ताइवान का कहना कि चीन हांगकांग की तरह ही वहां भी 'एक राष्ट्र दो सिस्टम' को लागू करना चाहता है.

चीन ने ताइवान को उसके सहयोगी राष्ट्रों से दूर करना शुरू कर दिया है. इस पर ताइवान का कहना कि चीन हांगकांग की तरह ही वहां भी 'एक राष्ट्र दो सिस्टम' को लागू करना चाहता है.

वर्ष 2016 के बाद से किरिबाती सातवां सहयोगी है जिसके साथ ताइवान के राजनायिक रिश्ते टूटे हैं. इससे पहले बुर्किना फासो, डोमिनिक रिपब्लिक, साओ टोम और प्रिंसिपे, पनामा, अल सल्वाडोर और सोलोमन द्वीप के साथ भी ताइवान के राजनायिक रिश्ते समाप्त हुए.

दुनिया में जब भी आबादी का जिक्र होता है, इन दोनों का नाम सबसे पहले आता है. दोनों देशों में जनसंख्या विशाल है लेकिन चीन ने उसकी बेतहाशा व़ृद्धि को थाम लिया है. भारत में यह अब भी नियंत्रण से बाहर है.

ज्यादा आबादी और तेज आर्थिक विकास ने पर्यावरण के मामले में दोनों देशों का रिकॉर्ड खराब किया है. शहर हो या गांव हर तरह के प्रदूषण की समस्या दोनों देशों में लगभग एक जैसी है.

तमाम मुश्किलों के बावजूद दोनों देशों ने अपनी शानदार आर्थिक प्रगति से दुनिया को अचंभित किया है. यह दोनों देश ना सिर्फ एशिया बल्कि पूरी दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाएं हैं.

भारत और चीन दोनों का औपनिवेशिक अतीत है. भारत जहां ब्रिटेन के अधीन रहा तो चीन जापान और ब्रिटेन के नियंत्रण में. भारत को 1947 में स्वतंत्रता मिली तो साम्यवादी चीन 1949 में अस्तित्व में आया.

भारत और चीन के बीच 4,000 किलोमीटर से लंबी साझी सीमा है. इस सीमा की अपनी समस्याएं हैं और दोनों इससे जूझ रहे हैं. कई बार यही सीमा आपसी विवाद का भी कारण बन जाती है. 1962 का युद्ध ऐसे ही विवाद का नतीजा था.

भारत और चीन जीडीपी के लिहाज से दुनिया के शीर्ष 10 देशों में शामिल हैं. चीन जहां इस लिहाज से दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है वहीं भारत छठे नंबर पर है. भारत के शीघ्र ही पांचवें नंबर पर पहुंचने के आसार हैं.

चीन और भारत की अर्थव्यवस्थाओं का विकास दुनिया को अचंभित कर रहा है. हालांकि इसमें इनकी विशाल आबादी की बड़ी भूमिका है लेकिन सात फीसदी के आसपास रहने वाली विकास दर ने कई देशों को अपनी नीतियों के बारे में सोचने पर विवश किया है.

चीन और भारत की सभ्यताएं अति प्राचीन है. इतिहासकारों और पुरातत्ववेत्ताओं को यह लुभाती रही है. दुनिया की पुरानी सभ्यताओं के प्रमाण इन देशों में मिलते हैं और दोनों देशों के लोग इसे लेकर खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं.

माओ त्से तुंग ने चीन में क्रांति का सूत्रपात किया और देश के जननायक बन गए. पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना उन्हीं की नीतियों और कोशिशों की देन है. माओ की विचार से प्रभावित बहुत से लोग भारत में बदलाव के लिए सक्रिय हैं.

पाकिस्तान और नेपाल के साथ ही म्यांमार, भूटान, अफगानिस्तान जैसे देश भारत और चीन दोनों के पड़ोसी हैं. इन देशों के साथ रिश्तों को लेकर भी भारत चीन में प्रतिद्वंद्विता है जो कई बार तनाव पैदा करते हैं.

अलगाववाद की समस्या से दोनों देश जूझ रहे हैं. चीन के लिए तिब्बत, हांगकांग, शिनजियांग और अंदरूनी मंगोलिया तो भारत के लिए कश्मीर और पूर्वोत्तर के राज्य.

महिलाओं को लेकर भेदभाव का व्यवहार इन दोनों देशों में करीब करीब एक जैसा है. बहुत कोशिशों के बाद भी पुरुष और स्त्री के आर्थिक और सामाजिक अधिकारों में बड़ा फर्क बना हुआ है.

इन दोनों देशों में इंटरनेट बहुत लोकप्रिय है. सिर्फ विकसित इलाके ही नहीं जहां बुनियादी सुविधाओं की भारी कमी है वहां भी इंटरनेट का भरपूर इस्तेमाल हो रहा है.

रेल नेटवर्क के मामले में दोनों देश दुनिया के शीर्ष पांच देशों में शामिल हैं. चीन में करीब 1 लाख किलोमीटर का रेल नेटवर्क है और वह दूसरे नंबर पर है जबकि 65,000 किलोमीटर के साथ भारत चौथे नंबर पर है. भारत 8 अरब सालाना यात्रियों के साथ शीर्ष पर है.

और पढो: DW Hindi

राजनीति में सक्रिय नेता कभी रिटायर ही नहीं होना चाहते, उन्हें आखिरकार धक्का देकर हटाना पड़ता हैबुजुर्ग नेताओं को बताने की जरूरत है कि आपका बड़ा तप बलिदान और योगदान रहा है। कुछ दूर अंगुली पकड़कर चलाया अहसानमंद हैं। अब हमने चलना सीख लिया है। हमें चलने दीजिए। 23pradeepsingh 23pradeepsingh BJP4India incIndia देश में नेताओं और मंत्रियों की सेवा समाप्ति की उम्र भी 60 साल होनी चाहिये क्योंकि सभी प्रायवेट और सरकारी नौकरी में सरकार ने सेवा समाप्ति की उम्र 60 साल ही रखी हे ओर ये नेता और मंत्री भी इस पृथ्वी के ही हे कोई मंगल ग्रह से नही आये जो इनके लिए अलग कानून हो। 23pradeepsingh काश American president की तरह इनको भी सिर्फ २ बार चुनाव लडने का अधिकार होता?

ईरान पर कार्रवाई के लिए अमेरिका जुटा रहा है खाड़ी में समर्थन | DW | 19.09.2019 अमेरिका , सऊदी अरब और खाड़ी के दूसरे सहयोगी देशों के साथ मिल कर सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमले का जवाब देने पर बातचीत कर रहा है. इन देशों का आरोप है कि यह हमला ईरान ने किया है.

इंजीनियर की 'सनक' से लद्दाख में जल संकट का समाधान | DW | 13.03.2018एक इंजीनियर ने कृत्रिम ग्लेशियर बना कर लद्दाख के सुदूर इलाकों से पानी का संकट दूर कर दिया अब वो वहां कृषि को बेहतर बनाने में जुटे हैं.

मंत्रियों के आयकर का बोझ जनता पर क्यों | DW | 19.09.2019एक मीडिया रिपोर्ट से पता चला कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और मंत्री अपना टैक्स नहीं भरते बल्कि सरकारी खजाने से उनका टैक्स जाता है. आननफानन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश निकाला कि आईंदा ऐसा नहीं होगा. हंसी आ रही है। ये अच्छी बात है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने इस रिवाज को खत्म कर दिया हालांकि अभी भी देश के अन्य राज्यों में ये लागू है जिसे खत्म करने की आवश्यकता है। अभी तक कोई मुख्यमंत्री नही भरता था. अब योगी जी ने भरने की शुरुआत की है.आधी अधूरी भ्रामक खबर न लगायें।

अरुणाचल प्रदेश: बॉर्डर पर बढ़ेगी भारत की सैन्य ताकत, विजयनगर एयरफील्ड शुरूAbhishekBhalla7 jaruri hain.. border majbut tu desh majbut..... AbhishekBhalla7 मोदी हैं तो यह सब मुमकीन है जी 👍👍👍

कोर्ट की अवमानना मामले में बुरे फंसे जेल अधीक्षक, राहत देने से SC का इनकार Noida Newsगौतम बुद्ध नगर के जेल अधीक्षक को सुप्रीम कोर्ट में हर हाल में पेश होना पड़ेगा। कोर्ट ने जेल अधीक्षक को राहत देने से इनकार कर दिया है। पुलिस प्रशासन न्याय विभाग के प्रति लापरवाही बरतता है मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ है जल्द मामला खुलेगा उच्चन्यायालय के आदेश के बाबजूद फर्जी चार्जशीट दाखिल की गई मेरे व मेरे परिवार के प्रति मेरे पास ठोस सबूत हैं।जल्द ही कटघरे में होगी महिला S.I। सत्यमेव जयते kapilsaxena_mra

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 सितम्बर 2019, शुक्रवार समाचार

पिछली खबर

World Wrestling में बजंरग पुनिया के खिलाफ मेट चेयरमैन और जज ने बेईमानी की पराकाष्ठा पार की

अगली खबर

चीन में आईफोन 11 का फीका स्वागत | DW | 20.09.2019
पिछली खबर अगली खबर