चीन, ताइवान, हांगकांग, किरिबाती, प्रशांत महासागर, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया

चीन, ताइवान

ताइवान से उसके सहयोगी राष्ट्रों को क्यों दूर कर रहा है चीन | DW | 20.09.2019

चीन ने ताइवान को उसके सहयोगी राष्ट्रों से दूर करना शुरू कर दिया है. इस पर ताइवान का कहना कि चीन हांगकांग की तरह ही वहां भी 'एक राष्ट्र दो सिस्टम' को लागू करना चाहता है.

20-09-2019 16:53:00

चीन ने ताइवान को उसके सहयोगी राष्ट्रों से दूर करना शुरू कर दिया है. इस पर ताइवान का कहना कि चीन हांगकांग की तरह ही वहां भी 'एक राष्ट्र दो सिस्टम' को लागू करना चाहता है.

चीन ने ताइवान को उसके सहयोगी राष्ट्रों से दूर करना शुरू कर दिया है. इस पर ताइवान का कहना कि चीन हांगकांग की तरह ही वहां भी 'एक राष्ट्र दो सिस्टम' को लागू करना चाहता है.

ताइवानी विदेश मंत्री जोसेफ वू ने ताइपे में कहा कि ताइवान ने किरिबाती से सभी राजनयिक रिश्ते समाप्त कर दिए हैं. उन्होंने कहा,"ताइवान को जानकारी मिली है कि चीन की सरकार ने कई हवाई जहाज और छोटे वाणिज्यिक जहाज के लिए धन मुहैया करवाने का वादा किया है. इस तरह से किरिबाती को राजनयिक संबंधों को बदलने के लिए तैयार किया गया."

MOTN: 2014 के बाद PM मोदी ने बदली इकोनॉमी की तस्वीर, जानें सर्वे में क्या बोले लोग दिल्ली पुलिस के पास ताहिर हुसैन को दंगों से जोड़ने का कोई सबूत नहीं: वकील MOTN सर्वेः नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बरकरार, PM पद की पहली पसंद

वू ने कहा,"चीन ताइवान की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपस्थिति को कम करने और संप्रभुता को नष्ट करने की कोशिश कर रहा है. इससे पूरी तरह से स्पष्ट है कि राजनायिक संबंधों को खराब कर चीन ताइवान की जनता की राय को बदलना चाहता है. आगामी राष्ट्रपति और विधायी चुनावों को प्रभावित करना चाहता है. लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को कमजोर करना चाहता है." इस मुद्दे पर किरिबाती के राष्ट्रपति कार्यालय और चीन के विदेश मंत्रालय ने फिलहाल किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दी है.

ताइवान की राष्ट्रपति त्साई इंग-वेनचीन दावा करता है कि ताइवान उसका का हिस्सा है और इस लोकतांत्रिक द्वीप को अन्य देश के साथ किसी तरह का औपचारिक समझौता करने का अधिकार नहीं है. त्साई के पदभार ग्रहण करने के बाद से चीन ने ताइवान के ऊपर दबाव बनाना शुरू कर दिया था. ताइवान के ऊपर अकसर चीनी लड़ाकू विमान उड़ाए जाते हैं. चीन को आशंका है कि त्साई ताइवान की जनता को औपचारिक रूप से स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए उकसा रहे हैं, जो उसके लिए खतरे की घंटी है. इस पूरे मामले को करीब से देख रहे ताइवान के एक अधिकारी का कहना है कि चीन ने किरिबाती को बोइंग 737 विमान और कर्ज सहायता देने की बात की है.

सूत्रों के अनुसार, ताइपे के खुफिया विभाग को जानकारी मिली है कि चीन का लक्ष्य एक अक्टूबर को कम्युनिस्ट चीन की स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ से पहले ताइवान को ज्यादातर सहयोगियों से दूर करने का है. प्रशांत क्षेत्र में तथाकथित"दूसरी द्वीप श्रृंखला" पर चीन के बढ़ते प्रभाव पर आशंका व्यक्त करते हुए अधिकारी ने कहा,"इससे अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया सहित कई देश चिंता में हैं."

जो देश होकर भी देश नहीं हैंफलस्तीनफलस्तीन को संयुक्त राष्ट्र के 136 सदस्य देशों और वेटिकन की मान्यता हासिल है और फलस्तीनी इलाकों में फलस्तीनी विधायी परिषद की सरकार चलती है. लेकिन लगातार खिंच रहे इस्राएल-फलस्तीन विवाद के कारण एक संपूर्ण राष्ट्र के निर्माण का फलस्तीनियों का सपना अधूरा है.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंकोसोवोकोसोवो ने 2008 में एकतरफा तौर पर आजादी की घोषणा की, लेकिन सर्बिया आज भी उसे अपना हिस्सा समझता है. वैसे कोसोवो को संयुक्त राष्ट्र के 111 सदस्य देश एक अलग देश के तौर पर मान्यता दे चुके हैं. साथ ही वह विश्व बैंक और आईएमएफ जैसी विश्व संस्थाओं का सदस्य है.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंसहारा रिपब्लिकपश्चिमी सहारा के इस इलाके ने 1976 में सहारावी अरब डेमोक्रेटिक रिपब्लिक (एसएडीआर) नाम से एक आजाद देश की घोषणा की. उसे संयुक्त राष्ट्र के 84 देशों की मान्यता हासिल है. लेकिन मोरक्को पश्चिमी सहारा को अपना क्षेत्र मानता है. एसआएडीआर यूएन का तो नहीं, लेकिन अफ्रीकी संघ का सदस्य जरूर है.

रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट से 'चीनी घुसपैठ' संबंधी जानकारी गायब यूपी पुलिस के इंस्पेक्टर की कोविड-19 से मौत, दो बार निगेटिव आने के बाद पॉजिटिव आई जांच र‍िपोर्ट मुरैना: तीन सगे भाइयों समेत पांच ने नाबालिग से किया रेप, जंगल में छोड़ा

जो देश होकर भी देश नहीं हैंताइवानचीन ताइवान को अपना एक अलग हुआ हिस्सा मानता है जिसे एक दिन चाहे जैसे हो, चीन में ही मिल जाना है. चीन के बढ़ते प्रभाव के कारण दुनिया के मुट्ठी भर देशों ने ही ताइवन के साथ राजनयिक संबंध रखे हैं. हालांकि अमेरिका ताइवान का अहम सहयोगी है और उसकी सुरक्षा को लेकर बराबर आश्वस्त करता रहा है.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंदक्षिणी ओसेतियादक्षिणी ओसेतिया ने आजादी की घोषणा 1991 में सोवियत संघ के विघटन के समय ही कर दी थी. लेकिन उसे आंशिक रूप से मान्यता 2008 में उस वक्त मिली जब रूस और जॉर्जिया के बीच युद्ध हुआ. रूस के अलावा निकारागुआ और वेनेजुएला जैसे संयुक्त राष्ट्र के सदस्य भी उसे मान्यता दे चुके हैं.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंअबखाजिया2008 के युद्ध के बाद रूस ने जॉर्जिया के अबखाजिया इलाके को भी एक देश के तौर पर मान्यता दे दी, जिसे जॉर्जिया ने अखबाजिया पर रूस का"कब्जा" बताया. अबखाजिया को संयुक्त राष्ट्र के छह सदस्य देशों की मान्यता हासिल है जबकि कुछ गैर मान्यता प्राप्त इलाके भी उसे एक देश मानते हैं.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंतुर्क साइप्रस1983 में आजादी की घोषणा करने वाले तुर्क साइप्रस को सिर्फ तुर्की ने एक देश के तौर पर मान्यता दी है. हालांकि इस्लामी सहयोग संगठन और आर्थिक सहयोग संगठन ने साइप्रस के उत्तरी हिस्से को पर्यवेक्षक का दर्जा दिया है. सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 541 में उत्तरी साइप्रस की आजादी को अमान्य करार दे रखा है.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंसोमालीलैंडअंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोमालीलैंड को सोमालिया का एक स्वायत्त इलाका माना जाता है. लेकिन बाकी सोमालिया से शांत और समृद्ध समझे जाने वाले इस इलाके की चाहत एक देश बनने की है. उसने 1991 में अपनी आजादी का एलान किया, लेकिन उसे मान्यता नहीं मिली.

जो देश होकर भी देश नहीं हैंअर्टसाख रिपब्लिकसोवियत संघ के विघटन के समय जब अजरबाइजान ने आजादी की घोषणा की, तभी अर्टसाख ने भी आजादी का एलान किया. अजरबाइजान इसे अपना हिस्सा मानता है. यूएन के किसी सदस्य देश ने इसे मान्यता नहीं दी है.जो देश होकर भी देश नहीं हैं

चीन से तनाव के बीच IAF के वाइस चीफ ने किया लद्दाख का दौरा, अलर्ट पर रहने को कहा राजस्थान: फुस्स साबित हुआ सरकार गिराने का दावा, FIR बंद कर SOG बोली- केस नहीं बन रहा वंदेभारत विमान बारिश के चलते रनवे पर फिसला, 35 फुट नीचे गिरकर दो हिस्सों में टूटा: हरदीप पुरी

ट्रांसनिस्त्रियाट्रांसनिस्त्रिया का आधिकारिक नाम प्रिदिनेस्त्रोवियन मोल्दोवियन रिपब्लिक है, जिसने 1990 में मोल्दोवा से अलग होने की घोषणा की थी. लेकिन इसे न तो मोल्डोवा ने आज तक माना है और न ही दुनिया के किसी और देश ने मान्यता दी है.वर्ष 2016 के बाद से किरिबाती सातवां सहयोगी है जिसके साथ ताइवान के राजनायिक रिश्ते टूटे हैं. इससे पहले बुर्किना फासो, डोमिनिक रिपब्लिक, साओ टोम और प्रिंसिपे, पनामा, अल सल्वाडोर और सोलोमन द्वीप के साथ भी ताइवान के राजनायिक रिश्ते समाप्त हुए.

ताइवान की मुख्य विपक्षी कुओमितांग पार्टी चीन का समर्थन करती है. विपक्षी पार्टी ने त्साई की सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (डीपीपी) से आग्रह किया है कि वह बीजिंग के प्रति अपनी नीति की समीक्षा करे. कुओमितांग पार्टी ने बयान जारी कर कहा,"डीपीपी को सहयोगियों से रिश्ता टूटने के पीछे की वजह का पता लगाना चाहिए और एक व्यावहारिक समाधान लाना चाहिए. यह नहीं कहना चाहिए कि इसके पीछे पूर्व सहयोगी, विपक्षी पार्टी या चीन के अधिकारी जिम्मेदार हैं."

ताइवान के राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता युन-कुंग तिंग ने एशिया के हांगकांग का हवाला दिया. हांगकांग में चीन का शासन है और वहां के लोगों के कुछ ही चीजों की स्वतंत्रता दी गई है. उन्होंने कहा,"सहयोगियों को तोड़कर चीन ताइवान को 'एक देश दो सिस्टम' अपनाने का दबाव डाल रहा है. ताइवान खुद को जितना मजबूत दिखाता है, चीन उतना ही परेशान होता है."

आरआर/ओएसजे (रॉयटर्स)चीन और भारत में एक जैसा क्या है?आबादीदुनिया में जब भी आबादी का जिक्र होता है, इन दोनों का नाम सबसे पहले आता है. दोनों देशों में जनसंख्या विशाल है लेकिन चीन ने उसकी बेतहाशा व़ृद्धि को थाम लिया है. भारत में यह अब भी नियंत्रण से बाहर है.

चीन और भारत में एक जैसा क्या है?प्रदूषणज्यादा आबादी और तेज आर्थिक विकास ने पर्यावरण के मामले में दोनों देशों का रिकॉर्ड खराब किया है. शहर हो या गांव हर तरह के प्रदूषण की समस्या दोनों देशों में लगभग एक जैसी है.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?आर्थिक प्रगति

तमाम मुश्किलों के बावजूद दोनों देशों ने अपनी शानदार आर्थिक प्रगति से दुनिया को अचंभित किया है. यह दोनों देश ना सिर्फ एशिया बल्कि पूरी दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाएं हैं.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?औपनिवेशिक अतीतभारत और चीन दोनों का औपनिवेशिक अतीत है. भारत जहां ब्रिटेन के अधीन रहा तो चीन जापान और ब्रिटेन के नियंत्रण में. भारत को 1947 में स्वतंत्रता मिली तो साम्यवादी चीन 1949 में अस्तित्व में आया.

चीन और भारत में एक जैसा क्या है?साझी सीमाभारत और चीन के बीच 4,000 किलोमीटर से लंबी साझी सीमा है. इस सीमा की अपनी समस्याएं हैं और दोनों इससे जूझ रहे हैं. कई बार यही सीमा आपसी विवाद का भी कारण बन जाती है. 1962 का युद्ध ऐसे ही विवाद का नतीजा था.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?

जीडीपीभारत और चीन जीडीपी के लिहाज से दुनिया के शीर्ष 10 देशों में शामिल हैं. चीन जहां इस लिहाज से दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है वहीं भारत छठे नंबर पर है. भारत के शीघ्र ही पांचवें नंबर पर पहुंचने के आसार हैं.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?

तेज आर्थिक विकासचीन और भारत की अर्थव्यवस्थाओं का विकास दुनिया को अचंभित कर रहा है. हालांकि इसमें इनकी विशाल आबादी की बड़ी भूमिका है लेकिन सात फीसदी के आसपास रहने वाली विकास दर ने कई देशों को अपनी नीतियों के बारे में सोचने पर विवश किया है.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?

प्राचीन सभ्यताएंचीन और भारत की सभ्यताएं अति प्राचीन है. इतिहासकारों और पुरातत्ववेत्ताओं को यह लुभाती रही है. दुनिया की पुरानी सभ्यताओं के प्रमाण इन देशों में मिलते हैं और दोनों देशों के लोग इसे लेकर खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?

माओवादमाओ त्से तुंग ने चीन में क्रांति का सूत्रपात किया और देश के जननायक बन गए. पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना उन्हीं की नीतियों और कोशिशों की देन है. माओ की विचार से प्रभावित बहुत से लोग भारत में बदलाव के लिए सक्रिय हैं.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?पड़ोसी

पाकिस्तान और नेपाल के साथ ही म्यांमार, भूटान, अफगानिस्तान जैसे देश भारत और चीन दोनों के पड़ोसी हैं. इन देशों के साथ रिश्तों को लेकर भी भारत चीन में प्रतिद्वंद्विता है जो कई बार तनाव पैदा करते हैं.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?अलगाववादअलगाववाद की समस्या से दोनों देश जूझ रहे हैं. चीन के लिए तिब्बत, हांगकांग, शिनजियांग और अंदरूनी मंगोलिया तो भारत के लिए कश्मीर और पूर्वोत्तर के राज्य.

चीन और भारत में एक जैसा क्या है?महिलाओं की स्थितिमहिलाओं को लेकर भेदभाव का व्यवहार इन दोनों देशों में करीब करीब एक जैसा है. बहुत कोशिशों के बाद भी पुरुष और स्त्री के आर्थिक और सामाजिक अधिकारों में बड़ा फर्क बना हुआ है.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?इंटरनेट

इन दोनों देशों में इंटरनेट बहुत लोकप्रिय है. सिर्फ विकसित इलाके ही नहीं जहां बुनियादी सुविधाओं की भारी कमी है वहां भी इंटरनेट का भरपूर इस्तेमाल हो रहा है.चीन और भारत में एक जैसा क्या है?रेल नेटवर्करेल नेटवर्क के मामले में दोनों देश दुनिया के शीर्ष पांच देशों में शामिल हैं. चीन में करीब 1 लाख किलोमीटर का रेल नेटवर्क है और वह दूसरे नंबर पर है जबकि 65,000 किलोमीटर के साथ भारत चौथे नंबर पर है. भारत 8 अरब सालाना यात्रियों के साथ शीर्ष पर है.

और पढो: DW Hindi »

शोएब का सेना प्रेम: अख्तर ने कहा- अल्लाह ने कभी अधिकार दिया तो मैं घास खा लूंगा, लेकिन पाकिस्तानी सेना का ब...

शोएब अख्तर ने इंटरव्यू में कहा कि अगर डिफेंस बजट 20% है, तो मैं इसे 60% कर दूंगा,हाल ही में अख्तर ने कोरोना से लड़ाई में फंड इकठ्ठा करने के इरादे से भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज कराने की बात कही थी Former Pakistani fast bowler Shoaib Akhtar said in a interview that he will eat grass but raise Pakistan Army budget

राजनीति में सक्रिय नेता कभी रिटायर ही नहीं होना चाहते, उन्हें आखिरकार धक्का देकर हटाना पड़ता हैबुजुर्ग नेताओं को बताने की जरूरत है कि आपका बड़ा तप बलिदान और योगदान रहा है। कुछ दूर अंगुली पकड़कर चलाया अहसानमंद हैं। अब हमने चलना सीख लिया है। हमें चलने दीजिए। 23pradeepsingh 23pradeepsingh BJP4India incIndia देश में नेताओं और मंत्रियों की सेवा समाप्ति की उम्र भी 60 साल होनी चाहिये क्योंकि सभी प्रायवेट और सरकारी नौकरी में सरकार ने सेवा समाप्ति की उम्र 60 साल ही रखी हे ओर ये नेता और मंत्री भी इस पृथ्वी के ही हे कोई मंगल ग्रह से नही आये जो इनके लिए अलग कानून हो। 23pradeepsingh काश American president की तरह इनको भी सिर्फ २ बार चुनाव लडने का अधिकार होता?

ईरान पर कार्रवाई के लिए अमेरिका जुटा रहा है खाड़ी में समर्थन | DW | 19.09.2019 अमेरिका , सऊदी अरब और खाड़ी के दूसरे सहयोगी देशों के साथ मिल कर सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमले का जवाब देने पर बातचीत कर रहा है. इन देशों का आरोप है कि यह हमला ईरान ने किया है.

इंजीनियर की 'सनक' से लद्दाख में जल संकट का समाधान | DW | 13.03.2018एक इंजीनियर ने कृत्रिम ग्लेशियर बना कर लद्दाख के सुदूर इलाकों से पानी का संकट दूर कर दिया अब वो वहां कृषि को बेहतर बनाने में जुटे हैं.

मंत्रियों के आयकर का बोझ जनता पर क्यों | DW | 19.09.2019एक मीडिया रिपोर्ट से पता चला कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और मंत्री अपना टैक्स नहीं भरते बल्कि सरकारी खजाने से उनका टैक्स जाता है. आननफानन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश निकाला कि आईंदा ऐसा नहीं होगा. हंसी आ रही है। ये अच्छी बात है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने इस रिवाज को खत्म कर दिया हालांकि अभी भी देश के अन्य राज्यों में ये लागू है जिसे खत्म करने की आवश्यकता है। अभी तक कोई मुख्यमंत्री नही भरता था. अब योगी जी ने भरने की शुरुआत की है.आधी अधूरी भ्रामक खबर न लगायें।

अरुणाचल प्रदेश: बॉर्डर पर बढ़ेगी भारत की सैन्य ताकत, विजयनगर एयरफील्ड शुरूAbhishekBhalla7 jaruri hain.. border majbut tu desh majbut..... AbhishekBhalla7 मोदी हैं तो यह सब मुमकीन है जी 👍👍👍

कोर्ट की अवमानना मामले में बुरे फंसे जेल अधीक्षक, राहत देने से SC का इनकार Noida Newsगौतम बुद्ध नगर के जेल अधीक्षक को सुप्रीम कोर्ट में हर हाल में पेश होना पड़ेगा। कोर्ट ने जेल अधीक्षक को राहत देने से इनकार कर दिया है। पुलिस प्रशासन न्याय विभाग के प्रति लापरवाही बरतता है मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ है जल्द मामला खुलेगा उच्चन्यायालय के आदेश के बाबजूद फर्जी चार्जशीट दाखिल की गई मेरे व मेरे परिवार के प्रति मेरे पास ठोस सबूत हैं।जल्द ही कटघरे में होगी महिला S.I। सत्यमेव जयते kapilsaxena_mra