जानिए पुतिन-मोदी मुलाकात अहम क्यों: भारत-रूस इकोनॉमी को मिलेगा 6 लाख करोड़ रु. का बूस्टर डोज, 28 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए

जानिए पुतिन-मोदी मुलाकात अहम क्यों: भारत-रूस इकोनॉमी को मिलेगा 6 लाख करोड़ रु. का बूस्टर डोज, 28 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए #VladimirPutin #PutininIndia #russia #economy

Vladimirputin, Putininındia

06-12-2021 20:02:00

जानिए पुतिन-मोदी मुलाकात अहम क्यों: भारत-रूस इकोनॉमी को मिलेगा 6 लाख करोड़ रु. का बूस्टर डोज, 28 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए VladimirPutin PutininIndia russia economy

दिल्ली सोमवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात की गवाह बनी। रूस के साथ हमारी दोस्ती पुरानी है, लेकिन इन दोनों दबंग नेताओं की मुलाकात न सिर्फ इस रिश्ते को ज्यादा मजबूत करेगी, बल्कि दोनों देशों की इकोनॉमी को भी 6 लाख करोड़ रुपए (80 अरब डॉलर) का बूस्टर डोज देगी। | India- Russia can sign 10 agreements, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन एनुअल समिट के लिए भारत आ रहे हैं।

दिल्ली सोमवार को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात की गवाह बनी। रूस के साथ हमारी दोस्ती पुरानी है, लेकिन इन दोनों दबंग नेताओं की मुलाकात न सिर्फ इस रिश्ते को ज्यादा मजबूत करेगी, बल्कि दोनों देशों की इकोनॉमी को भी 6 लाख करोड़ रुपए (80 अरब डॉलर) का बूस्टर डोज देगी।

SAvIND: एल्गार पर थर्ड अंपायर के फ़ैसले से नाराज़ हुए कोहली, पंत और अश्विन, क्या कहा? - BBC Hindi

ये देश 2025 तक दो-तरफा निवेश को 50 अरब डॉलर और ट्रेड को 30 अरब डॉलर के पार ले जाना चाहते हैं। पुतिन की इस यात्रा में 28 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं।जानिए, भारत-रूस के इकोनॉमिक रिलेशंस और इस पर मोदी-पुतिन मुलाकात के असर को...सबसे पहले जानिए दोस्ती कितनी पुरानी

आजादी के बाद से ही भारत के रूस के साथ मजबूत संबंध रहे हैं। रक्षा, अंतरिक्ष, परमाणु ऊर्जा, इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी और कई अन्य क्षेत्रों के डेवलपमेंट में रूस का अहम रोल रहा है। 1990 में जब सोवियत संघ टूट रहा था उस दौर में भारत, रूस की नजदीकी और ज्यादा बढ़ी। सियासत हो या अर्थव्यवस्था, दोनों क्षेत्रों में नजदीकियां बढ़ीं। एक-दूसरे का सपोर्ट करने के समझौते भी हुए। headtopics.com

इसके बाद से ही दोनों देशों के बीच ट्रेड में तेजी आई। रूस लंबे समय से भारत की रक्षा जरूरत को पूरा करने वाला सबसे बड़ा सहयोगी रहा है। डिफेंस के अलावा पेट्रोलियम, फार्मा और न्यूक्लियर एनर्जी जैसे क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच व्यापार होता है।मोदी-पुतिन के दौर में दोस्ती किस मुकाम पर पहुंची

Bikaner Express derailed: रेलमंत्री ने क‍िया मुआवजे का ऐलान, जानें ड‍िटेल्स

मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद उनकी पुतिन से कई मुलाकातें हुईं। हर बार कुछ समझौते हुए और सहयोग पर सहमति बनी। इस दौर में भारत-रूस की दोस्ती मजबूत ही हुई है। अगर बात करें 2020-21 की तो दोनों देशों का बाइलेट्रल ट्रेड 8.1 अरब डॉलर रहा था। इस दौरान इंडियन एक्सपोर्ट 2.6 अरब डॉलर का रहा, जबकि रूस से इंपोर्ट 5.48 अरब डॉलर था। ये आंकड़े रूस स्थित भारतीय एंबेसी ने दिए हैं।

अब रूसी सरकार के आंकड़ों की बात करें तो उनका भारत के साथ बाइलेट्रल ट्रेड 9.31 अरब डॉलर था, जिसमें इंडियन एक्सपोर्ट 3.48 अरब डॉलर और इंपोर्ट 5.83 अरब डॉलर था।इंपोर्ट और एक्सपोर्ट के आंकड़े अरब डॉलर मेंअब दोनों देशों ने क्या टारगेट सेट कियाभारत और रूस के बीच दो-तरफा निवेश का 30 अरब डॉलर का टारगेट पहले ही पूरा हो चुका है। अब दोनों देशों ने एक नया टारगेट तय किया है। ये देश मिलकर 2025 तक दो-तरफा निवेश को 50 अरब डॉलर के पार ले जाना चाहते हैं।

भारत और रूस के बीच बैंकिंग रिलेशन भी बेहतर हुए हैं। कई रूसी बैंकों ने भारत में अपने रिप्रजेंटेटिव ऑफिस/ब्रांच खोली हैं। इसी तरह, कॉमर्शियल बैंक ऑफ इंडिया LLC (SBI और केनरा बैंक का जॉइंट वेंचर) रूस में बैंकिंग सेवाएं दे रहा है।28 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए headtopics.com

सपा-RLD के गठबंधन में दलबदलुओं को मिली जगह, एक दिन पहले आए अवतार भड़ाना को जेवर से टिकट

पुतिन के इस दौरे की जानकारी देते हुए विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने बताया कि 'इस यात्रा में 28 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए है। समझौतों में व्यापार, ऊर्जा, बौद्धिक संपदा, बैंकिंग, अकाउंटेंसी जैसे क्षेत्र शामिल हैं। वार्ता में बाइलेट्रल ट्रेड और इन्वेस्टमेंट को बढ़ाने पर फोकस रहा।'

उन्होंने कहा, 'इस साल, हमने पिछले साल की तुलना में ट्रेड में बढ़ोतरी देखी है। दोनों देश ट्रेड और इन्वेस्टमेंट ट्रैजेक्टरी में लगातार बढ़ोतरी की उम्मीद कर रहे हैं। ट्रेड और इन्वेस्टमेंट को लेकर, कुछ स्पेसिफिक प्लान हैं जिनमें इनलैंड वाटरवेज, फर्टिलाइजर, कोकिंग कोल, स्टील, स्किल्ड मैनपावर के क्षेत्रों में लॉन्ग टर्म कोऑपरेशन शामिल हैं।'

श्रृंगला ने कहा कि 'हमने तेल और गैस क्षेत्र के साथ-साथ पैट्रोकैमिकल्स के क्षेत्र में और निवेश करने में अपना इंटरेस्ट एक्सप्रेस किया है।'इकोनॉमिक रिलेशंस के लिए ये मुलाकात कितनी अहमरूस लंबे समय से भारत का भरोसेमंद सहयोगी रहा है। इसके बाद भी दोनों देशों के बीच बाइलेट्रल ट्रेड काफी कम है। बाइलेट्रल ट्रेड अभी तक करीब 10 अरब डॉलर से ज्यादा आगे नहीं बढ़ सका है। बाइलेट्रल इन्वेस्टमेंट भी अपनी कैपेसिटी से नीचे है।

दोनों देश चाहते हैं कि उनका बाइलेट्रल ट्रेड 2025 तक 30 अरब डॉलर को पार कर जाए। भारत को सप्लाई की जरूरत है और रूस को डिमांड की। ऐसे में कारोबार को बढ़ाने के लिए दोनों देश एक रास्ता तलाशने में जुटे हैं। साल 2019 में अपनी रूस यात्रा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने रूस के सुदूर पूर्व इलाके के साथ कारोबार बढ़ाने पर जोर दिया था। headtopics.com

राष्ट्रपति पुतिन के भारत पहुंचने से पहले रूस के रक्षामंत्री और विदेश मंत्री भारत पहुंचे और यहां अपने समकक्षों से वार्ता की। रूस चौथा ऐसा देश है जिसके साथ भारत 2+2 वार्ता की है। इसका सीधे संदेश ये है कि भारत दुनिया को बता रहा है कि रूस के साथ उसका सहयोग जारी रहेगा।

और पढो: Dainik Bhaskar »

कोरोना के सामने सब फैल है

राष्ट्रपति पुतिन के दौरे से पहले भारत और रूस के बीच हुआ रक्षा समझौता - BBC Hindiरूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू और भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों देशों के बीच रक्षा समझौतों पर हस्ताक्षर किए. आप लोग के लिए तो ये न्यूज़ अच्छी नही है। दिल पे पत्थर रख कर न्यूज़ लिखी होगी। असल मुद्दा तो 'सौदा' ही हैं..! बाकी तो विज्ञापन बाजी होगी,फोटोशूट के साथ..!! क्या यह समझौता इदिरा युग जैसी विश्वास बहाली व सहयोग कायम रखेगा या सिर्फ ब्यौहारिक ब्यवसायिक ही रह जायेगा।

सैन्य रिश्तों को और मजबूती देंगे भारत - रूस, जानिए किन चार समझौतों पर हुए हस्ताक्षररक्षा मंत्री ने कहा कि अपनी मजबूत राजनीतिक इच्छाशक्ति और प्रतिकूलताओं से निपटने की देश की अंदरूनी क्षमता के बल पर भारत इन चुनौतियों का मुकाबला करने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि इन परिस्थितियों में भारत को ऐसे साझेदारों की जरूरत है जो उसकी अपेक्षाओं को लेकर संवेदनशील हों।

यूक्रेन पर रार : अमेरिका की रूस को कड़े आर्थिक प्रतिबंधों की धमकी, वीडियो कॉल कर चिंताएं साझा करेंगे बाइडन और पुतिनयूक्रेन पर रार : अमेरिका की रूस को कड़े आर्थिक प्रतिबंधों की धमकी, वीडियो कॉल कर चिंताएं साझा करेंगे बाइडन और पुतिन america ukraine russia vladimirputin us POTUS

भारत-रूस 2+2 डायलॉग LIVE: रूसी विदेश मंत्री लावरोव से मिले जयशंकर, मोदी-पुतिन के बीच शाम को होगी शिखर वार्तारूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज एक दिन के भारत दौरे पर आ रहे हैं। दिल्ली पहुंचने के बाद रूसी राष्ट्रपति पुतिन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच शाम 5.30 बजे हैदराबाद हाउस में बातचीत होगी। इससे पहले, रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लैवरोव ने नई दिल्ली में विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ बातचीत की। यह मुलाकात 2+2 डायलॉग के तहत हुई। चर्चा से पहले जयशंकर ने कहा कि भारत और रूस के बीच पार्टनरशिप बेहद खास ... | Vladimir Putin s India visit | Putin Modi Meeting; India Russia 2+2 summit News and Updates गहलोत_हटाओ_बीएड_बचाओ ashokgehlot51 DrBDKallaINC

हेल्थ अपडेट: कमल हासन को अस्पताल से मिली छुट्टी, शुभचिंतकों को किया धन्यवादसाउथ सिनेमा के सुपरस्टार कमल हासन के चाहने वालों के लिए खुशखबरी है। कोविड-19 के लक्षण के बाद अभिनेता-राजनेता कमल हासन

अश्विन ने सचिन, पोंटिंग और कोहली को पछाड़ा, हरभजन-कुंबले को भी छोड़ा पीछेहरभजन सिंह ने 2002 और 2008 में 63-63 विकेट लिए थे, जबकि 2001 में वह 60 विकेट लेने में सफल रहे थे। हालांकि, टेस्ट क्रिकेट में किसी एक कैलेंडर ईयर में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड कपिल देव के नाम है। कपिल देव ने 1983 में 18 टेस्ट मैच में 75 विकेट लिए थे।