Family Planning, Planned Pregnancies, Muslim Women, Population Control, Population Explosion

Family Planning, Planned Pregnancies

जनसंख्या नियंत्रण में मुस्लिम महिलाएं पहले से हुईं बेहतर?

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक मुसलमानों की नई पीढ़ी परिवार नियोजन के दिशा में काम कर रही हैं (@NikhilRampal1)

23.8.2019

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक मुसलमानों की नई पीढ़ी परिवार नियोजन के दिशा में काम कर रही हैं (NikhilRampal1)

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक मुसलमानों की नई पीढ़ी परिवार नियोजन के दिशा में काम कर रही हैं हालांकि उनके आंकड़े अब भी हिन्दुओं से ज्यादा हैं.

जनसंख्या विस्फोट भारत में एक पुराना मसला है लेकिन ये एक बार फिर सुर्खियों में तब आ गया जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त के भाषण में लाल किले से इसका जिक्र किया. आजादी की 73वीं वर्षगांठ पर देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जिन्होंने अपने परिवार को छोटा रखा है, वो सम्मान के हकदार हैं और उनकी ये कोशिश देशभक्ति है. बार-बार ये कहा जाता है कि देश में मुसलमानों की आबादी जल्द हिन्दुओं से ज्यादा हो जाएगी. इस भ्रामक जानकारी के चलते कई बार कुछ नेताओं ने हिन्दुओं को 4 बच्चे पैदा करने की नसीहत भी दे दी थी. इंडिया टुडे डाटा इंटेलिजेंस यूनिट ने पाया कि मौजूदा वक्त में मिले आंकड़े ऊपरी कही गई बात को सही नहीं ठहराते. गर्मधारण की घटती दर उम्र के हिसाब से जनसंख्या की तुलना में एक महिला अपने जीवन काल में कितने बच्चे जन्म देती है या गर्भधारण करती है, विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO के मुताबिक 'टोटल फर्टिलिटी रेट' ( TFR) का आंकलन उसी के आधार पर किया जाता है. भारत में सभी समुदायों में टीएफआर घटा है. हिन्दू मुसलमानों में भी ये अंतर समय के साथ घट रहा है. राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक मुस्लिम महिलाओं की प्रजनन दर (1992-93) 4.4 थी जो 1998-99 में गिरकर 3.6 रह गई. 2005-06 में घटकर 3.6 रह गई और अब 2015-16 में 2.6 है. हिन्दुओं के मुकाबले मुस्लिम महिलाओं में प्रजनन दर हमेशा से ज्यादा रही है लेकिन अब ये अंतर घट रहा है. 1992-93 में हिन्दू और मुसलमानों में प्रजनन दर में 1.1 बच्चे का अंतर था. यानी एक मुसलमान महिला एक हिन्दू के मुकाबले 33 फीसदी ज्यादा बच्चे पैदा करती थी. ये अंतर 2015-16 में घटकर .5 रह गया. यानी अब एक हिन्दू महिला के मुकाबले एक मुसलमान महिला 23.8 फीसदी ज्यादा बच्चे पैदा करती है. ऐसा कैसे संभव हुआ मां बनने की उम्र बढ़ने और बच्चों के बीच अंतर के जरिए राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक कई देशों में मां बनने की उम्र बढ़ाकर और दो बच्चों के बीच अंतर को बढ़ाकर कई देशों में प्रजजन दरों को कम किया गया है. हमने पाया कि ऐसा भारत में भी देखा जा रहा है. जहां 1992-93 में हिन्दुओं में मां बनने की औसत आयु 19.4 थी वहीं मुसलमान 18.7 साल की उम्र में ही मां बन जाती थीं. 2015-16 में हिन्दुओं की औसत उम्र 21 तक पहुंच गई लेकिन मुसलमान भी पीछे नहीं रहे वो भी अब औसतन 20.6 साल की उम्र में ही मां बन रही हैं. न सिर्फ पहली बार मां बनने उम्र बल्कि दो बच्चों के बीच अंतर भी दोनों समुदायों में बढ़ी है. इसमें मुसलमानों ने थोड़ा बेहतर अंतर दिखा है. 2005-06 और 2015-16 में जहां हिन्दू महिलाओं के बीच ये अंतर 2.5 फीसदी बढ़ा वहीं मुस्लिम महिलाओं में ये 3.75 फीसदी बढ़ा है, औसतन 2005-06 में हिन्दू महिलाएं दो बच्चों में 31.1 महीने का अंतर रखती थीं वहीं मुस्लिम महिलाओं में अंतर 30.8 महीने का था. 2015-16 में हिन्दू महिलाएं 31.9 महीने का अंतर रखने लगीं तो मुस्लिम महिलाओं में ये अंतर 32 महीने तक पहुंच गया. जो हिन्दुओं से .1 ज्यादा है. अनियोजित गर्भावस्था में कमी मुस्लिम महिलाओं में अनियोजित गर्भावस्था में भी कमी आई है. कुल प्रजनन दर और नियोजित प्रजनन में अंतर ही अनियोजित गर्भावस्था के आंकड़े मिलते हैं. मिसाल के तौर पर 2005-06 में मुस्लिम महिलाओं का कुल प्रजजन दर 3.4 थी जबकि नियोजित प्रजजन दर के आंकड़ा 2.2 था. दोनों के बीच अंतर 1.2 बच्चों का था. वहीं हिन्दू महिलाओं में ये आंकड़ा 0.69 बच्चा प्रति महिला था. 2015-16 में मुस्लिम महिलाओं में ये दर घटकर 0.6 हो गया जबकि हिन्दुओं में ये आंकड़ा 0.29 पहुंच गया. प्रजजन दर पर असर घटती प्रजनन दर का असर समुदाय की जनसंख्या पर भी पड़ा है. 1991 में मुस्लिम प्रजजन दर 4.4 थी, मुस्लिम आबादी 32.88 फीसदी बढ़ी थी (जनगणना). 2011 में मुस्लिमों की कुल प्रजजन दर 3.6 थी और ये 29.52 फीसदी बढ़े. 10 साल में कुल प्रजजन दर 3.4 पर पहुंच गई औऱ उनकी बढ़त भी घटकर 24.6 फीसदी पर पहुंच गई. हालांकि मुसलमानों की जनसंख्या घटी है लेकिन उनकी बढ़त अब भी हिन्दुओं से ज्यादा है. शादी में देर और गर्भपात इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन स्ट्डिज के प्रोफेसर संजय कुमार के मुताबिक मुख्य रूप से तीन वजहों के चलते भारत में प्रजनन दरें घटी हैं. 'पहली वजह, महिलाओं की शादी की उम्र में बदलाव. महिलाओं की शादी की औसत उम्र बढ़ी है. दूसरी वजह गर्भपात. अब कई महिलाएं मर्जी से गर्भपात करवा पा रही हैं, तीसरा गर्भनिरोधक का इस्तेमाल. हालांकि राष्ट्रीय स्तर पर कुछ राज्यों में इसका इस्तेमाल घटा है.' मुसलमान समुदाय में सामाजिक बदलाव इतिहासकार और लेखक राना सफी मानती हैं कि मुस्लिम परिवारों में अब दूसरे समुदायों की तरह आर्थिक व्यवस्था सुधारने और अच्छी शिक्षा पर जोर है. 'बंटवारे के घावों से उबरने में उन्हें वक्त लगा. जमींदारी खत्म होने के बाद कई मुस्लिम परिवार मुश्किल में फंस गए क्योंकि उनकी संपत्ति शत्रु संपत्ति घोषित हो गई( क्योंकि परिवार के कुछ लोग पाकिस्तान चले गए और कुछ रह गए). ज्यादातर मुसलमान पढ़ाई से दूर रहे क्योंकि उनको लगता था कि नौकरी करना उनका काम नहीं है . यही वजह है कि ज्यादातर मुसलमानों की पहली पीढ़ी पढ़ाई कर रही है और घर की महिलाएं ऐसा करने के लिए प्रेरित कर रही हैं.' तरक्की फाउंडेशन की प्रोजेक्ट मैनेजर फरहीन नाज भी मानती हैं कि मुसलमानों में परिवार छोटे रखने की प्रवृत्ति बढ़ी है. इनका एनजीओ गरीबों को शिक्षा और ट्रेनिंग देने का काम करता है. 'सलमानों की सोच में बदलाव आया है खास तौर से परिवार नियोजन को लेकर. अगले हमारे मां बाप के दौर को देखें तो वो 4 से 5 बच्चे पैदा करते थे जबकि अब सिर्फ 2 या 3 बच्चों का ही चलन है, बच्चियों की पढ़ाई पर खास जोर है जिससे लोगों की सोच में बदलाव आया है.' राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक अब मुस्लिम महिलाएं 21 की उम्र में मां बन रही हैं. नाज का मानना है कि ऐसा उच्च शिक्षा के चलते हो रहा है. उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वे 2018 कहता है कि कि जहां उच्च शिक्षा में 2013-14 में 24 फीसदी दाखिला था वो मुसलमान महिलाओं में बढ़कर 47 हो गया है जो राष्ट्रीय औसत का करीब करीब दोगुना है. राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण ये भी दिखाता है कि उच्च शिक्षा का बढ़ता स्तर, परिवार नियोजन और नियोजित गर्भधारण में भी सुधार हुआ है. और पढो: आज तक

कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे



गुजरात के खंभात में सांप्रदायिक हिंसा, 13 लोग घायल, घर और दुकानें जलाई गईं

डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे



उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में सीएए विरोधी प्रदर्शन में हुई हिंसा में पांच घायल, इंटरनेट बंद

भाजपा शासित राज्यों में ही शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन हो रहेः उद्धव ठाकरे



CAA और NRC पर भारत का समर्थन कर गए ट्रंप! BJP ने किया दावा

US President Donald Trump and First Lady visit Taj Mahal in Agra



ब्लैक लिस्ट में पाकिस्तान, टेरर फंडिंग रोकने के 11 FATF मानकों में से 10 में फेल

चिदंबरम राजीव से दोस्ती के चलते राजनीति में आए, ड्रीम बजट से छाएचिदंबरम राजीव से दोस्ती के चलते राजनीति में आए, ड्रीम बजट से छाए BJP4India INCIndia ChidambaramTimeUp ChidambaramArrested ChidambaramMissing ChidambaramLockedUp

LIVE: पेरिस में बोले मोदी- फ्रांस की फुटबॉल टीम के समर्थक यहां से ज्यादा भारत मेंपेरिस में बोले मोदी- फ्रांस की फुटबॉल टीम के समर्थक यहां से ज्यादा भारत में लाइव ब्लॉग- ModiInFrance

पेरिस में बोले मोदी- फ्रांस की फुटबॉल टीम के यहां से ज्यादा भारत में समर्थकमुझे लगता है कि फ्रांस की फ़ुटबॉल टीम के समर्थकों की संख्या शायद जितनी फ़्रांस में है, उससे भी ज़्यादा भारत में होगी: पीएम नरेंद्र मोदी

INX मीडिया मामले में गिरफ्तारी के बाद चिदंबरम के पास कौन से हैं कानूनी रास्तेमंगलवार से लापता कांग्रेस नेता पी चिदंबरम बुधवार शाम को कांग्रेस दफ्तर पहुंच गए. यहां उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस बीच सीबीआई की टीम भी कांग्रेस दफ्तर पहुंच गई. बेल या जेल सबको नँगा करेगा और क्या गली गली में शोर है लूंगी वाला चोर है मोदी बाबा आएंगे इसे जेल ले जायेंगे

Ashes: इंग्लैंड के जेसन रॉय के सिर में लगी चोट, टीम से बाहर होने का खतराइंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एशेज टेस्ट सीरीज का तीसरा मैच गुरुवार (22 अगस्त) से खेला जाएगा.



ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले

मोदी के रहते भारत-पाक में सिरीज़ नहींः आफ़रीदी

अब्दुल्ला और मुफ़्ती की रिहाई की दुआ करता हूं: राजनाथ सिंह

डोनल्ड ट्रंप भारत आकर क्या हासिल करना चाहते हैं

सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak

ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा

कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

24 अगस्त 2019, शनिवार समाचार

पिछली खबर

राहुल ने कबूला JK गवर्नर का ऑफर, इन नेताओं संग करेंगे घाटी का दौरा

अगली खबर

स्पेशल रिपोर्ट: आतंकवाद से परिवारवाद तक, PM ने ऐसे समेटे सारे मुद्दे
कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे गुजरात के खंभात में सांप्रदायिक हिंसा, 13 लोग घायल, घर और दुकानें जलाई गईं डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में सीएए विरोधी प्रदर्शन में हुई हिंसा में पांच घायल, इंटरनेट बंद भाजपा शासित राज्यों में ही शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन हो रहेः उद्धव ठाकरे CAA और NRC पर भारत का समर्थन कर गए ट्रंप! BJP ने किया दावा US President Donald Trump and First Lady visit Taj Mahal in Agra 98 साल और 101 साल की दो बहनें 47 साल बाद फिर से मिलीं डोनाल्ड ट्रंप का भारत दौरा: क्या सोच रहे हैं कश्मीरी CAA Protest Live Updates: Violence In Jafrabad, Maujpur, Seelampur, Chand Bagh & Shaheen Bagh - दिल्लीः नागरिकता कानून के खिलाफ आज हुई हिंसा में एक आम नागरिक के भी मारे जाने खबर। दिल्ली: मौजपुर में जिस शख्स ने की थी 8 राउंड फायरिंग, उसकी हुई पहचान CAA हिंसा पर बोले मनीष सिसोदिया- तीन दशक से दिल्ली में हूं, इतना डर कभी नहीं लगा
ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले मोदी के रहते भारत-पाक में सिरीज़ नहींः आफ़रीदी अब्दुल्ला और मुफ़्ती की रिहाई की दुआ करता हूं: राजनाथ सिंह डोनल्ड ट्रंप भारत आकर क्या हासिल करना चाहते हैं सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे जाफराबाद पर कपिल मिश्रा का ट्वीट- 'जब तक आपके दरवाजे तक ना आ जाएं, चुप रहिए' आरबीआई और एलआईसी के बूते कब तक आर्थिक संकट से निपटेगी सरकार? पाकिस्तान ज़िंदाबाद और भारत ज़िंदाबाद क्या साथ नहीं हो सकता? कांग्रेस एक अध्यक्ष क्यों नहीं चुन पा रही? दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास 200 से ज्यादा महिलाओं ने जाम की सड़क, भीम आर्मी के 'भारत बंद' का दिया हवाला