चीन ने ताइवान के पास किया 'एंफ़िबियस लैंडिंग' का अभ्यास - BBC Hindi

मैक्रों थप्पड़ मामला: एक संदिग्ध के पास हथियार और हिटलर की किताब मिलने की ख़बर आज की प्रमुख ख़बरें:

09-06-2021 19:27:00

मैक्रों थप्पड़ मामला: एक संदिग्ध के पास हथियार और हिटलर की किताब मिलने की ख़बर आज की प्रमुख ख़बरें:

चीनी सेना ने ताइवान के क़रीब समंदर में एंफ़िबियस लैंडिंग एक्सराइसज़ की है. इस तरह के युद्धाभ्यास में थल, जल और वायु, तीनों सेनाएं इस्तेमाल होती हैं.

14:13क्या ईरान के क़रीब आ रहे हैं सऊदी अरब और यूएई?EPACopyright: EPAईरान और वैश्विक शक्तियों के बीच हुए परमाणु समझौते का हमेशा से विरोध करने वाले खाड़ी देशों के रुख़ मे बदलाव देखने को मिल रहा है.समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने अपनी सुरक्षा के पहलू पर विचार करते हुए अब ईरान के साथ तनाव घटाने और भविष्य में संवाद बनाने की कोशिशें शुरू कर दी हैं.

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका, केंद्र सरकार ने राज्यों को दी चेतावनी: आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi कोरोना से अपनों की मौत के बाद ख़ुद को संभालने के लिए क्या करें? - BBC News हिंदी 48 घंटे में दूसरी बार अमित शाह से मिले बंगाल के गवर्नर, फिर चुनाव बाद हिंसा पर की कड़ी टिप्पणी

दरअसल, विएना में 2015 के उस परमाणु समझौते को बहाल करने की कोशिशें चल रही हैं, जिसके तहत ईरान से इस शर्त पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध हटाए गए थे कि वह अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित कर देगा.डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका को इस समझौते से बाहर निकाल लिया था मगर अब जो बाइडन प्रशासन इस समझौते को बहाल करना चाहते हैं.

खाड़ी में अमेरिका के सहयोगी देश हमेशा से कहते रहे हैं कि ये समझौता नाकाफ़ी है क्योंकि इससे ईरान के मिसाइल निर्यात और अप्रत्यक्ष रूप दूसरे देशों में मौजूद लड़ाकों का समर्थन करने जैसे कामों पर रोक नहीं लगती.लेकिन जिस तरह से इस समझौते मे शामिल बाक़ी देश अमेरिका और ईरान के बीच गतिरोध को दूर करने में जुटे हुए हैं, उसे देखते हुए खाड़ी के देशों ने अपने स्तर पर ईरान के साथ रिश्ते सुधारने में जुट गए हैं. headtopics.com

'सऊदी अरब के रुख़ में बदलाव'Getty ImagesCopyright: Getty Imagesसऊदी अरब कई सालों से यमन के युद्ध में उलझा हुआ है. लगातार वहां से उसकी तेल रिफ़ाइनयरियों और दूसरी जगहों पर ड्रोन और मिसाइल हमले होते रहे हैं जिनके लिए वह ईरान को ज़िम्मेदार बताता है.

दरअसल, ईरान यमन में हूती विद्रोहियों का समर्थन करता है जिन्हें सऊदी पिछले छह साल से नहीं हरा पा रहा.अनौपचारिक सऊदी-ईरान संवाद में शामिल रहे गल्फ़ रिसर्च सेंटर के अब्दुल अज़ीज़ सागेर ने इस हफ़्ते कहा, “खाड़ी के देशों का कहना है कि अमेरिका इस समझौते में शामिल होता है तो यह उसका फ़ैसला है, हम उसे नहीं बदल सकते. लेकिन हम चाहते हैं कि सभी क्षेत्र की सुरक्षा को लेकर भी विचार करें.”

खाड़ी देशों का मानना है कि जितनी तवज्जो उन्हें ट्रंप के समय मिलती है, उतनी बाइडन के दौर में नहीं मिल रही. उन्होंने भी विएना में हो रही चर्चा में शामिल होने की कोशिश की थी मगर विफल रहे थे.विएना में चल रहे विमर्श का नतीजा निकलने का इंतज़ार करने की बजाय, सऊदी अरब ने भी एक पहल की है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने दो सूत्रों के हवाले से लिखा है सऊदी अरब ने अप्रैल में ईरान की ओर से दोनों देशों के अधिकारियों के बीच वार्ता करने के प्रस्ताव को स्वीकार किया है.

सागेर कहतेहैं, “यमन में उलझने से ईरान का कुछ नहीं बिगड़ रहा मगर ये सऊदी अरब के लिए महंगा सौदा है. इसी कारण ईरान मोलभाव करने की बेहतर स्थिति मे है.”Getty ImagesCopyright: Getty Imagesसंयुक्त अरब अमीरात भी पड़ा नरम?कोविड 19 के कारण पैदा हुए संकट के बाद अब खाड़ी देशों ने अपनी अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना शुरू किया है. मगर रिकवरी के लिए ज़रूरी है कि सुरक्षा को कोई ख़तरा न हो. headtopics.com

भाजपाई हुए जितिन का पहला लखनऊ दौरा: सबसे पहले BJP मुख्यालय में मंदिर में जाकर मत्था टेका; बोले- UP में क्षेत्रीय दल व्यक्ति विशेष की पार्टी बन कर रह गए यूएपीए: क्या सुप्रीम कोर्ट ने इंसाफ की तरफ बढ़े कदमों में फिर ज़ंजीर डाल दी है चीनी वैज्ञानिकों का चौंकाने वाला प्रयोग: नर चूहों ने दिया बच्चों को जन्म, 21 दिनों में इनमें चूहों के बच्चे विकसित हुए; सभी बच्चे स्वस्थ रहे

रॉयटर्स ने एक सूत्र के हवाले से लिखा है कि ‘खाड़ी के देश चाहते हैं कि अमेरिका अभी भी ईरान पर कुछ प्रतिबंध लगाए रखे. ऐसे प्रतिबंध जो आतंकवाद या हथियारों के प्रसार करने वाले देशों पर लगाए जाते हैं.’मगर अपने स्तर पर शांति की कोशिशें काफ़ी पहले शुरू हो चुकी हैं. रॉयटर्स के मुताबिक़, जब से 2019 में यूएई के तट के पास टैंकरों पर हमला हुआ था, तभी से संयुक्त अरब अमीरात लगातार ईरान के संपर्क में है.

अमेरिका में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत यूसुफ़ अल ओताइबा ने अप्रैल में कहा था कि उन्हें परमाणु समझौते से खास उम्मीदें नहीं हैं. लेकिन उनका कहना था, “लेकिन हमें उनके साथ शांति के साथ रहना ही होगा. हम किसी तरह का दख़ल नहीं चाहते, न मिसाइलें चाहते हैं न छद्म युद्ध.”

और पढो: BBC News Hindi »

ऑपरेशन न्योतेबाज़: रेस्टोरेंट-पब-फॉर्म हाउस तोड़ रहे नियम, शराब से लेकर DJ के हैं इंतजाम

आज प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना कम जरूर हुआ लेकिन रूप बदल रहा है. आज यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, कोरोना कमजोर हुआ लेकिन खत्म नहीं हुआ है. देश-विदेश के मेडिकल एक्सपर्ट कह रहे हैं कि कोरोना लगातार नए रूप लेकर फैलना शुरु हो चुका है. लेकिन फिर भी हमारे देश में लापरवाहों की ऐसी भीड़ है जो कोरोना को न्योता दे रही है. कोरोना की उस तीसरी लहर के न्योतेबाजों को हमने अपने कैमरे में कैद किया है. एक स्टिंग ऑपरेशन महामारी से बचाने वाले नियमों की धज्जियां उड़ाकर वायरस को फैलाने वाली पार्टियां आयोजित करने वाले कैद हुए हैं. देखें ये रिपोर्ट.

It's called 'Freedom of Slap', صفعة MacronSlap صفعة_ماكرون صفعة_القرن हिटलर अपनी पोथी ( किताब) को गुजरात में अपने पोते [झुठलर]🎅👈 के पास छोड़ कर गया था, And US silently watching the bullying tactics of China

CM योगी ने वाराणसी के एक CHC को लिया गोद, अस्पताल के कायाकल्प में जुटे अफसरसीएम योगी आदित्यनाथ ने जंगल कौड़िया सीएससी गोरखपुर, चरगावां सीएससी गोरखपुर के अलावा हाथी बाजार सीएससी वाराणसी और मसौधा सीएससी अयोध्या को गोद लिया है. सीएम ने 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सीएचसी हाथी बाजार को दिए हैं. iSamarthS Accident at vaishno Devi . Fire take place recent video of fire. check this out and pray for safety जनगणना_में_OBC_कालम_लागू_करो ModiVsYogi dishasalian SaraAliKhan mahatma Gandhi telanganalockdown ban dhruv rathee ShehnaazGiII justicefornathiya iSamarthS कृपया उत्तर प्रदेश भी गोद ले लीजिये साहब 🙏 iSamarthS प्रधानमंत्री ने भी कई साल पहले कुछ गाँव गोद लिए थे उनका तो कल्याण हो ही गया होगा 😆

Prayagraj: युवती के साथ अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर में गैंगरेप, पीड़िता ने तोड़ा दम, खत वायरलमोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के एसआरएन अस्पताल (SRN Hospital) में ऑपरेशन के लिए भर्ती मीरजापुर की एक युवती ने डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों पर गैंगरेप (Lady P...

बुरे फंसे KKR के कप्तान और RR के विकेटकीपर, ईसीबी ने उठाया यह कदमईसीबी ने कहा कि इस मामले से उचित तरीके से नि​बटा जाएगा। ईसीबी प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा, ‘हमें पिछले सप्ताह आपत्तिजनक ट्वीट को लेकर सतर्क किया गया था, इसलिए अन्य खिलाड़ियों के पुराने सोशल मीडिया पोस्ट पर भी सार्वजनिक रूप से सवाल उठाए गए हैं।’

ऑक्सीजन सप्लाई के पेमेंट के बदले मांगी 50 हजार रिश्वत: 63.50 लाख रुपए के पेमेंट के लिए मांगा था एक प्रतिशत कमीशन, ACB ने सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज के अकाउंटेंट को पकड़ारेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में पहले ही बदनाम हो चुके बीकानेर का सरदार पटेल मेडिकल कॉलेज अब एक अकाउंटेंट के.के. गोयल की करतूत के कारण शर्मसार है। जिस समय बीकानेर में कोरोना से लोगों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो रही थी, उस समय सप्लाई करने वाली फर्म को समय पर भुगतान देने के बजाय उससे 65 हजार रुपए की रिश्वत मांगी गई। पचास हजार रुपए लेते हुए आज भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने गिरफ्... | Bikaner यही खेला हर जगह है

सबको फ्री वैक्सीन के पीएम मोदी के ऐलान के क्या हैं मायने, पांच प्वाइंट में समझेंप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा. अब तक देश के करोड़ों लोगों को मुफ्त वैक्सीन मिली है, अब 18 वर्ष की आयु के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे. Right sir Lock down kb khatam hoga modi ji फिर पांच झूठ

MP: CM के सामने नाराज हुए गृह मंत्री: नरोत्तम मिश्रा ने नर्मदा विकास प्राधिकरण के 10 हजार करोड़ के टेंडर पर आपत्ति जताई; शिवराज के पास है इसका मंत्रालयमध्यप्रदेश कैबिनेट की पहली फिजीकल मीटिंग में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा नाराज हो गए। बैठक में उन्होंने नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण (NVDA) के 3 सिंचाई प्रोजेक्ट के लिए 10 हजार करोड़ के टेंडर बुलाने पर आपत्ति जताई। कोरोनाकाल का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि वित्तीय स्थिति को देखते हुए टेंडर बुलाना चाहिए। संक्रमण में अन्य विभाग के बजट में कटौती कर दी गई, तो फिर इन प्राेजेक्ट पर इतना बजट क्यों? | MP कैबिनेट में तकरार : कोरोनाकाल में NVDA के 3 प्रोजेक्ट पर 10 हजार करोड़ के टैंडर करने पर गृह मंत्री मिश्रा नाराज; प्रेस ब्रीफिंग तक नहीं, BJP प्रदेशाध्यक्ष मनाने पहुंचे