Ethanolproductionpolicy 2021, Ethanal Production İn India, Jagran Plus, Jagran Mudda, Hpcommanmanıssue, Sugar Cane Farmer, Sugar Production İn İndia, Sugar Factory, Sugar Mill, Ethanol Production Policy 2021, Ethanol Fuel, एथनाल उत्पादन, Sugar Export, चीनी उत्‍पादन, गन्‍ना किसान

Ethanolproductionpolicy 2021, Ethanal Production İn India

चालू पेराई सीजन में बढ़ेगा एथनाल का उत्पादन, गन्ना भुगतान में होगी सहूलियत, सरकार ने उठाए कदम

चालू पेराई सीजन में बढ़ेगा एथनाल का उत्पादन, गन्ना भुगतान में होगी सहूलियत, सरकार ने उठाए कदम #EthanolProductionPolicy2021

17-10-2021 19:40:00

चालू पेराई सीजन में बढ़ेगा एथनाल का उत्पादन, गन्ना भुगतान में होगी सहूलियत, सरकार ने उठाए कदम EthanolProductionPolicy2021

पिछले साल के मुकाबले इस साल डेढ़ गुना अधिक एथनाल उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जानकारों का कहना है कि वैश्विक बाजार में चीनी की निर्यात मांग के बावजूद घरेलू एथनाल उत्पादन में कोई कमी आने का अनुमान नहीं है।

चालू पेराई सीजन (अक्तूबर-सितंबर) में पिछले साल के मुकाबले डेढ़ गुना अधिक एथनाल उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पेराई सीजन की शुरुआत एक अक्तूबर से हो चुकी है। वैश्विक बाजार में चीनी की निर्यात मांग के बावजूद घरेलू एथनाल उत्पादन में कोई कमी आने का अनुमान नहीं है। चालू सीजन में कुल 35 लाख टन चीनी को एथनाल में तब्दील किया जाएगा जबकि बीते सीजन में कुल 20 लाख टन चीनी की जगह एथनाल का उत्पादन किया गया, जिससे कुल 300 करोड़ लीटर एथनाल का उत्पादन किया गया।

अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, गठबंधन पर हो सकती है बात एप्पल का पेगासस के ख़िलाफ़ अदालत जाना भारत सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन सकता है PM Modi Mann Ki Baat Live: पीएम मोदी बोले- सत्ता में नहीं, सेवा में रहना चाहता हूं; मैं सिर्फ जनता का सेवक

नहीं रुकेगा गन्ना भुगतानयह चालू सीजन में बढ़कर 5000 करोड़ लीटर से अधिक पहुंच सकता है। इससे जहां मिलों में चीनी का भारी स्टाक नहीं जमा होगा, वहीं किसानों का गन्ना भुगतान नहीं रुकेगा। वैश्विक बाजार में पेट्रोलियम उत्पादों के मूल्य में लगातार तेजी का रुख बना हुआ है। इसी के चलते घरेलू बाजार में भी पेट्रोल के दाम बहुत बढ़े हैं। इसी के चलते बीते वर्ष (दिसंबर से नवंबर) के दौरान पेट्रोल में कुल नौ फीसद एथनाल का मिश्रण किया गया।

यह भी पढ़ेंचल रही तैयारियांएथनाल मिश्रण को वर्ष 2022 तक 10 फीसद करने का लक्ष्य है जबकि वर्ष 2025 तक इसे बढ़ाकर 20 फीसद तक ले जाना है। इसके लिए चौतरफा तैयारियां चल रही हैं। एथनाल उत्पादन को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। एथनाल इकाइयां स्थापित करने के लिए जहां रियायती दर पर ऋण मुहैया कराया जा रहा है, वहीं एथनाल की सरकारी खरीद निर्धारित मूल्य पर सुनिश्चित की गई है। इसके लिए अब तक 40 हजार करोड़ रुपये से अधिक का निवेश हो रहा है। headtopics.com

यह भी पढ़ेंएथनाल उत्पादन में 40 प्रतिशत तक बढ़ेगी खाद्यान्न की हिस्सेदारीएथनाल के कुल उत्पादन में फिलहाल गन्ने की शतप्रतिशत हिस्सेदारी है। खाद्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आने वाले दिनों में इसमें खाद्यान्न की हिस्सेदारी 40 फीसद तक बढे़गी। इसके लिए खाद्यान्न से एथनाल उत्पादन की अनुमति दे गई है। एक अनुमान के मुताबिक खाद्यान्न से एथनाल उत्पादन करने के तकरीबन 1.65 करोड़ टन अनाज की जरूरत पड़ेगी। इससे सरप्लस खाद्यान्न की समस्या को सुलझाने में मदद मिलेगी। धान व मक्का के किसानों के लिए एथनाल उत्पादन वरदान साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ेंपेट्रो पदार्थों की आयात निर्भरता में आएगी कमीइंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) के मुताबिक चीनी के सरप्लस उत्पादन को रोकने में एथनाल उत्पादन अहम साबित होगा। चालू पेराई सीजन में 35 लाख टन चीनी की जगह एथनाल का उत्पादन किया जाएगा। जबकि वर्ष 2025 तक इसे बढ़ाकर 50 से 60 लाख टन तक पहुंचाने का लक्ष्य है। चीनी को एथनाल में तब्दील करने की योजना से देश में सरप्लस चीनी उत्पादन की समस्या खत्म हो सकती है।

यह भी पढ़ेंपेट्रो पदार्थों की आयात निर्भरता में आएगी कमीयही नहीं जिन राज्यों में मक्का की खेती होती है, वहां इस तरह की इकाइयों की स्थापना होनी शुरू हो गई है। एथनाल मिश्रण की योजना के सफल होने से पेट्रो पदार्थों की आयात निर्भरता में कमी आएगी। एक अनुमान के मुताबिक सालाना 30 हजार करोड़ रुपए की विदेशी मुद्रा की बचत होगी। 

और पढो: Dainik jagran »

छात्रों से मिले 51 हजार बिजनेस आइडिया, देखें Business Blasters Programme पर क्या बोले Sisodia

दिल्ली सरकार की नई योजना स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों में उद्यमी एवं व्यावसायिक क्षमता को विकसित करने वाले बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्राम को लेकर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आजतक से खास बातचीत की है. इस दौरान उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में छात्र बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं और कई तरह के अनूठे आइडिया दे रहे हैं. इसकी सफलता को देखते हुए दिल्ली सरकार ने भविष्य में प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को भी इस प्रोग्राम से जोड़ने की योजना बनाई है. साथ में दिल्ली सरकार के कॉलेजों में भी प्रोग्राम को ले जाने की तैयारी है. देखिए ये वीडियो.

कोयले का उत्पादन और बिजली संकट: जानिए क्या है Coal India की बड़ी चुनौतीवर्ष 2016-17 के बाद से कोल इंडिया का प्रदर्शन 60 करोड़ टन के आसपास बना हुआ है। कंपनी ने कोयला मंत्रालय की संसदीय समिति को बताया है कि वर्ष 2020-21 में कोरोना संकट के चलते उत्पादन 60.2 करोड़ टन से घटकर 59.6 करोड़ टन पर आ गया था। CoalIndiaHQ हमारे देश में कोयले का भंडार 300 अरब टन। फिर भी संकट । सही मायने में हम विकास की ओर। CoalIndiaHQ इंडिया की सबसे बड़ी चुनौती है अपना बकाया वसूलना। जितने भी राज्य सरकार के पावर प्लांट है सब पहला उठा लेते हैं और पैसे नहीं देना चाहते यही रोग सभी सरकारी उपभोक्ताओं का है। कोयला संकट का कारण यह है कि राज्य सरकारों ने खुद के कोटे का कोयला नहीं उठाया।

रूस में कोरोना का कोहराम, 1 दिन में रिकॉर्ड 1000 से ज्‍यादा लोगों की मौतमास्को। रूस में कोरोनावायरस (Coronavirus) कोविड-19 का कहर थमता नजर नहीं आ रहा है। देश में लगातार बढ़ते मामलों और मौतों से कोहराम मचा हुआ है। इसी बीच आज यानी शनिवार को भी कोरोनोवायरस महामारी की शुरुआत के बाद पहली बार 24 घंटे में 1000 से ज्‍यादा लोगों की मौत हुई है। इससे पहले बीते कल यानी शुक्रवार को एक दिन में 32196 नए मामले दर्ज किए गए थे और 999 लोगों की मौत हुई थी।

Pulwama में सुरक्षाबलों का बड़ा ऑपरेशन, टॉप-10 में शामिल लश्कर आतंकी की हुई घेराबंदीजम्मू कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है. ये एनकाउंटर पुलवामा के पंपोर में चल रहा है. सुरक्षा बलों ने टॉप 10 में शामिल आतंकी उमर मुश्ताक खांडे को घेर लिया गया है. लश्कर कमांडर मुश्ताक कश्मीर के बघात में 2 पुलिसकर्मियों की हत्या और कई अन्य आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है. इसी साल फरवरी में मुश्ताक ने अपने साथी साकिब के साथ मिलकर पुलिसकर्मियों को निशाना बनाया था. मुश्ताक की घेराबंदी सुरक्षाबलों की बड़ी सफलता है. कश्मीर में सुरक्षाबलों का ऑपरेशन जारी है और लगातार आतंकियों को मार गिराया जा रहा है. पिछले कुछ दिनों से घाटी में एक्टिव हुए आतंकियों को ठिकाने लगाया जा रहा है. देखें ये रिपोर्ट. Waiting for His elimination News सिर में Direct गोली मारो। BEST INVESTMENT ON EARTH IS INVEST WITH INDORE SUPER CORRIDOR NEAR BY TSC & INFOSYS IN PLOTS CONTACT (MO:9753502016)

उद्धव ठाकरे पर फडणवीस का पलटवार- एजेंसियों का दुरुपयोग करते तो आधी कैबिनेट जेल में होतीदेवेंद्र फडणवीस ने उद्धव सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ठाकरे जिस सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं, वो अब तक के इतिहास की सबसे भ्रष्ट सरकार है Maharashtra DevendraFadnavis (sahiljoshii) sahiljoshii राम राज्य तो आपकी सरकार मे था और केंद्र कि सरकार तो राम राज्य से भी बेहतर फिर उत्तर प्रदेश का क्या कहना ये तो स्वर्ग प्रदेश है ऐसी सरकार तो स्वयं इंद्र कि भी नहीं तभी तो आपके नेता मंत्री मोदी और घटिया योगी कि कल्पना भगवान राम से और हनुमान से करते है sahiljoshii यह छोटा फेकू हैं फडणविस, इसने खुद SRA घोटाला किया हैं, इसके मंत्री मंडल के 18 मंत्री भ्रष्ट थे उन्हें यह बिना कोई जांच किए खुद ही क्लिनचिट दे देता था sahiljoshii Sab laga yehi haal koi new baat batao bhai sahab.. congress thi tab ye bolte or BJP ki thi tab congress wale ye bolte the.. sach baat to ye hi dono same hai sirf public ullu bana rahe ho aur kuch nahi...

केरल में भारी बारिश का कहर, कई इलाकों में बाढ़ और भूस्खलन, पांच की मौतकेरल के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के कारण इडुक्की और कोट्टायम जिलों में भूस्खलन हुआ है. बारिश से संबंधित घटनाओं में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई है. मौसम विभाग ने कल सुबह तक भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना जताई है. NDTV मतलब नम्बरी दलाल टेलीविजन इसके लिए BJP/RSS, मोदीजी को दोषी बता सकता है !! जैसा कि उसके DNA में है !! तमिलनाडु के सरकारी स्कूल में इस हिंदू छात्र को इसलिए पीटा जा रहा है क्योंकि वह रुद्राक्ष पहने हुए था..!! ईसाई शिक्षक ने छात्र की क्रूरता से पिटाई की तथा स्कूल से भी भगा दिया..!! mkstalin यही है आपका सेक्यूलरिज्म BJP4TamilNadu annamalai_k Narayanan3 केरलमॉडल

कर्नाटक में चर्च-मिशनरियों का होगा सर्वे, ईसाइयों में नाराज़गी - BBC News हिंदीकर्नाटक सरकार को एक विधायी समिति ने चर्चों के कामकाज़ और मिशनरियों की गतिविधियों पर एक रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है. इससे वहां ईसाइयों के बीच नाराज़गी है. नंबर तो सभी का आ रहा है सरकार में किसी को भी नहीं छोड़ रहे हैं मोदी की राजनैतिक दुकान ही मजहबी घृणा आधारित हैं अब अवाम ने ही धैर्यता से काम लेना होगा सांप्रदायिकता को औज़ारो के भांति इस्तेमाल कर रहे हैं मदारी और उसके जमूरे यह बहुत जरूरी था।सरकार का यह कदम सराहनीय है और ईसाइयों में नाराजगी क्यों होनी चाहिए यदि सरकार उनके बारे के जानकारी लेना चाहती है बशर्ते वे किसी आपत्तिजनक कामों में संलग्न न हो।