खतरा न बनने पाए कोरोना का नया रूप, इसकी रोकथाम के लिए करने होंगे ये पांच उपाय

खतरा न बनने पाए कोरोना का नया रूप, इसकी रोकथाम के लिए करने होंगे ये पांच उपाय #CoronaVirus #NewVariant #Omicron

Coronavirus, Newvariant

02-12-2021 07:30:00

खतरा न बनने पाए कोरोना का नया रूप, इसकी रोकथाम के लिए करने होंगे ये पांच उपाय CoronaVirus NewVariant Omicron

अन्य देशों के मुकाबले भारत किसी भी वैरिएंट से निपटने के लिए कहीं अधिक सतर्क है फिर भी ओमिक्रोन से मुकाबले के लिए पूरी तैयारी आवश्यक है। कई देशों ने इससे बचाव के लिए ट्रैवल बैन लगाने का फैसला लिया है।

कोरोना वायरस का नया वैरिएंट ओमिक्रोन पूरी दुनिया के लिए चिंता का सबब बन गया है। सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पहचाने गए इस वैरिएंट में कुल 50 म्युटेशन यानी बदलाव हुए हैं। कोरोना वायरस में यह अब तक का सबसे बड़ा म्युटेशन है। इन म्युटेशन में से 30 स्पाइक प्रोटीन में हुए हैं। स्पाइक प्रोटीन असल में मानव शरीर में प्रवेश के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला वायरस का हिस्सा होता है। यह चिंता की बात है, क्योंकि अधिकांश वैक्सीन वायरस पर कारगर होने के लिए स्पाइक प्रोटीन को ही लक्ष्य करती हैं। अब यह पता लगाने की दिशा में अध्ययन हो रहे हैं कि क्या ओमिक्रोन वायरस में कुछ हद तक वैक्सीन को धोखा देने की क्षमता है या नहीं?

UP Election 2022: कैबिनेट मंत्री अनुराग ठाकुर का तंज, 10 मार्च को अखिलेश यादव कहेंगे- ईवीएम बेवफा है

यह भी पढ़ेंइस खबर का सबसे चिंताजनक पहलू यह है कि इसके ‘बाइंडिंग डोमेन’ में 10 म्युटेशन हो चुके हैं। बाइंडिंग डोमेन वह हिस्सा होता है, जिससे वायरस स्वयं को मानव कोशिका से जोड़ लेता है। इस साल अप्रैल और मई के दौरान हमने जिस डेल्टा वैरिएंट का सामना किया था, उसमें ऐसे मात्र दो ही म्युटेशन हुए थे। यह ओमिक्रोन को कोरोना के अन्य किसी भी प्रकार के स्वरूप की तुलना में कहीं अधिक तेजी से फैलने वाला भयानक रूप से संक्रामक बनाता है। दक्षिण अफ्रीका से मिल रहे शुरुआती संकेतों से यह आशंका सही साबित हो रही है। हालांकि इस मोर्चे पर अब तक की बड़ी राहत यही है कि डेल्टा की तुलना में ओमिक्रोन के लक्षण कम गंभीर दिख रहे हैं।

ओमिक्रोन की दस्तक यही स्थापित करती है कि यह संसार अभी कोरोना वायरस पर पूर्ण विजय प्राप्त करने से दूर है। यह भी सही है कि वैक्सीन हमें रक्षा कवच प्रदान किए हुए है। कुछ ही महीनों के भीतर हम कोविड-19 से बचाव के लिए टैबलेट भी बना लेंगे। फिर भी वायरस की अपनी ही एक चाल है और उसकी यह राह न केवल अत्यंत अप्रत्याशित, अपितु अत्यधिक तीव्र भी है। इसी साल अप्रैल में इस वायरस से हमारा सबसे भयंकर सामना हुआ था। तब भारत में फैले डेल्टा वायरस ने हमारी पूरी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को तहस-नहस कर दिया था। उस लहर से हम जैसे-तैसे उबर गए हों, लेकिन उस दौरान सड़कों पर आक्सीजन के लिए मचे कोहराम और परिवारों पर वज्रपात कर देने वाली मौतों की अंतहीन तस्वीरों को शायद ही लोग भुला सकेंगे। वैसी तस्वीरें कभी दोहराई नहीं जानी चाहिए। कभी भी नहीं। headtopics.com

यह भी पढ़ेंफिलहाल तो हम स्वयं को खुशकिस्मत कह सकते हैं कि ओमिक्रोन अभी हमसे हजारों मील दूर है और हमारे पास इस बार तैयारी करने का काफी समय है। अपनी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को मजबूत करने के लिए हमें इस अवसर को गंवाना नहीं चाहिए। ऐसी भरी-पूरी आशंका है कि तमाम प्रतिरोध और सावधानी बरतने के बावजूद ओमिक्रोन भारत की सीमा में दाखिल हो सकता है। इस दौरान अगर हमने इससे निपटने की तैयारी कर ली तो हम उसकी आशंकित लहर पर अंकुश लगा सकेंगे। इसके लिए पांच स्तरों पर कार्रवाई आवश्यक है।

राजस्थान : गवर्नर कलराज मिश्रा का ट्विटर अकाउंट हैक, अरबी भाषा में किया गया ट्वीट

यह भी पढ़ेंसबसे पहले सरकार को तत्काल सभी अस्पतालों का नवीनतम-अद्यतन आक्सीजन आडिट कराना चाहिए। डेल्टा वैरिएंट के दौरान इलाज के लिए लोग बड़े शहरों की ओर उमड़ रहे थे, जिससे स्वास्थ्य सेवा व्यवस्था धराशायी होने के कगार पर पहुंच गई थी। हमें ग्रामीण अस्पतालों में भी आक्सीजन आपूर्ति की निगरानी के लिए डिजिटल डैशबोर्ड बनाना ही होगा। वैसे तो हम पहले ही आक्सीजन के व्यापक उत्पादन और आपूर्ति की चेन तैयार कर चुके हैं। इस व्यवस्था को परखा जाए कि अगर मरीजों की संख्या अचानक बढ़ी तो यह तैयारी कितनी कारगर होगी।

यह भी पढ़ेंदूसरा, दवाओं के भंडारण और उनकी सप्लाई चेन को सुरक्षित करना होगा। हमें वह दौर भी याद है जब रेमडेसिविर जैसी जरूरी दवा की 20 गुने से भी अधिक दाम पर कालाबाजारी हो रही थी। इस बार इस स्थिति से आसानी से बचा जा सकता है। हम जानते हैं कि कोविड में क्या काम करता है और क्या नहीं? जिला स्तर के अधिकारियों को तहसील स्तर पर सप्लाई और भंडारण व्यवस्था का पता लगा लेना चाहिए। यही मेडिकल आक्सीजन सिलेंडरों और कंसंट्रेटर के लिए किया जाना चाहिए। हमें अभी ही यह मालूम होना चाहिए कि जरूरत के वक्त राहत कहां मिलेगी?

यह भी पढ़ेंतीसरा, विदेश से आने वाले यात्रियों की आवाजाही को पूरी तरह खोलने पर भी भारत को सतर्क रहना होगा। ओमिक्रोन आएगा तो दूसरे देशों से ही आएगा। ऐसे में अगर हम बाहर से आने वालों की सख्त निगरानी करते हैं तो शायद इस वैरिएंट के आने को कुछ समय तक टाल सकते हैं। जितने समय तक हम ओमिक्रोन को टाल सकेंगे, उतना ही बेहतर ढंग से हम उसके व्यवहार को समझने और उसे हराने का तरीका जान पाएंगे। headtopics.com

शाहजहांपुर : नींद पूरी न होने पर चालक ने ट्रेन चलाने से किया इनकार, सोकर उठने पर चले चक्के

चौथा, भारत को अपने बल पर देखना होगा कि ओमिक्रोन वैरिएंट के खिलाफ वैक्सीन कितनी प्रभावी है? परखना होगा कि कोविशील्ड और स्वदेशी कोवैक्सीन कोरोना के इस नए स्वरूप के खिलाफ कैसा काम करती हैं? अगर यह वैरिएंट हमारे देश में आता है तो हमें वैक्सीन की मांग में बढ़ोतरी के लिए तैयार रहना होगा। यह सुनिश्चित करना होगा कि वैक्सीन का पर्याप्त स्टाक समय से कर लिया जाए।

पांचवां और अंतिम उपाय जागरूकता से जुड़ा है। यह एक जन अभियान है। अगर आप नए साल पर विदेश घूमने की योजना बना रहे हैं तो उसे टालने के बारे में सोचिए। अगर आपने अब भी वैक्सीन नहीं ली है, तो अविलंब ले लीजिए। अगर आप अब भी तय नहीं कर पा रहे तो कोविड के खिलाफ अपनी एंटीबाडी की जांच कराएं। शारीरिक दूरी, मास्क पहनने और हाथ धोने जैसे आसान कदमों को अपनाएं। हमें अर्थव्यवस्था या कामकाज को बंद करने की जरूरत नहीं, लेकिन अनावश्यक जोखिम से अवश्य ही बचना होगा। सावधानी ही कोरोना वायरस से सबसे अच्छा बचाव है।

दुनिया के तमाम देशों के मुकाबले भारत किसी भी वैरिएंट से निपटने के लिए कहीं अधिक तैयार है। हमारे साथ अब वह स्थिति नहीं रही, जब डेल्टा ने हमें चौंका दिया था। फिर भी हमें लापरवाह नहीं होना है। ओमिक्रोन को पूरी गंभीरता से लेना होगा। हमें याद रखना होगा कि ओमिक्रोन फिर से म्यूटेट हो सकता है। बिल्कुल वैसे जैसा हमने मार्च में डबल म्युटेशन होते देखा था। महामारी कम हुई है, लेकिन खत्म नहीं हुई है और भारत को सतर्क रहना चाहिए। डेल्टा ने हमें जो सबक सिखाए हैं, उन्हें कभी नहीं भूलना है।

(लेखक कलाम सेंटर के सीईओ हैं)

और पढो: Dainik jagran »

युवाओं से चुनावी वादे! इस बार युवा करेंगे किसका बेड़ा पार? देखें 10तक

आज हम सबसे पहले बात करेंगे उन युवाओं की जिनकी चर्चा सबसे ज्यादा चुनावी घोषणा पत्रों में होती हैं. चुनाव आते हैं तो लाखों में नौकरियां देने के वादे ऐसे होते हैं, जैसे सरकार बनने पर पकड़-पकड़कर एक एक युवा को नौकरी दे देंगे. लेकिन सच्चाई यही है कि हर दल के घोषणा पत्र में युवाओं के लिए किए वादे सिर्फ चुनावी हैं. यूपी में 18 से 30 साल के जिन 3 करोड़ 89 लाख युवाओं की मुट्ठी में सत्ता बनाने-बिगाड़ने की ताकत है, क्या उन युवाओं की वाकई दल सुनते हैं? देखें 10तक.

हिमाचल: चीन बॉर्डर के लिए बनेगा देश का सबसे ऊंचा तीसरा डबल लेन मार्गसामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण ग्रांफू-काजा-समदो मार्ग जल्द ही देश का तीसरा सबसे अधिक ऊंचाई पर बनने वाला डबललेन मार्ग

Corona: सीरम इंस्टीट्यूट ने बूस्टर डोज बनाने के लिए मोदी सरकार से मांगी अनुमतिपुणे। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने औषधि नियामक से कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए कोविशील्ड को बूस्टर डोज के तौर पर मंजूरी देने का अनुरोध किया है। संस्थान ने कहा है कि देश में टीके का पर्याप्त भंडार है और संक्रमण के नए स्वरूप को देखते हुए बूस्टर खुराक की जरूरत है।

Cyclone Jawad: चक्रवाती तूफान 'जवाद' का खतरा बरकरार, ओडिशा के कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, रेड अलर्ट जारीCyclone Jawad: चक्रवाती तूफान 'जवाद' का खतरा बरकरार, ओडिशा के कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, रेड अलर्ट जारी CycloneJawad Odisha IMD RedAlert Rainfall

आज का इतिहास: 61 साल के बुजुर्ग को दुनिया का पहला हार्ट ट्रांसप्लांट किया गया, 112 दिन ही जी पाया मरीजआज का दिन मेडिकल इतिहास का बड़ा दिन है। इसी दिन दुनिया में पहली बार किसी मरीज को आर्टिफिशियल हार्ट लगाया गया था। 2 दिसंबर 1982 को अमेरिका के एक डेंटिस्ट डॉ. बर्नी क्लार्क को आर्टिफिशियल हार्ट लगाया गया था। डॉ. क्लार्क दिल की गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। उनकी बीमारी को लेकर डॉक्टर हार मान चुके थे, लेकिन तभी यूटा यूनिवर्सिटी में डॉ. विलियम सी. डेव्रिस की टीम ने डॉ. क्लार्क का हार्ट ट्रांसप्लांट किया।... | Today History Aaj Ka Itihas (आज का इतिहास:) Bharat Mein Aaj Ka Itihaas | What Is The Significance Of Today? What Famous Thing Happened On This Day In history; आज का दिन मेडिकल इतिहास का बड़ा दिन है। इसी दिन दुनिया में पहली बार किसी मरीज को आर्टिफिशियल हार्ट लगाया गया था।

वरिष्ठ ब्रिटिश वैज्ञानिक का दावा: दिसंबर के बाद ही 'ओमिक्रॉन' के बारे में पता चलेगा सबकुछ, लोग हल्के में न लें इसेवरिष्ठ ब्रिटिश वैज्ञानिक का दावा: दिसंबर के बाद ही 'ओमिक्रॉन' के बारे में पता चलेगा सबकुछ, लोग हल्के में न लें इसे Coronavirus COVID19 Omicron Variant Omicron Alert क्या वीर सावरकर के बारे में आप ये रोचक बात जानते हो | veersawarkar interstingfacts yudhveerkadyan

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम: रिश्ते के वृक्ष को फूलने-फलने में त्याग खाद और पानी दोनों का काम करता हैजो तुम्हारे बिना भी खुश हो, उसे सताया न करो। रिश्ते निभाने का यह भी एक ढंग है। रिश्ते निभाने में दो बातें होती हैं- भोग और त्याग। बहुत से लोगों के लिए रिश्ते इन्स्ट्रूमेंट हैं। वे यंत्र की तरह रिश्तों का इस्तेमाल करते हैं। मनुष्य का शरीर मिला है तो भोग की कामना तो होगी ही। भोग और विलास तो इस शरीर के लिए भोजन व नींद की तरह जरूरी हैं, लेकिन इसके लिए रिश्तों को हथियार न बनाया जाए। | Renunciation works as both manure and water for the tree of relationship to flourish. PLEASE RAISE OUR VOICE.. High Court के निर्देशानुसार 14% obc आरक्षण के हिसाब से अनारक्षित की संशोधित सूची जारी करें, वेटिंग में नहीं मेरिट में शामिल करें। हमारे साथ न्याय करें। मामाजी_त्राहिमाम mptet OR ReleasePostingForMPtetWaiting