Coronasecondwave, Antibodies, Seropositive, Covıd-19 Outbreak, Sars-Cov-2, India Covid19 Second Wave, India Coronavirus Update, Double Mutation Variants, भारत में कोरोना वायरस, दूसरी लहर के प्रसार पर नियंत्रण

Coronasecondwave, Antibodies

कोरोना वायरस की दूसरी लहर शायद सीरो-पॉजिटिव व्यक्तियों में ‘अर्थपूर्ण एंटीबॉडीज’ के अभाव के कारण

कोरोना वायरस की दूसरी लहर शायद सीरो-पॉजिटिव व्यक्तियों में ‘अर्थपूर्ण एंटीबॉडीज’ के अभाव के कारण #CoronaSecondWave #Antibodies #SeroPositive

30-04-2021 08:21:00

कोरोना वायरस की दूसरी लहर शायद सीरो-पॉजिटिव व्यक्तियों में ‘अर्थपूर्ण एंटीबॉडीज’ के अभाव के कारण CoronaSecondWave Antibodies SeroPositive

यह अध्ययन 140 डॉक्टरों व विज्ञानियों की टीम ने उन 10427 वयस्क व्यक्तियों पर किया है जो देश के 17 राज्यों व दो केंद्र शासित प्रदेशों में स्थित सीएसआइआर की 40 प्रयोगशालाओं में काम करते हैं या उनके परिवार के सदस्य हैं।

काउंसिल फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआइआर) के हालिया सर्वे में तीन महत्वपूर्ण बातें निकलकर सामने आई हैं जिनसे देश में कोविड की भयंकर स्थिति को समझने में थोड़ी मदद मिलती है। शायद इनके सहारे संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए कोई सहायक रास्ता भी मिल जाए। पहला, इस साल मार्च में आई नए कोरोना वायरस की दूसरी लहर शायद सीरो-पॉजिटिव व्यक्तियों में ‘अर्थपूर्ण एंटीबॉडीज’ के अभाव के कारण है। दूसरा, हालांकि स्मोकिंग स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है व अनेक रोगों की वजह भी, बावजूद इसके कि कोविड सांस संबंधी रोग है, लेकिन यह संभव है कि स्मोकिंग के कारण जो अधिक बलगम बनता है, वह कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने में ‘रक्षा की पहली पंक्ति’ बनता हो। तीसरा, जिस शाकाहारी भोजन में फाइबर की मात्रा अधिक होती है उसकी भी कोविड के विरुद्ध इम्युनिटी प्रदान करने में भूमिका पाई गई है।

पीएम मोदी से फोन कॉल के बाद कोच ने कहा - कांस्य पदक के लिए डटकर खेलेंगी भारतीय शेरनियां - BBC Hindi IND vs ENG LIVE Score: बुमराह ने इंग्लैंड को दिया नौवा झटका, ब्रॉड 4 रन बनाकर आउट UP Election: उप्र में मुख्यमंत्री पद के लिए प्रियंका होंगी कांग्रेस का चेहरा, अकेले सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी पार्टी

यह अध्ययन 140 डॉक्टरों व विज्ञानियों की टीम ने उन 10,427 वयस्क व्यक्तियों पर किया है जो देश के 17 राज्यों व दो केंद्र शासित प्रदेशों में स्थित सीएसआइआर की 40 प्रयोगशालाओं में काम करते हैं या उनके परिवार के सदस्य हैं। इस अध्ययन के अनुसार पहली लहर के दौरान संक्रमण सितंबर 2020 में अपनी चरम पर था और इसके बाद नए मामलों में अक्टूबर से देशव्यापी पतन शुरू हो गया। फिर दूसरी लहर क्यों आई? यह जान लीजिए कि एंटी-एनसी यानी न्यूक्लियोकैप्सिड एंटीबॉडीज से वायरल एक्सपोजर या संक्रमण के दीर्घकालीन साक्ष्य उपलब्ध हो जाते हैं। इस अध्ययन में कहा गया है कि उसके वालंटियर्स में औसत सीरो-पॉजिटिविटी करीब 10 प्रतिशत थी, जिसका अर्थ यह है कि भारत में सितंबर तक ठीक हुए व्यक्तियों की बड़ी संख्या थी, जिससे नए संक्रमणों में कमी आई। लेकिन इस प्रकार की इम्युनिटी भविष्य में संक्रमण आउटब्रेक को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं होती है। संक्रमण को रोकने वाली एंटीबॉडीज पांच-छह माह बाद बहुत कम हो जाती हैं, जिससे पुन: संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। सर्वे से मालूम हुआ कि लगभग 20 प्रतिशत सीरो-पॉजिटिव व्यक्तियों में ‘अर्थपूर्ण एंटीबॉडीज’ का अभाव था। इसलिए सितंबर के संक्रमण चरम के बाद मार्च 2021 में संक्रमण की दूसरी लहर आरंभ हो गई, जिसके मध्य मई में विस्फोटक होने की आशंका है। यूनिर्विसटी ऑफ मिशिगन में एपिडेमियोलॉजी की प्रोफेसर भ्रमर मुखर्जी के अनुसार भारत में संक्रमण के रोजाना छह से आठ लाख तक नए मामले आ सकते हैं और कोविड से औसतन चार हजार तक लोगों की रोजाना मौतें हो सकती हैं।

गौरतलब है कि सितंबर 2020 में ही विशेषज्ञों के अनुमान आने लगे थे कि मार्च-अप्रैल 2021 में भारत में कोविड की दूसरी लहर आ सकती है जो पहले से अधिक चिंताजनक होगी और उसमें आक्सीजन की अधिक जरूरत होगी। लेकिन अफसोस इस बात का कि भारत में इसे गंभीरता से नहीं लिया गया। हमारे राजनीतिक नेतृत्व ने यह मान लिया कि अब सबकुछ ठीक हो गया है, लिहाजा राजनीतिक सम्मान व प्रशंसा अर्जित करने के लिए भारतीय वैक्सीन दुनियाभर के देशों को बेची या मुफ्त में दी जाने लगीं। मेडिकल आक्सीजन का निर्यात भी पिछले साल की तुलना में लगभग दोगुना कर दिया गया। अब अपने यहां स्थिति यह है कि दोनों वैक्सीन व आक्सीजन की कमी पड़ रही है। यही नहीं, हमारा राजनीतिक नेतृत्व धार्मिक और राजनीतिक आयोजनों में ऐसे व्यस्त हो गया जैसे कोविड कोई समस्या है ही नहीं। नतीजा आवश्यक दवाओं और आक्सीजन की जबरदस्त कमी के रूप में हमारे सामने है। (ईआरसी) headtopics.com

यह भी पढ़ें और पढो: Dainik jagran »

वारदात: Dhanbad के जज की मौत के पीछे का असली सच! देखें

धनबाद में जज उत्तम आनंद की मौत के पीछे अब भी कई सवाल घूम रहे हैं. ये मौत वाकई एक हादसा था या हत्या? इस वीडियो में तस्वीर दिखा रही है कि एक शख्स सड़क के बिल्कुल बायीं ओर जॉगिंग कर रहा है. तभी अचानक पीछे से एक टेंपो आता है और जॉगिंग कर रहे शख्स को धक्का मार कर आगे बढ़ जाता है. पहली नज़र में यही गुमान होता है कि सड़क हादसे का एक मामला है. मगर इससे पहले कि आप किसी नतीजे पर पहुंचे, इसी सीसीटीवी तस्वीर की हर फ्रेम को अब गौर से देखिएगा. इसलिए कि इसी तस्वीर का जो बारीक पहलू है उसके बाद पूरा केस ही पलट जाएगा. इस केस की फॉरेंसिक जांच भी हो रही है. इस मामले में आज रांची हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई की है. इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अदालत ने झारखंड के डीजीपी और धनबाद के एसएसपी से जवाब तलब किया है. इस मामले में चीफ जस्टिस की बेंच ने डीजीपी से कहा कि अगर पुलिस जांच करने में विफल रहती है तो यह मामला सीबीआई को जा सकता है. देखें वारदात का ये एपिसोड.

उत्तर प्रदेश: कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने के बाद चौथे भाजपा विधायक की मौतउत्तर प्रदेश में रायबरेली के सलोन सीट से भाजपा विधायक दल बहादुर कोरी का लखनऊ के एक निजी अस्पताल में कोरोना संक्रमण के बाद होने वाली समस्याओं के कारण निधन हो गया. पिछले महीने तीन अन्य भाजपा विधायकों की मौत हो चुकी है. पिछले साल दो भाजपा विधायकों की मौत इस महामारी के कारण हुई थी. अब जगे, old news. What will happen in by-election,? Thakur nahi.

केरल : कोरोना वायरस संक्रमण के 35 हजार से अधिक मामले सामने आए, 41 लोगों की मौतकेरल : कोरोना वायरस संक्रमण के 35 हजार से अधिक मामले सामने आए, 41 लोगों की मौत Kerala LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI

दिल्ली : पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 27,047 नए मामले, 375 मरीजों की मौतपिछले 24 घंटे में 25,288 मरीजों ने कोरोना को हरा दिया है. अब तक कुल 10,33,825 मरीजों का उपचार हो चुका है.

ब्रिटेन: बेडफर्डशायर काउंटी में सात मामलों में कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप की हुई पुष्टिब्रिटेन: बेडफर्डशायर काउंटी में सात मामलों में कोरोना वायरस के भारतीय स्वरूप की हुई पुष्टि Britain Indianvariant coronavirus कोरोना के “भारतीय” स्वरूप या फिर “चाइना” वाइरस के “भारतीय” स्वरूप

अमर उजाला फाउंडेशन की पहल: क्या है कोरोना वायरस और फंगल इंफेक्शन के बीच कनेक्शनअमर उजाला फाउंडेशन की पहल: क्या है कोरोना वायरस और फंगल इंफेक्शन के बीच कनेक्शन LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI