Coronavirus, Covid 19, Coronavaccine, Corona Vaccine For Children İn İndia, Corona Vaccine For Children, Wait For Children Vaccination, Children Vaccination İndia, Children Vaccination Covid, Children Vaccination, Corona Vaccine, Covid 19, Coronavirus, Vaccine For Children, Vaccination

Coronavirus, Covid 19

कोरोना से जंग: देश में बच्चों के टीकाकरण का इंतजार जल्द होगा खत्म, बन रही सूची, दो सप्ताह में देंगे अंतिम रूप

वयस्कों का टीकाकरण काफी तेजी से हो रहा है लेकिन अभी तक बच्चों को कोरोना की वैक्सीन नहीं मिली है। जल्द ही बच्चों के टीकाकरण

16-09-2021 02:06:00

कोरोना से जंग: देश में बच्चों के टीकाकरण का इंतजार जल्द होगा खत्म, बन रही सूची, दो सप्ताह में देंगे अंतिम रूप Coronavirus Covid19 CoronaVaccine PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI

वयस्कों का टीकाकरण काफी तेजी से हो रहा है लेकिन अभी तक बच्चों को कोरोना की वैक्सीन नहीं मिली है। जल्द ही बच्चों के टीकाकरण

बुधवार को अमर उजाला से बातचीत में राष्ट्रीय टीकाकरण तकनीकी सलाहकार समिति के अध्यक्ष डॉ. एनके अरोड़ा ने बताया कि वयस्कों की तरह बच्चों में परेशानी एकदम अलग होती है। बच्चों में हार्ट अटैक से मौत नहीं होती और उन्हें लिवर की परेशानी भी नहीं होती है। उनमें जीवनशैली से जुड़ीं बीमारियां नहीं होती हैं। हालांकि बच्चों में जन्मजात और असाध्य रोग मिलते हैं। इन्हीं को ध्यान में रखते हुए नई सूची बनाई जा रही है।

IPL 2021: चौथी बार चैम्पियन बनी धोनी की CSK, चंद ओवर में बाजी पलट ऐसे KKR को दी मात स्वास्थ्य आधार पर ज़मानत पर बाहर भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर के कबड्डी खेलने पर उठे सवाल चीन और भूटान का यह समझौता क्या भारत के लिए टेंशन है? - BBC News हिंदी

डॉ. अरोड़ा ने कहा कि वैज्ञानिकों साक्ष्यों के आधार पर यह कार्य किया जा रहा है और अब तक काफी चीजें चर्चा में आ चुकी हैं। उन्होंने कहा कि दो सप्ताह बाद यह सूची सार्वजनिक की जाएगी, लेकिन उससे पहले राज्य सरकारों को भी इसे भेजा जाएगा जिसके बाद हर जिले में इन बच्चों की पहचान करने के साथ ही इन्हें वैक्सीन दिया जाएगा।

उधर स्वास्थ्य मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, जायडस कैडिला कंपनी ने चार करोड़ वैक्सीन की पहली खेप अगले 15 दिन के अंदर तैयार करने का आश्वासन दिया है। इस वैक्सीन को हाल ही में आपात इस्तेमाल की अनुमति मिली थी। तीन खुराक वाली इस वैक्सीन को लेकर मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जायडस कैडिला की डीएनए वैक्सीन को बच्चों के लिए ही रखने का विचार किया है। चूंकि वयस्कों का टीकाकरण सही गति से कोविशील्ड और कोवाक्सिन के जरिए आगे बढ़ रहा है। ऐसे में डीएनए वैक्सीन सबसे पहले बच्चों के लिए ही उपलब्ध कराई जाएगी। headtopics.com

देश में जहां 18 वर्ष या उससे अधिक आयु की कुल आबादी 94 करोड़ है। वहीं 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों की कुल आबादी करीब 12 करोड़ के आसपास है। इनमें से करीब एक से दो फीसदी बच्चों के अलग-अलग बीमारियों से ग्रस्त होने का अनुमान है।20 से भी अधिक बीमारियां शामिल

पहले से बीमार बच्चों के लिए सरकार ने एक समिति गठित की थी जिसकी अब तक पांच बार से अधिक बैठक हो चुकी हैं। समिति में मौजूद विशेषज्ञों का कहना है कि पहले से बीमार बच्चों में कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक रहता है। इसलिए सबसे पहले हमें इन्हें वैक्सीन देना जरूरी है। देश के हर बच्चे के लिए वैक्सीन की आवश्यकता नहीं है।

ये वैक्सीन भी पाइपलाइन मेंकोवाक्सिन की नाक से दी जाने वाली वैक्सीन पर अभी पहले और दूसरे चरण का परीक्षण चल रहा है।कोवाक्सिन का 2 से 17 वर्ष की आयु के बच्चों में परीक्षण लगभग पूरा हो चुका है, इसके परिणाम आना बाकी हैं।मॉडर्ना को यूरोप में 12 से 17 वर्ष की आयु के बच्चों में इस्तेमाल की अनुमति दी जा चुकी है। इस वैक्सीन को भारत में भी आपात इस्तेमाल की अनुमति मिली है लेकिन तीन महीने बाद भी वैक्सीन नहीं आई है।

विस्तार का इंतजार खत्म होगा। लेकिन उससे पहले सरकार पहले से बीमार बच्चों के लिए एक सूची बना रही है जिसे पूरा होने में फिलहाल दो सप्ताह का वक्त लग सकता है। इसके बाद देश के हर जिले में इस सूची के आधार पर बच्चों का चयन होगा और उन्हें वैक्सीन लगाई जाएगी। इसकी शुरुआत अक्तूबर माह से होगी। headtopics.com

लखीमपुर कांड के सूत्रधार हैं केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा: भाजपा नेता का आरोप ब्रिटेन: बोरिस जॉनसन की पार्टी के सांसद की चाकू से गोदकर हत्या IPL 2021 Final CSK vs KKR: चेन्नई ने फाइनल में कोलकाता को किया पस्त, जीता चौथा खिताब

विज्ञापनबुधवार को अमर उजाला से बातचीत में राष्ट्रीय टीकाकरण तकनीकी सलाहकार समिति के अध्यक्ष डॉ. एनके अरोड़ा ने बताया कि वयस्कों की तरह बच्चों में परेशानी एकदम अलग होती है। बच्चों में हार्ट अटैक से मौत नहीं होती और उन्हें लिवर की परेशानी भी नहीं होती है। उनमें जीवनशैली से जुड़ीं बीमारियां नहीं होती हैं। हालांकि बच्चों में जन्मजात और असाध्य रोग मिलते हैं। इन्हीं को ध्यान में रखते हुए नई सूची बनाई जा रही है।

डॉ. अरोड़ा ने कहा कि वैज्ञानिकों साक्ष्यों के आधार पर यह कार्य किया जा रहा है और अब तक काफी चीजें चर्चा में आ चुकी हैं। उन्होंने कहा कि दो सप्ताह बाद यह सूची सार्वजनिक की जाएगी, लेकिन उससे पहले राज्य सरकारों को भी इसे भेजा जाएगा जिसके बाद हर जिले में इन बच्चों की पहचान करने के साथ ही इन्हें वैक्सीन दिया जाएगा।

उधर स्वास्थ्य मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, जायडस कैडिला कंपनी ने चार करोड़ वैक्सीन की पहली खेप अगले 15 दिन के अंदर तैयार करने का आश्वासन दिया है। इस वैक्सीन को हाल ही में आपात इस्तेमाल की अनुमति मिली थी। तीन खुराक वाली इस वैक्सीन को लेकर मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जायडस कैडिला की डीएनए वैक्सीन को बच्चों के लिए ही रखने का विचार किया है। चूंकि वयस्कों का टीकाकरण सही गति से कोविशील्ड और कोवाक्सिन के जरिए आगे बढ़ रहा है। ऐसे में डीएनए वैक्सीन सबसे पहले बच्चों के लिए ही उपलब्ध कराई जाएगी।

देश में जहां 18 वर्ष या उससे अधिक आयु की कुल आबादी 94 करोड़ है। वहीं 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों की कुल आबादी करीब 12 करोड़ के आसपास है। इनमें से करीब एक से दो फीसदी बच्चों के अलग-अलग बीमारियों से ग्रस्त होने का अनुमान है।20 से भी अधिक बीमारियां शामिल headtopics.com

पहले से बीमार बच्चों के लिए सरकार ने एक समिति गठित की थी जिसकी अब तक पांच बार से अधिक बैठक हो चुकी हैं। समिति में मौजूद विशेषज्ञों का कहना है कि पहले से बीमार बच्चों में कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक रहता है। इसलिए सबसे पहले हमें इन्हें वैक्सीन देना जरूरी है। देश के हर बच्चे के लिए वैक्सीन की आवश्यकता नहीं है।

ये वैक्सीन भी पाइपलाइन मेंकोवाक्सिन की नाक से दी जाने वाली वैक्सीन पर अभी पहले और दूसरे चरण का परीक्षण चल रहा है।कोवाक्सिन का 2 से 17 वर्ष की आयु के बच्चों में परीक्षण लगभग पूरा हो चुका है, इसके परिणाम आना बाकी हैं।मॉडर्ना को यूरोप में 12 से 17 वर्ष की आयु के बच्चों में इस्तेमाल की अनुमति दी जा चुकी है। इस वैक्सीन को भारत में भी आपात इस्तेमाल की अनुमति मिली है लेकिन तीन महीने बाद भी वैक्सीन नहीं आई है।

टीम इंडिया का कोच बनने के लिए तैयार Rahul Dravid, टी-20 वर्ल्ड कप के बाद संभाल सकते हैं जिम्मेदारी केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफ़ा देने तक लखीमपुर हिंसा की निष्पक्ष जांच संभव नहीं: टिकैत गुजरात: कथित तौर पर भूत भगाने के दौरान बुरी तरह पिटाई से महिला की मौत, पांच गिरफ़्तार

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

सियासी बवाल के बीच राहुल गांधी का दिल्ली से लखीमपुर का सफर, देखें टाइमलाइन

लखीमपुर खीरी में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद का विवाद अबतक शांत नहीं हुआ है. लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने के बाद आखिरकार राहुल गांधी को वहां से बाहर निकलने दिया गया है. एयरपोर्ट पर राहुल अपनी गाड़ी से जाएंगे या प्रशासन की गाड़ियों से इस पर विवाद हुआ था. अब राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सीतापुर से लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हुए और लखीमपुर में मृतक किसानों के परिवार से मिलने पहुंच चुके हैं. देखें राहुल गांधी के दिल्ली से लखीमपुर के सफर की पूरी टाइमलाइन.

PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI nice

यूपी में घर-घर जाकर लगाई जाएगी कोरोना वैक्सीन, आज से लखनऊ से शुरुआतDoor step corona vaccination : वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने और वैक्सीनेशन की बढ़ती मांग के बीच यह कदम उठाया गया है. लखनऊ के डीएम अभिषेक प्रकाश ने आज से इस अभियान की शुरुआत की है.

Covid-19 & Dengue LIVE Updates: भारत में आज कोरोना के 27 हजार से ज्यादा नए मामलेकोरोना वायरस के मामलों में गिरावट का ट्रेंड दिख रहा है। पिछले 78 दिन से रोजाना सामने आने वाले मामलों की संख्या 50 हजार से कम देखी गई है। जम्मू-कश्मीर में 50% क्षमता के साथ 10वीं और 12वीं की ऑफलाइन क्लास शुरू कर दी गई हैं। केरल से गोवा आने वाले यात्रियों को पांच दिन क्वारंटीन रहना होगा। इसके बाद RTPCR टेस्ट होगा, तभी निकलने की अनुमति होगी। इस बीच कई राज्‍यों में डेंगू पांव पसार रहा है। दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश समेत कई राज्‍यों में डेंगू के मामले तेजी से बढ़े हैं। दिल्ली में इस बार लगातार बारिश हो रही है। मच्छर बढ़ गए हैं और इसकी वजह से डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया का खतरा भी बढ़ गया है। डॉक्टरों का कहना है कि सितंबर से अक्टूबर के बीच डेंगू का पीक सीजन होता है। भारत में कोव‍िड-19 और डेंगू को लेकर ताजा अपडेट्स के लिए बने रहिए हमारे साथ।

लड़ेंगे कोरोना से: ब्रिटेन में अगले हफ्ते शुरू हो सकता है 12 से 15 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण, फाइजर के टीके को दी गई मंजूरीलड़ेंगे कोरोना से: ब्रिटेन में अगले हफ्ते शुरू हो सकता है 12 से 15 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण, फाइजर के टीके को दी गई मंजूरी Britain BorisJohnson Coronavirus Covid19 CoronaVaccine PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI

भारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में 6.8 फीसदी कमीभारत में पिछले 24 घंटे में नए COVID-19 केसों में 6.8 फीसदी कमी Coronavirus Updates Cancel_Neet2021 Neet_Paper_Leak_2021 BJP सरकार भरस्टाचार का दूसरा नाम बन गई है कारण यह पेपर लीक पर भी NEET कैंसिल कर दुबारा नही करवा रही। पेपर कहा कहा गया यह जांच का विषय है कारण कोटा कोचिंग से पूरे भारत के छात्र आते है। It's bcoz of Saturday n sunday s rtpcr reports. As maximum govt Institute don't take samples on second Saturday n sunday so low numbers. No testing no covid

झारखंड में बड़ा हादसा: रामगढ़ में बस और वैगन आर में टक्कर, पांच लोग जिंदा जलेझारखंड में बड़ा हादसा: रामगढ़ में बस और वैगन आर में टक्कर, पांच लोग जिंदा जले jharkhand HemantSorenJMM

Covid-19 & Dengue LIVE Updates: बंगाल में अनजान वायरस की दस्तक, सिलीगुड़ी में 70 बच्चों को बुखार और सांस लेने में दिक्कत, जिला अस्पताल में भर्तीकोरोना वायरस के मामलों में गिरावट का ट्रेंड दिख रहा है। सोमवार सुबह जारी आंकड़ों में 30 हजार से कम नए मामले दर्ज किए गए थे। पिछले 78 दिन से रोजाना सामने आने वाले मामलों की संख्या 50 हजार से कम देखी गई है। जम्मू-कश्मीर में 50% क्षमता के साथ 10वीं और 12वीं की ऑफलाइन क्लास शुरू कर दी गई हैं। केरल से गोवा आने वाले यात्रियों को पांच दिन क्वारंटीन रहना होगा। इसके बाद RTPCR टेस्ट होगा, तभी निकलने की अनुमति होगी। इस बीच कई राज्‍यों में डेंगू पांव पसार रहा है। दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश समेत कई राज्‍यों में डेंगू के मामले तेजी से बढ़े हैं। दिल्ली में इस बार लगातार बारिश हो रही है। मच्छर बढ़ गए हैं और इसकी वजह से डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया का खतरा भी बढ़ गया है। डॉक्टरों का कहना है कि सितंबर से अक्टूबर के बीच डेंगू का पीक सीजन होता है। भारत में कोव‍िड-19 और डेंगू को लेकर ताजा अपडेट्स के लिए बने रहिए हमारे साथ। HUM HAI HINDUSTANI HAMARA HAI HINDUSTAN