Coronavaccination, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, रैपिड एंटीजन टेस्ट, राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह, कोविड वैक्‍सीन, केंद्र सरकार, National Technical Advisory Group On Immunisation, Corona Vaccine, Corona Vaccination New Guidelines, Corona Vaccination, भारत Samachar

Coronavaccination, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन

कोरोना से ठीक होने के 3 महीने बाद लगवा सकते हैं कोविड वैक्सीन, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन

कोरोना से ठीक होने के 3 महीने बाद लगवा सकते हैं कोविड वैक्सीन, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन #CoronaVaccination

19-05-2021 16:15:00

कोरोना से ठीक होने के 3 महीने बाद लगवा सकते हैं कोविड वैक्सीन, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन CoronaVaccination

भारत न्यूज़: केंद्र सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। इसमें उसने कोरोना वैक्‍सीन लगवाने से जुड़ी कई उलझनों को साफ किया है। राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (एनटीएजीआई) की सिफारिश पर इन्‍हें जारी किया गया है। पहले कहा गया था कि संक्रमित होने के 6 महीने के बाद तक कोरोना से प्रोटेक्‍शन मिलता है।

(एनटीएजीआई) की सिफारिश पर यह फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने कहा है कि स्तनपान कराने वाली महिलाएं भी कोविड वैक्सीन लगवा सकती हैं।केंद्र सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। इसमें कहा है कि जिन मरीजों को प्लाज्मा दिया गया है, वे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के 3 महीने बाद वैक्सीन ले सकते हैं। अगर किसी ने कोविड वैक्सीन की पहली डोज ली है और फिर उसके बाद संक्रमित हुआ है तो रिकवर होने के 3 महीने बाद दूसरी डोज ली जा सकती है।

चर्चा: नमाज पढ़ रहे लोगों के सामने लगे 'जय श्री राम' के नारे, भड़कीं स्वरा भास्कर बोलीं- हिंदू होने पर हूं शर्मिंदा 'कृषि नीति पर पुनर्चिंतन की जरूरत' : किसान के फसल जलाने के VIDEO पर बोले वरुण गांधी शाहरुख़ के बेटे आर्यन ख़ान को ज़मानत क्यों नहीं मिल पा रही है? - BBC News हिंदी

अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी को खत्म करने के लिए बच्चे महत्वपूर्ण: सर्वेगाइडलाइन के मुताबिक, अगर किसी को कोई भी दूसरी गंभीर बीमारी हुई और हॉस्पिटल या आईसीयू में एडमिट हुआ तो वह भी 4 से 8 हफ्तों के बाद कोविड वैक्सीन ले सकता है। हालांकि, गर्भवती महिलाएं वैक्सीन लगवा सकती हैं या नहीं इसे लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। केंद्र सरकार का कहना है कि इस पर चर्चा जारी है।

कब डोनेट कर सकते हैं ब्‍लड?गाइडलाइन के अनुसार, कोविड वैक्सीन लेने के 14 दिन बाद ब्लड डोनेट किया जा सकता है। इसी तरह अगर कोई कोरोना संक्रमित है तो रिपोर्ट नेगेटिव आने के 14 दिन बाद ब्लड डोनेट कर सकता है।इसमें कहा गया है कि वैक्सीन लगाने से पहलेरैपिड एंटीजन टेस्ट headtopics.com

कराने की जरूरत नहीं है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र भेजकर कहा है कि वह इसका संज्ञान लें। साथ ही इसे प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए जरूरी कदम उठाएं। राज्यों से कहा गया है कि वे वैक्सीन देने वाले कर्मचारियों को भी ट्रेनिंग दें।

कोरोना वायरस के भारतीय वेरिएंट के खिलाफ कारगर है फाइजर-मॉडर्ना की वैक्‍सीन: शोधपहले क्‍या था कहना?पिछले हफ्ते ही नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी.के. पॉल ने कहा था कि एनटीएजीआई में चर्चा हुई कि कोरोना संक्रमित कितने वक्त बाद वैक्सीन ले सकते हैं। उन्होंने कहा था कि साइंटिस्टों का मानना है कि एक बार अगर संक्रमण हो जाए तो शरीर में एंटीबॉडी रहती हैं और 6 महीने तक प्रोटेक्शन होता है। उन्होंने तब कहा था कि इस आधार पर कहा गया है कि रिकवर होने के 6 महीने बाद कोविड वैक्सीन लगाएं।

इसके बाद कई लोगों ने सवाल भी उठाए थे। यह सवाल भी उठे कि शायद वैक्सीन की कमी की वजह से ऐसा कहा जा रहा है। आईसीएमआर के समीरन पांडा से इस बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि 6 महीने बाद वैक्सीन लेने को लेकर आधिकारिक गाइडलाइन जारी नहीं की गई थी। बस कई तरह की चर्चाएं हो रही थीं। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर ने जो स्टडी की उसमें पाया गया कि फिर से इंफेक्शन होने के चांस तीन महीने बाद हो सकते हैं। इसलिए रिस्क नहीं लिया जा सकता।

Navbharat Times News App: और पढो: NBT Hindi News »

लखीमपुर में जहां हिंसा हुई वहां बनेगा स्मारक: दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी अध्यक्ष बोले- किसानों की मूर्ति लगाकर पत्थरों पर लिखेंगे जुल्म की गाथा, ताकि पीढ़ियां याद रखें

दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में उसी स्थान पर किसानों का स्मारक बनवाने का ऐलान किया है, जहां 3 अक्टूबर को हिंसा हुई थी। यह ऐलान मंगलवार को तिकुनिया में हुए अंतिम अरदास में किया गया। तिकुनिया में चार किसान और एक पत्रकार का स्मारक बनेगा। किसान आंदोलन के एक साल के भीतर यह तीसरा स्मारक होगा, जिसे बनाने का ऐलान किया गया है। | Conversation with Manjinder Sirsa, who announced the farmer memorial: Said - where the massacre took place, the saga of atrocities will be written on the stones by placing the idols of the five; One crore rupees will be spent on the memorial किसान स्मारक की घोषणा करने वाले मनजिंदर सिरसा से बातचीत : बोले- जहां कत्लेआम हुआ, वहीं पांचों की मूर्ति लगाकर पत्थरों पर लिखेंगे जुल्म की गाथा; स्मारक पर खर्च होंगे एक करोड़ रुपये

Modi wave depopulation agenda Vax kills FEKU's Tool kit ... Lies + Jumla + fake news + hatred + bigotry and now free Corona + Covid 19 and free swimming (floating) in rivers .. what a tool kit FEKU ... कन्फ्यूज्ड गवर्मेंट कोरोना से जनता को नहीं बचा सकती।

वॉशिंगटन सुंदर के पिता का त्याग, बेटे को कोरोना से बचाने के लिए छोड़ दिया घरवॉशिंगटन सुंदर के पिता का बड़ा त्याग, बेटे को कोरोना से बचाने के लिए छोड़ दिया घर WashingtonSundar covid19 WorldTestChampionshipfinal IndiavsEngland Coronavirus COVID19India

ट्रैक्टर खरीदने पर महिन्द्रा दे रही कोरोना से सुरक्षा, जानें क्या है प्लानकोरोना काल में महिन्द्रा एंड महिन्द्रा ने नए ट्रैक्टर की खरीद पर विशेष कोविड मेडिक्लेम की पेशकश की है. कैसे और कौन-कौन इस मेडिक्लेम का लाभ उठा सकता है, कब तक इसका लाभ उठाया जा सकता है या इसके लिए कौन-कौन से दस्तावेज चाहिए, यहां पाएं सबकी जानकारी

कोरोना की तीसरी लहर क्‍यों बच्‍चों को करेगी प्रभावित, तैयारी करने के लिए कितना है वक्‍त?भारत न्यूज़: देश अभी कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है। जानकार कह चुके हैं कि तीसरी लहर का आना तय है। इस लहर में बच्‍चों के चपेट में आने की ज्‍यादा आशंका है। देश के टॉप वायरोलॉजिस्‍ट डॉ वी रवि ने इसकी वजह बताई है। साथ ही यह भी बताया है कि कब तक इसके लिए तैयारी कर लेने की जरूरत है।

लापरवाही: कोरोना के साथ ब्लैक फंगस एक साल से, सरकार ने नहीं दिया ध्यानलापरवाही: कोरोना के साथ ब्लैक फंगस एक साल से, सरकार ने नहीं दिया ध्यान CoronaInIndia BlackFungus CoronaUpdate Coronavirus Covid19 Coronavaccine drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI

अमर उजाला फाउंडेशन की पहल: आज जानें कोरोना काल में मानसिक तनाव से बचने के तरीकेअमर उजाला फाउंडेशन की पहल: आज जानें कोरोना काल में मानसिक तनाव से बचने के तरीके CoronaSecondWave CoronaVirusUpdates amarujalafoundations हां यो काम बोहत बढ़िया कर रे हो थाम। इसे इसे काम करदे रया करो। साबास।

कोरोना के इलाज से हटाई गई प्लाज्मा थेरेपी, AIIMS और ICMR ने जारी की नई गाइडलाइनकोरोना संकट के बीच प्लाजमा थेरेपी को लेकर आईसीएमआर और एम्स ने बड़ा फैसला लिया है. कोरोना के इलाज से प्लाज्मा थेरेपी हटाई दी गई है. इस संबंध में AIIMS और ICMR की तरफ से नई गाइडलाइन जारी की गई है.