कोरोना वायरस: लॉकडाउन में ज़रूरी सामान पहुँचाने वाले ट्रक ड्राइवरों की क्या है मुसीबत

कोरोना वायरस: लॉकडाउन में ज़रूरी सामान पहुँचाने वाले ट्रक ड्राइवरों की क्या है मुसीबत

10-04-2020 15:10:00

कोरोना वायरस: लॉकडाउन में ज़रूरी सामान पहुँचाने वाले ट्रक ड्राइवरों की क्या है मुसीबत

लॉकडाउन की घोषणा के बाद हज़ारों की संख्या में ट्रक सड़कों पर और फ़ैक्ट्रियों के बाहर खड़े हैं.

12: 11 IST को अपडेट किया गया25 मार्च से लेकर 14 अप्रैल तक घोषित 21 दिनों के लॉकडाउन में बहुत सारे क्षेत्र प्रभावित हुए हैं. साथ में ये चुनौती भी आई है कि लोगों को बहुत ज़रूरी सेवाएँ और चीज़ें मसलन खाद्य सामग्रियां और दवाइयां बिना किसी बाधा की मिलती रहें.

हथिनी की मौत: गिरफ़्तार अभियुक्त ने कहा- विस्फोटक नारियल में था BJP नेता सोनाली फोगाट ने अफसर को जड़ा थप्पड़, बरसाई चप्पल, वीडियो वायरल कोरोना संकट के बीच पत्रकारों पर मीडिया हाउस गिरा रहे हैं गाज

ज़रूरत का सामान एक शहर से दूसरे शहरों तक पहुँचे इसके लिए उन ट्रांसपोर्ट सेवाओं को जारी रखने का फ़ैसला लिया गया था जो इन ज़रूरी चीज़ों की ट्रांसपोर्टिंग में लगे हुए थे. इसके बावजूद ट्रांसपोर्टिंग सेक्टर को ना सिर्फ़ बड़ा नुक़सान झेलना पड़ रहा है बल्कि इन ज़रूरी सेवाओं को जारी रखना भी मुश्किल हो रहा है.

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ट्रांसपोटर्स, ट्रकर्स और पैसेंजर वेहिक्ल ऑपरेटर्स की सबसे बड़ी संस्था है. इसके साथ क़रीब एक करोड़ ट्रक रजिस्टर हैं.ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के सेक्रेटरी जनरल नवीन कुमार गुप्ता ने बीबीसी को बताया कि 90 फ़ीसदी ट्रासपोर्टेशन लॉकडाउन की वजह से प्रभावित हुआ है. लॉकडाउन की वजह से ये सारे ट्रक जगह-जगह सड़कों पर, फ़ैक्ट्रियों के बाहर या फिर पार्किंग में फंसे हुए हैं. इन ट्रकों में घरेलू सामान से लेकर तमाम तरह के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण हैं.

वो बताते हैं,"ज़रूरी चीज़ों के ट्रांसपोर्टेशन की इजाज़त तो है लेकिन उन्हें वापसी में कोई लोड नहीं मिलता. ख़ाली होने के बाद उन्हें वापस लाने में दिक्क़त हो रही है. ज़मीनी स्तर पर यह इतना सहूलियत भरा नहीं है. उन्हें इसके लिए डीसी के दफ्तर से इजाज़त लेनी पड़ती है. अब ड्राइवर आम तौर पर इतना सक्षम नहीं होते, जो डीसी के दफ्तर में जाकर परमिशन ले आएं."

वो आगे बताते हैं,"अगर ट्रांसपोर्टर या ड्राइवर के फ़ोन करने से परमिशन मिल भी जा रही है तो फिर उसे ड्राइवर तक कैसे पहुँचाया जाए. लॉकडाउन में यह भी एक बड़ी चुनौती है. यह भी एक बड़ी वजह है कि बहुत ज़रूरत की चीज़ें लेकर भी जो गाड़ियां जहां जा रही हैं, वहीं फंसी रह जा रही हैं."

इमेज कॉपीरइटGetty Imagesसप्लाई चेन के टूटने के ख़तरे पर वो कहते हैं कि हम कोशिश कर रहे हैं कि कम से कम बहुत ज़रूरी चीज़ों की सप्लाई की चेन ना टूटे लेकिन यह एक इको-सिस्टम की तरह है जो एक-दूसरे से जुड़ी हुई है.वो सवाल करते हैं,"मान लिजिए कि हिमाचल से फल-सब्जियां लेकर गाड़ी दिल्ली आई और यहां ख़ाली करने के बाद वो क्या लेकर वापस जाएगी. इसलिए वो गाड़ियां वहीं फंसी रह जा रही हैं. अगर हम सिलसिले को जल्दी से जल्दी दुरुस्त नहीं किए तो सप्लाई चेन टूट ही जाएगी."

नवीन कुमार गुप्ता का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान क़रीब एक ट्रक पर दो हज़ार रुपये का हर दिन का नुक़सान है.वो बताते हैं,"इस हिसाब से एक करोड़ गाड़ियों पर दो हज़ार करोड़ का नुक़सान हर रोज़ हो रहा है. 21 दिनों का नुक़सान अगर जोड़ें तो यह क़रीब 42 हज़ार करोड़ का नुक़सान होगा. चूंकि दस प्रतिशत गाड़ियां चल भी रही हैं. इसलिए यह नुक़सान 36-37 हज़ार करोड़ का तो ज़रूर ही है."

Realme Narzo 10A, Redmi 8, Samsung Galaxy M30: 10,000 रुपये में मिलने वाले बेस्ट स्मार्टफोन (जून 2020) आत्मनिर्भर भारत बनाने की कोशिश या तस्करी शुरू होने का अंदेशा? Oppo Find X2, Vivo X50, OnePlus Z: स्मार्टफोन जो भारत में जल्द होंगे लॉन्च

इमेज कॉपीरइटGetty Imagesझारखंड के बेरमो के रहने वाले आफ़ताब आलम ख़ान का कोयला खानों में ट्रक चलता है. जब से लॉकडाउन की घोषणा हुई है उनका काम चौपट हो गया है.वो बताते हैं कि सबसे बड़ी दिक्क़त यह है कि लॉकडाउन की वजह से ड्राइवर ट्रक छोड़कर अपने-अपने घरों को लौट गए हैं.

वो बताते हैं,"ट्रक काफ़ी लंबी दूरियों तक माल ढुलाई का काम करते हैं. इस दौरान ट्रक ट्राइवर अक्सर लाइन होटल पर खाते हैं. अब लॉकडाउन की वजह से उन्हें रास्ते में खाने-पीने की कोई सुविधा नहीं मिल रही है जिससे कि वो काम मिलने पर भी वापस नहीं आ रहे हैं."

उनका ट्रक कोयला की ढुलाई में इस्तेमाल होता है. वो कहते हैं कि औद्योगिक उत्पादनों में बिजली की खपत कम होने से बिजली के उत्पादन में कमी आई है. इससे कोयला की खपत भी कम हो गई है. अब खादानों में कोयला पड़ा हुआ है. ज्यादा कोयला इकट्ठा होने से आग लगने का भी ख़तरा है.

वो बताते हैं,"अभी कोयला की ढुलाई में थोड़ी राहत तो मिली है लेकिन अब समस्या यह है कि ड्राइवर के घर वाले डर के मारे उन्हें काम पर नहीं लौटने दे रहे."इमेज कॉपीरइटGetty Imagesट्रासपोर्टिंग के काम में लगे हुए लोगों के इस डर पर नवीन कुमार गुप्ता कहते हैं,"स्वास्थ्य क्षेत्र में लगे लोगों को जिस तरह से बीमा की सुविधाएं दी जा रही हैं, उसी तरह से इन लोगों की भी सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने की सरकार से मांग की गई है ताकि इनके परिवार के लोग भी थोड़ी राहत महसूस करे और ड्राइवर काम पर लौट पाए."

वो बताते हैं कि तमाम ट्रांसपोटर्स को सैनिटाइज़ेशन और क्या-क्या ऐहतियाती क़दम उठाने हैं, इसे लेकर गाइडलाइन जारी की गई है.सरकार से उनकी क्या मांगें हैं, जिनसे लॉकडाउन से बुरी तरह से प्रभावित ट्रांसपोर्ट सेक्टर को आसानी से निकला जा सके.इस पर वो बताते हैं,"सरकार ने ईएमआई 30 जून तक के लिए टाल दी है. परमिट, फिटनेस और डीएल वैलिडिटी भी 30 जून तक बढ़ाई है. 21 अप्रैल तक इंश्यूरेंस बढ़ाई है. गुड्स टैक्स, मोटर वेहिकल टैक्स, रोड टैक्स पर कोई तवज्जो अभी नहीं है. यह राज्य सरकारों के अधिन आने वाले मुद्दे हैं. जिसका 1 अप्रैल से बाक़ी है, उसे तो देना ही पड़ा. ईएमआई भी 30 जून के बाद देनी पड़ेगी और उसका ब्याज भी देना पड़ेगा. फिटनेस फीस, परमीट फीस भी देनी पड़ेगी. ये सारे टैक्स और फीस आपको एडवांस में देने होते हैं. ऐसा नहीं है कि 30 जून तक स्थिति इतनी सुधर जाएगी कि वो सारे टैक्स उस वक़्त एडवांस में दे भी दे और बचत भी कर ले."

और पढो: BBC News Hindi »

सामानो की लोडिंग/अनलोडिंग समस्या है साथ है लंबी दूरी की यात्रा में ढाबा पर निर्भरता इनकी सबसे बड़ी मुसीबत है Hotels bandh hone se khana nahi mil raha hain opper se police ki pressure

कोरोना लॉकडाउन: दुबई में शराब की होम डिलीवरी की पेशकश, तलाक और निकाह स्थगितकोरोना वायरस संक्रमण के बाद दुबई के बीयर बारों में पसरे सन्नाटे के बाद के दो प्रमुख शराब वितरकों ने बीयर और शराब की घर Wine ki home delivery ke sath food bhi de dete to achchha hota

GOLD और आभूषण की मांग पर लॉकडाउन का कहर, डिमांड 30 फीसद घटने की है संभावनाइंडियन चैंबर आफ कॉमर्स (ICC) ने गुरुवार को कहा कि आभूषण उद्योग की मांग काफी हद तक शादी-ब्याह के सीजन पर टिकी होती है।

तहसीलदार पिटाई मामले में बढ़ीं BJP सांसद की मुश्किलें, एक्शन की तैयारी में पुलिसउत्तर प्रदेश के कन्नौज में सदर तहसीलदार सांसद सुब्रत पाठक के खिलाफ अब पुलिस आगे कार्रवाई करने का मन बना रही है. तहसीलदार से मारपीट के मामले की सीओ सिटी ने जांच शुरू कर दी है. ऐसे में स्थानीय प्रशासन लोकसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर सांसद के खिलाफ कार्रवाई की अनुमति मांगने पर विचार कर रहा है. ShivendraAajTak 25 करोड़ ड्राइवरों के नाम से भीक फन जमा करके आज तक कोई ड्राइवर को ₹1 तक मदद नहीं हुई उल्टा उन्हीं के हर 1/ड्राइवर के 3000,, तक डिपॉजिट किए गए मुंबई मदद करो ड्राइवरों की जय महाराष्ट्र 8108136213ओला क्यांब कंपनी ShivendraAajTak जोश में होश नही खोना चाहिए ShivendraAajTak पुलिस की गरीबों& कमजोरो पर पडने वाली दनादन लाठियां दबंग,,,गुंडों,,बदमाशों,,नेताओं के आगे पता नही कहां घुस जाती है बिना तेल लगाकर

लॉकडाउन में लीजिए मोदी सरकार की ये 3 स्कीम, जीवनभर नहीं रहेगी टेंशन - Business AajTakलॉकडाउन की वजह से आम लोगों का ​जनजीवन ठप पड़ा है. इस दौरान आप घर में रहकर सुरक्षित भविष्य के बारे में सोच सकते हैं. इसके लिए आज हम कोरोना के मरीजों में 80% शांतिदूत है,PM सहायता कोष में दान देने वाले 98% हिंदू ' कमाए धोती वाला , खाये टोपी वाला' 😊 ग्रीन_कोरोना_वायरस Ab or kitna Pgl bana hai apni maa ke liye jaroor yah video dekho aur share karo whats up twitter facebook par ek bar jaroor dekho

लॉकडाउन के बीच UP में खुल सकती हैं मीट की दुकानें, सशर्त इजाजत देगी सरकारउत्तर प्रदेश में राज्य सरकार जल्द ही मीट की दुकानें खोलने की इजाजत दे सकती है. लॉकडाउन के कारण अभी तक इन दुकानों को भी बंद रखने का आदेश दिया गया था. ShivendraAajTak ShivendraAajTak Abhi band hi rahe to acha hai ShivendraAajTak योगी जी हैं तो मुमकिन है

लॉकडाउन में गुड न्यूज, इस वेबसाइट ने लॉन्च की टू डेज डिलीवरी सर्विसऐसे में लोगों को घर से बाहर निकलने की कोई जरूरत नहीं है। इसी बीच शॉपक्लूज (ShopClues) ने टू डेज डिलीवरी सेवा पेश की है जिसके ShopClues bewkoof bna rhe.. koi offer nhi hai Customers tak daily essentials, packaged food aur immunity boosters jaisi items ko provide ki jaaney ki anumati mili hui hai. Hum yeh products Delhi aur Gurugram tak 2 din mein pohoncha rahe hai. Kripya neeche di gayi link to follow kar order place karey:

जब सब कुछ रामभरोसे ही छोड़ना था, तो तालाबंदी कर अर्थव्यवस्था की रीढ़ क्यों तोड़ी...? NDTV से बोले नितिन गडकरी- देश संकट में है, अभी राजनीति करने का समय नहीं पुरी के जगन्नाथ मंदिर में देवस्नान के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, पुजारियों ने मास्क भी नहीं पहना - देखें VIDEO कोरोना वायरस: दुनिया भर में 65.6 लाख से ज़्यादा संक्रमित, 3.87 लाख लोगों की मौत - BBC Hindi राहुल ने फिर लॉकडाउन को बताया फेल, कहा- राज्यों को उनके हाल पर छोड़ रहा केंद्र George Floyd की मौत पर डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी टिफनी ने किया प्रदर्शनकारियों का समर्थन, शेयर की ये पोस्ट RS चुनाव: गुजरात में दो कांग्रेसी विधायकों के इस्‍तीफे से बीजेपी की बल्‍ले-बल्‍ले, कांग्रेस के सामने है यह उलझन.. Covid-19 से महज 4 दिनों में 900 लोगों की मौत: आकंड़ों में देखिए, भारत में कितनी तेजी से बढ़ रहा है कोरोना शामली: एक को गिरफ्तार करने गई पुलिस ने 35 मुस्लिम घरों में तोड़फोड़ व मारपीट की Coronavirus की जद में AIIMS, डॉक्टर-नर्सिंग स्टाफ समेत 480 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव, अब तक 3 की मौत कोरोना अपडेटः जॉर्ज फ़्लॉयड को कोरोना संक्रमण भी हुआ था - BBC Hindi