Covid Misreporting, Covid Deaths İn India, Corona Deaths Hike, Daily Corona Deaths, Health Ministry, Corona Deaths İn India

Covid Misreporting, Covid Deaths İn India

कोरोना से हुई मौतों के आंकड़े छिपाने और कम केस रिपोर्ट का आरोप! सरकार ने उठाया ये कदम

हाल ही में कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में भारत में कोविड के कारण होने वाली मौतों की गलत रिपोर्टिंग और दैनिक मौतों की संख्या में अचानक वृद्धि का आरोप लगाया गया था.

11-06-2021 20:57:00

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नियमित रूप से जिलेवार कोरोना केसों और मौतों की दैनिक आधार पर निगरानी के लिए एक मजबूत रिपोर्टिंग तंत्र की आवश्यकता पर जोर दिया (ashokasinghal2 , Milan_reports )

हाल ही में कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में भारत में कोविड के कारण होने वाली मौतों की गलत रिपोर्टिंग और दैनिक मौतों की संख्या में अचानक वृद्धि का आरोप लगाया गया था.

अशोक सिंघल/मिलन शर्मानई दिल्ली ,(अपडेटेड 11 जून 2021, 11:24 PM IST)स्टोरी हाइलाइट्सजिलेवार कोरोना केसों और मौतों की दैनिक आधार पर होगी निगरानीबनाया जाएगा एक मजबूत रिपोर्टिंग तंत्रमौतों के आंकड़े छिपाने का आरोपकोरोना संकट के बीच मौतों के आंकड़े छिपाने और कम केसों को रिपोर्ट के आरोप सरकार पर लगे हैं. इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नियमित रूप से जिलेवार कोरोना केसों और मौतों की दैनिक आधार पर निगरानी के लिए एक मजबूत रिपोर्टिंग तंत्र की आवश्यकता पर जोर दिया है. राज्यों को सलाह दी गई है कि वे निर्धारित दिशानिर्देशों के अनुसार कोविड से होने वाली मौतों को रिपोर्ट करें.

उत्तर कोरियाः किम जोंग उन की बहन ने अमेरिका को चेताया, वो नहीं समझ रहा बात - BBC Hindi योगी आदित्यनाथ के केशव मौर्य के घर जाने से क्या बदले समीकरण? - BBC Hindi Haryana CM, Manohar Lal says, farmers with factual knowledge about farm laws should spread awareness among peer groups

गौरतलब है कि जिसके बाद मंत्रालय ने यह स्पष्ट किया है कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने ही 10 जून 2021 को कुल 6148 मौतों की सूचना दी थी. मौतों में यह वृद्धि उस तारीख को बिहार सरकार द्वारा रिपोर्ट की गई 3971 मौतों के कारण हुई थी.मई 2020 की शुरुआत में, रिपोर्ट की जा रही मौतों की संख्या में विसंगति या भ्रम से बचने के लिए, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने राज्यों द्वारा मौतों की सही रिकॉर्डिंग के लिए दिशा निर्देश जारी किये. ICMR ने मृत्यु दर कोडिंग के लिए WHO द्वारा प्रमाणित ICD-10 कोड के अनुसार मौतों की रिकॉर्डिंग करने के लिए कहा है.

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कई बार औपचारिक तरीके से, कई वीडियो कॉन्फ्रेंस और निर्धारित दिशानिर्देशों के अनुसार मौतों की रिकॉर्डिंग के लिए केंद्रीय टीमों की तैनाती के माध्यम से सलाह दी गई है.स्वास्थ्य मंत्रालय ने रोजाना जिलेवार कोरोना केसों और कोरोना से हुई मौतों की निगरानी के लिए एक मजबूत रिपोर्टिंग तंत्र की आवश्यकता पर जोर दिया. इस मामले में केंद्र सरकार ने बिहार राज्य को पत्र लिखकर कुल मौतों की संख्या का जिलावार ब्यौरा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को देने को कहा है. headtopics.com

Live TV और पढो: आज तक »

Superfast India: BRO ने 1 साल में किया 5 साल का काम, देखें Khabardar

पिछले एक साल में हमने चीन की नीयत देख ली, चीन की फितरत देख ली. लेकिन भारत की ताकत भी सबने देखी. फिर चाहे बात बॉर्डर पर आमने-सामने के टकराव की हो या फिर सेना को मजबूत बनाने की हो, या फिर चीन के खिलाफ हमेशा तैयारी करते रहने की सोच की हो, भारत ने कभी अपनी तैयारियों में कोई कमी नहीं की. भारत ने इस एक साल में सबसे ज़्यादा उन बातों पर ध्यान दिया, जो चीन के सामने हमेशा हमारी कमज़ोरी रही. जैसे बॉर्डर के इलाकों में इंफ्रास्ट्रक्चर का चीन के मुकाबले कमज़ोर होना. चीन हमेशा इस कोशिश में रहता था कि बॉर्डर पर भारत अपने इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत ना कर पाए. क्योंकि उसे डर था कि इससे भारत का रणनीतिक दबदबा बढ़ जाएगा. इसी वजह से उसने पहले डोकलाम और फिर पिछले साल गलवान से लेकर लद्दाख बॉर्डर पर टकराव किया. ये टकराव आज भी खत्म नहीं हुआ, लेकिन एक साल में बॉर्डर पर खेल पूरी तरह से पलट गया है. भारत ने सुपर फास्ट स्पीड में इंफ्रास्ट्रक्चर को तैयार किया है. सड़कें बनाई हैं, पुल बनाए हैं, रणनीतिक रास्ते तैयार किए हैं. और ये सब चीन के बड़े चैलेंज के बीच किया गया जो अपने आप में चीन के लिए करारा जवाब है. देखें खबरदार.

बिहार: समीक्षा के बाद बढ़ी कोविड-19 मौतों की संख्या, 5458 से बढ़कर 9429 हुईसंक्रमण और मौतों के आंकड़े छिपाने के आरोप लगने के बाद पिछले महीने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पटना हाईकोर्ट ने नीतीश कुमार सरकार से महामारी की दूसरी लहर के दौरान गांवों में कोविड-19 से हुईं मौतों का हिसाब देने को कहा था. न्यायालय ने ज़िलावार मौतों के आंकड़े भी पेश करने को कहा था.

नीतीश सरकार के चलते बदनाम हुआ भारत, छिपाया कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ाबिहार सरकार ने कोरोना से होने वाली मौतों के आंकड़े को अचानक बदल दिया है। इसको लेकर पूरी दुनिया में भारत की बदनामी हो रही है। सरकार का कहना है कि अभी आंकड़ा और भी बढ़ सकता है।

उत्तराखंड: हाईकोर्ट का आदेश, राज्य में कोविड की दूसरी लहर में हुई मौतों का ऑडिट करे सरकारहाईकोर्ट ने राज्य सरकार से कहा कि सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध वेंटिलेटर और आईसीयू उपकरणों का ऑडिट कराया जाए ताकि पता चल सके कि कितने वेंटिलेटर और उपकरण इस्तेमाल नहीं हुए और इसकी क्या वजह है. अदालत ने सरकार से कोविड जांच में कथित अनियमितताओं पर भी रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है.

बिहार: कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा बदला, 9000 से अधिक हुईं मौतें - BBC Hindiबिहार में कोविड की पहली और दूसरी लहर में वायरस संक्रमण के कारण 9 जून तक 9429 मौतें हो चुकी हैं. प्रेमियों गणित के सवाल, अगर 3 एयरपोर्ट बेचकर 6 MLA खरीदे गये तो 22 MLA खरीदने के लिए कितने एयरपोर्ट बेचने पड़ेंगे TomarRepealOnlySolution It like at sabji ki dukan...are bhai thik thik laga lo अभी भी कम ही है

कानपुर सड़क हादसा: 18 मौतों के आंसू अभी सूखे भी नहीं कि परिजनों के सामने आया ये सच, बताया कैसे गईं जानेंकानपुर सड़क हादसा: 18 मौतों के आंसू अभी सूखे भी नहीं कि परिजनों के सामने आया ये सच, बताया कैसे गईं जानें KanpurAccident 18deaths

कोरोना के नए केस 91 हजार, लेकिन मौतों का आंकड़ा फिर बढ़ा, 24 घंटे में 3400 मौतेंCorona in india daily updates: गुरुवार को 1,34,580 कोरोना मरीज ठीक होने के बाद डिस्चार्ज हो गए, जसके बाद देश में कोरोना को हराने वाले लोगों की संख्या 2,77,90,073 हो गई. वर्तमान में देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की कुल संख्या 11,21,671 है. पूरी दुनिया को इस चीनी वायरस से एकजुट होकर लड़ना होगा