कोरोना के चलते इन देशों की अर्थव्यवस्था डूबने के कगार पर

कोरोना संकट: अमरीकी देशों की अर्थव्यवस्था बदहाली की शिकार

22-05-2020 19:38:00

कोरोना संकट: अमरीकी देशों की अर्थव्यवस्था बदहाली की शिकार

सेंट्रल अमरीकी देशों की अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन का बहुत बुरा असर हुआ है.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

अफसर पर चप्पल बरसाती रहीं BJP नेता, मूक दर्शक बनी रही पुलिस BJP नेता सोनाली फोगाट ने अफसर को जड़ा थप्पड़, बरसाई चप्पल, वीडियो वायरल हथिनी की मौत: गिरफ़्तार अभियुक्त ने कहा- विस्फोटक नारियल में था

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

Video: TikTok स्टार और BJP नेता सोनाली फोगाट की दबंगई, अफसर पर बरसाई चप्पल आज तक @aajtak यूपी में बेहाल किसान, खेतों में मिट्टी के मोल बिक रहीं सब्जियां

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ा रही थी महिला टीचर, उठाई 1 करोड़ सैलरी, जांच शुरू कोरोना संकट के बीच पत्रकारों पर मीडिया हाउस गिरा रहे हैं गाज ट्रंप ने जॉर्ज फ्लॉयड को दी श्रद्धांजलि तो ट्विटर ने कॉपीराइट का हवाला देकर हटाया वीडियो

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

पर अमेरिकन हेंठा तो जदभी कमाया 32लाख करोड़ मोदी सरकार ऐतिहाति कदम लाॅकडाउन में 12 करोड़ सनातन के लिए कभी नहीं उठे! जब लगा 90% सनातन ठिकाने लग लिया तो रेल नाटक शुरू हुआ! सनातन याद रखें यदि यह पलायन न होता दास को आज नहीं कहना पड़ता ग्रोथ निगेटिव रहनी! India is welcoming you Aaja o... Aaja chinaa se koronaa nikalaa to sabhi desho ki gupachar yantranaye soi thi kyaa ? e sabse bada sawal hi

तुम्हारे देश की भी घंटा बढिय़ा नहीं है, मगर तुम्हें भारत पर अपना ऐजेंडा चलाने से फुर्सत मिले तो देख पाओ। Venuazla banega phla shikar

ICMR की नई गाइडलाइन- कोरोना से मरे लोगों के शवों की चीरफाड़ की जरुरत नहींआईसीएमआर के निर्देश के अनुसार, कोरोना से मरने वाले लोगों के शवों के साथ फॉरेंसिक पोस्टमार्ट्म के लिए चीर-फाड़ करने वाली तकनीक का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे मुर्दाघर के कर्मचारियों के ज्यादा सावधानी बरतने के बावजूद शरीर में मौजूद द्रव या किसी तरह के स्राव के संपर्क में आने से, इस महामारी की चपेट में आने का खतरा बना रहता है. पंकज पूनिया को करनाल पुलिस ने गिरफ्तार किया *** अब योगी पुलिस उसको लखनऊ लाकर गर्म तेल की कढाई में तलेगी.. गरमा - गरम कुरकुरे 😹😹

कोरोना: बाहरी लोगों की जानकारी देने पर इनाम, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के लिए पुलिस की तरकीबReporterRavish

बिहार में कोरोना के 226 नए मामले, संक्रमितों की संख्या हुई 1987, 10 लोगों की मौतBihar Coronavirus LIVE News Updates, Bihar Corona Cases District-Wise Today News Update: पिछले 24 घंटे में राज्य में 37 लोग कोरोना से स्वस्थ भी हुए हैं। अब तक राज्य में कुल 571 लोग कोरोना संक्रमण से ठीक होकर घर लौट चुके हैं।

कोरोना संकट के बीच डॉक्टरों और नर्सों के संगठन ने केंद्र सरकार के खिलाफ खोला मोर्चाकेन्द्र सरकार ने अपने एक आदेश में मेडिकल कर्मचारियों के लिए क्वारंटीन रहने की अनिवार्यता खत्म कर दी है। जिसके खिलाफ डॉक्टरों और नर्सों के संगठन ने अपना विरोध दर्ज कराया है।

कोरोना अपडेट: चीन में शायद बदल रहा है कोरोना वायरस - BBC Hindiभारतीय रेलवे ने 1 जून से चलने वाली 200 ट्रेनों का शेड्यूल जारी कर दिया है. इन ट्रेनों में जनरल कोच में भी रिज़र्वेशन हो सकेगा. P.C. Getty Images देश को इस महामारी ने जिस तरह से चपेट में लिया हुआ है.... क्या पब्लिक ट्रांसपोर्ट खोलने पर ये संक्रमण और नहीं बढ़ेगा? योगी_मोदी_मजदूरों_के_दुश्मन RT ONLY aimim_national OsamaShaikhIND ARajesh_SP Deepakkhatri812

फैक्ट चेक: सालों पुरानी तस्वीर जी न्यूज के कोरोना पॉजिटिव कर्मचारी की बताकर वायरलइंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम ने पाया कि वायरल हो रही तस्वीर करीब आठ साल पुरानी है और इसका कोरोना वायरस से कोई लेना-देना नहीं है (Ami_Amanpreet) coronavirus CoronaVirusFacts Ami_Amanpreet Iss pr dangl kb hoga Mehmano ko puri mehman nwaji dete h Lekin dene wale ko kuch ni milta or lene wala lejata h Ami_Amanpreet Koi kam nhie he... Ami_Amanpreet What else can you expect from aajtak journalist. Thanks to them , they have coloured all roads in red color by spitting here and there.

जब सब कुछ रामभरोसे ही छोड़ना था, तो तालाबंदी कर अर्थव्यवस्था की रीढ़ क्यों तोड़ी...? राहुल ने फिर लॉकडाउन को बताया फेल, कहा- राज्यों को उनके हाल पर छोड़ रहा केंद्र शामली: एक को गिरफ्तार करने गई पुलिस ने 35 मुस्लिम घरों में तोड़फोड़ व मारपीट की NDTV से बोले नितिन गडकरी- देश संकट में है, अभी राजनीति करने का समय नहीं पुरी के जगन्नाथ मंदिर में देवस्नान के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, पुजारियों ने मास्क भी नहीं पहना - देखें VIDEO मोदी सरकार पर सिब्बल का वार, कहा- आत्मनिर्भर भारत अभियान एक और जुमला कोरोना वायरस: दुनिया भर में 65.6 लाख से ज़्यादा संक्रमित, 3.87 लाख लोगों की मौत - BBC Hindi एटलस साइकिल ने बंद किया आख़िरी कारखाना, हज़ार के क़रीब कर्मचारी बेरोज़गार George Floyd की मौत पर डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी टिफनी ने किया प्रदर्शनकारियों का समर्थन, शेयर की ये पोस्ट सीएए: प्रदर्शनकारियों को दिल्ली दंगों से जुड़े मामलों में गिरफ़्तारी पर सांसदों ने उठाई आवाज़ RS चुनाव: गुजरात में दो कांग्रेसी विधायकों के इस्‍तीफे से बीजेपी की बल्‍ले-बल्‍ले, कांग्रेस के सामने है यह उलझन..