Coronaviruspandemic, Coronavaccines, Covıd 19, एशिया, कोरोना वायरस, कोविड-19, टीका, वैक्सीन, सीरम इंस्टीट्यूट, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी

Coronaviruspandemic, Coronavaccines

कोरोना वायरस के टीके के मामले में आगे रहना चाहता है भारत | DW | 20.05.2020

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की एक संभावित वैक्सीन का भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया बड़े स्तर पर निर्माण शुरु कर चुकी है. सीईओ आदर पूनावाला से डीडब्ल्यू ने पूछा कि कितनी जल्दी कोविड-19 का टीका तैयार होने की उम्मीद है.

21-05-2020 09:59:00

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की एक संभावित वैक्सीन का भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया बड़े स्तर पर निर्माण शुरु कर चुकी है. आखिर कितनी जल्दी कोविड-19 का टीका तैयार होने की उम्मीद है. CoronavirusPandemic coronavaccines COVID19

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की एक संभावित वैक्सीन का भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया बड़े स्तर पर निर्माण शुरु कर चुकी है. सीईओ आदर पूनावाला से डीडब्ल्यू ने पूछा कि कितनी जल्दी कोविड-19 का टीका तैयार होने की उम्मीद है.

ऑक्सफोर्ड के रिसर्चरों ने अप्रैल में अपने कैंडिडेट वैक्सीन"ChAdOx1 nCoV-19" का परीक्षण 1,110 लोगों पर शुरु किया. इन लोगों पर हुए ट्रायल के नतीजों से पता चलेगा कि टीका कितना असरदार है और क्या इसके कोई दुष्प्रभाव भी हैं. डीडब्ल्यू के साथ बातचीत में पूनावाला ने उम्मीद जताई कि वैक्सीन के निर्माण में भारत एक निर्णायक भूमिका निभाएगा. ट्रायल सफल रहा तो अक्टूबर तक कंपनी 4 करोड़ टीके तैयार कर लेगी. महाराष्ट्र के पुणे में स्थित सीरम इंस्टीट्यूट हर साल 1.5 अरब वैक्सीन डोज का निर्माण करता है. कंपनी फिलहाल 165 देशों के लिए करीब 20 तरह के टीके बनाती है.

डोनाल्ड ट्रंप भारत-चीन सीमा विवाद पर मध्यस्थता के लिए तैयार नक्‍शा विवाद पर नेपाल ने पीछे खींचे कदम, संविधान में संशोधन का प्रस्‍ताव टाला अहमदाबाद से बिहार लौटी महिला की मौत, वजह पता नहीं

आदर पूनावाला, सीईओ, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियाडीडब्ल्यू: ट्रायल पूरा होने से पहले ही सीरम इंस्टीट्यूट ने ऑक्सफोर्ड वैक्सीन कैंडिडेट का निर्माण क्यों शुरु कर दिया?आदर पूनावाला:यह फैसला इसलिए लिया गया ताकि हम मैनुफैक्चरिंग में आगे रहें और पर्याप्त डोज उपलब्ध कराए जा सकें. इनका वितरण ट्रायल के सफल होने के बाद ही शुरु होगा और जब यह साबित हो चुका होगा कि वैक्सीन असरदार है और इस्तेमाल के लिए सुरक्षित है.

हम इसी महीने (मई से) भारत में खुद भी अपने ह्यूमन ट्रायल करवा रहे हैं. शुरुआती परीक्षणों का फोकस यह सुनिश्चित करने पर है कि क्या वैक्सीन काम करती है, इम्यून सिस्टम को अच्छी प्रतिक्रिया देने के लिए प्रेरित करती है और इसके कोई बड़े साइड इफेक्ट तो नहीं हैं. 

आपको ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के सफल होने का कितना भरोसा है?पूरी दुनिया में बायोटेक और रिसर्च टीमें इस समय 100 से भी अधिक संभावित कोविड-19 कैंडिडेट वैक्सीन विकसित करने में लगी हैं. इनमें से कम से कम 6 का प्रारंभिक टेस्ट इंसानों पर शुरु हो चुका है, जिन्हें फेज 1 क्लीनिकल ट्रायल कहा जाता है. वैसे तो"ChAdOx1 nCoV-19" कहे जाने वाले ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को अब तक कोविड-19 के संक्रमण से बचाने में प्रभावी साबित नहीं किया गया है, लेकिन प्रीक्लीनिकल ट्रायल फेज में अच्छे नतीजे दिखाने और ह्यूमन ट्रायल फेज में बढ़ने के समय ही सीरम में हमने इसका निर्माण शुरु करने का फैसला लिया. इसके कई संकेत मिले हैं कि ऑक्सफोर्ड द्वारा विकसित टीका अच्छा है. इस वैक्सीन की तकनीक पहले सफल रही है और हमें आशा है कि यह सुरक्षित भी होगी. हमें ज्यादा से ज्यादा लोगों को क्लीनिकल ट्रायल में शामिल करने की जरूरत है ताकि टीके के असर को साबित किया जा सके. लेकिन इतनी जल्दी वैक्सीन के लिए एक संभावित कैंडिडेट मिलना ही अपने आप में खुशी की बात है.

अगर हम जल्दी से जल्दी एक टीका बना भी लेते हैं, क्या आपको लगता है कि उसके अरबों डोज तैयार करना एक चुनौती होगा?फिलहाल यह कहना जल्दबाजी होगी कि बाकी के निर्माता तब क्या करेंगे लेकिन हम इसकी कीमत कम ही रखेंगे. हमने प्रति माह 40 से 50 लाख डोज के निर्माण का लक्ष्य रखा है. ट्रायल सफल रहे तो इसके बाद हम अपनी क्षमता को बढ़ाकर प्रति माह एक करोड़ डोज के निर्माण तक ले जाना चाहते हैं. सितंबर-अक्टूबर तक हम प्रति माह 2 से 4 करोड़ डोज का निर्माण करने का अनुमान लगा रहे हैं. ट्रायल सफल रहे तो हम अपने उत्पाद भारत के अलावा जितने देशों में संभव हो वहां भेजना चाहेंगे. अपनी वैक्सीन को हम करीब 12 यूरो (13 अमेरिकी डॉलर) प्रति डोज की कीमत पर बेचना चाहेंगे. क्लीनिकल ट्रायल के लिए हम इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च के साथ साझेदारी कर रहे हैं और बायोटेक्नोलॉजी विभाग के साथ भी संपर्क में हैं. यह फैसला मैं भारत सरकार पर ही छोड़ता हूं कि वे किस देश को, कब और कितने टीके उपलब्ध कराएंगे. 

और पढो: DW Hindi »

great👍

मुंबई के बांद्रा स्टेशन के बाहर मजदूरों का जमावड़ा, अफरा-तफरी का माहौलक्या लामा की एंटीबॉडीज कोरोना संक्रमण से बचा पाएगी देखिए पूरी जानकारी👇👇👇👇👇👇 Stop to them. modia which is busy counting 1000 buses n target MamataOfficial for allegedly 'not allowing', will Q now that what happened to 1000 trains ready daily? will they now question bihar? or just as usual reporter spin gave, WB wale aa jate hai bihar n up ki train ke liye

VIDEO: योगी के दफ्तर का दावा- प्रियंका की बसों की लिस्ट में बाइक, कार!उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने दावा किया है कि कांग्रेस ने राज्य सरकार को जो बसों की लिस्ट दी है, उसमें कई नंबर तिपहिया वाहन, मोटरसाइकिल और कार के हैं. सीएम के सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने इसकी लिस्ट भी जारी की है.बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी सरकार को मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए कांग्रेस की ओर से 1000 बसें देने की पेशकश की थी. इसे सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वीकार कर लिया था और प्रियंका गांधी को बसों की लिस्ट राज्य सरकार को सौंपने को कहा था. देखें ये रिपोर्ट. केंद्र ओर राज्य सरकार से निवेदन है बच्चों के टीकाकरण की ओर भी ध्यान दिया जाना चाहिए कहीं ऐसा ना हो covid-19 से बचे शिशु अन्य बीमारियों से न हर जाए। सहारनपुर देवबंद BCG heptaites पोलियो PMOIndia narendramodi drharshvardhan myogiadityanath AtulGargBJP CMOfficeUP Shame congress Which is better... Follow me🙋

कोरोना: ट्रंप की चेतावनी का असर, WHO के भूमिका की होगी जांचबाकी यूरोप न्यूज़: चीन की लाख कोशिशों के बावजूद कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर डब्लूएचओ (World Health Organization) की भूमिका की जांच को मंजूरी मिल गई है। बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) कई बार खुलेआम इस वैश्विक महामारी को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की आलोचना कर चुके हैं। मंगलवार को डब्लूएचओ के सदस्य देशों ने भी इस जांच को मंजूरी दे दी। बता दें कि इस प्रस्ताव को यूरोपीय यूनियन ने पेश किया था। बहुत पहले होनी चाहिए थी Dam hai bande me..

ICMR की नई गाइडलाइन- कोरोना से मरे लोगों के शवों की चीरफाड़ की जरुरत नहींआईसीएमआर के निर्देश के अनुसार, कोरोना से मरने वाले लोगों के शवों के साथ फॉरेंसिक पोस्टमार्ट्म के लिए चीर-फाड़ करने वाली तकनीक का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे मुर्दाघर के कर्मचारियों के ज्यादा सावधानी बरतने के बावजूद शरीर में मौजूद द्रव या किसी तरह के स्राव के संपर्क में आने से, इस महामारी की चपेट में आने का खतरा बना रहता है. पंकज पूनिया को करनाल पुलिस ने गिरफ्तार किया *** अब योगी पुलिस उसको लखनऊ लाकर गर्म तेल की कढाई में तलेगी.. गरमा - गरम कुरकुरे 😹😹

कोरोना: मैप में देखिए कहाँ-कहाँ फैल रहा है वायरस और क्या है मौत का आँकड़ानक्शे में देखिए दुनियाभर में कोहराम मचाने वाले कोरोना वायरस के मरीज़ कहाँ-कहाँ कितनी संख्या में हैं. Yahi post kr deta map 😏 ab map dekhne ke liye tumhare site pe jaaye

कनाडा में फेसबुक पर लगा लाखों का जुर्माना, निजी डाटा बेचने का है आरोपकनाडा में सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक पर लाखों रुपये का जुर्माना लगाया गया है। कंपनी पर लोगों का निजी डाटा थर्ड पार्टी ये भारत k लोगों का भी डाटा बेंचता होगा

योगी आदित्यनाथ का वो बयान जिस पर मच रहा है सियासी घमासान राहुल गांधी का वार- पीएम ने पहले फ्रंटफुट पर खेला, लेकिन अब बैकफुट पर हैं '2021 की शुरुआत में मिलेगा कोविड-19 का टीका', राहुल गांधी से चर्चा में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर का दावा - BBC Hindi कोरोना अपटडेटः भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के क़रीब, अकेले महाराष्ट्र में 52 हज़ार से ज़्यादा मामले - BBC Hindi युद्ध की तैयारी में चीन! राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सेना को तैयार रहने के दिए आदेश ‘कोरोना आपदा को बदला लेने का अवसर मान रही मोदी सरकार’: छात्र नेताओं ने लगाया आरोप संकट में प्रवासी मजदूर: भूख-प्यास से बेहाल मां की स्टेशन पर ही मौत, जगाने की कोशिश करता रहा बच्चा 'पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है'..कहने वाली शिक्षिका ने मांगी माफी अभिजीत बनर्जी की सलाह- प्रत्येक भारतीय को 1000 रुपये हर महीने दे सरकार ट्विटर ने पहली बार राष्ट्रपति ट्रंप के ट्वीट को झूठा बताया कांग्रेस का आरोप- यूपी में दलितों-पिछड़ों को निशाना बना रही योगी सरकार