Jammukashmir, Article 370, Kashmirlockdown, Ias, Kannangopinathan, Shahfaesal, जम्मूकश्मीर, अनुच्छेद370, कश्मीरबंद, आईएएस, कन्ननगोपीनाथन, शाहफैसल

Jammukashmir, Article 370

केरल कैडर के आईएएस अधिकारी ने दिया इस्तीफ़ा, कहा- जम्मू कश्मीर में अघोषित आपातकाल

केरल कैडर के आईएएस अधिकारी ने दिया इस्तीफ़ा, कहा- जम्मू कश्मीर में अघोषित आपातकाल #JammuKashmir #Article370 #KashmirLockdown #IAS #KannanGopinathan #ShahFaesal #जम्मूकश्मीर #अनुच्छेद370 #कश्मीरबंद #आईएएस #कन्ननगोपीनाथन #शाहफैसल

25.8.2019

केरल कैडर के आईएएस अधिकारी ने दिया इस्तीफ़ा, कहा- जम्मू कश्मीर में अघोषित आपातकाल JammuKashmir Article370 KashmirLockdown IAS KannanGopinathan ShahFaesal जम्मूकश्मीर अनुच्छेद370 कश्मीरबंद आईएएस कन्ननगोपीनाथन शाहफैसल

केरल कैडर के आईएएस अधिकारी कन्नन गोपीनाथन ने कहा कि आज से बीस साल बाद अगर लोग मुझसे पूछेंगे कि जब देश के एक हिस्से में आभासी आपातकाल लगा दिया गया था तब आप क्या कर रहे थे तब कम से कम मैं यह कह सकूंगा कि मैंने आईएएस से इस्तीफ़ा दे दिया था.

जनवरी 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सिल्वासा दौरे के दौरान कन्नन गोपीनाथन (दाएं से दूसरे). (फोटो: फेसबुक) नई दिल्ली: भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के केरल कैडर के एक अधिकारी कन्नन गोपीनाथन जम्मू कश्मीर में लगे आभासी आपातकाल के खिलाफ बोलने के लिए देश में सबसे प्रतिष्ठित मानी जाने वाली अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया. बता दें कि, बीते 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों के बाद से वहां पर भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात हैं, चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बलों का पहरा है, संचार सेवाएं पूरी तरह से बंद हैं. द वायर से बात करते हुए गोपीनाथन ने कहा, ‘यह यमन नहीं है, यह 1970 के दशक का दौर नहीं है जिसमें आप पूरी जनता को मूल अधिकार देने से इनकार कर देंगे और कोई कुछ नहीं कहेगा.’ उन्होंने कहा, ‘एक पूरे क्षेत्र में सभी तरह के प्रतिबंधों को लगाकर उसे पूरी तरह से बंद किए हुए पूरे 20 दिन हो चुके हैं. मैं इस पर चुप नहीं बैठ सकता हूं चाहे खुल कर बोलने की आजादी के लिए मुझे आईएएस से ही इस्तीफा क्यों न देना पड़े और मैं वही करने जा रहा हूं.’ बता दें कि, 2012 में आईएएस में शामिल होने वाले गोपीनाथन अरुणाचल-गोआ-मिजोरम-केंद्र शासित प्रदेश कैडर से जुड़े हुए हैं. ऐसा हो सकता है कि उन्हें जम्मू कश्मीर भेजा जा सकता था जिसे एक केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है. इस समय वे दादर एवं नागर हवेली सरकार के साथ जुड़े हुए थे लेकिन 21 अगस्त बुधवार को उन्होंने अपना इस्तीफा दे दिया. गोपीनाथन ने कहा, ‘मैं सार्वजनिक तौर पर तब तक कुछ नहीं कहना चाहता था जब तक कि मेरा इस्तीफा स्वीकार नहीं हो जाता है. लेकिन यह बात तब लीक हो गई जब उनके साथियों ने यह सूचना केरल की मीडिया को बता दी जिनके साथ उन्होंने एक सोशल मीडिया ग्रुप में यह बात शेयर की थी.’ मिजोरम में तैनाती के दौरान कन्नन गोपीनाथन की एक तस्वीर. (फोटो: फेसबुक) वायर से बात करते हुए गोपीनाथन ने कहा, ‘बाहरी संकट या सशस्त्र विद्रोह होने पर संविधान आपातकाल लगाने (और स्वतंत्रता को निलंबित करने) की अनुमति देता है, लेकिन कश्मीर में, लोगों की स्वतंत्रता को इस आधार पर रोक दिया गया है कि यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो आंतरिक गड़बड़ी हो सकती है. 44वें संशोधन के बाद किसी भी मामले में आंतरिक गड़बड़ी को आधार बनाते हुए आपातकाल नहीं लगाया जा सकता है.’ उन्होंने कहा, ‘निश्चित तौर पर आपातकाल की तरह यहां पर कोई औपचारिक घोषणा नहीं की गई. सब कुछ आईएएस अधिकारियों के कार्यकारी आदेशों पर छोड़ दिया गया है. इसके साथ ही नागरिकों के न्यायिक सहायता मांगने पर रोक भले ही न लगी हो लेकिन अदालतें उन पर कार्यवाही करने को उत्सुक नहीं दिख रही है.’ गोपीनाथन खासतौर पर इस साल जनवरी में आईएएस से इस्तीफा देने वाले पूर्व आईएएस टॉपर शाह फैसल की गिरफ्तारी के तरीके को लेकर चिंतित हैं. इस मामले में 19 अगस्त को दिल्ली हाईकोर्ट में एक हैबियस कॉर्पस याचिका लगाई गई. ऐसी याचिकाओं पर तत्काल सुनवाई की जाती है लेकिन अदालत ने कहा कि वह इस मामले पर 3 सितंबर को सुनवाई करेगी. अधिकारी ने कहा कि पिछले कुछ समय से सिविल सेवा से मोहभंग होने के बाद भी कश्मीर की असामान्य स्थिति ने उन्हें यह कदम उठाने के लिए मजबूर कर दिया. उन्होंने कहा, ‘अगर मैं एक अखबार का मालिक हूं, तो कल मेरी हेडलाइन सिर्फ ’20’ शब्द होगी क्योंकि यह बीसवां दिन है जब कश्मीर के लोगों से उनकी स्वतंत्रता छीनकर उन पर इन प्रतिबंधों को लगा दिया गया है.’ आईएएस छोड़ने के बाद उनकी योजना के बारे में पूछे जाने पर गोपीनाथन ने कहा, ‘मैंने इतनी दूर का नहीं सोचा है. लेकिन आज से बीस साल बाद अगर लोग मुझसे पूछेंगे कि जब देश के एक हिस्से में आभासी आपातकाल लगा दिया गया था तब आप क्या कर रहे थे तब कम से कम मैं यह कह सकूंगा कि मैंने आईएएस से इस्तीफा दे दिया था.’ क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए और पढो: द वायर हिंदी

गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग की



दिल्ली में हिंसा फैलने की पूरी कहानी

बिहार विधानसभा में CAA-NPR-NRC को लेकर हंगामा, तेजस्वी यादव ने नागरिकता कानून को बताया 'काला कानून'



दिल्ली हिंसा पर अब आया दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान, कहा- लोगों को भड़काने वालों की हो पहचान

शांति बहाली के लिए केजरीवाल ने राजघाट पर की प्रार्थना, बोले- हिंसा पर पूरा देश चिंतित



रतन लाल: जो लौटकर घर नहीं आए....

बुखार से तप रहे थे रतन लाल, फिर भी उपद्रवियों के सामने डटे रहे, हुई मौत - trending clicks AajTak



रैपर का इतना बड़ा फैन कि गर्लफ्रेंड के पैर तक पर बनवा दिया टैटू, पहुंचा जेलपुलिस की पूछताछ में युवक ने खुलासा किया है कि रैप और सिंगर बनने के लिए उसने छीना-झपटी और हथियारों की तस्करी की. आरोपी युवक इंडियन आइडियल में भी जाने की कोशिश करने लगा.

2012 बैच के आईएएस अधिकारी कन्नन का इस्तीफा, कहा- अपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वापस चाहता हूं2012 बैच के आईएएस अधिकारी कन्नन का इस्तीफा, कहा- अपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वापस चाहता हूं IAS IAS KannanGopinathan PMOIndia BJP4India INCIndia shahfaesal

kannan gopinathan resigns: जम्‍मू-कश्‍मीर पर 'आवाज सुनी जाने के लिए' केरल के आईएएस ने दिया इस्‍तीफा - kerala ias kannan gopinathan resigns for voice heard on jammu and kashmir | Navbharat Timesराज्य की खबरें: अरुणाचल प्रदेश, गोवा, म‍िजोरम और केंद्र शासित प्रदेश काडर के वर्ष 2012 बैच के आईएएस अधिकारी कन्‍नन ने इस्‍तीफा दे दिया है। कन्‍नन केरल में गुमनाम तरीके से बाढ़ राहत कार्य करके चर्चा में आए थे। MujahedTanveer No problem

खेलमंत्री रिजिजू वाडा के फैसले से निराश, कहा- NDTL के निलंबन के खिलाफ करेंगे अपीलरिजिजू ने भारत की राष्ट्रीय डोप परीक्षण प्रयोगशाला को निलंबित करने के वाडा के फैसले पर निराशा जाहिर की है.

पूर्व भाजपाई CM के बेटे पर 5 FIR, करोड़ों के स्कैम के आरोपदरअसल, पूर्व सीएम के बेटे पर करोड़ों के चिटफंड घोटाले के आरोप हैं, जिसे अनमोल इंडिया नाम की एक कंपनी ने अंजाम दिया था।

जानिए अरुण जेटली के परिवार के सदस्यों के बारे में, क्या करते हैं उनके बच्चेअरुण जेटली (Arun Jaitley) की पत्नी (Wife) का नाम संगीता है, उनकी शादी साल 1982 को हुई थी. | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी



ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले

डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे

सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak

ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा

दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था

कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे

Delhi Violence: BJP सांसद गौतम गंभीर बोले- कपिल मिश्रा हो या कोई और, जो भड़काए वह नपे

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

25 अगस्त 2019, रविवार समाचार

पिछली खबर

निगमीकरण का विरोध कर रहे ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों के कर्मचारियों ने हड़ताल समाप्त की

अगली खबर

चित्रकथा: जम्मू कश्मीर में बीते तीन हफ़्तों का सूरत-ए-हाल बयां करती तस्वीरें
गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग की दिल्ली में हिंसा फैलने की पूरी कहानी बिहार विधानसभा में CAA-NPR-NRC को लेकर हंगामा, तेजस्वी यादव ने नागरिकता कानून को बताया 'काला कानून' दिल्ली हिंसा पर अब आया दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान, कहा- लोगों को भड़काने वालों की हो पहचान शांति बहाली के लिए केजरीवाल ने राजघाट पर की प्रार्थना, बोले- हिंसा पर पूरा देश चिंतित रतन लाल: जो लौटकर घर नहीं आए.... बुखार से तप रहे थे रतन लाल, फिर भी उपद्रवियों के सामने डटे रहे, हुई मौत - trending clicks AajTak दिल्ली हिंसा: कपिल मिश्रा के विवादित बयान पर गौतम गंभीर ने की तीखी टिप्पणी, दिया ये बयान आज दिल्ली लुभा नहीं रही, डरा रही है - जाफराबाद-मौजपुर की आंखों देखी कहानी, रिपोर्टर की ज़ुबानी अमरीका और भारत के बीच तीन अरब डॉलर का रक्षा समझौता आज तक @aajtak SC के 6 जज स्वाइन फ्लू की चपेट में, जस्टिस चंद्रचूड़ ने दी जानकारी
ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे Delhi Violence: BJP सांसद गौतम गंभीर बोले- कपिल मिश्रा हो या कोई और, जो भड़काए वह नपे CAA हिंसा पर बोले मनीष सिसोदिया- तीन दशक से दिल्ली में हूं, इतना डर कभी नहीं लगा दिल्ली हिंसा की चिदंबरम ने की निंदा, CAA को वापस लेने की मांग CAA और NRC पर भारत का समर्थन कर गए ट्रंप! BJP ने किया दावा ट्रंप के भारत आने से पहले दिल्ली को 'बंधक' बनाने की साजिश, पत्थरबाजी संयोग या प्रयोग? पति की पिटाई का दिया मेडल से जवाब, 8 साल बाद लिया पंगा; जीता देश के लिए मेडल