İndtagraminfluencer, Entrepreneur, Nehanagara İntsagram, Neha Nagar Bussinesswomen, İnstagram İnfluencer İn İndia, İnstagram İnfluencer 2021, Neha Nagar Motivational Story

İndtagraminfluencer, Entrepreneur

कामयाबी: सब मेरी शादी कराना चाहते थे, पर मुझे कुछ बड़ा करना था और अब बन गई हूं एंटरप्रेन्योर से इंस्टाग्राम इंफ्लुएंसर

कामयाबी: सब मेरी शादी कराना चाहते थे, पर मुझे कुछ बड़ा करना था और अब बन गई हूं एंटरप्रेन्योर से इंस्टाग्राम इंफ्लुएंसर #indtagraminfluencer #entrepreneur

23-10-2021 19:24:00

कामयाबी: सब मेरी शादी कराना चाहते थे, पर मुझे कुछ बड़ा करना था और अब बन गई हूं एंटरप्रेन्योर से इंस्टाग्राम इंफ्लुएंसर indtagraminfluencer entrepreneur

मुझे लगता है मेरा जन्म ही शादी के लिए हुआ था। 12-13 साल की हुई कि घर वालों से लोग बोलने लगे लड़की की शादी नहीं करोगे, इतनी बड़ी हो गई है। गांव जाती तो शादी, गली में निकलती तो शादी, किसी के पास बैठ जाती तो शादी...उफ्फ! हर जगह शादी पुराण सुनकर मैं थक गई थी। मुझे लगता कि क्या मेरी जिंदगी सिर्फ शादी के लिए ही है? मुझे कुछ बड़ा करना था पर क्या! यह नहीं समझ पा रही थी। ये शब्द हैं एंटरप्रेन्योर से इंस्टा... | नेहा नागर बचपन से शादी पुराण से परेशान थीं। सब उनकी शादी के पीछे पड़े थे, लेकिन उन्हें कुछ बड़ा करना था और फिर बन गईं बिजनेसवुमन से इंस्टाग्राम इंफ्लुएंसर

मुझे लगता है मेरा जन्म ही शादी के लिए हुआ था। 12-13 साल की हुई कि घर वालों से लोग बोलने लगे लड़की की शादी नहीं करोगे, इतनी बड़ी हो गई है। गांव जाती तो शादी, गली में निकलती तो शादी, किसी के पास बैठ जाती तो शादी...उफ्फ! हर जगह शादी पुराण सुनकर मैं थक गई थी। मुझे लगता कि क्या मेरी जिंदगी सिर्फ शादी के लिए ही है? मुझे कुछ बड़ा करना था पर क्या! यह नहीं समझ पा रही थी। ये शब्द हैं एंटरप्रेन्योर से इंस्टाग्राम इंफ्लुएंसर बनीं नेहा नागर के।

मोदी से मुकाबले को फ्रंटफुट पर खेल रहीं ममता क्या कांग्रेस को पहुंचा रही हैं नुकसान? CM चेहरे पर सिद्धू ने उड़ाया AAP का मजाक: कहा- अरविंद केजरीवाल को पंजाब में दूल्हा नहीं मिल रहा, बारात अकेले ही नाच रही पुतिन का भारत दौरा: विदेश मंत्रालय ने कहा- 6 दिसंबर को मोदी से मुलाकात करेंगे रूस के राष्ट्रपति, 2+2 समिट भी होगी

बिजनेसवुमन नेहा नागर26 साल की नेहा भास्कर वुमन से बातचीत में बताती हैं, ‘मेरा जन्म गौतमबुद्धनगर के कचैड़ा गांव में हुआ। बचपन से पढ़ने-लिखने में तेज थी। गांव में ही छठी क्लास तक सरकारी स्कूल में पढ़ाई की। 11 साल की उम्र तक गांव में रहे। हमारे परिवार की फाइनेंशियल कंडीशन बहुत अच्छी नहीं थी। पापा जिस फैक्ट्री में काम करते थे, वो गाजियाबाद शिफ्ट हो गई थी। इस वजह से हम सब भी गाजियाबाद आ गए। जब शहर आए तो यहां भी बागों में बहार नहीं थी। 10 बाई 12 के एक कमरे में हम पांच लोग रहते।

पहली जरूरत शादी, फिर करिअरगाजियाबाद आकर पापा ने इंग्लिश मीडियम स्कूल में दाखिला करवा दिया। अभी तक सरकारी स्कूल में हिंदी मीडियम से पढ़ी थी, अब अंग्रेजी में पढ़ना था। बहुत मेहनत की और दसवीं में 70 फीसद मार्क्स हासिल किए। थोड़ा कॉन्फिडेंस बढ़ा और लगा कि अब अपने और परिवार के लिए कुछ बड़ा करूंगी। ये ख्याल इसलिए आया क्योंकि मेरे खानदान में मैं ही इकलौती लड़की हूं जो सबसे ज्यादा पढ़ी-लिखी है। हमारे यहां लड़कियों की पढ़ाई से ज्यादा शादी पर फोकस किया जाता है। उनका करिअर सेकेंडरी हो जाता है। मुझे याद है जब मैं दसवीं में थी तबसे लोग मेरी शादी के पीछे पड़े थे। जब पााप गांव जाते तो लोग उनसे कहते, बेटी को प्राइवेट स्कूल में क्यों पढ़ा रहा है? वो कलेक्टरनी या अफसरनी नहीं बन जाएगी। शादी के बाद रोटियां ही बनानी हैं। गांव जाती तो आंटियां कहतीं, अभी जी ले जितना जीना है। बाद में तो घर के काम ही करने हैं। गांव के इंफ्लुएंस ने गाजियाबाद तक पीछा नहीं छोड़ा। मेरे घर वालों को सिखाया जाता, बेटियों को सूट क्यों नहीं पहनाते हो? लोगों की बातों की वजह से पापा पर भी प्रेशर में आने लगते और हमें लेकर स्ट्रिक्ट हो जाते। हमें सूट पहनने को कहने लगते, लेकिन धीरे-धीरे हमने कोशिश की हमारे पेरेंट्स बदलें। शहर के माहौल ने पेरेंट्स को बदला। पेरेंट्स समझते थे शहर की जिंदगी, लेकिन खुलकर नहीं बोलते थे। headtopics.com

जिंदगी की एक नई शुरुआतबीपीओ की नौकरी कीमेरे आसपास इतनी नेगेटिविटी थी कि मैं उससे तंग आ गई थी। अपने खानदान में मैं ही इकलौती थी जो ज्यादा पढ़ रही थी, इसलिए कुछ बड़ा करने का और दूसरों के लिए एग्जांपल सेट करने का दबाव था। अब सीए का एग्जाम देने की सोची। सीए का पहला एग्जाम क्लिअर हो गया। दो लेवल क्लिअर नहीं हो पाए। वो तीन साल बहुत डिफिकल्ट थे। क्योंकि कुछ करने का प्रेशर था और जब कुछ करने लगी तो सफल नहीं हुई। पेरेंट्स ने भी मुझसे उम्मीद छोड़ दी। कॉरेसपॉन्डेंस से बीए कर रही थी। उसको लेकर भी मैंने उम्मीद छोड़ दी थी। मेरा कॉन्फिडेंस भी छूट रहा था। मैंने पापा से रिक्वेस्ट की कि मुझे जॉब करने दो। 15-15 दिन कई जगहों पर नौकरी की और एक दिन बीपीओ के बारे में मालूम हुआ कि वहां पैसा अच्छा दे देते हैं। फिर मैंने एक साल बीपीओ की नौकरी की।

इस नौकरी ने मेरी कम्युनिकेशन स्किल्स और कॉन्फिडेंस में बढोतरी की। मेरे पास पैसा आने लगा तो अब लगा कि कुछ बड़ा कर लूंगी। अब लगा कि सीए तो नहीं निकलेगा एमबीए कर लेती हूं, लेकिन एमबीए हवा में नहीं होने वाला था, उसके लिए पैसे चाहिए थे। पापा ने वो देने से मना कर दिया, उन्हें लगा कि मैं एमबीए नहीं कर पाऊंगी। मेरा एक साल घर वालों को मनाने में निकल गया। अगले साल पापा ने एमबीए करने की परमिशन दी। तब मैंने ऐसे कॉलेज ढूंढ़े जिनकी फीस कम थी।

एमबीए के दौरान करिअर को मिली नई उड़ानएमबीए बना टर्निंग प्वॉइंटएमबीए के दो साल के दौरान मैंने बहुत कुछ सीखा। कई कॉम्पीटिशन में गई। पर्सनैलिटी डेवलपमेंट किया। गांव से निकलकर शहर में आई तो लोगों के बीच एडजस्ट नहीं हो पा रही थी, लेकिन एमबीए के दौरान इस पर काम किया और कोप-अप करने की कोशिश की। यहां से मैंने एक फाइनेंस की कंपनी में इंटर्नशिप की। मेरी प्लेसमेंट भी कॉलेज से हो गई। एमबीए में फाइनेंस को लेकर अपना इंटरेस्ट समझ पाई। फाइनेंस की पढ़ाई में इसलिए भी मजा आ रहा था क्योंकि अभी तक मैंने अपने आसपास देखा था कि लड़कियों को फाइनेंशियल मैटर्स से अलग रखा जाता रहा है। अगर कोई लड़की कमाने भी लगती है तब भी उसे फाइनेंस के लिए भाई या पिता पर डिपेंडेंट होना पड़ता है, लेकिन मैं ये डिपेंडेंसी नहीं चाहती थी। अपना पैसा खुद संभालना सीख गई थी।

कॉलेज के दौरान मिस फेस ऑफ एनसीआर का मॉडलिंग शो हो रहा था, उसमें पार्टिसिपेट किया। फेलियर का डर थोड़ा सा खत्म हो गया। पेरेंट्स को बिना बताए पार्टिसिपेट किया। उस शो की मैं विनर रही। जी न्यूज की म्युजिक एलबम ‘भूल हम जाएंगे’ में लीड रोल मिला। इस एलबम को देखने के बाद पंगा हो गया। अब घर वाले मेरी शादी के लिए मेरे ऊपर तुल पड़े। इसी समय पर मेरी जॉब भी लग गई थी। headtopics.com

भारत में ओमिक्रॉन से संक्रमित पाया गया 66 वर्षीय विदेशी नागरिक 27 नवंबर को यूएई चला गया Bitcoin के हिमायती अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें पैसे छापना पंजाब में केजरीवाल की गारंटी: हर बच्चे को मुफ्त शिक्षा देंगे; सेना और पंजाब पुलिस के शहीद जवानों के परिवार को एक करोड़ रुपए सम्मान राशि

शादी की तलवार हमेशा लटकी रहतीऑफिस से जब घर आती तो फिर से शादी कथा चालू हो जाती। शादी के डर की ये तलवार मेरे ऊपर हमेशा लटकी रही। वो तो शुकर है कि मेरे पेरेंट्स को लड़का ही इतना लेट मिला, वरना मेरी शादी कब की हो चुकी होती। मैं घर की बड़ी थी तो छोटे भाई बहन मेरे सपोर्ट में क्या बोल सकते थे।शादी के विद्रोह में मैं अकेली ही थी। अब मैं घर वालों से और नहीं लड़ सकती थी और गिव अप कर दिया। 24 साल की उम्र में चार्टेड अकांटेंड से मेरी शादी हो गई।

अपनी पहचान से बढ़ा आत्मविश्वासकंसल्टेंसी का बिजनेसशादी के बाद नौकरी संभालना मुश्किल हो रहा था इसलिए घर में रहकर कंसल्टेंसी का बिजनेस स्टार्ट किया। जब लॉकडाउन हुआ तो बिजनेस भी नहीं चल पाया। फिर मैंने सोशल मीडिय की हेल्प ली। अपनी पढ़ाई के दौरान फाइनेंस की जो किताबें पढ़ी थीं, उनकी नॉलेज लोगों को देने के लिए वीडियो बनाने शुरू कर दिए। भले ही मैं सीए नहीं बन पाई थी लेकिन मैंने लोगों को आरटीआर, जीएसटी, स्टॉक मार्केट, फाइनेंस के बारे में नॉलेज दी। मेरे ये वीडियोज वायरल होने लगे। एक महीने के भीतर टिकटॉक पर तीन लाख फॉलोअर्स हो गए थे। यूट्यूब पर भी सब्सक्राइबर्स बढ़ने लगे। ये नंबर देखकर मुझमें और कॉन्फिडेंस आने लगा। मैं सीखती गई। मैंने 2020 में वीडियो बनानी शुरू की थी। जब टिकटॉक बंद हुआ तब मुझे समझ नहीं आया कि अब क्या करूं। कुछ समय का ब्रेक लिया। अब यूट्यूब पर मेहनत करने लगी तो यहां दो लाख सब्सक्राइबर हो गए हैं। इंस्टाग्राम पर सात लाख से ऊपर फॉलोअर्स हैं।

मुश्किलें अभी बाकी हैं...अभी भी दिक्कतें आती हैं। फैमिली को बहुत टाइम नहीं दे पाती। शादी को तीन साल होने को आए हैं तो अब लोग चाइल्ड प्लानिंग के लिए भी फोर्स करने लगे हैं, लेकिन चूंकि मैंने परिवार को प्रुव करके दिखाया है तो उतनी टोकाटाकी नहीं होती जितनी पहले होती थी। अब मेरी अर्निंग इंस्टाग्राम और यूट्यूब से होती है। अब जिंदगी सिर्फ घर की चारदीवारी तक नहीं है बल्कि इंवेंट्स के स्टेज तक है। लोग टॉक शो के लिए भी बुलाते हैं।

आगे बढ़ते रहें, रुके नहींट्राय करते रहें, गिव अप न करेंहम लड़कियों को हमेशा पीछे खींचा जाता है। उन्हें अपने हिसाब से अपना जीवनसाथी चुनने की आजादी नहीं होती, ज्यादा पढ़ाया नहीं जाता, खुलकर जीने के लिए भी अपनों से लड़ना पड़ता है। तो कई बार इंसान थक जाता है, लेकिन हमें गिव अप नहीं करना है। ट्राय करते रहना है। अगर पेरेंट्स आपको पढ़ने या नौकरी करने के लिए मना कर रहे हैं या शादी के लिए फोर्स कर रहे हैं तो उन्हें पहले कुछ करके दिखाएं। तभी आप अपने मन का काम कर पाएंगे। आपको अपने लिए खुद स्टैंड लेना होगा। ट्राय करते रहें कभी न कभी कामयाबी का दरवाजा खुल ही जाएगा। headtopics.com

और पढो: Dainik Bhaskar »

शंखनाद: Samajwadi Party की साइकिल पर बैठेंगी कितनी सवारी?

जैसे जैसे दिन बीत रहे हैं, उत्तर प्रदेश का रण धारदार होता जा रहा है, सत्ता पक्ष और विपक्ष अपने-अपने दल को बढ़ाने में लगे हुए हैं, गठबंधनों का दौर चल रहा है. इसी कड़ी में आज कांग्रेस की बागी नेता अदिति सिंह आज बीजेपी में शामिल हुईं तो दूसरी ओर आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने अखिलेश यादव से मुलाकात की. साथ ही कृष्णा पटेल वाली अपना दल पार्टी ने भी समाजवादी का दामन थाम लिया. यूं समझिए कि गठबंधन वाली राजनीति बहुत तेजी से विस्तारित हो गई है, ताकि पार्टियां अपने विरोधियों को मात दे सकें. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

They are really a good investment advisor very helpful for a teenager... keep it up 👍🏻 End me giregi gutter me hi Free me gao all songs

PhonePe से मोबाइल रिचार्ज करना पड़ेगा महंगा, UPI से पेमेंट पर देनी होगी इतनी फीसPhonePe अब हर ट्रांजैक्शन के लिए यूजर्स से प्रोसेसिंग फीस लेगा। अब आप हर लेन-देन के लिए कुछ एडिशनल पैसे खर्च किए बिना पैसे ट्रांसफर नहीं कर पाएंगे। कंपनी 50 रुपये से ज्यादा के कीमत वाले Mobile Recharge) पर 1 रुपये से 2 रुपये की रेंज में चार्ज फीस लेगी| PhonePe_ 🤣 PhonePe_ Chalu ho gaya ab khel PhonePe_ don't use PhonePe_ , try Paytm

चैट से खुलासा: आर्यन ने अनन्या से पूछा- कुछ जुगाड़ हो सकता है? एक्ट्रेस ने कहा- मैं अरेंज कर दूंगीआर्यन और अनन्या की चैट से खुलासा: आर्यन खान ने अनन्या पांडे से पूछा- कुछ जुगाड़ हो सकता है? एक्ट्रेस ने कहा- मैं अरेंज कर दूंगी AryankhanDrugsCase AnanyaPanday Gya Tata bye bye 🤣🤣🤣 ArmyExamMeraHaq

अमीर बनने की चाहत, कार से आकर एटीएम से पैसे नहीं बैटरी की करते चोरी, सीसीटीवी से पकड़े गएबैतूलपुलिस ने बैतूल में एटीएम से बैटरी चुराने वाले गिरोह को पकड़ा है। बैंकों में रिपेयरिंग और मेंटेनेंस का काम करने वाले दो युवक चोरी की घटना को अंजाम दे रहे थे। बैंक कंट्रोल रूम ने जब एटीएम में छेड़छाड़ की घटना सीसीटीवी कैमरे से देखी तो इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर चोरी गई 16 बैटरी बरामद की है। घटना में उपयोग की जाने वाली कार को भी जब्त किया है।मंडला के रिटायर्ड सीईओ ने जमकर किया है 'भ्रष्टाचार', EOW की छापेमारी में हुआ बड़ा खुलासा दरअसल, बैंकों में रिपेयरिंग और मेंटेनेंस का काम करते-करते दो युवक जल्द अमीर बनने की ख्वाहिश में चोर बन बैठे। एटीएम में लगी बैटरियां चोरी करने लगे। शहर में भी चार एटीएम की बैटरी उन्होंने चुरा ली, लेकिन यहां कोतवाली पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पुलिस ने इनके पास से चोरी की 16 बैटरियां और कार बरामद की है।कोतवाली थाना क्षेत्र में सोमवार की रात में यूनियन बैंक, सेंट्रल बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और एसबीआई के एटीएम से बैटरी चोरी की घटना हुई थी। छत्तीसगढ़ में पूरी तरह से हुक्का बार प्रतिबंधित हों... पुलिस अधिकारियों से सीएम भूपेश बघेल की दो टूकचोरी की इन घटनाओं को ट्रेस करने एक टीम बनाई गई थी। इस टीम ने कंट्रोल रूम के कैमरों की मदद से आरोपी गौरव दुबे और दिलीप पटेल को पकड़ा। उनके कब्जे से चोरी की गईं 16 बैटरियां और घटना में प्रयुक्त टाटा टियागो कार बरामद की गई है। वहीं, एसडीओपी नितेश पटेल ने कहा कि एटीएम से बैटरी चोरी की सूचना पुलिस को मिली थी। इस मामले में कोतवाली पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से 16 बैटरी बरामद की है। एक करोड़ की सम्मान राशि, भाई को नौकरी, गांव में स्मारक... शहीद के घर से सीएम शिवराज का बड़ा ऐलानटीआई रत्नाकर हिंगवे ने कहा कि दोनों आरोपी जेगल कंपनी में काम करते हैं और प्राइवेट बैंकों में रिपेयरिंग और मेंटेनेंस का कार्य करते हैं। इसके चलते इन्हें एटीएम लॉबी के बैक रूम की संपूर्ण जानकारी होती थी। वे बैक रूम में रखी बैटरियों के वायर को अपने पास रखे औजारों से काट लेते थे और बैटरियां चुरा लेते थे।

पंड्या और नताशा के अलावा खेल जगत के ये कपल शादी से पहले ही बने माता-पिता, देखिए लिस्टक्रिस गेल और हार्दिक पंड्या समेत कई खिलाड़ी लिव-इन रिलेशनशिप के दौरान पिता बने; देखिए पूरी लिस्ट ChrisGayle HardikPandya NatashaStankovic LeanderPaes RiyaPillai VivianRichards NeenaGupta Shakira LiveInRelationships Parents पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करें।

मोहब्बत बनी मुसीबत : प्यार में युवक से बना युवती, अब कहा- प्रेमी ने मुझे बर्बाद कर दियामोहब्बत बनी मुसीबत : प्यार में युवक से बना युवती, अब कहा- प्रेमी ने मुझे बर्बाद कर दिया Love UttarPradesh Gorakhpur 😂

मेघालय के गवर्नर का बड़ा दावा: सत्यपाल मलिक बोले- अंबानी और RSS से जुड़ी डील में घपला था, मुझे 150-150 करोड़ की पेशकश हुई थीमेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का 5 दिन पहले झुंझुनू में दिया बयान सोशल मीडिया पर बहस का मुद्दा बन गया है। मलिक 17 अक्टूबर को झुंझुनू में एक सम्मान समारोह शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल रहते हुए अंबानी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) के एक पदाधिकारी के इन्वॉल्वमेंट वाली दो डील कैंसिल करने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि दोनों डील के एवज में उन्हें 150-150 करोड़ रुपए ... | Mukesh Ambani Satya Pal Malik | Meghalaya Governor Satya Pal Malik Disclosure On Kashmir and Mukesh Ambani RSSorg BJP4India INCIndia जल्दी ही इनका कुछ होगा, सम्भलकर करना मलिक जी RSSorg BJP4India INCIndia सर ऐसे माहौल में हिम्मत वाले लोग ही सच बोल पाते हैं RSSorg BJP4India INCIndia शायद इनकी कांग्रेस के साथ बहुत बड़ी डील हुई है।