Cwc, Cwcmeeting, Soniagandhi, Sonia Gandhi İn Cwc Meeting, Cwc Meeting Sonia Gandhi, Electoral Autocracy, Democracy, Congress, Cwc Meeting, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Modi Govt, Pegasus

Cwc, Cwcmeeting

कांग्रेस कार्यसमिति बैठक: सोनिया गांधी बोलीं- केंद्र सरकार की बस एक नीति, बेचो, बेचो, बेचो

कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद जैसे असंतुष्ट खेमे के नेताओं की मांग पर बुलाई गई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में सोनिया

16-10-2021 22:51:00

कांग्रेस कार्यसमिति बैठक: सोनिया गांधी बोलीं- केंद्र सरकार की बस एक नीति, बेचो, बेचो, बेचो CWC CWC Meeting INCIndia SoniaGandhi RahulGandhi PMOIndia

कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद जैसे असंतुष्ट खेमे के नेताओं की मांग पर बुलाई गई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में सोनिया

उन्होंने ये भी कहा कि देश की विदेश नीति को भी चुनावी ध्रुवीकरण का औजार बना दिया गया है। सोनिया ने कहा, हम अपनी सीमाओं और दूसरे मोर्चो पर गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने पिछले साल विपक्षी नेताओं को कहा था कि हमारी भूमि पर चीन का कोई कब्जा नहीं है। इसके बाद से उनकी चुप्पी ने देश को गंभीर नुकसान पहुंचाया है।

हेलिकॉप्टर दुर्घटना में बिपिन रावत और उनकी पत्नी का निधन - BBC Hindi बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, सीडीएस के परिजनों से मिले रक्षा मंत्री - BBC Hindi Bipin Rawat Death News Live Updates: नहीं रहे CDS बिपिन रावत, भारतीय वायुसेना ने ट्वीट कर दी जानकारी

देश की अर्थव्यवस्था की बात करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार का एकमात्र एजेंडा है, राष्ट्रीय संपत्तियों को बेचो, बेचो, बेचो। कोरोना की दूसरी लहर के बाद कोविड टीकाकरण नीति में सरकार द्वारा बदलाव का जिक्र करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि ये बदलाव कार्यसमिति की मई में हुई बैठक के तुरंत बाद किया गया। तब राज्य सरकारों ने इस नीति को बदलने का दबाव बनाया था और ये एक दुर्लभ मौका था जब मोदी सरकार ने राज्यों के दबाव में कोई फैसला बदला हो।

इससे देश को होने वाला लाभ सभी ने देखा है। इसके बावजूद सहयोगी संघवाद केंद्र सरकार के लिए सिर्फ एक नारा ही है और ये सरकार गैर भाजपा शासित राज्य सरकारों को दबाने का कोई मौका नहीं छोड़ती। जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक लोगों की हालिया लक्षित हत्याओं पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इन हत्याओं की कड़ी निंदा की जानी चाहिए और इसके साजिशकर्ताओं से निपटने की पूरी जिम्मेदारी मोदी सरकार पर है। headtopics.com

जम्मू-कश्मीर के लोगों में विश्वास बहाली और सामाजिक शांति और सौहार्द कायम करना भी सरकार की ही जिम्मेदारी है। देश के सामने मौजूद मुद्दों का जिक्र करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कार्यसमिति की ये बैठक लगातार चल रहे किसान आंदोलन की पृष्ठभूमि में हो रही है और तीन कृषि कानूनों को संसद के जरिये जबरन थोपे जाने को लेकर पूरे एक साल हो गए हैं।

लखीमपुर खीरी हिंसा में चार किसानों की मौत की घटना पर सोनिया गांधी ने कहा कि ये घटना बताती है कि किसानों के प्रति भाजपा की सोच क्या है और अपने जीवन और जीविकोपार्जन को बचाने के लिए दृढ़प्रतिज्ञ किसानों से ये पार्टी किस तरह निपटना चाहती है। कार्यसमिति की बैठक में सोनिया गांधी के अलावा प्रियंका गांधी वाड्रा, राहुल गांधी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी समेत जी-23 के गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा जैसे नेताओं की भी मौजूदगी रही।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के एम्स में भर्ती होने के कारण और दिग्विजय सिंह और झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने अन्य कारणों से बैठक में नहीं लिया। पिछले साल कोविड फैलने के बाद से कांग्रेस कार्यसमिति की ये पहली शारीरिक उपस्थिति वाली बैठक थी। पिछली बैठक ऑनलाइन हुई थी।

कांग्रेस आंतरिक चुनाव से पहले अपने सदस्यता अभियान चलाएगी। इस साल पहली नवंबर से 31 मार्च 2022 तक पांच रुपये में कांग्रेस अपने सदस्य बनाएगी। इसके बाद ब्लॉक, जिला और राज्य स्तर पर चुनाव की प्रकिया शुरू की जाएगी। अगले साल पहली जून से 20 जुलाई के बीच जिलों के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष और कार्यकारी समिति सदस्यों का चुनाव होगा। headtopics.com

बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, सरकार के बयान का इंतज़ार - BBC Hindi बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर क्रैश, '14 में से 13 की मौत' - BBC Hindi बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर क्रैश, सीडीएस की स्थिति स्पष्ट नहीं, सीसीएस की बैठक बुलाई गई - BBC Hindi

21 जुलाई 2022 से 20 अगस्त 2022 के बीच प्रदेश अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष, पीसीसी कार्यकारी सदस्यों के साथ अखिल भारतीय कांग्रेस के सदस्य के लिए पीसीसी जनरल बॉडी का चयन होगा। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव 21 अगस्त से 20 सितंबर के बीच होगा। उसके बाद अक्तूबर के बीच सीडब्ल्यूसी सदस्यों और अखिल भारतीय स्तर की अन्य समितियों का गठन होगा।

कार्यसमिति की बैठक में पांच राज्यों के चुनाव की तैयारियों को लेकर प्रभारियों ने अपनी-अपनी रिपोर्ट पेश की। रिपोर्ट के आधार पर अलग-अलग राज्यों की बैठक बुलाकर अंतिम फैसला लिया जाएगा। बैठक में प्रभारियों ने राज्यों की राजनीतिक परिस्थिति, पार्टी की रणनीति, अब तक उठाए गए कदमों की जानकारी दी। जिस पर कुछ सदस्यों की ओर से सुझाव भी आए हैं। सोनिया गांधी ने भी सदस्यों को बताया कि इन चुनावों के लिए पार्टी की तैयारी शुरू हो गई है और तमाम चुनौतियों के बावजूद यदि हम एकजुट, अनुशासित और पार्टी हित के प्रति समर्पित रहे तो जरूर अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

कांग्रेस का मानना है कि कार्यकर्ताओं के साथ नेताओं को भी लगातार समय-समय पर प्रशिक्षण की आवश्यकता है। इसी को ध्यान में रखकर पार्टी प्रशिक्षण कार्यक्त्रस्म चलाएगी। संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा कि पार्टी में ऊपर से लेकर नीचे तक बड़े से बड़े नेताओं को प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा लेना होगा। नियमित तौर पर चलने वाले प्रशिक्षण कार्यक्र में पार्टी की विचारधारा, पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं से क्या चाहती है, चुनावी प्रबंधन में उनकी कैसे भूमिका रहेगी जैसे विषयों पर लगातार चर्चा होगी। सबसे पहला प्रशिक्षण शिविर महाराष्ट्र के वर्धा में होगा।

कांग्रेस ने खुद को जन-जन तक पहुंचाने और सरकार को विभिन्न मुद्दों पर घेरने की रणनीति तैयार की है। इसके लिए पूरे देश में जन जागरण अभियान चलाने जा रही है। 15 नवंबर से करीब दो सप्ताह तक चलने वाले जनजागरण अभियान में राज्य, जिला, ब्लॉक स्तर पर कार्यक्रम होंगे। अभियान में पार्टी के सभी विभाग, सहयोगी संगठन शामिल होंगे। पार्टी बूथ स्तर पर पदयात्राएं निकालेगी। इसके लिए प्रदेश स्तर पर कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। headtopics.com

विस्तार गांधी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। सरकार की विदेश नीति पर हमला करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि इस मुद्दे पर हमेशा रहने वाली आम सहमति को इसलिए नुकसान पहुंचा है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अर्थपूर्ण मसलों पर विपक्ष को भरोसे में नहीं लेना चाहते।

विज्ञापनउन्होंने ये भी कहा कि देश की विदेश नीति को भी चुनावी ध्रुवीकरण का औजार बना दिया गया है। सोनिया ने कहा, हम अपनी सीमाओं और दूसरे मोर्चो पर गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ने पिछले साल विपक्षी नेताओं को कहा था कि हमारी भूमि पर चीन का कोई कब्जा नहीं है। इसके बाद से उनकी चुप्पी ने देश को गंभीर नुकसान पहुंचाया है।

CDS Bipin Rawat Chopper Crash Updates : CDS जनरल बिपिन रावत सहित 14 लोगों को ले जा रहा हेलीकॉप्टर क्रैश बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, रक्षा मंत्री देंगे संसद में बयान - BBC Hindi नहीं रहे देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ: CDS बिपिन रावत का निधन, हेलिकॉप्टर क्रैश में पत्नी मधुलिका समेत 13 लोगों की मौत

देश की अर्थव्यवस्था की बात करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार का एकमात्र एजेंडा है, राष्ट्रीय संपत्तियों को बेचो, बेचो, बेचो। कोरोना की दूसरी लहर के बाद कोविड टीकाकरण नीति में सरकार द्वारा बदलाव का जिक्र करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि ये बदलाव कार्यसमिति की मई में हुई बैठक के तुरंत बाद किया गया। तब राज्य सरकारों ने इस नीति को बदलने का दबाव बनाया था और ये एक दुर्लभ मौका था जब मोदी सरकार ने राज्यों के दबाव में कोई फैसला बदला हो।

इससे देश को होने वाला लाभ सभी ने देखा है। इसके बावजूद सहयोगी संघवाद केंद्र सरकार के लिए सिर्फ एक नारा ही है और ये सरकार गैर भाजपा शासित राज्य सरकारों को दबाने का कोई मौका नहीं छोड़ती। जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक लोगों की हालिया लक्षित हत्याओं पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इन हत्याओं की कड़ी निंदा की जानी चाहिए और इसके साजिशकर्ताओं से निपटने की पूरी जिम्मेदारी मोदी सरकार पर है।

जम्मू-कश्मीर के लोगों में विश्वास बहाली और सामाजिक शांति और सौहार्द कायम करना भी सरकार की ही जिम्मेदारी है। देश के सामने मौजूद मुद्दों का जिक्र करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कार्यसमिति की ये बैठक लगातार चल रहे किसान आंदोलन की पृष्ठभूमि में हो रही है और तीन कृषि कानूनों को संसद के जरिये जबरन थोपे जाने को लेकर पूरे एक साल हो गए हैं।

लखीमपुर खीरी हिंसा में चार किसानों की मौत की घटना पर सोनिया गांधी ने कहा कि ये घटना बताती है कि किसानों के प्रति भाजपा की सोच क्या है और अपने जीवन और जीविकोपार्जन को बचाने के लिए दृढ़प्रतिज्ञ किसानों से ये पार्टी किस तरह निपटना चाहती है। कार्यसमिति की बैठक में सोनिया गांधी के अलावा प्रियंका गांधी वाड्रा, राहुल गांधी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी समेत जी-23 के गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा जैसे नेताओं की भी मौजूदगी रही।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के एम्स में भर्ती होने के कारण और दिग्विजय सिंह और झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने अन्य कारणों से बैठक में नहीं लिया। पिछले साल कोविड फैलने के बाद से कांग्रेस कार्यसमिति की ये पहली शारीरिक उपस्थिति वाली बैठक थी। पिछली बैठक ऑनलाइन हुई थी।

संगठनात्मक चुनाव की ये रहेगी प्रक्रियाकांग्रेस आंतरिक चुनाव से पहले अपने सदस्यता अभियान चलाएगी। इस साल पहली नवंबर से 31 मार्च 2022 तक पांच रुपये में कांग्रेस अपने सदस्य बनाएगी। इसके बाद ब्लॉक, जिला और राज्य स्तर पर चुनाव की प्रकिया शुरू की जाएगी। अगले साल पहली जून से 20 जुलाई के बीच जिलों के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष और कार्यकारी समिति सदस्यों का चुनाव होगा।

21 जुलाई 2022 से 20 अगस्त 2022 के बीच प्रदेश अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष, पीसीसी कार्यकारी सदस्यों के साथ अखिल भारतीय कांग्रेस के सदस्य के लिए पीसीसी जनरल बॉडी का चयन होगा। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव 21 अगस्त से 20 सितंबर के बीच होगा। उसके बाद अक्तूबर के बीच सीडब्ल्यूसी सदस्यों और अखिल भारतीय स्तर की अन्य समितियों का गठन होगा।

चुनावी राज्यों की तैयारियों पर चर्चाकार्यसमिति की बैठक में पांच राज्यों के चुनाव की तैयारियों को लेकर प्रभारियों ने अपनी-अपनी रिपोर्ट पेश की। रिपोर्ट के आधार पर अलग-अलग राज्यों की बैठक बुलाकर अंतिम फैसला लिया जाएगा। बैठक में प्रभारियों ने राज्यों की राजनीतिक परिस्थिति, पार्टी की रणनीति, अब तक उठाए गए कदमों की जानकारी दी। जिस पर कुछ सदस्यों की ओर से सुझाव भी आए हैं। सोनिया गांधी ने भी सदस्यों को बताया कि इन चुनावों के लिए पार्टी की तैयारी शुरू हो गई है और तमाम चुनौतियों के बावजूद यदि हम एकजुट, अनुशासित और पार्टी हित के प्रति समर्पित रहे तो जरूर अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

बड़े नेताओं को भी प्रशिक्षणकांग्रेस का मानना है कि कार्यकर्ताओं के साथ नेताओं को भी लगातार समय-समय पर प्रशिक्षण की आवश्यकता है। इसी को ध्यान में रखकर पार्टी प्रशिक्षण कार्यक्त्रस्म चलाएगी। संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा कि पार्टी में ऊपर से लेकर नीचे तक बड़े से बड़े नेताओं को प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा लेना होगा। नियमित तौर पर चलने वाले प्रशिक्षण कार्यक्र में पार्टी की विचारधारा, पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं से क्या चाहती है, चुनावी प्रबंधन में उनकी कैसे भूमिका रहेगी जैसे विषयों पर लगातार चर्चा होगी। सबसे पहला प्रशिक्षण शिविर महाराष्ट्र के वर्धा में होगा।

जमीनी संघर्ष बढ़ाएगी पार्टीकांग्रेस ने खुद को जन-जन तक पहुंचाने और सरकार को विभिन्न मुद्दों पर घेरने की रणनीति तैयार की है। इसके लिए पूरे देश में जन जागरण अभियान चलाने जा रही है। 15 नवंबर से करीब दो सप्ताह तक चलने वाले जनजागरण अभियान में राज्य, जिला, ब्लॉक स्तर पर कार्यक्रम होंगे। अभियान में पार्टी के सभी विभाग, सहयोगी संगठन शामिल होंगे। पार्टी बूथ स्तर पर पदयात्राएं निकालेगी। इसके लिए प्रदेश स्तर पर कंट्रोल रूम बनाया जाएगा।

और पढो: Amar Ujala »

आखिर उसने क्यों दी दुल्हन को 'खूनी विदाई'? देखें वारदात

रोहतक, हरियाणा के ओमप्रकाश के परिवार के लिए 1 दिसंबर एक बड़ी खुशी का दिन था. जिस बेटी को उन्होंने अब तक बेहद नाज़ों से पाला था, आज उसी की डोली उठ रही थी. ओमप्रकाश की बेटी तनिष्का की शादी आनंदपुर के रहनेवाले जगदीश के बेटे मोहन के साथ हो रही थी. सारा दिन शादी की गहमागहमी में गुज़र गया और फिर रात के साढ़े दस बजते-बजते विदाई की घड़ी आ गई. तनिष्का अपने दूल्हे मोहन के साथ एक कार में बैठ कर अपने गांव सांपला से ससुराल आनंदपुर के लिए रवाना हो गई. कार में दूल्हा-दुल्हन के अलावा दोनों के भाई और ड्राइवर समेत कुल पांच लोग बैठे हुए थे. लेकिन अभी करीब चालीस किलोमीटर का फ़ासला तय कर कार आनंदपुर की दहलीज़ पर पहुंची ही थी कि एक तेज़ रफ्तार इनोवा ने दूल्हा-दुल्हन की गाड़ी को ओवरटेक कर रुकवा लिया और फिर जो कुछ हुआ, वो बेहद डरानेवाला था. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

INCIndia RahulGandhi PMOIndia और INCIndia की - लूटो, लूटो, लूटो। INCIndia RahulGandhi PMOIndia किसे बेचो ये बस नही पता क्या यार हद होती हैं INCIndia RahulGandhi PMOIndia कोंग्रेस की एक बोली कब लगेगी? INCIndia RahulGandhi PMOIndia 🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣 becho aur public ko suvidha do... INCIndia RahulGandhi PMOIndia 2014 से पहले केंद्र की नीति:::--- देश को लूटो, लूटो, लूटो!? खूब खाओ, खाओ, खाओ!? विदेशों में प्रॉपर्टी बनाओ, बनाओ, बनाओ!!

INCIndia RahulGandhi PMOIndia BangladeshiHinduWantSafety SaveBangladeshiHindus WeDemandSafety WeDemandJustice SaveHindus SaveHinduTemples SaveHindusim savehindupeople WeWantJusticeRightNow INCIndia RahulGandhi PMOIndia We demand safety of Bangladeshi Hindus.✊ StopCommunalAttack SaveBangladeshiHinndus BangladeshiHinduWantSafety SaveBangladeshiHindus WeDemandSafety WeDemandJustice SaveHindus Hindu BangladeshiHindusInDanger

INCIndia RahulGandhi PMOIndia 😂😂

राजभर की BJP के साथ आने की अटकलें, यूपी में 'ब्रेकअप' की तैयारी में AIMIMभारतीय सुहेलदेव समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के अगुवाई में बने भागीदारी संकल्प मोर्चा 2022 के चुनावी मैदान में उतरने से पहले ही दरार पड़ती दिख रही है. बीजेपी के साथ राजभर के जाने के आसार के साथ ही असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने भागीदारी मोर्चा से अलग होने की धमकी दे दी है.

CWC की बैठक कल, कांग्रेस अध्यक्ष समेत संगठनात्मक चुनावों पर फैसला संभवशनिवार को कांग्रेस कार्य समिति ( CWC ) की बैठक होनी है। पार्टी के जी23 समूह के नेताओं ने इसकी मांग की थी। वो पार्टी में संगठनात्मक चुनाव चाहते हैं। स्‍थायी कांग्रेस अध्‍यक्ष चुना जाना भी उनके एजेंडे में है। मेरा मानना है सावरकर सचमें वीरथे जब वह क्रांतकारीयो के साथ थे तब भी वीरता से थे और जब अंग्रेजो के साथ गए तब भी वीरता से गाये आज़ादी के बाद भी गाँधी को मारने वालो के साथ वह वीरता से खड़े थे वह निडर ब्राह्मण थे मास मछली खाते थे वीरता थी उनके अंदर काम किसके लिए करते थे यह अलग विषयहै

Firozpur Rural Assembly Seat: क्या यहां की त्रिकोणीय चुनौती से पार पा सकेगी कांग्रेस?फिरोजपुर (Firozpur Rural) एक सरहदी जिला है. इस सीट का ऐतिहासिक तौर धार्मिक समीकरण नहीं है और ना ही इस सीट का आर्थिक या पर कोई महत्व है.

'मैं ही कांग्रेस की पूर्णकालिक अध्यक्ष', सोनिया गांधी का जी 23 के नेताओं पर निशानासोनिया गांधी ने जी 23 के नेताओं को दो टूक सुनाते हुए कहा कि मुझसे बात करने के लिए मीडिया की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, मैं ही कांग्रेस की स्थायी अध्यश्क्ष हूं।

पंजाब कांग्रेस: अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे नवजोत सिद्धू, प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा आज संभवपंजाब कांग्रेस: अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे नवजोत सिद्धू, प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा आज संभव Punjab Politics INCIndia INCIndia सिद्धू भाई अभी वहीँ कांग्रेस में बने रहो इधर उधर ध्यान मत लगाओ लेकिन अगला निशाना आप पार्टी है ये याद रखना 🤣🤣🤣

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बने रहेंगे सिद्धू, जल्द हो सकती है प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा |Punjab Congress Crisis: पंजाब कांग्रेस में सत्ता परिवर्तन के बाद भी राजनीतिक घमासान नहीं थमा है। फिलहाल, महीनेभर बाद भी आलाकमान से लेकर स्थानीय तौर पर नेता स...