Nirbhaya Gang Rape Case, Nirbhaya Convicts, Advocate Ap Singh, Delay In Execution, Death Warrant, Legal Option, Delhi News

Nirbhaya Gang Rape Case, Nirbhaya Convicts

आजतक के तीखे सवालों पर क्या-क्या बोले निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह

निर्भया के दोषियों के वकील से तीखे सवाल

07-02-2020 21:32:00

निर्भया के दोषियों के वकील से तीखे सवाल

जब एडवोकेट सिंह से पूछा गया कि क्या निर्भया के दोषियों की तरफ से कोर्ट में दलील रखकर आने के बाद आपको नींद आती है, तो उन्होंने कहा कि यहां निर्दोष लोगों को हत्या करने वाले आतंकियों को वकील तक मुहैया कराया जाता है, तो निर्भया के दोषियों के लिए कानूनी लड़ाई लड़ने में क्या दिक्कत है?

निर्भया के दोषियों के वकील ए. पी. सिंह से जब सवाल किया गया कि आप कानून का दुरुपयोग करके निर्भया के दोषियों को बचाने की कोशिश क्यों कर रहे हैं, तो उन्होंने कहा, 'मैं कानून का दुरुपयोग नहीं कर रहा हूं, बल्कि उन कानूनों का प्रयोग कर रहा हूं, जिनको भारत के संविधान ने हमको दिया है और सीआरपीसी व जेल मैनुअल में शामिल किए गए हैं. मैं संविधान के अनुच्छेद 21 और 72 में जो प्रावधान किए गए हैं, उनका सही तरीके से इस्तेमाल कर रहा हूं.'

सचिन पायलट बोले- 25 MLA मेरे साथ बैठे हैं, 102 का गलत दावा कर रहे हैं अशोक गहलोत सचिन के पिता राजेश पायलट ने भी की थी बगावत, लेकिन नहीं छोड़ी थी कांग्रेस कोरोना संकट के बीच अच्छी खबर, 40 हजार फ्रेशर्स को नौकरी देगी आईटी कंपनी TCS

एडवोकेट ए. पी. सिंह ने यह भी दावा किया कि भविष्य में लॉ स्टूडेंट और रिसर्चरों के लिए निर्भया का यह केस लैंडमार्क जजमेंट साबित होगा. जब सिंह से पूछ गया कि कानूनी दांव-पेंच के जरिए आप इंसाफ और दोषियों की फांसी को लटका क्यों रहे हैं, तो उन्होंने दलील दी, 'यह हिंदुस्तान के इतिहास में पहली बार है, जब चार लोगों को एक साथ फांसी देने की साजिश हो रही है. जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा था कि निर्भया के दोषी कम उम्र हैं. इनकी फांसी की सजा खत्म कर देनी चाहिए.'

निर्भया के दोषियों ने मीडिया और नेताओं पर उठाए सवालइस दौरान निर्भया के दोषियों के वकील ए. पी. सिंह ने आरोप लगाया कि मीडिया ट्रायल, पब्लिक प्रेशर और पॉलिटिकल प्रेशर की वजह से निर्भया के दोषी बचाए नहीं जा पा रहे हैं. इस मामले को राज्यसभा और  लोकसभा तक में उठाया जा रहा और कानून मंत्री को इस पर जवाब देना पड़ रहा है. दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर निर्भया मामले में बीजेपी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस को प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ रही है.

ये ज़रूर पढ़ेंः अलग-अलग फांसी से HC का इनकार, केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'मैं एक एडवोकेट हूं और मेरे लिए सभी केस बराबर हैं, लेकिन यह केस मीडिया के लिए टीआरपी का जरिया हो सकता है.' हालांकि जब उनसे टीआरपी का फुलफॉर्म पूछा गया, तो वो अटक गए. इसके बाद एडवोकेट ए. पी. सिंह ने कहा कि इस केस की सुनवाई के दौरान पटियाला हाउस कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक में कोर्ट रूम मीडियाकर्मियों से फुल हो जाते हैं.

उन्होंने दावा किया कि देश के सांसदों को अपने क्षेत्र में होने वाली रेप की वारदातों की जानकारी नहीं है, लेकिन वो निर्भया पर जरूर बोलते हैं. इसकी वजह यह है कि यह मामला मीडिया की सुर्खियों में रहता है.निर्भया की मां को अंगुली दिखाने के आरोप को किया खारिज

इस दौरान एडवोकेट ए. पी. सिंह ने निर्भया की मां के उस आरोप को भी सिरे से खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि दोषियों के वकील ए. पी. सिंह ने अंगुली दिखाकर कहा है कि दोषियों को कभी फांसी नहीं होने दूंगा. यह फांसी अनंतकाल के लिए टल जाएगी. ए. पी. सिंह ने कहा, 'कोर्ट में मीडिया के लोग भी मौजूद रहते हैं. भला मैं निर्भया की मां को कुछ क्यों कहूंगा?'

जब दोषियों से वकील से पूछा गया- क्या नींद आती है? उन्होंने कहा कि अगर मान भी लिया जाए कि पवन, अक्षय और विनय ने अपराध किया भी है, तो भी उनको सुधरने का मौका दिया जाना चाहिए. वो आतंकवादियों की तरह आदतन अपराधी नहीं हैं. वो सात साल से जेल में हैं.यह  भी पढ़ें: निर्भया केस: अलग-अलग फांसी से HC का इनकार, केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

राजस्थान में फुल सियासी एक्शन, गहलोत के बेटे के बिजनेस पार्टनर पर ED का शिकंजा PM मोदी ने गूगल CEO सुंदर पिचाई से की डेटा-साइबर सुरक्षा पर बात गहलोत ने जुटा लिए सौ से ज्यादा विधायक, अब क्या करेंगे सचिन पायलट?

इस दौरान एडवोकेट सिंह ने दलील दी कि सुप्रीम कोर्ट कई मामलों में दोषियों की फांसी की सजा को रोक चुका है. जब उनसे पूछा गया कि क्या आपको सिर्फ निर्भया के दोषियों के मानवाधिकारों की चिंता है और निर्भया के मानवाधिकारों की चिंता नहीं हैं, तो उन्होंने कहा, 'मुझको सभी के मानवाधिकारों की चिंता है. हालांकि न्याय सभी के लिए होना चाहिए. इसके बावजूद अगर कोई कहता है कि कानून में खामी है, तो इसको बदला क्यों नहीं जाता है?'

दोषियों के वकील ने कहा- मैं न ब्रह्मा हूं और न यमराज और पढो: आज तक »

Dear Adovacate ,if this case was happening with your Daughter then . BhagwAn ise bhi whi din dikhaye Vakil sahab ko bhi ek mic diya hota भावनांओ से बडा कर्तव्य होता हैं अंजनाजी!According to Article21,72 सही कर रहे हैं!दुनिया मैं से फाशी हद्दपार हो गई है,न्याय के लिये हत्या के बदले हत्या इस प्रकार नही होता, बल्की स्कूलो में नैतिकता,यौन शिक्षा की जरूरत है,आपको बेरोजगारी नही दिखेगा, आपको पाक,हिंदू मुस्लिम,370 दिखेगा!

वाह क्या बात है, अब आपलोग भी सस्ती लोकप्रियता के चक्कर में इस को सफ़ाई देने के लिए अपना मंच उपलब्ध कराने लगे? इसे भी हीरो बनाने का इरादा है क्या ये शातिर आदमी केवल सिस्टम की खामियों का दुरुपयोग कर रहा है और कुछ नही। Tak wale in jaise ko manch kyo dete hai lagta hai inki roji roti in jaiso ki wajah se hi chalti hai

इन जैसी सोच वाले वकील के कारण हिं लोगो का न्याया पद्धति पर से भरोसा उठ गया है और लोग तात्कालिक न्याया को पसंद करने लगे है और लोगो लोगो को न्याया के लिए वर्षों नहीं दसको इंतजार कर पड़ता है निर्भया निर्भया_के_दोषियों_को_फाँसी_दो AnjanaOmKashyap Nirbhaya anjanaomkashyap Is madarchod ko maaro . He is real rapist.

कानून में जब इतने छेद हो, कोई वकील क्यों नही उसका फायदा उठाएगा। किसी भी वकील में वकालत की काबलियत अगर है तो शाबाशी का हकदार उसे अवश्य होना चाहिए। Don't blame d lawyer. Blame d loopholes in d system. Agr ye camera samne na hota toh mem ye vakil me bhi aapko vhi rakshas dikh jata🖐🏻😏 दल्ली पत्रकार 7 सालों से कोई सवाल नही पूछा....? वैसे जो एक बार फांसी होने से बच जाता है उससे फांसी देने का अधिकार नही होता ।

This news channel must ashamed or feel sorry on interviewing “HIM” What he or Aaj tak can do.. if same thing will happened to there known one.. Sorry but Evils must be dead.. हमारे देश का कानून भी तो ऐसा ही ह जब उसकी बेटी के साथ ऐसा होगा तब भी ये यही बोलेगा Why AAJ tak approach to him.. he is saving Evils.. Can Aaj tak approach Victims Lawyer !! Stop selling news on this case.. let’s help to get justice at very earliest..

APsingh गलत नहीं हमारे न्याय ब्यवस्था गलत है... APsingh का गलती ये है कि वो सारे कानूनी लूपहोल्स को जानते हें ! NirbhayaCase Is wakeel ka registration cancel hona chahiye... shakal se hi rakshak lagta hai... shams yahi khan kam the jo anjana om kashyap bhi is kutte ka intetview lene baith gai.. अगर कोई पूछे वर्तमान में भारत का सबसे अच्छा वकील कौन है तो निःसंदेह एपी सिंह का नाम आना चाहिए जिसने अपनी वकालत की वजह से इतने ओपन केस को 7-8 साल तक फसाए रखा..

इस वकील की वकालत पर पाबंदी लगनी चाहिए। ये बहुत हरामी वकील है।

निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह और Anjana Om Kashyap के साथ बातचीतजब anjanaomkashyap ने पूछे निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह से तीखे सवाल पूरा वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें : anjanaomkashyap This is exactly what he wanted. anjanaomkashyap anjanaomkashyap इस वकील की पिटाई होनी चाहिए उसी जगह जहा पर वो है

निर्भया मामला : हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ केंद्र की अपील पर शुक्रवार को सुनवाईनई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय पूरे देश को हिलाकर रख देने वाले निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्याकांड के चारों दोषियों को अलग-अलग फांसी नहीं दिए जाने संबंधी दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ केंद्र सरकार की अपील पर शुक्रवार को सुनवाई करेगा।

निर्भया कांड : सुप्रीम कोर्ट आज करेगा दोषियों के कानून से खिलवाड़ की समीक्षासुप्रीम कोर्ट आज केंद्र सरकार के उस तर्क की समीक्षा करेगा, जिसमें मामले के चारों दोषियों द्वारा फांसी को टालने के लिए कानून से खिलवाड़ किया जा रहा है। NirbhayaVerdict NirbhayaCase SupremeCourt

निर्भया के दोषी अक्षय की नई चाल, राष्ट्रपति को फिर लिखी चिट्ठीAre koi pen lelo be inse..Roz chitthi likh dete Hain ye Bjp के सदस्य हैं बेचारे लाख यत्न कर रहे हैं इस घटिया इंसान की वजह से सोच रहा हु मैं अपना नाम ही बदल लू, जितनी बार इसका नाम देखता हूं बहुत अजीब लगता है।

Nirbhaya Case : नए डेथ वारंट के लिए कोर्ट ने दोषियों से मांगा जवाबनई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले में तिहाड़ जेल के अधिकारियों द्वारा नए सिरे से मृत्यु वारंट जारी करने को लेकर गुरुवार को दायर याचिका पर मौत की सजा पाए चारों दोषियों से शुक्रवार तक जवाब मांगा।

सावरकर के अंग्रेज़ों से माफ़ी मांगने के मामले में सरकार के बयान में कितनी सच्चाई?सवाल उठा था कि क्या सावरकर ने जेल में रहते हुए ब्रिटिश हुकूमत से माफ़ी मांगी थी. Dlla bbc Tumhe badi chinta hai Bhand British Channel... गाँधी की जगह सावरकर का फोटो नोटों पर लगाने की योजना है ?

राहुल गांधी का हमला, कहा- PM मोदी के रहते भारत की जमीन को चीन ने कैसे छीन लिया सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन Amitabh Bachchan Covid 19 Positive: अमिताभ बच्चन को कोरोना, मुंबई के नानावटी अस्पताल में किया गया एडमिट कांग्रेस सांसदों की बैठक में फिर उठी राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग अमिताभ हुए कोरोना पॉजिटि‍व, सेहत के लिए दुआ मांग रहे नेता-अभिनेता LIVE: खतरे में गहलोत सरकार, पायलट खेमे के विधायक आज देर रात दे सकते हैं इस्तीफा Coronavirus Vaccine News: कोरोना वैक्‍सीन पर रूस ने मारी बाजी, सेचेनोव विश्वविद्यालय का दावा सभी परीक्षण रहे सफल कर्फ्यू के दौरान बिना मास्क घूम रहे थे मंत्री के समर्थक, रोकने वाली पुलिसकर्मी ने दिया इस्तीफा सचिन पायलट थाम सकते हैं BJP का हाथ, 30 विधायकों के भी कांग्रेस छोड़ने के कयास ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर पायलट! 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें अमिताभ के बाद बेटे अभिषेक बच्चन भी निकले कोरोना पॉजिटिव, हुए एडमिट