आग्रह : कांग्रेस नेता शशि थरूर बोले- सीएए 'मूलरूप से राष्ट्र विरोधी', सरकार इसे लागू न करे

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने शुक्रवार को नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) को मूल रूप से राष्ट्र विरोधी करार दिया

Caa, Shashitharoor

04-12-2021 00:35:00

आग्रह : कांग्रेस नेता शशि थरूर बोले- सीएए 'मूलरूप से राष्ट्र विरोधी', सरकार इसे लागू न करे CAA ShashiTharoor Parliament WinterSession WinterSession2021 Law AntiNational INCIndia

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने शुक्रवार को नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) को मूल रूप से राष्ट्र विरोधी करार दिया

इसे साल 2019 में संसद द्वारा पारित किया गया था और तब देश के विभिन्न हिस्सों में इसके खिलापफ विरोध-प्रदर्शन हुए थे। सरकार की ओर से तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा के बाद से ही सीएए को भी वापस लेने की मांग जोर पकड़ रही है। ऐसे में संसद के शीत सत्र के दौरान आया शशि थरूर का यह बयान एक बार फिर सीएए के मुद्दे को हवा देता दिख रहा है।

कश्मीर प्रेस क्लब के कैंपस को सरकार ने अपने नियंत्रण में क्यों लिया - BBC Hindi

थरूर ने अपनी बात कहने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। उन्होंने एक ट्वीट किया कि सीएए मूल रूप से राष्ट्र-विरोधी है और मैं सरकार से इसे लागू नहीं करने का आग्रह करता हूं। सीएए का उद्देश्य पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों- हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई को भारतीय नागरिकता प्रदान करना है। इसके तहत इन समुदायों के लोग जो इन देशों में धार्मिक उत्पीड़न के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए थे, उन्हें अवैध अप्रवासी नहीं माना जाएगा, बल्कि उन्हें भारतीय नागरिकता दी जाएगी।

संसद द्वारा सीएए कानून के पारित होने के बाद देश में व्यापक स्तर पर लोगों ने विरोध-प्रदर्शन किए थे। सीएए का विरोध करने वालों का तर्क है कि यह धर्म के आधार पर भेदभाव करने वाला है और संविधान का उल्लंघन करता है। उनका यह भी आरोप है कि सीएए कानून के साथ-साथ राष्ट्रीय नागरिक पंजी का उद्देश्य भारत में मुस्लिम समुदाय को लक्षित करना है। headtopics.com

विस्तार और सरकार से इसे लागू नहीं करने का आग्रह किया। सीएए कानून में पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के उत्पीड़ित गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने का प्रावधान है।विज्ञापनइसे साल 2019 में संसद द्वारा पारित किया गया था और तब देश के विभिन्न हिस्सों में इसके खिलापफ विरोध-प्रदर्शन हुए थे। सरकार की ओर से तीनों कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा के बाद से ही सीएए को भी वापस लेने की मांग जोर पकड़ रही है। ऐसे में संसद के शीत सत्र के दौरान आया शशि थरूर का यह बयान एक बार फिर सीएए के मुद्दे को हवा देता दिख रहा है।

Opinion Poll 2022: जानें जनता की राय में पीएम की रेस में कौन आगे?

थरूर ने अपनी बात कहने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। उन्होंने एक ट्वीट किया कि सीएए मूल रूप से राष्ट्र-विरोधी है और मैं सरकार से इसे लागू नहीं करने का आग्रह करता हूं। सीएए का उद्देश्य पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों- हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई को भारतीय नागरिकता प्रदान करना है। इसके तहत इन समुदायों के लोग जो इन देशों में धार्मिक उत्पीड़न के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए थे, उन्हें अवैध अप्रवासी नहीं माना जाएगा, बल्कि उन्हें भारतीय नागरिकता दी जाएगी।

संसद द्वारा सीएए कानून के पारित होने के बाद देश में व्यापक स्तर पर लोगों ने विरोध-प्रदर्शन किए थे। सीएए का विरोध करने वालों का तर्क है कि यह धर्म के आधार पर भेदभाव करने वाला है और संविधान का उल्लंघन करता है। उनका यह भी आरोप है कि सीएए कानून के साथ-साथ राष्ट्रीय नागरिक पंजी का उद्देश्य भारत में मुस्लिम समुदाय को लक्षित करना है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

चुनावों का सबसे बड़ा Opinion Poll: देखिए #DNA LIVE Sudhir Chaudhary के साथ

ममता बनर्जी ने किया राष्‍ट्रगान का अपमान, भाजपा नेता ने दर्ज कराई शिकायतमुंबई। भाजपा के एक नेता ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर राष्ट्रगान के अपमान के आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि सीएम बनर्जी ने मुंबई यात्रा के दौरान बैठकर राष्ट्रगान गाया।

दिल्ली: फार्म हाउस के बाहर 1 करोड़ रुपये के ड्रग्स बरामद, किसान नेता गिरफ्तारदिल्ली के घिटोरनी इलाके में एक फार्म हाउस के बाहर से ड्रग्स बरामद किए गए हैं. यहां एक मिनी ट्रक से तकरीबन 1 करोड़ रुपए की ड्रग बरामद हुई है. इसके साथ दो आरोपियों को भी गिरफ्तार किया गया है. पुलिस को जानकारी मिली है कि ड्रग्स की सप्लाई करने वाला कोई और नहीं, बल्कि एक किसान नेता रंजीत रैना है. arvindojha फार्म हाउस के मालिक का नाम क्या है ? arvindojha कोई बात नही। arvindojha किसान नेता का एक और चेहरा जनता के बीच आ गया। फार्म हाउस से ड्रग्स की सप्लाई चल रही है।जिसे दिल्ली पुलिस ने प्रभावित कर दिया है।😀

केरल में CPM नेता की हत्या, पार्टी ने RSS को ज़िम्मेदार ठहराया - BBC Hindiकेरल में गुरुवार को CPI (M) के स्थानीय सचिव संदीप कुमार की चाकू मारकर हत्या कर दी गई. उनकी पार्टी ने इसके लिए RSS को ज़िम्मेदार ठहराया है. Hi sir I've been facing financial problem & jobless since 2020. I have lost my job meanwhile my debts have increased to rs3Lakhs.Sir help me to get a job & lend me some money to pay the creditors & I will pay you back in Emi.9010659866 I'll give surity.about2di आर एस एस और बी जे पी अपनी बात मनवाने के लिए कुछ भी कर सकती है। खून भी करवा सकती है दंगा भी करवा सकती है No news from BBC

किसान नेता Rakesh Tikait से कांग्रेस का रिश्ता क्या कहलाता है? रणदीप सुरजेवाला ने किया 'खुलासा'Agenda aaj tak 2021: दरअसल, सुरजेवाला से सवाल किया गया था कि भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत से आपका रिश्ता क्या कहलाता है, और बार-बार आरोप लगते हैं कि आप राकेश टिकैत से साथ कुछ मैनेज कर रहे हैं? Areee kitne chaaplusi kroge Iss ko bhi agenda bna do Congress ke rishte tikait se breaking news Sudhr jao bootlickers पैसे का रिश्ता है इसके अलावा कुछ नहीं।

कर्नाटक: कांग्रेस नेता के खिलाफ भाजपा विधायक की हत्या की साजिश रचने के आरोप, सीएम बोम्मई बोले- जांच जारीकर्नाटक: कांग्रेस नेता के खिलाफ भाजपा विधायक की हत्या की साजिश रचने के आरोप, सीएम बोम्मई बोले- जांच जारी Karnataka BJP BasavrajBommai Congress

कुछ इस अंदाज में चुनावी अखाड़े में उतरने को तैयार हैं यूपी के ये बाहुबली नेता | UP Elections 2022UP Assembly Election 2022: बीजेपी (BJP) से लेकर सपा (SP) और कांग्रेस (Congress) से लेकर बसपा (BSP) तक, इन दिनों सूबे की तमाम पार्टियां यूपी विधानसभा चुनावों (Assembly Elections) को लेकर तैयारियों में जुटी हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yog Adityanath) हों या सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav), बीएसपी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) हों या कांग्रेस के राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) हर कोई चुनावी रणनीति बनाने में जुटा है। रणनीति बनाने में यूपी के दस चर्चित बाहुबली नेता भी जुटे हैं, जिनमें राजा भइया (Raja Bhaiya) से लेकर अतीक अहमद (Ateeq Ahmad), डी.पी.यादव (D P Yadav) और मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) तक के नाम शामिल हैं। ऐसे में यह जानना खास होगा कि इस क्षेत्र के बाहुबली यूपी विधानसभा चुनाव की कैसी तैयारी कर रहे हैं, आइये देखते हैं जनसत्ता की ये खास रिपोर्ट...