Re, Ram Temple, Saryu, राम मंदिर, सरयू, भगवान राम, Lord Ram

Re, Ram Temple

अगले साढ़े तीन साल में पूरा होगा प्रोजेक्ट, रामायण म्यूजियम भी बनेगा

अयोध्या में सरयू नदी के तट पर भगवान राम की विशाल प्रतिमा स्थापित करने की योजना है #RE

03-08-2020 23:30:00

अयोध्या में सरयू नदी के तट पर भगवान राम की विशाल प्रतिमा स्थापित करने की योजना है RE

मॉडल के तौर पर अभी जो भगवान राम की प्रतिमा 12 फीट की नजर आ रही है, अगले साढ़े तीन साल में हू-ब-हू इसी के जैसी ढाई सौ मीटर से ज्यादा ऊंची भगवान राम की प्रतिमा सरयू तट पर खड़ी होगी.

कुलभूषण जाधव मामले में इस्लामाबाद HC ने वकील रखने की दी इजाजत प्रतिमा 200 मीटर की होगी और उसके नीचे करीब 50 मीटर ऊंचाई के भवन का आधार होगा. वहीं रामायण म्यूजियम बनाने का प्लान है. जमीन से प्रतिमा की ऊंचाई लगभग 251 मीटर होगी. रामलला का मंदिर और सरयू नदी के तट पर लगाई जाने वाली भगवान राम की प्रतिमा के साथ ही आकार लेने की संभावना है.

विशेष: Corona की हिंदुस्तानी Vaccine तैयार, बस वैज्ञानिकों की हरी झंडी का इंतजार GHMC चुनाव में BJP की आंधी पर बोले Owaisi- तूफान आपके सामने बैठा है #FamersProtest किसान संगठनों का 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi

आजानुबाहु रामकांसे से बनी 200 मीटर ऊंची प्रतिमा पूरी तरह से स्वदेशी होगी. यानी परिकल्पना से लेकर ढलाई और फिटिंग तक सारा काम अपने देश में ही होगा. प्रतिमा में ‘आजानुबाहू’ धनुषधारी राम का सौम्य मुस्कान वाला स्वरूप होगा. आजानुबाहु यानि जिसकी भुजाएं उसके घुटनों के भी नीचे तक पहुंचती हो. हिंदू मान्यता के मुताबिक, आजानुबाहु केवल श्रीराम ही हुए हैं. राम का आजानुबाहु होना उनकी धनुर्विद्या के लिए वरदान सिद्ध हुआ था.

कौन हैं शिल्पकार?भगवान राम की भव्य प्रतिमा की कल्पना को साकार करेंगे शिल्पकार नरेश कुमावत. वे दिन रात इस मिशन में जुटे हैं. दुनिया के 60 देशों में भगवान के विभिन्न अवतारों, स्वरूपों की प्रतिमाओं का साकार करने का कुमावत को अनुभव है. इसके अलावा वो राजनेताओं, चर्चित हस्तियों की विशाल प्रतिमाओं का शिल्प भी कर चुके हैं.

कौन हैं सलिल सिंघल जो होंगे राम मंदिर के भूमि पूजन में मुख्य यजमान भगवान राम की ऐसी प्रतिमा की आकृति मंदिर के मॉडल के सामने भी मौजूद है. भूमि पूजन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस प्रतिमा की आकृति भेंट की जानी है. इसे नरेश कुमावत और उनके भतीजे आकाश कुमावत ने तीन दिन में तैयार किया.

और पढो: आज तक »

Coronavirus: मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में पीएम मोदी ने कोरोना पर क्या दिया मंत्र? देखें स्पेशल रिपोर्ट

देश में कोरोना संकट पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रदेश के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की. मोदी ने साफ कहा कि अभी दवाई आई नहीं है और दवाई आएगी कब ये वैज्ञानिक बताएंगे. लिहाजा राज्य पूरी सावधानी बरतें. मोदी ने वैक्सीन के वितरण पर केंद्र और राज्य के सहयोग पर जोर दिया. इस दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की क्लास भी लग गई. कोरोना संकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ नौवीं बार बैठक की तो कोरोना के बारे में चेता भी दिया. राज्यों को सतर्कता बरतने के लिए कहा तो ये भी साफ कर दिया कि उन्हें नहीं पता कि कोरोना की दवाई कब आएगी, कितनी डोज देनी होगी. ये सब सिर्फ वैज्ञानिकों को ही पता है. देखिए स्पेशल रिपोर्ट, अंजना ओम कश्यप के साथ.

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की प्रतिमा,सकारात्मक ऊर्जा, आस्था, विश्वास,के साथ लोगों के मन में एक सकारात्मक उत्साह पैदा करेगी, हिंदू धर्म में मूर्ति पूजा को लेकर बहुत बड़ी आस्था है,उसी दृष्टिकोण से ये प्रतिमा भी बनायी जा रही..स्वागत है इस फ़ैसले का प्रतिमाओं पर टिप्पणी करने वाले आज खुद प्रतिमाएँ स्थापित करने में लगे हुए हैं...🤔🤔🤔

Haath Mein dhanush hai lekin TEER pata nahi kitne DILON ko CHEER ke par hoga Pls stop covering event like this to have communal harmony, a temple is being built there nothing great about it. Great पत्रकारिता और पब्लिक रिलेशन्स (PR) के बीच एक महीन सी रेखा हैं जो दाेनाें काे एक दुसरे से अलग बनाती हैं। पत्रकार का काम हाेता है कि चाहे झूठ हाे या सच उसे बेच डालना! हमारे देश में झुठ गाेदी मीडीया झूठ बेच रही है लाचार पढी लिखी जनता ये देख रही है!.

लद्दाख में तैनात जवानों की कलाइयों पर सजीं पूर्वोत्‍तर की बहनों की राखियां, देखें तस्‍वीरेंजिनके कंधों पर दुश्‍मनों से देश की सुरक्षा का जिम्‍मा है, उन सैनिकों की कलाई भला कैसे सूनी रह सकती है। रक्षा बंधन से पहले ही बॉर्डर पर तैनात जवानों तक जहां राखियां पहुंच रही हैं, वहीं जो यहीं पर हैं, उनकी कलाइयों पर भी राखी सजने लगी है। दिल्‍ली में रविवार को केंद्र सरकार ने एक खास कार्यक्रम आयोजित किया। इसमें पूर्वोत्‍तर के राज्‍यों की महिलाओं ने उन जवानों को राखी बांधी जिनकी टुकड़‍ियों की तैनाती जम्‍मू कश्‍मीर और लद्दाख में है। इनमें सैन्‍य/अर्धसैनिक बलों के जवान शामिल थे। पूर्वोत्‍तर क्षेत्र के विकास राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) जितेंद्र सिंह की देखरेख में यह कार्यक्रम हुआ।

सुसाइड से पहले सुशांत ने गूगल पर सर्च की ये तीन चीजें, अपना नाम और...Sushant ek aisa banda tha jo itna talented tha, us ko kya jarurat bipolar disorder ke bare me Google karna jab ki us ko duniya bhar ka gyan tha. aur kya proof hain ki Sushant he check kar raha tha? us ke mobile se Rhea bhi ho sakti ya rhea ka bhai..... Lajabab.. Appko. Jada money. Miligaya movie mafia se We know all these are planted by the people who murdered him on 14th June. They did all these google searching after they murdered him. ShameOnMumbaiPolice ShameOnMahaGovt UddhavResignOrCBI4SSR

सुशांत मामले में कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने की CBI जांच की मांगGreat 👍👍 बयान ही दे रहे हैं पुलिस को ही पत्र क्यों नहीं लिख देते पर बयान भी तब तक ही देगा जब तक राजमाता गंगाराम हॉस्पिटल में भर्ती है जैसे ही एंटोनिया माइनो बाहर आएगी बयान अपने आप अंदर घुस जाएगा First of all it is not a suicide case. Please don’t write that. Later or sooner the TRUTH will come out. CBIforShushant

नासा की नई तस्वीरों से जगी भारत की उम्मीद, चंद्रयान मिशन को लेकर फिर बढ़ी दिलचस्पीचंद्रयान-2 मिशन पर रोवर (प्रज्ञान) को लेकर रवाना हुए विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग के प्रयास विफल रहने के 10 महीने बाद नासा की

यूपी: महिलाओं की सुरक्षा का जिम्मा संभालेंगी 'स्वयंसिद्ध' की टीमसार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं की सुरक्षा और बेहतर बनाने के लिए एक नई महिला पेट्रोलिंग टीम का गठन किया जा रहा है. जिसका संपूर्ण संचालन महिला पुलिसकर्मियों द्वारा किया जायेगा. TanseemHaider मतलब योगी सरकार फेल हो गई इस जंग में TanseemHaider ? To Police kya karegi?

जीतू पटवारी ने पीएम के विमान की तस्वीर बताकर शेयर की फेक फोटो!अगर ऐसा है तो भाई तुम लोगों को तो गर्व होना चाहिए अपने देश पर कि हमारा देश किसी से कम नहीं पप्पू का ड्राइवर है ये कम अक्ल,पर इनाम में मंत्री बने बैठे थे😉 BJP4MP जिसका नेता ही फेक और फेंक हो तो उसके चाटुकार और समर्थक कैसे होंगे,इसे जानने हेतु क्या किसी को रॉकेट साइंस की डिग्री हासिल करनी होगी?