Spain, Abortion

Spain, Abortion

अंतरात्मा जागृति अभियान: स्पेन में महिलाओं को गर्भपात का अधिकार, पर डॉक्टरों का इनकार; बोले- जीना या मरना हम तय नहीं करते

अंतरात्मा जागृति अभियान: स्पेन में महिलाओं को गर्भपात का अधिकार, पर डॉक्टरों का इनकार; बोले- जीना या मरना हम तय नहीं करते #Spain #abortion

22-09-2021 11:42:00

अंतरात्मा जागृति अभियान: स्पेन में महिलाओं को गर्भपात का अधिकार, पर डॉक्टरों का इनकार; बोले- जीना या मरना हम तय नहीं करते Spain abortion

स्पेन में महिलाओं को गर्भपात का अधिकार प्राप्त है। कई महिलाएं गर्भपात कराती भी हैं। लेकिन कई ऐसी महिला डॉक्टर भी हैं, जो गर्भपात करने से साफ इनकार भी करती हैं। ऐसी स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉक्टरों का कहना है कि वे महिलाओं के गर्भपात करने के अधिकार का सम्मान करती हैं। उनका कहना है कि कोई भी महिला वो फैसला कर सकती है जो उसके लिए बेहतर और सही हो। साथ ही महिला डॉक्टरों का भी ये अधिकार है कि वो गर्भपात करने... | Women in Spain have the right to abortion , but doctors refuse, said - we do not decide whether to live or die

अंतरात्मा जागृति अभियान:स्पेन में महिलाओं को गर्भपात का अधिकार, पर डॉक्टरों का इनकार; बोले- जीना या मरना हम तय नहीं करतेमैड्रिडलेखक: निकोलस केसीकॉपी लिंकडॉक्टरों ने कहा कि हम बेहतर जीवन मुहैया कराते हैं, कई महिला डॉक्टर इस अभियान के समर्थन में हैं।स्पेन में महिलाओं को गर्भपात का अधिकार प्राप्त है। कई महिलाएं गर्भपात कराती भी हैं। लेकिन कई ऐसी महिला डॉक्टर भी हैं, जो गर्भपात करने से साफ इनकार भी करती हैं। ऐसी स्त्रीरोग विशेषज्ञ डॉक्टरों का कहना है कि वे महिलाओं के गर्भपात करने के अधिकार का सम्मान करती हैं। उनका कहना है कि कोई भी महिला वो फैसला कर सकती है जो उसके लिए बेहतर और सही हो। साथ ही महिला डॉक्टरों का भी ये अधिकार है कि वो गर्भपात करने से इनकार कर दे।

म्यांमार में कई बम धमाके, सैन्य सत्ता के खिलाफ़ बढ़ता जा रहा है विरोध - BBC Hindi Petrol, Diesel Price Today : दिल्ली में 108 के पार पेट्रोल, आज भी 35 पैसे महंगा हुआ तेल, देखें ताजा रेट आगरा: पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के आरोप में तीन कश्मीरी छात्र गिरफ़्तार - BBC Hindi

स्पेन के सरागोजा शहर की महिला डॉक्टर मर्सेडीज सोबरीवेला का कहना है कि वो गर्भपात का ऑपरेशन नहीं करती हैं। डॉ. सोबरीवेला का कहना है कि हम लोग डॉक्टर हैं। हम लोगों को बेहतर जीवन जीने के लिए जरूरी मे मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराते हैं।गर्भपात जीने के अधिकार के खिलाफ

हम बतौर डॉक्टर ये फैसला नहीं कर सकते हैं कि किसको जीना है और किसको मरना है। स्पेन में गर्भपात के विरोध में अंतरात्मा जागृति का अभियान चल रहा है। इसके समर्थकों का कहना है कि गर्भपात जीने के अधिकार के विरुद्ध है। कई महिला डॉक्टर इस अभियान के समर्थन में हैं। कुछ महिला डॉक्टर गर्भपात ऑपरेशन नहीं करती हैं। headtopics.com

दुनिया के कई देशों में गर्भपात को लेकर बहस छिड़ीदुनिया के कई देशों में गर्भपात को लेकर बहस छिड़ी हुई है। अमेरिका के राज्य टेक्सास, मेक्सिको, अर्जेन्टीना, आयरलैंड, पोलैंड ऐसे कुछ देश हैं जहां गर्भपात के समर्थन और विरोध में लगातार प्रदर्शन चलते रहते हैं। अंतरात्मा जागृति अभियान के समर्थन के कारण कई महिला डॉक्टर गर्भपात से इनकार कर रही हैं।

और पढो: Dainik Bhaskar »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

Apne desh me to doctor 100 rs me bik jaate hai..besharm

स्कूटर में चाहिए ब्लूटूथ तो ये ऑप्शन हैं सबसे बेस्ट, मिलता है कॉलिंग का भी फीचरआप अगर आम स्कूटर्स से थोड़ा ज्यादा बजट बना सकते हैं तो मार्केट में कुछ अच्छे ब्लूटूथ स्कूटर्स भी अवेलेबल हैं जो आपके स्मार्टफ़ोन से कनेक्ट हो जाते हैं। ये स्कूटर्स भी अपने सेगमेंट के कुछ सबसे बेहतरीन फीचर्स के साथ आते हैं।

मह‍िलाओं के हकों पर Taliban का डाका, महिला मामलों के मंत्रालय पर भी तालातालिबान की सरकार आने के बाद महिलाओं पर जोर जुल्म का सिलसिला पहले हफ्ते में ही शुरू हो गया था. साफ हो गया था कि तालिबान महिलाओं के हकों को लेकर बातें चाहे बड़ी-बड़ी करे लेकिन उसके असल इरादे कुछ और हैं. इसके बावजूद अफगानिस्तान में महिलाएं दम साधे इस बात का इंतजार करती रहीं कि तालिबान को अक्ल आएगी और वो अपने वादों के मुताबिक महिलाओं के लिए कुछ नरमी दिखाएगा. लेकिन अब ये उम्मीद धुंधला रही है और यही वजह है कि काबुल की सड़कों पर नारेबाजी करने के बाद ये महिलाएं महिला मामलों के मंत्रालय की उस इमारत के बाहर पहुंची जिस पर अब ताला जडा जा चुका है.ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

भोपाल में गड्ढे में 'सरकार' का आदेश, प्रदेश की सबसे महंगी सड़क भी खस्ताहाल!मध्यप्रदेश में बारिश के चलते सड़कों की हालात खराब हो गई है। जिलों और ग्रामीण इलाकों की बात तो दूर राजधानी भोपाल में मुख्य सड़कों में गड्ढे ही गड्ढे नजर आ रहे है। यह हालात तब है कि जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद सड़कों में गड्ढों पर नाराजगी जताते हुए तत्काल गड्ढों को भरने के निर्देश दिए थे।

अपनी गाड़ी का फास्टटैग रिचार्ज करना हुआ अब और भी आसानडिजिटल करंसी का उपयोग दुनिया में बढ़ता जा रहा है। एलन मस्क और जेफ बेजोस जैसे दुनिया के नामी व्यापारी इसकी तरफदारी भी कर रहे हैं। भारत में भी इसका उपयोग और दायरा बढ़ रहा है। एक स्टार्टअप ने तो क्रिप्टोकरंसी से गाड़ियों का फास्टटैग रिचार्ज करने की सुविधा भी शुरू कर दी है।

भारी बारिश से कोलकाता एयरपोर्ट का रनवे लबालब, ATC में भी आईं दिक्कतेंकोलकाता में बादल खूब बरस रहे हैं. सिटी ऑफ जॉय घुटनों तक पानी में डूब गया है. कुछ घंटे की मूसलाधार बारिश के बाद शहर तालाब बन गया है. जगह-जगह गाड़ियां फंसी हैं. ऐसा लगता है सड़कों पर गाड़िया चल नहीं रही तैर रही हैं. शहर में जगह-जगह जलभराव से मुसाफिरों की मुश्किल बढ़ गई है. मौसम विभाग ने बंगाल की खाड़ी में छाए बादलों की वजह से अगले 2 से 3 घंटे भारी बारिश की आशंका जताई है. टीएमसी सांसद सौगत राय के घर के बाहर सड़क पर भी पानी भर गया है. घुटने भर पानी में घूमते दिखे सांसद सौगत राय. कोलकाता के जिलों में सोमवार तड़के हुई मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया. कोलकाता एयरपोर्ट का रनवे लबालब भर गया है और एटीसी में भी दिक्कतें आ रही हैं. देखें ये वीडियो. वाह तालिबानी न्यूज सबसे तेज....तालिबान का न्यूज खत्म होगया क्या

पं. विजयशंकर मेहता का कॉलम: अपने दिवंगत पितृजन का स्मरण एक कर्मकांड ही नहीं, इससे भी अधिक भावनात्मक संबल का काम हैविज्ञान और तकनीक के इस युग में श्राद्ध जैसी परंपरा को बनाए रखना भी एक चुनौती है। पढ़े-लिखे और तथाकथित आधुनिक लोग जब-जब श्राद्ध आते हैं, शोध में जुट जाते हैं कि यह सब है क्या? अपने दिवंगत पितृजन का स्मरण एक कर्मकांड ही नहीं, इससे भी अधिक भावनात्मक संबल का काम है। | Remembrance of one's departed ancestor is not only a ritual, but it is also an act of emotional strength.