Zee जा न का री, जी जानकारी, Zee Jaankari, Sudhir Chaudhary, सुधीर चौधरी, Zee Jankari, New Year 2020

Zee जा न का री, जी जानकारी

ZEE जानकारी: साल बदल गया है, लेकिन चुनौतियां नहीं, सफल होना है तो अपनाएं ये 'फॉर्मूला'

#ZEEजानकारी: साल बदल गया है, लेकिन चुनौतियां नहीं, सफल होना है तो अपनाएं ये `फॉर्मूला`

01-01-2020 21:29:00

ZEEजानकारी: साल बदल गया है, लेकिन चुनौतियां नहीं, सफल होना है तो अपनाएं ये `फॉर्मूला`

आपके संघर्ष नहीं बदलते. सच ये है कि साल तो हर साल बदल जाता है, लेकिन देश की चुनौतियां नहीं बदलतीं. देश के शहरों पर जनसंख्या का बोझ बढ़ता जा रहा है. पिछले साल एक जनवरी को हालात इतने ख़राब नहीं थे, जितने आज हैं. अगले साल हालात इससे भी ख़राब होंगे.. और उससे अगले साल और ज़्यादा ख़राब होंगे. इसलिए साल बदलने का जश्न मनाने से कुछ नहीं होगा. नये साल का जश्न तब सार्थक होगा.. जब साल बदलने के साथ साथ देश में विचार भी बदलें और आप भी बदलें

जनसंख्या इतनी ज्यादा हो गई है कि सड़कों पर चलने के लिए जगह नहीं बची है. आज साल के पहले दिन ही Traffic Jam की ऐसी तस्वीरें देश के हर बड़े शहर में देखने को मिलीं. इंडिया गेट पर 70 से 80 हज़ार लोग पहुंच गए, जिन्हें हटाने के लिए दिल्ली पुलिस को लाउड-स्पीकर के जरिए announcement करवानी पड़ी. हालात ये हो गए कि इंडिया गेट के आसपास के 5 मेट्रो स्टेशनों को भी बंद कर दिया गया, जिन्हें स्थिति सामान्य होने के बाद ही खोला गया . इस बीच दिल्ली के ITO में भारी ट्रैफिक के बीच एक एंबुलेंस काफी देर तक फंसी रही.

खबरदार: नेपाल-भारत के बीच विवाद में चीन की भूमिका का विश्लेषण मुझे सरकार गिरने की नहीं, महाराष्ट्र और इसके लोगों की चिंता है: उद्धव ठाकरे सीमा पर भारत-चीन की सेनाएं अपने बेस में ला रहीं हथियार और टैंक

राजधानी की हालत ये है कि न चलने के लिए जगह है न सांस लेने के लिए साफ हवा . देश के बड़े शहरों में सांस लेना भी आज एक आम भारतीय नागरिक के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. साफ पानी, शिक्षा का अधिकार, समय पर उचित इलाज करवाने का अधिकार, अतिक्रमण से मुक्त सड़कें और बाज़ार. ये सब मूलभूत ज़रूरतें हैं.. लेकिन इन्हें भी हमारे देश के चाल चलन ने एक चुनौती बनाकर छोड़ दिया है. यानी हम भले ही 2019 से 2020 में प्रवेश कर गये हों.. लेकिन हमारी चुनौतियां अब भी वही हैं.. यानी सिर्फ साल बदला है. समस्याएं नहीं बदलीं. इन तमाम चुनौतियों को आंकड़ों के Lens से देखना ज़रूरी है. नए साल पर आपको बहुत से गिफ़्ट मिले होंगे लेकिन आज हम आपको नई सोच और कुछ नये आंकड़े गिफ्ट करना चाहते हैं .

देश की सड़कें तो हर साल जाम हो जाती हैं..लेकिन अगर आप जिंदगी की सड़कों पर रफ्तार से दौड़ना चाहते हैं तो आपको हमारा अगला विश्लेषण देखना होगा. हम कामना करते हैं कि ये नया साल आपकी जिंदगी को खुशियों से भर दें, और आपको मनचाही सफलता हासिल हो . लेकिन इस साल खुशियों और सफलता के Highways पर दौड़ने के लिए आपको Fastag जैसी गति और Twenty Twenty Cricket Match जैसी ऊर्जा को अपने व्यक्तित्व का हिस्सा बनाना होगा..इसलिए आज आप..आपके काम के दो शब्द ध्यान से नोट कर लें..ये दो शब्द हैं ऊर्जा और गति. और इन्हीं दो शब्दों में हर उस सफलता का फॉर्मूला छिपा है..जिसे आप 2020 में हासिल करना चाहते हैं . लेकिन इसे समझने के लिए आपको सबसे पहले दो वीडियोज़ देखने चाहिए..पहला वीडियो है उस 2007 के उस Twenty Twenty Match का जिसमें Batsman युवराज सिंह ने 6 गेंदों पर 6 छक्के मारे थे .

दूसरा वीडियो है फॉर्मूला वन रेसिंग के Pit Stop का. इस Pit Stop पर रुकने वाली Racing Cars के पहिए सिर्फ तीन सेकेंड्स में बदल दिए जाते हैं और इन्हीं तीन Seconds में कार के Wings ठीक कर दिए जाते हैं, शीशे साफ कर दिए जाते हैं छोटी-मोटी तकनीकि खामियों को भी दूर कर दिया जाता है. ये सब सिर्फ 3 से 5 सेकेंड्स में हो जाता है और जिस टीम के मकैनिक ऐसा नहीं कर पाते..उसे अक्सर रेस हारनी पड़ती है. इन दोनों Videos में ये संदेश छिपा है कि आपको ऊर्जावान भी बनना होगा और गति को भी अपना हथियार बनाना होगा.

आज का हमारा ये विश्लेषण.. आपको ऊर्जावान बनाएगा और इससे आप नए वर्ष यानी Twenty-Twenty के Player Of The Year बन पाएंगे. हमने अपने इस विश्लेषण को भी बीस-बीस मिनटों के दो हिस्सों में बांटा है. पहले 20 मिनटों में आपको पता लगेगा कि आप इस साल खुद को सफल बनाने के लिए क्या कर सकते हैं और उसके अगले 20 मिनटों में आप जान पाएंगे कि एक देश के तौर पर भारत खुद को कैसे ज्यादा शक्तिशाली और ज्यादा प्रभावशाली, बना सकता है.

इसलिए आप DNA के अगले 40 मिनटों को नए साल में सफलता और खुशियों की कुंजि मानकर चलिए और ये समझने की कोशिश कीजिए कि कैसे ज़माना तेज़ी से बदल रहा है और आपको ज़माने के साथ बदलने के लिए भरपूर ऊर्जा और गति का इस्तेमाल करना होगा. उदाहरण के लिए वर्ष 2014 तक भारत के लोग खाना पकाते हुए रसोई में सबसे ज्यादा समय बिताते थे. तब एक भारतीय हफ्ते में औसतन 13 घंटे 20 मिनट रसोई में खाना बनाते हुए बिताता था. यानी प्रतिदिन औसतन 2 घंटे खाना बनाने में बीत जाते थे .

लेकिन 2018 आते-आते करीब 10 करोड़ भारतीय Online खाना Order करने लगे और अब औसतन 20 मिनटों में गरमा गरम खाना. Retaurants से आपके घर तक पहुंच जाता है . कहने का मतलब ये है कि जिस देश में पहले लोग कहा करते थे कि बाहर के खाने पर पैसे बर्बाद नहीं करने चाहिए..उसी देश के लोग अब समय बचाने के लिए Online खाना Order कर रहे हैं और कह रहे हैं कि Time Is Money यानी..समय बचाना भी पैसा कमाने के बराबर है.

सबसे ज्‍यादा Corona संक्रमण वाला 8वां देश बना भारत, मौत में 13वां नंबर पाकिस्तान हाई कमिशन के दो अफसर आईएसआई के लिए जासूसी करते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार, 24 घंटे में देश छोड़ने के आदेश गुजरात हाईकोर्ट ने कहा- कोरोनावायरस इंसानी संकट, सियासी नहीं; महज सरकार की आलोचना करने से मरे हुए लोग जिंदा नहीं हो जाएंगे

इसी तरह 2003 से पहले आम तौर पर क्रिकेट के दो ही फॉर्मेट थे. पहला था टेस्ट मैच..जो अक्सर पर 5 दिनों तक चलता है और दूसरा था One Day Format जिसमें दोनों टीमें पचास-पचास ओवर खेलती है . लेकिन फिर आया Twenty-Twenty. और इसने क्रिकेट खेलने और देखने के तरीकों को बदल दिया. One Day में जितनी देर में एक टीम भी अपनी बल्लेबाज़ी पूरी नहीं कर पाती है उससे भी कम वक्त में Twenty Twenty में हार और जीत का फैसला हो जाता है . International Cricket Council यानी ICC के मुताबिक पूरी दुनिया में Twenty-Twenty Cricket के 100 करोड़ से ज्यादा प्रसशंक हैं और इनकी औसत उम्र सिर्फ 34 वर्ष है . आधिकारिक तौर पर पहला टेस्ट मैच आज से 143 वर्ष पहले यानी 1877 में खेला गया था और टेस्ट से One Day तक आते आते क्रिकेट को 94 साल लग गए .

पहला One Day Match ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच 1971 में खेला गया था . लेकिन इसके बाद 26 वर्षों में ही क्रिकेट Fans को सबसे आधुनिक और सबसे तेज़ Format मिल गया . इसके बाद तीन घंटों में हार और जीत का फैसला होने लगा और युवाओं के लिए बोरिंग होते जा रहे क्रिकेट को नई संजीवनी मिल गई और क्रिकेट पहले से भी ज्यादा लोकप्रिय हो गया .

हम आपको ये उदाहरण इसलिए दे रहे हैं क्योंकि नए साल में आपको भी अपनी गति और ऊर्जा बढ़ानी होगी . और अपने जीवन को Twenty-Twenty के Format जैसा बनाना होगा . Twenty Twenty क्रिकेट में गलती की ज्यादा गुंजाइश नहीं होती लेकिन हर गेंद पर तेजी से रन बनाने होते हैं . इसी तरह आपको भी बिना गलतियां दोहराए हर अवसर का बेहतर इस्तेमाल करना होगा और जीवन के मैच में चुनौतियों का सामना करते हुए अपनी सफलता के Run Rate और इरादों के Strike Rate को सुधारना होगा.

ये वो दौर है जब लोग दवाइयां भी ऐसी चुनते हैं जो उन्हें मिनटों में दर्द से राहत दिला सकें. यानी लोगों को रोग भगाने का भी Instant फॉर्मूला चाहिए . इसलिए नए वर्ष में आपको नए सकारात्मक विचारों की वो गोली चाहिए होगी जो मन में तुरंत घुल जाए और उसका असर आप फौरन महसूस कर पाए. Medication यानी दवाइयों के साथ साथ लोग Meditaion यानी ध्यान भी ऐसे ही करना चाहते है...जिससे उन्हें Instant शांति मिल पाए . बाज़ार में अब इसके भी साधन उपलब्ध है और आप अपने Mobile Phones पर ऐसी Applications..Download कर सकते हैं जो आपको 2 मिनट से लेकर 20 मिनट के समय में ध्यान करना सिखा सकती हैं . यानी अब ज़माना Instant Noodles से Instant निर्वाण तक आ गया है .इस दौर में Instant यज्ञ से लेकर Instant पूजाएं तक हो रही हैं . और अब ध्यान और साधनाएं गुफाएं में नहीं होती..बल्कि आपका Mobile Phone या Tablet भी आपके लिए Instant पूजा के मार्ग खोल सकता है. इसका एक उदाहरण देने के लिए हम आपको एक वीडियो दिखाना चाहते हैं .

ये भी देखें:ध्यान... तेज़ी से भागते दौड़ते जीवन में कुछ पल ठहर जाने का साधन है..लेकिन लोगों के पास अब Meditation के लिए भी ज्यादा वक्त नहीं है और लोग ध्यान पर उतना ही समय देना चाहते हैं...जितना समय Formula One Race में दौड़ने वाली Racing Cars को Pit Stop पर लगता है . F 1 race में Pit Stop पर रुकने वाली कारों की सफाई, पहिए बदलने और कार की छोटी मोटी तकनीकि खामियां दूर करने के लिए मकैनिकों की Teams 3 Seconds से भी कम का वक्त लेती है .

नए वर्ष में जीवन की गाड़ी को आराम देने वाले Pit Stop पर भी आपको ऐसी ही तेज़ी दिखानी होगी . और जैसे आपकी गाड़ी पर लगा Fastag आपको Highways पर तेज़ी से आगे बढ़ने में मदद करता है..ठीक उसी तरह आपको अपने जीवन में भी Fastag अपनाना होगा..ये Fastag आपको सफलता के Super Fast Track पर डाल सकता है .

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 'समोसा डिप्लोमेसी', मॉरिसन ने ट्वीट की फोटो तो पीएम मोदी ने दिया ये जवाब देश तक: यूपी में लॉकडाउन 5.0 की गाइडलाइन जारी, कल से चलेंगी रोडवेड की बसें न्यायपालिका को आरोपित करने की बढ़ रही प्रवृत्ति, संस्थाओं को हो रहा नुकसान : जस्टिस कौल

अब सवाल ये है कि वर्ष Twenty-Twenty में आप अपने जीवन को T-20 क्रिकेट की तरह सुपरहिट कैसे बना सकते हैं . इसके लिए आपको अपने आस-पास हो रहे बदलावों से ही शिक्षा लेनी होगी .उदाहरण के लिए नए वर्ष में भविष्य की गहराइयों में छलांग लगाने के लिए आपको सोचने का ज्यादा वक्त नहीं होगा..कई बार लोग किनारे पर बैठकर ये सोचते रहते हैं कि हम कुछ नया करें या ना करें..कहीं नया करने के चक्कर में हम डूब तो नहीं जाएंगे . लेकिन सच ये है कि डूबने की चिंता आपको कभी तैरने ही नहीं देगी...और आप किनारे पर ही बैठे रह जाएंगे .

हिंदी साहित्य के महान कवि हरिवंश राय बच्चन अपनी एक कविता में कहते हैं किजीवन में एक सितारा थामाना वो बेहद प्यारा थावह डूब गया तो डूब गयाअम्बर के आनन को देखोकितने इसके तारे टूटेकितने इसके प्यारे छूटेजो छूट गए फिर कहाँ मिलेपर बोलो टूटे तारों परकब अम्बर शोक मनाता है

जो बीत गई सो बात गईयानी जीवन में ऊर्जा और गति बनाए रखने के लिए आपको शोक, दुख और संताप की बाधाओं को पार करना होगा..जो ड्राइवर सिर्फ Rear View Miror में देख कर गाड़ी चलता है..वो कभी अपनी गति नहीं बढ़ा पाता....गाड़ी के शीशों में देखने का मकसद सिर्फ पीछे से आने वाले ट्रैफिक को समझना होता है...सफर में असली गति तभी आती है जब आप आगे देखकर गाड़ी चलाते हैं. ठीक इसी तरह जीवन की गाड़ी में लगे यादों के Rear view Miror में बार बार दुखों और असफलताओं को देखने की बजाय..भविष्य की Wind Screen पर नज़रें जमाइए और आगे बढ़ते रहिए.

अब आप अपने जीवन के बहुत सारे काम Online निपटा लेते हैं. आप Online खाना Order कर सकते हैं, Shopping कर सकते हैं, शिक्षा हासिल कर सकते हैं, दोस्त बनाते हैं और यहां तक कि लोग प्रेम और शादियां भी Online Apps की मदद से ही कर रहे हैं. अभी मशीनों और Softwares ने इंसानों की जगह तो नहीं ली है लेकिन इंसानों का जिंदगी जीने का तरीका बदल गया है. ये Softwares और मशीनें इंसानों और ज़रूरतों के बीच पुल की तरह हैं . और हम इन पर इतना निर्भर इसी लिए हैं..क्योंकि हम सबकुछ तेज़ी से करना चाहते हैं . वक्त को बचाना पैसा ही नहीं बल्की खुद को बचाने के बराबर है . लेकिन जल्द ही ये मशीनें, Softwares और Artificial intelligence... काम करने के मामले में इंसानों को पीछे छोड़ने लगेंगी . तब इंसान ही उत्पाद बन जाएगा और इंसान ही बाज़ार बन जाएगा . यानी पहले बाज़ार तकनीक की मदद से आपकी ज़रूरतों का पता लगाएगा और फिर आपकी ज़रूरतों के मुताबिक बनाए गए Products को आपको ही बेच देगा . और इस बाज़ार को चलाने में हमारी भूमिका नहीं होगी . इसलिए 2020 के दौरान आपको खुद को लगातार Update करना होगा और अगर बुरा वक्त आए तो खुद को Re-Invent भी करना होगा . ठीक वैसे ही जैसे Mobile Phone Applications को लगातार Update करना पड़ता है .

ये वर्ष एक ऐसे युग की शुरुआत साबित हो सकता है...जहां से पीछे मुड़कर देखना आसान नहीं होगा..एक व्यक्ति के तौर पर हर दिन आपको अपना नया Version विकसित करना होगा और खुद को दूषित विचारों के वायरस से भी बचाकर रखना होगा. अगर आप सिर्फ बुद्धिमान हैं..तो भी काम नहीं चलेगा..क्योंकि artificial intelligence की बदौलत बुद्धी तो अब मशीनों के पास भी आ चुकी है. अगर कोई एक चीज मशीनों के पास नहीं है तो वो है विवेक. विवेक का अर्थ होता है अंतर आत्मा की आवाज़ सुनना और उसके आधार पर सही और गलत के बीच फर्क समझ के फैसला करना . इसलिए ये साल भले ही ऊर्जा और गति का साल होगा लेकिन इस ऊर्जा और गति का सही इस्तेमाल तभी हो पाएगा जब आप विवेक से काम लेंगे.

अगर आपने ऐसा नहीं किया तो हो सकता है कि आने वाला दौर Digital Dictatorship का दौर साबित हो जाए क्योंकि जो इंसान खुद की गति और ऊर्जा नहीं बढ़ाएंगे. उनसे जुड़े फैसले मशीनें लेने लगेंगी और आप मशीनों की तानाशाही के खिलाफ सड़कों पर आंदोलन भी नहीं कर पाएंगे.

कहते हैं विवाह किसी समाज के निर्माण और विस्तार के लिए सबसे जरूरी है..जब लोग विवाह करते हैं तभी समाज का विस्तार होता है लेकिन 20-20 वाले युग में होने वाले विवाहों के पीछे की सोच भी बदल रही है और आने वाले वक्त में इसमें और बदलाव आएगा. उदाहरण के लिए अब दंपतियों का जीवन काफी हद तक बदल चुका है क्योंकि दांपत्य जीवन में भी Technology की Entry हो चुकी है. लोग Dating Apps पर प्रेम कर रहे हैं और शादियां भी Online ही तय हो रही है. और लोग Online रास्तों से होते हुए...Digital दांपत्य जीवन में प्रवेश कर रहे हैं. खाना बनाने को लेकर होने वाली लड़ाइयां अब नहीं होती क्योंकि Online Food डिलिवरी ने इस समस्या का समाधान कर दिया है और अब कई बार तो कई दिनों तक लोग घर पर खाना ही नहीं बनाते. रसोई का सामान लाने को लेकर भी अब पति-पत्नी के बीच बहस कम हो गई हैं..क्योंकि आप अपनी रसोई का जो सामान चाहें Online मंगा सकते हैं.

एक ज़माने में एक मध्यम वर्गीय परिवार के पास एक घर और एक गाड़ी हुआ करती थी और अक्सर उस गाड़ी का इस्तेमाल घर के पुरुष ही करते थे लेकिन अब देश का युवा गाड़ी और घर खरीदना ही नहीं चाहता. उसे EMI से डर लगता है. वो किराए का घर लेकर रहना ज्यादा पसंद करता है. सफर के लिए Online Cab सर्विस का इस्तेमाल करता है. यानी आज का युवा अपने भविष्य को कर्ज़ और EMI के समन्दर में डुबोना नहीं चाहता.

पहले जब पुरुष काम के सिलसिले में बाहर जाते थे तो अक्सर उनका संपर्क कई दिनों तक घर वालों से नहीं हो पाता था और घर वालों को चिंता सताने लगती थी लेकिन अब वीडियो Calling जैसी सुविधाओं ने इस चिंता को भी दूर कर दिया है. यानी नए युग के दंपति App दंपति बन गए हैं. आप इन्हें App Couple भी कह सकते हैं लेकिन Mobile Applications ने जीवन को आसान बनाया है. रिश्तों को नहीं. रिश्तों में अब भी सहयोग के Application की ज़रूरत होती है और जब तक आप प्रेम की ऊर्जा और समझदारी की गति को बनाए रखते हैं आप शादी शुदा जीवन को भी Twenty Twenty मैच जैसा रोमांचक बनाने में सफल हो पाते हैं.

हमारा ये दूरदर्शी विश्लेषण देखकर आपने भी नए वर्ष के लिए कुछ प्रण लेने का इरादा कर लिया होगा. हम चाहते हैं कि अगर आप कोई प्रण लें तो उसे पूरी निष्ठा के साथ निभाएं लेकिन नए साल को उज्जवल बनाने के लिए सिर्फ नागरिकों को ही नहीं बल्कि एक देश के तौर पर भारत को भी कुछ प्रण लेने होंगे और इसमें भारत कुछ दूसरे देशों से शिक्षा ले सकता है.

और पढो: Zee News Hindi »

100 साल बाद भी आपकी दलाली नहीं बंद होगा कियु की गोदी मीडिया हो🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔

नए साल पर नए जनरल का प्रण, 'आने नहीं देंगे देश की आन पर आंच'जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने देशवासियों को नए साल की शुभकामनाएं दीं और कहा कि आज एक नए साल की नहीं, बल्कि एक नए दशक की शुरुआत है. हमें भरोसा है कि देश उन्‍नति करेगा, लेकिन ये तरक्‍की तभी हो पाएगी जब हमारी सरहदें सुरक्षित होंगी. तभी हम अपना कामकाज कर पाएंगे. adgpi rajnathsingh जय हिंद वंदे मातरम adgpi rajnathsingh यह साहब तो रावत जी से चार पाँव आगे दिख रहे हैं adgpi rajnathsingh Very very congratulations ManojMukundNaravane VipinRawat

कांधार हाईजैक के 20 साल, जब 'देश हित' से पहले सामने आया था 'निजी हित'तत्कालीन NDA सरकार ने 20 साल पहले हर राजनीतिक पार्टी से उसकी राय जानी. और उसके बाद ही कोई फैसला लिया था. Ab krke dikao plane hijack tumara baap beta h modi aise jaghe goli marega confuse ho jaoge ki saas kha se l or pade kha se AnilKum08877230 sudhirchaudhary अभी कार्यक्रम देखरही हु तत्कालीन देशवासीने भावनात्मक दबावसे राजनेताओंको आतंकीको छोडनेको मजबूर किया क्या आज उन देशवासीयोको पछतावा हो रहा है आतंकी किसतरह देश बर्बाद कर रहे है कृपा वे प्रतिक्रिया देनेका साहस रखते है देश कितना कमजोर हुआ १गलतीकी वजहसे👎 कुछ लोग देश हित की दिखावा करने में सबसे आगे रहते हैं और जब देश पर मर मिटने की बारी आती है तो सब निजी स्वार्थ में डूब जाते हैं यही तो वीरांगना है इस देश की बुद्धिजीवियों की

धर्मनिरपेक्ष देश है भारत, कुछ दल कर रहे हैं लाभ की राजनीति: मायावतीलेकिन दलितों को सबसे ज्यादा बेवकूफ तो आप ही ने बनाया है। सही बात है, नहीं होनी चाहिए. और देश हित के क़ानून पर बसपा को समर्थन करना चाहिए Ji right

साफ-सफाई में इंदौर देश का नंबर वन शहर, ये है इसके पीछे की कहानीआइए आपको बताते हैं इंदौर शहर के स्वच्छता के पीछे की कहानी... GaurMalini Ramesh_Mendola KailashOnline OfficeOfKNath IndoreCollector Golshri SwachhBharat SwachhSurvekshan2020Bengaluru GaurMalini Ramesh_Mendola KailashOnline OfficeOfKNath IndoreCollector Golshri सिर्फ और सिर्फ narendramodi जी का झाडू चलाना , और कचरा उठाना , देश के लिए प्रेरणा हो गया । अब कचरा ढूँढना पढता है । इंदौर देश की शान है । GaurMalini Ramesh_Mendola KailashOnline OfficeOfKNath IndoreCollector Golshri हमारे जयपुर की तो सफाई व्यवस्था ही चरमरा गई है। बहुत खराब हालात है। GaurMalini Ramesh_Mendola KailashOnline OfficeOfKNath IndoreCollector Golshri इंदौर में अब चौका लगेगा लगातार 3 वर्ष नम्बर 1 पर रहने के बाद 4 वर्ष में फिर से नम्बर 1

नए साल में एक और झटका, एलपीजी, रेल के बाद जल्द बढ़ सकता है हवाई किरायानए साल के पहले दिन एलपीजी और रेल किरायों में बढ़ोतरी के बाद अब हवाई यात्रियों पर भी जल्द महंगे किराये की मार पड़ सकती Ache din aasani gaaayeee Janta ka khoon choosne Main lagi hai Modi Sarkar

फैक्ट चेक: युवकों की पिटाई करती पुलिस का यह वीडियो है चार साल पुरानाAmi_Amanpreet और अगर पिटाई की भी होगी तो भी बहुत सही की होगी। हम लोग इन देशद्रोहियों और उनके समर्थकों नेताओं से डरने वाले नहीं हैं। इस देश में दंगाइयों को कठोर हाथों से दमन करना चाहिए। तोड़फोड़ और आगजनी की घटना को पुलिस दर्शक की तरह देख नहीं सकती। पुलिस को डंडा किस लिए दिया गया है ? Ami_Amanpreet इसका मतलब पुलिस का बर्बर आता था ,है और रहेगा. तो ए देश कब सुधरेगा. Ami_Amanpreet Aaj iska aap samarthan karte ho cal aapko return mein bhi yahi milega

e-Agenda Aaj Tak 2020: 1 Year Of Modi Government 2.0, Schedule and List Of Speakers नरेंद्र मोदी की चिट्ठी- मुझमें कमी हो सकती है, पर देश पर भरोसा संजय राउत ने देश में कोरोना फैलने ने लिए 'नमस्ते ट्रंप' कार्यक्रम को ठहराया जिम्मेदार, कहा... आठ जून से लागू होगा अनलॉक का पहला चरण, एक जून से ई-पास की अनिवार्यता समाप्त ट्विटर पर ट्रेंड #BoycottChineseProducts, अरशद वारसी-मिलिंद सोमन ने किया सपोर्ट e-एजेंडा: 7500 रुपये का कांग्रेसी नारा जनता चुनाव में नकार चुकी है-शाह जी-7 की जगह जी-11, भारत को बुलावा, अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने बुलाई सितंबर में पहली बैठक मोदी सरकार 2.0 के मैन ऑफ़ द मैच हैं अमित शाह? केजरीवाल सरकार की केंद्र से गुहार- सैलरी देने को पैसे नहीं, 5 हजार करोड़ की तुरंत करें मदद बंगाल, पंजाब और मध्य प्रदेश में बढ़ गया लॉकडाउन, केंद्र ने किया 'अनलॉक 1' का ऐलान कोरोना अपडेटः भारत में 24 घंटे में संक्रमण के लगभग 8,000 नए मामले, आँकड़ा पौने दो लाख के पास पहुँचा - BBC Hindi