Upscresult, Ankitajain, Agra'sankitajaingot The Third Rank İn The Fourth Time, Said - Did Not Rank İn The Third Time, But Promised Herself That This Time I Will Make A Place İn The Top 100, But Got A Better Rank Than

Upscresult, Ankitajain

UPSC में थर्ड रैंक लाने वाली अंकिता का इंटरव्यू: आगरा की टॉपर ने कहा- इस बार मैंने ठान लिया था कि टॉप-100 में जगह बनाकर रहूंगी

UPSC में थर्ड रैंक लाने वाली अंकिता का इंटरव्यू: आगरा की टॉपर ने कहा- इस बार मैंने ठान लिया था कि टॉप-100 में जगह बनाकर रहूंगी #UPSCresult #AnkitaJain

25-09-2021 17:01:00

UPSC में थर्ड रैंक लाने वाली अंकिता का इंटरव्यू: आगरा की टॉपर ने कहा- इस बार मैंने ठान लिया था कि टॉप-100 में जगह बनाकर रहूंगी UPSCresult AnkitaJain

संघ लोक सेवा आयोग 2020 की परीक्षा में आगरा की बहू अंकिता जैन ने चौथे प्रयास में देश में तीसरी रैंक हासिल की है। उन्होंने अपनी पॉजिटिव सोच और आत्मविश्वास के दम पर यह मुकाम हासिल किया है। अंकिता ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि तीसरे प्रयास में जब रैंक नहीं आई थी तो उन्होंने खुद से वादा किया कि इस बार अपने सपने को पूरा करना है। | Agra's Ankita Jain got the third rank in the fourth time, said - did not rank in the third time , but promised herself that this time I will make a place in the top 100, but got a better rank than संघ लोक सेवा आयोग मेंस 2020 की परीक्षा में देश में तीसरी रैंक हासिल करने वाली आगरा की बहू अंकिता जैन ने चौथे प्रयास में यूपीएससी में देश में तीसरी रैंक हासिल की है। उन्होंने अपनी पॉजिटिव सोच और आत्मविश्वास के दम पर यह मुकाम हासिल किया है।

UPSC में थर्ड रैंक लाने वाली अंकिता का इंटरव्यू:आगरा की टॉपर ने कहा- इस बार मैंने ठान लिया था कि टॉप-100 में जगह बनाकर रहूंगीआगरालेखक: गौरव भारद्वाजकॉपी लिंकवीडियोअंकिता जैन की पहले प्रयास में कोई रैंक नहीं आई थी। दूसरी बार में 270वीं रैंक आई। उनका ऑडिट एंड एकाउंट सर्विसेज में चयन हुआ। तीसरे प्रयास में उनकी फिर कोई रैंक नहीं आई।

100 करोड़ वैक्सीनेशन पर भारत के मुरीद हुए बिल गेट्स, पीएम मोदी को दी बधाई NCB की पूछताछ से पहले पापा से लिपटकर रोई थीं Ananya Panday , ड्रग्स लेने पर दिया ये जवाब बांग्लादेश: दुर्गा पूजा स्थल पर क़ुरान रखने वाला संदिग्ध इक़बाल हुसैन गिरफ़्तार - BBC News हिंदी

संघ लोक सेवा आयोग 2020 की परीक्षा में आगरा की बहू अंकिता जैन ने चौथे प्रयास में देश में तीसरी रैंक हासिल की है। उन्होंने अपनी पॉजिटिव सोच और आत्मविश्वास के दम पर यह मुकाम हासिल किया है। अंकिता ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि तीसरे प्रयास में जब रैंक नहीं आई थी तो उन्होंने खुद से वादा किया कि इस बार अपने सपने को पूरा करना है।

पढ़िए पूरी बातचीत-सवाल: आपका यह चौथा प्रयास था, तीसरी बार में कोई रैंक नहीं आई थी, कैसे खुद को मोटिवेट किया?जवाब:मैं इससे पहले तीन बार प्रयास कर चुकी थी। पहली बार में मेरी कोई रैंक नहीं आई थी। दूसरी बार में 270 रैंक आई, जिसमें मेरा ऑडिट एंड एकाउंट सर्विसेज में चयन हुआ। इसके बाद तीसरी बार में मेरी फिर कोई रैंक नहीं आई। मगर, मैंने ठान लिया था कि मुझे यह करना है और जब आप रास्ता चुन लेते हैं तो फिर आपके पास दो ऑप्शन होते हैं या तो उस पर रोते हुए चलें या हंसते हुए। पहले जो कमी रह गई हैं उन्हें दूर करना है बस यही सोचकर मेहनत की। headtopics.com

सवाल: पहले के प्रयासों में क्या कमी रह गई थी?जवाब:सबसे ज्यादा कमी होती है कि हम कभी कभार अपने आप पर भरोसा नहीं करते हैं। हम सोच लेते हैं कि ये नहीं हो सकता। खासकर जब आपको फेल्योर मिल रहा होता है। ऐसे में मैंने ये सोचने के बजाए यह सोचा था कि अब तक जो मेहनत की है, उसे बेहतर तरीके से कैसे एग्जीक्यूट किया जा सकता है। मेरे हाथ में जो है उसे सही करना है।

सवाल: चौथे प्रयास के लिए खुद को कैसे तैयार किया?जवाब:आपने सही कहा, मेरी अभी की नौकरी बहुत अच्छी है। इसमें वर्क लाइफ बैलेंस भी है। मगर, मैं चाहती थी कि मैं सीधे फील्ड में काम करूं। कोविड के दौर में मेरे बहुत से बैचमेट्स ने फील्ड में काम किया। उनका काम बहुत इंस्पायरिंग था। जब मेरी इस जॉब में ट्रेनिंग थी तो हम विलेज विजिट में गए थे। तब हमने ग्राउंड रियलिटी देखी। तब मुझे लगा कि फील्ड में रहकर मैं ज्यादा अच्छा काम कर सकती हूं। बस इसी सोच से चौथी बार प्रयास किया।

सवाल: अब आप IAS बन जाएंगी, ऐसे में समाज के लिए क्या करना है, कुछ रोडमैप तैयार किया होगा?जवाब:फील्ड में काम करने की इच्छा है। इससे मेरी पर्सनालिटी में डेवलपमेंट होगा ही। साथ में समाज के लिए बेहतर कर पाऊंगी और सीधे समाज की बेहतरी में योगदान कर पाऊंगी।सवाल: आप दो बार इंटरव्यू स्टेज तक पहुंचीं। दोनों में से सबसे मुश्किल इंटरव्यू कौन सा था?

जवाब:इंटरव्यू मुश्किल और आसान आपकी तैयारी पर निर्भर करता है। अगर जो सवाल आपसे पूछे गए और वो आपकी तैयारी में से हैं तो इंटरव्यू आसान होगा।सवाल: इंटरव्यू का सामना करने के लिए कोई विशेष तैयारी की थी?जवाब:इंटरव्यू के दौरान अक्सर बहुत से कैंडिडेट नर्वस हो जाते हैं। उन्हें लगता है कि वो जो बोलेंगे कहीं गलत न हो। मगर, इस बार के इंटरव्यू में मुझे पिछली बार से ज्यादा आत्मविश्वास था। headtopics.com

मुंबई के लालबाग इलाके में बहुमंज़िला इमारत में लगी आग, दमकल की 8 गाड़ियां मौके पर Ananya Panday Drug Chat: अनन्या-आर्यन की ड्रग्स चैट, कैसे NCB के सवालों के घेरे में आईं अनन्या पांडे? CM योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में बड़ी चूक, पिस्तौल लेकर ऑडिटोरियम में घुसा शख्स

सवाल: इस बार के इंटरव्यू में सबसे मुश्किल सवाल क्या था?जवाब:हां, एक सवाल ऐसा था। मुझसे पूछा गया था कि आपने इतने सारे फील्ड में काम किया है। आपने कंप्यूटर साइंस किया। ऑडिट की जॉब में हैं। इतनी सारी फील्ड में काम करके आपको कैसा लगता है। मैंने इसका जवाब दिया कि सर, मुझे ये बहुत वंडरफुल लगता है, क्योंकि मैंने पहले साइंस सीखी, फिर कंप्यूटर साइंस सीखी, फिर UPSC की जर्नी के द्वारा मैंने इतिहास, भूगोल के बारे में पढ़ा। अब मैंने ऑडिट के द्वारा कॉमर्स पढ़ लिया है। अब मेरी काफी फील्ड कवर हो गई हैं, जो मुझे काफी अच्छा एक्सपीरियंस देती हैं। मुझे खुद को डेवलप करने में मदद करती है।

सवाल: नौकरी के साथ सिविल सर्विसेज की तैयारी को कैसे मैनेज किया?जवाब:नौकरी के साथ तैयारी करना मुश्किल था। मगर, इसके लिए पूरा टाइम टेबल तैयार किया और टाइम मैनेजमेंट किया। जब ट्रेनिंग होती थी तो ट्रेनिंग का काम और जब तैयारी का समय होता था तो केवल तैयारी। परिवार ने शुरू से सपोर्ट किया। बहन ने भी इस बार 21वीं रैंक हासिल की है। पति अभिनव त्यागी IPS हैं। दोनों ने नोट्स तैयार किए। मैंने बहुत कोचिंग नहीं ली थी। हसबैंड ने बहुत मदद की।

सवाल: आपने क्या रैंक की उम्मीद की थी?जवाब:सच बताऊं, मुझे तीसरी रैंक की उम्मीद नहीं थी। हां, उम्मीद थी कि टॉप 100 में आ जाऊंगी। एग्जाम और इंटरव्यू बहुत अच्छा हुआ था, लेकिन जब तीसरी रैंक आई तो एक बार को विश्वास नहीं हुआ था।सवाल: सिविल सर्विसेज की तैयारी करने वालों के लिए कोई टिप्स?

जवाब:तैयारी पर पहले भी बहुत लोग बता चुके हैं, लेकिन मुझे लगता है कि हम क्या कर सकते हैं, इस पर फोकस होना चाहिए। अपनी कमी पता होनी चाहिए। बहुत से लोग होते हैं जो मॉक टेस्ट में कम नंबर आने के बाद अपना आत्मविश्वास खो देते हैं, ऐसे लोगों को अपने आप पर भरोसा करना चाहिए। headtopics.com

और पढो: Dainik Bhaskar »

झूठ के सहारे सावरकर का महिमामंडन क्यों? | Arfa Khanum SHerwani | Savarakar | The Wire Video LIVE

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि विनयाक दामोदर सावरकर के 'दया याचिका' दायर करने को एक ख़ास वर्ग ने ग़लत तरीक़े से फैलाया. उन्होंने दावा किया कि सावरकर न...

संविदा वर्ग 3 परीक्षा कब हुई, फर्जी ओर गलत खबरे क्यों Congratulations start_MP_teachers_transfer_portal हजारों शिक्षक स्वैच्छिक ट्रांसफर से सिफारिशी पत्र के अभाव में वंचित हो गये शासक ईश्वर तुल्य होता है सबका साथ सबका विकास के स्थान पर आप सिर्फ सिफारिशी विकास कर रहे हैं ये कैसी नीति ? narendramodi ChouhanShivraj RahulGandhi OfficeOfKNath .

IAS टीना डाबी की बहन रिया ने भी पास की सिविल सर्विस परीक्षा, रैंक भी दमदारUPSC CSE 2020 Final Result: 2015 की यूपीएससी टॉपर टीना डाबी की बहन रिया डाबी को इस बार आए सिविल सेवा रिजल्ट में 15वां रैंक मिला है। रिया डाबी पेशे से इंजीनियर हैं, बीएचईएल में जॉब करती हैं। Congratulations

इंदौर: कपड़े की दुकानों में भीषण आग, शॉर्ट सर्किट की आशंका, काबू पाने की कोशिश जारीसेंट्रल कोतवाली थाना क्षेत्र रिव्हर साइड रोड पर भीषण आग लग गई है। घटना के बाद फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर मौजूद है।

UPSC एग्जाम में दूसरी रैंक लाने वाली जागृति के लिए लॉकडाउन बना ऐसे वरदानUPSC की तैयारी कर रहे लोगों के लिए जागृति अवस्थी ने कहा कि, 'अपने आप पर भरोसा रखें, कड़ी मेहनत करते रहें, इससे सफलता हासिल करने में मदद मिलेगी।'

यूपीएससी में यूपी के होनहार: अमरोहा की सदफ की 23वीं तो रामपुर के प्रखर की 29वीं रैंकयूपीएससी में यूपी के होनहार: अमरोहा की सदफ की 23वीं तो रामपुर के प्रखर की 29वीं रैंक UPSC UPSCCSEFinalResult2020 UPSCCSEResult UttarPradesh Amroha Rampur

ममता यादव से जानिए, कैसे क्रैक करें UPSC: पहले प्रयास में क्लियर किया था एग्जाम, लेकिन रैंक सुधारने के लिए दिन में 12-12 घंटे पढ़ाई की, पाया देशभर में 5वां स्थानमुसीबतों से ही निखरी है इंसान की शख्सियत, जो चट्‌टानों से न टकराए वो झरना किस काम का। कुछ ऐसा ही है हरियाणा के महेन्द्रगढ़ जिले के छोटे से गांव बसई की बेटी ममता यादव का जुनून, जिन्होंने देश की सबसे कठिन UPSC की परीक्षा को क्रैक कर दिखाया है। | मुसीबतों से ही निखरी है इंसान की शख्सियत, जो चट्‌टानों से न टकराए वो झरना किस काम का। कुछ ऐसा ही है हरियाणा के महेन्द्रगढ़ जिले के छोटे से गांव बसई की बेटी ममता यादव का जुनून, जिन्होंने देश की सबसे कठिन UPSC की परीक्षा को क्रैक कर दिखाया है। लाचार व्यवस्था उo प्रo में एक बुजुर्ग का घर अतिक्रमण होने की बाहर सोने से मृत्यु हो गई स्थानीय प्रशासन restmode है काफी दिनों से twitter और प्रतिवेदन दे रहा था लकिन कोई सरकारी बाबु ने संज्ञान नहीं लिया dmazamgarh Uppolice digazamgarh adgzonevaranasi 112UttarPradesh

भारत में लगातार दूसरे दिन 30,000 से ज्यादा मामले, 24 घंटे में 318 की मौतस्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,35,94,803 हुई coronavirus Corona CoronavirusUpdates COVID19 CoronaVaccine coronaupdate