Upsc Online Study, Prelims Mains Exam, Ias Jayant Mankale Success Story, Jayant Mankale Who Lost His 75 Percent Vision, Ias Jayant Mankale, Jayant Mankale Upsc Rank, जयंत मंकले

Upsc Online Study, Prelims Mains Exam

UPSC क्लियर हुआ लेकिन सर्विस लिस्ट में नहीं आया नाम, प्लान बी के साथ की तैयारी, आज हैं IAS

75 प्रतिशत तक आंख की रोशनी खो चुके जयंत, आर्थिक तंगी के बीच भी पढ़ाई करते रहे।

16-09-2021 09:36:00

75 प्रतिशत तक आंख की रोशनी खो चुके जयंत, आर्थिक तंगी के बीच भी पढ़ाई करते रहे।

महाराष्ट्र के जयंत (IAS jayant Mankale) जब यूपीएससी (UPSC) की तैयारी करने की सोचे तो उनके लिए रास्ता बहुत ही कठिन था। 75 प्रतिशत तक आंख की रोशनी खो चुके जयंत, आर्थिक तंगी के बीच भी पढ़ाई करते रहे। उनकी मेहनत का ही नतीजा है कि आज वो आईएएस (IAS) हैं।

आईएएस जयंत मंकले (फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट Muruganantham-UPSC-AIR-119)जीवन में जब संघर्ष बड़ा होता है तो सफलता पाने की खुशी भी दुगुनी हो जाती है। कुछ ऐसी ही कहानी है आईएएस जयंत मंकले (IAS jayant Mankale) की। जीवन में जयंत ने संघर्ष को ही अपना रास्ता बनाया और आज उस मुकाम पर हैं, जहां उनकी सारी कठिनाईयां अब खत्म हो चुकी है।

अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, गठबंधन पर हो सकती है बात त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi CM Yogi Visit: देवरिया में बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, टीईटी परीक्षा में धांधली करने वालों के घरों पर चलेगा बुलडोजर

जयंत एक बीमारी (रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा) के बाद अपनी आंखों की रोशनी 75 प्रतिशत तक खो चुके थे। पिता की मौत के बाद उनकी पेंशन से जब घर नहीं चल सका और पढ़ाई पर असर पड़ने लगा तो जयंत की मां ने अचार बनाना शुरू कर दिया। इसके बाद खुद जयंत भी प्राइवेट नौकरी करने लगे।

द बेटर इंडिया के अनुसार महाराष्ट्र के बीड़ में जन्में जयंत बचपन से दिव्यांग नहीं थे। 2015 में उन्हें एक बीमारी हुई और आंखो की रोशनी 75 प्रतिशत तक चली गई। जयंत के पिता की मृत्यु तब हो गई, जब वो अपनी स्कूली पढ़ाई के प्रारंभिक चरण थे। 10 साल की उम्र में पिता को खोने के बाद, उनका और उनके परिवार का जीवन पूरी तरह से अंधकारमय होने लगा था। headtopics.com

पिता की पेंशन से घर चलना मुश्किल हो रहा था, तो जयंत की पढ़ाई कहां से होती। फिर मां और दो बड़ी बहनों ने हिम्मत दिखाई और घर पर ही अचार बनाकर उसे बेचना शुरू कर दिया। जब दो पैसे आने लगे तो जयंत की पढ़ाई भी चलने लगी और घर खर्च भी निकलने लगा। स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद जयंत ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की।

यूपीएससी(UPSC) क्लियर करने के बाद जयंत (IAS jayant Mankale) ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि उन्होंने अपनी आंखों की रोशनी खो दी थी, लेकिन अपने जीवन की रोशनी नहीं खोई थी। वो बताते हैं- 2015 में एक निजी फर्म में काम करते हुए मैं 75 प्रतिशत नेत्रहीन हो गया। उसके बाद मेरा जीवन पूरी तरह से अंधकार में था। मेरे पिता का पहले ही निधन हो चुका था और पैसे कमाना एक बड़ा काम था।

जयंत ने यूपीएससी (IAS jayant Mankale) की पढ़ाई मराठी भाषा में ही की थी। जयंत की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी कि वो ऑडियोबुक और स्क्रीन रीडर का खर्च उठा पाते। लेकिन जहां चाह, वहां राह… जयंत के साथ भी कुछ ऐसा ही रहा। उन्होंने ऑल इंडिया रेडियो के साथ-साथ लोकसभा और राज्यसभा टीवी को अपना पढ़ाई का जरिया बना लिया। रोज समाचार सुनना, व्याख्यान सुनना, इंटरनेट पर लेखकों के भाषण सुनना, ये उनकी जिंदगी का हिस्सा बन गया था।

Also Readजन्म से दिव्यांग, पिता की मौत का सदमा, दिन में नौकरी-रात में पढ़ाई, कड़े संघर्ष ने बना दिया IASजिंदगी में मुश्किलें आती गईं और मेहनत के बल पर जयंत संघर्ष करते हुए यूपीएससी (UPSC) की तैयारी करते रहे। 2017 में उन्होंने यूपीएससी क्लियर भी कर लिया। इनका ऑल इंडिया रैंक 923 आया था, लेकिन किसी रूल की वजह से उन्हें सर्विस नहीं मिल पाई। इससे उन्हें बहुत बड़ा झटका लगा, लेकिन संघर्षों से निकले जयंत फिर भी हार नहीं माने और फिर से तैयारी में लग गए। headtopics.com

UPTET Paper leak: सपा-कांग्रेस ने योगी सरकार को घेरा, अखिलेश बोले-बेरोजगारों का इंकलाब होगा कोरोना के इलाज के नाम पर भारत के लोग कितना क़र्ज़ में डूबे? - BBC News हिंदी Ground Report: अमृतसर में CM चन्नी का चलेगा जादू या केजरीवाल करेंगे कमाल, क्या कहते हैं लोग

हालांकि इसके बाद उन्हें प्लान बी पर भी काम करना शुरू कर दिया। जयंत (IAS jayant Mankale) प्लान बी के रूप में बैंक की परीक्षा दी और वहां सिलेक्शन भी हो गया, लेकिन उनका सपना तो यूपीएससी क्लियर करना था। 2019 में जयंत यूपीएससी क्लियर करके आईएएस के लिए चुन लिए गए। इसके बाद उन्हें गुजरात कैडर मिला और अभी वो वहां अपनी सेवा दे रहे हैं।

और पढो: Jansatta »

वारदात: तेज हो गई समीर-नवाब की तकरार, क्या है स्कूल सर्टिफिकेट की सच्चाई?

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई के जोनल हेड समीर वानखेड़े के बर्थ सर्टिफिकेट और मैरिज सर्टिफिकेट के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक कथित रूप से उनके ये दो नए सर्टिफिकेट लेकर आए हैं. नवाब मलिक के मुताबिक समीर दादर के सेंट पॉल हाईस्कूल से प्राथमिक शिक्षा ली थी. इस सर्टिफिकेट में समीर वानखेड़े का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. यहां ये भी लिखा है कि छात्र की जाति और उपजाति तभी बताई जाए जब वो पिछड़े वर्ग, या अनुसूचचित जाति-जनजाति से आए. जबकि धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. इसके बाद समीर वडाला के सेंट जॉसेफ हाईस्कूल में पढने गए. यहां के स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट में समीर का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. और धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. दरअसल नवाब मलिक समीर वानखेड़े को मुसलमान साबित करने के लिए इसलिए जुटे हैं क्योंकि अगर उनकी बात सही साबित हो गई तो समीर वानखेड़े के नौकरी खतरे में पड़ जाएगी. देखें वीडियो.

अधिक पढ़ाई के खिलाफ था परिवार, वंदना सिंह चौहान ने छिपकर की थी UPSC की तैयारी12वीं की परक्षी के बाद वंदना ने घर पर रहकर यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी, इस दौरान उन्होंने पूरे एक साल तक खुद को कमरे में बंद कर लिया था।

मुंबई बलात्कार के बाद महिलाओं की सुरक्षा के लिए मुंबई पुलिस ने उठाए कई नए कदममुंबई में महिलाओं पर बढ़ रहे अत्याचार (Womens Safety) के बीच सोमवार को शहर के MIDC इलाके में 7 साल की बच्ची के साथ छेड़खानी का मामला सामने आया है, जिसमें पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है. लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए मुंबई पुलिस (Mumbai Police) भी ऐसे मामलों को कम करने के लिए अब कई कदम उठाने जा रही है. Wo sirf ndtv ka news bhar hai sirf Who believes it ? Good NDTV .. nice job

IPL 2021: फैंस के लिए खुशखबरी, आईपीएल मैच के दौरान स्टेडियम में होगी दर्शकों की एंट्रीIPL 2021 का दूसरा दौर 19 सितंबर से यूएई (IPL 2021 in UAE) में शुरू होगा. आईपीएल के दूसरे फेज से पहले क्रिकेट फैन्स के लिए ब़ड़ी खुशखबरी है. अब क्रिकेट फैन्स (Cricket Fans) स्टेडियम में जाकर मैच का लुत्फ उठा सकते हैं.

Sonu Sood के घर पहुंची IT डिपार्टमेंट की टीम, एक्टर के घर हो रहा सर्वेबॉलीवुड एक्टर सोनू सूद के घर आईटी डिपार्टमेंट पहुंचा है. कहा जा रहा है कि एक्टर के घर जो आईटी ऑफिशियल्स पहुंचे हैं, वे पांच जगहों पर सर्वे ऑप्रेशन कर रहे हैं. हालांकि, अभी तक वजह सामने नहीं आ पाई है. मालूम हो कि सोनू सूद लगातार कोविड-19 के चलते लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. कल ही एक्टर ने गणपति विसर्जन किया है, जिसमें उनका पूरा परिवार शामिल रहा. survey ya Raid.. हाल ही में सोनू सूद ने अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की थी।अरविंद केजरीवाल ने सोनू सूद को 'देश के मेंटॉर' कार्यक्रम का ब्रांड एम्बेसडर बनाया है इसीलिए सोनू सूद के घर सर्वे तो होना ही था....🤔 Shame on IT department Shame on central government

UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तकआज हमें जनता की जान की चिंता छोड़कर अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की होती राजनीति पर दस्तक देनी है. इसीलिए हमने आज की पहली दस्तक का नाम दिया है- जब तक है जान. यहां तीन तरह की जान है. पहली आम आदमी की जान यानी जिंदगी, जो उत्तर प्रदेश में डेंगू समेत दूसरे संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रही है. लेकिन उसकी जान बचाने की जगह यूपी में अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की चर्चा हो रही है. अब सवाल है कि क्या पेड़ के नीचे इलाज कराती जनता की पीड़ा भी क्या अब्बाजान-चाचाजान की राजनीति में दब जा रही है? देखिए 10 तक का ये एपिसोड. Vaccination के बाद ये आजतक वालों की इतनी फटने क्यों लगी है.. 😆🤣 देखिए 10Tak, Sayeed Ansari के साथ.. अफ़गान स्टेट टीवी के इंटरव्यू में देखा गया मुल्ला बरादर! 😆

Aligarh का ताला और सीतापुर की यादें, PM Modi ने याद की बचपन की वो कहानीआज प्रधानमंत्री मोदी ने अलीगढ़ का दौरा किया है और राजा महेंद्र प्रताप सिंह यूनिवर्सिटी का तोहफा राज्य को दिया. प्रधानमंत्री मोदी ने राजा महेंद्र प्रताप सिंह यूनिवर्सिटी का शिलान्यास किया. इस अवसर पर उन्होंने जनता को संबोधित भी किया. अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने बचपन की वो कहानी याद की जहां उनके घर एक मुस्लिम ताले वाले आया करते थे और वो उनके पिताजी के अच्छे दोस्त भी थे. अलीगढ़ में अपने बचपन का किस्सा सुनाते हुए पीएम मोदी बोले, 'अलीगढ़ से ताले के मुस्लिम सेल्समैन हर तीन महीने में हमारे गांव आते थे. अभी भी मुझे याद है कि वह काली जैकेट पहनकर आते थे. उनकी मेरे पिताजी से अच्छी दोस्ती थी. आते थे तो दो-चार दिन गांव में रुकते भी थे. आसपास के गांव में भी व्यापार करते थे. वो जो पैसे दूसरे दुकानदारों से वसूल करके लाते थे उनको मेरे पिता के पास छोड़ देते थे. मेरे पिताजी उनके पैसों को संभालते थे. फिर जब वो गांव छोड़कर जाते थे तब अपने पैसे ले जाते थे. देखें आगे क्या बोले पीएम मोदी. Chacha ne ab taj Afghanistan se bachpan ka rishta nahin nikala In short, PM's Verbal Diahorrea.