UP Election 2022: आगरा के लोहा कारोबारी किसलिए परेशान हैं? मोदी-योगी सरकार से लगाई गुहार

UP Election 2022: आगरा के लोहा कारोबारी किसलिए परेशान हैं? मोदी-योगी सरकार से लगाई गुहार #UPElections2022

Upelections 2022, Up Election 2022

28-11-2021 17:28:00

UP Election 2022: आगरा के लोहा कारोबारी किसलिए परेशान हैं? मोदी-योगी सरकार से लगाई गुहार UPElections2022

चाय पर चर्चा के बाद 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' आगरा के लोहा कारोबारियों के बीच पहुंचा। यहां कारोबारियों

आगरा में लोहा कारोबारियों ने चुनावी मुद्दों पर बात की।- फोटो : अमर उजालाविज्ञापनख़बर सुनेंख़बर सुनेंआगरा के लोहा कारोबारी इन दिनों कई मुद्दों को लेकर परेशान हैं। कारोबारियों का कहना है कि उन्हें बेवजह प्रदूषण और आयकर को लेकर परेशान किया जाता है। सरकार से भी कोई मदद नहीं मिल रही है। इसके चलते इंडस्ट्री धीरे-धीरे बंदी के कगार पर पहुंच चुकी है। दस साल पहले जितना काम था, आज उसका आधा काम भी नहीं बचा है। पढ़िए कारोबारियों ने क्या कहा?

UP Election : अखिलेश यादव की पार्टी के लिए प्रचार करेंगी ममता, सपा के बड़े नेता ने कही यह बात

लोहा कारोबारी शैलेश अग्रवाल ने कहा कि आगरा में मुगलकाल से लोहे का काम हो रहा है। पहले यहां बड़े पैमाने पर काम होता था। पिछले एक साल में लोहे के दाम में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। इसके चलते कारोबार पर बुरा असर पड़ा है। सरकार ने बहुत दावा किया कि कारोबार को बढ़ावा दिया जा रहा है, लेकिन हकीकत ये है कि इस क्षेत्र में कारोबारियों को बहुत नुकसान हुआ है। एमएसएमई इंडस्ट्री परेशान है। प्रदूषण के नाम पर कई तरह की पाबंदियां लगाई जा रही हैं, इस पर रोक लगनी चाहिए।

व्यवसायी जतिन अग्रवाल ने कहा कि पहले के मुताबले काम में काफी मंदी आई है। सरकार से ज्यादा प्रोत्साहन नहीं मिल पा रहा है। सरकार को लोहे की कीमतों पर नियंत्रण रखना चाहिए। बिजली का बिल भी बड़ा मुद्दा है।व्यवसायी अरविंद शुक्ला ने कहा कि आगरा की इंडस्ट्री धीरे-धीरे खत्म हो रही है। 10 साल पहले जितना काम था, आज उसका आधा भी नहीं है। चरन बंसल ने कहा कि कच्चे मालों के दाम तय नहीं है। इसलिए बेचने और खरीदने में परेशानी आती है। ईमानदारी से काम करने के बावजूद टैक्स विभाग परेशान करता है। headtopics.com

मजदूरों ने क्या कहा?लोहा फैक्ट्री में काम करने वाले मजदूर बंटी यादव ने कहा कि लोहे का कारोबार काफी कम हो गया है। पहले यहां काम करने पर 700-800 रुपए मजदूरी मिल जाती थी, अब 200-250 मिल रही है। भाजपा की सरकार आने के बाद इसमें गिरावट हुई है। शंकरलाल और बॉबी यादव ने भी कहा कि अब ज्यादा काम नहीं मिल पाता है।

मुस्लिम व्यक्ति एक हिन्दू महिला के साथ जा रहा था, ट्रेन से उतारा गया - BBC News हिंदी

विस्तारआगरा के लोहा कारोबारी इन दिनों कई मुद्दों को लेकर परेशान हैं। कारोबारियों का कहना है कि उन्हें बेवजह प्रदूषण और आयकर को लेकर परेशान किया जाता है। सरकार से भी कोई मदद नहीं मिल रही है। इसके चलते इंडस्ट्री धीरे-धीरे बंदी के कगार पर पहुंच चुकी है। दस साल पहले जितना काम था, आज उसका आधा काम भी नहीं बचा है। पढ़िए कारोबारियों ने क्या कहा?

विज्ञापनलोहा कारोबारी शैलेश अग्रवाल ने कहा कि आगरा में मुगलकाल से लोहे का काम हो रहा है। पहले यहां बड़े पैमाने पर काम होता था। पिछले एक साल में लोहे के दाम में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। इसके चलते कारोबार पर बुरा असर पड़ा है। सरकार ने बहुत दावा किया कि कारोबार को बढ़ावा दिया जा रहा है, लेकिन हकीकत ये है कि इस क्षेत्र में कारोबारियों को बहुत नुकसान हुआ है। एमएसएमई इंडस्ट्री परेशान है। प्रदूषण के नाम पर कई तरह की पाबंदियां लगाई जा रही हैं, इस पर रोक लगनी चाहिए।

व्यवसायी जतिन अग्रवाल ने कहा कि पहले के मुताबले काम में काफी मंदी आई है। सरकार से ज्यादा प्रोत्साहन नहीं मिल पा रहा है। सरकार को लोहे की कीमतों पर नियंत्रण रखना चाहिए। बिजली का बिल भी बड़ा मुद्दा है।व्यवसायी अरविंद शुक्ला ने कहा कि आगरा की इंडस्ट्री धीरे-धीरे खत्म हो रही है। 10 साल पहले जितना काम था, आज उसका आधा भी नहीं है। चरन बंसल ने कहा कि कच्चे मालों के दाम तय नहीं है। इसलिए बेचने और खरीदने में परेशानी आती है। ईमानदारी से काम करने के बावजूद टैक्स विभाग परेशान करता है। headtopics.com

सऊदी अधिकारियों की चेतावनी- सोशल मीडिया पर अफ़वाह फैलाई तो होगी जेल - BBC Hindi

मजदूरों ने क्या कहा?लोहा फैक्ट्री में काम करने वाले मजदूर बंटी यादव ने कहा कि लोहे का कारोबार काफी कम हो गया है। पहले यहां काम करने पर 700-800 रुपए मजदूरी मिल जाती थी, अब 200-250 मिल रही है। भाजपा की सरकार आने के बाद इसमें गिरावट हुई है। शंकरलाल और बॉबी यादव ने भी कहा कि अब ज्यादा काम नहीं मिल पाता है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

UP Elections: 5 साल में क्या बदला, अब किसे मिलेगा आर्शीवाद? जानें गाजियाबाद के लोगों की राय

गाजियाबाद, यूपी का वो जिला है जो अलग-अलग चीजों के लिए पहचान रखता है. इसे यूपी का औद्योगिक जिला भी कहा जाता है. जिले की आबादी 50 लाख से ज्यादा है. यहां की करीब 70 फीसदी आबादी हिंदू है जबकि करीब 25 फीसदी मुस्लिम आबादी है. दलित और मुस्लिम गाजियाबाद में काफी निर्णायक रहा है. जिले में ब्राह्मण, वैश्य, गुर्जर, ठाकुर, पंजाबी और यादव वोटर भी हैं. देखें यूपी में आने वाले चुनाव पर क्या है यहां के लोगों की राय और 5 सालों में कितना बदला गाजियाबाद.

पिछले 5 वर्षों से राजस्वलेखपाल की भर्ती अखबारों में आ रही है किन्तु यह सरकार की संवेदनहीनता और UPSSSC का निकम्मापन है कि आजतक एक भी 5 वर्षों में भर्ती नहीं आयी है| PET के नाम पर 21लाख छात्रों को ठगने का काम सरकार ने किया है | UPGovt aajtak ABPNews CMOfficeUP PMOIndia

कोरोना के नए वैरियंट के कारण भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरे पर मंडराए संकट के बादलसाउथ अफ़्रीका में इस सप्ताह कोविड-19 का नया प्रकार सामने आया है। साउथ अफ़्रीका को यात्रा करने वालों के लिए यूके की लाल सूची में जोड़ा जाना है और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंध भी लगने की उम्मीद है।

कोविड-19 के नए स्वरूप ‘ओमीक्रॉन’ के डर से दुनिया के देशों ने लगाईं यात्रा पाबंदियांविश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक समिति ने कोरोना वायरस के नए स्वरूप को ‘ओमीक्रॉन’ नाम दिया है और इसे ‘बेहद संक्रामक चिंताजनक स्वरूप’ क़रार दिया है. इस वायरस की सबसे पहले जानकारी 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में मिली. इससे संक्रमण के मामले बोत्स्वाना, बेल्जियम, हांगकांग और इज़रायल में भी मिले हैं. उoप्रo में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 8 माह पूर्व अप्रैल 2021 में संपन्न हुआ था जिसमें लगे 10,000 प्रांतीय रक्षक दल के पीआरडी जवानों नें ड्यूटी किया था जिसका मानदेय अभी तक नहीं मिला l युवा_कल्याण विभाग व सरकार से निवेदन है कि भुगतान करने की कृपा करें❗

Vegetable Rate: टूटा टमाटर, मटर धड़ाम, जानिए आगरा में सब्जियों के ताजा भावVegetable Rate जोधपुर व मध्यप्रदेश ने एक झटके में कम किए टमाटर के नखरे कम। प्याज आलू सस्ता अदरक नीबू व धनिया के भाव मे गिरावट। देहरादून व विकास नगर से आ रही हरी मटर भी 10 रुपये प्रति किलो सस्ती रही। 15दिन के लिए यदि सब्जी महंगी हो गई तो लगता है। आसमान फट गया। हर वर्ष बारिश के बाद समस्या होती ही है

संसद के शीतकालीन सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक, क्या है सरकार के सामने चुनौती?नई दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र सुचारू रूप से चलाने के उद्देश्य से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला 29 नवंबर को संसद में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक की अध्यक्षता करेंगे। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सत्ता पक्ष और विपक्ष के बड़े नेताओं के शामिल होने की संभावना है।

Airtel यूजर्स के लिए खुशखबरी, इन 4 प्रीपेड प्लान के साथ रोज मिलेगा 500MB डेटा FreeAirtel ने अपने ग्राहकों को लाभ पहुंचाने के लिए अपने चार प्रीपेड प्लान के साथ रोज 500MB डेटा मुफ्त में देने का ऐलान किया है। बता दें कि कंपनी ने कुछ समय पहले अपने प्रीपेड प्लान की कीमत में 20 से 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी की थी। airtelindia किसानों की सुधि लीजिए airtelindia और कितनो को चूना लगाया जाएगा, उसका रिकॉर्ड भी साझा कर देते। jagograhakjago MoCA_GoI airtelindia Aur jo Rs. 249 ka plan Rs. 299 kr diye ho, uska kya? Jitna lootna hai looto. Tum v luto saalon

पंजाब: 13 छात्र कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद 10 दिन के लिए बंद सरकारी स्कूलSchool Closed: पंजाब के सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, पलाहड़ के 13 बच्चे कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. स्वास्थ्य विभाग ने स्कूलों में कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, मास्क लगाने और सैनिटाइजर की व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं.