Taliban, Afghanistan, Afghanwomen, Afghan Women, Trauma Of Taliban Rule, Afghanistan, Pakistan, China, Humaira Rizai, Taliban, World News İn Hindi, World News İn Hindi, World Hindi News

Taliban, Afghanistan

Taliban Rule : अफगान महिलाओं ने सुनाई तालिबान के जुल्मों की दास्तां, बताया कैसे हैं वहां के हालात

अफगानिस्तान में लोगों पर तालिबान के जुल्म का सिलसिला खत्म होता नहीं दिख रहा है। खासकर महिलाएं तालिबान के निशाने पर

15-09-2021 20:28:00

Taliban Rule : अफगान महिलाओं ने सुनाई तालिबान के जुल्मों की दास्तां, बताया कैसे हैं वहां के हालात Taliban Afghanistan AfghanWomen

अफगानिस्तान में लोगों पर तालिबान के जुल्म का सिलसिला खत्म होता नहीं दिख रहा है। खासकर महिलाएं तालिबान के निशाने पर

हुमैरा ने कहा कि तालिबान महिलाओं को इंसान ही नहीं समझता। हुमैरा और अफगान सांसद शिनकाई कारोखैल के लिए वो दिन किसी दुस्वप्न से कम नहीं था जब तालिबान ने काबुल पर कब्जा जमा लिया था। उसने काबुल सहित सभी प्रमुख शहरों पर कब्जा कर लिया।हुमैरा कहती हैं, तालिबान ने महिलाओं को पीटा और मौत की सजा दी। उसने हमारे सभी अधिकार छीन लिए। अफगान महिलाएं 2000 के बाद से कड़ी मेहनत कर अपने पैरों पर खड़ी हुई थीं, लेकिन वो सब कुछ खो गया है। देश 100 साल पीछे चला गया है।

इंडियन वूमेन प्रेस कॉर्प्स द्वारा महिला पत्रकारों के साथ आयोजित संवाद कार्यक्रम में सांसद कारोखैल ने याद किया कि महिलाओं को तालिबान शासन में किन हालात में जिंदगी गुजारनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि वहां के हालात बेहद खराब हैं।उन्होंने कहा कि तालिबान महिला कार्यकर्ताओं और राजनीतिज्ञों के घर-घर गया जो किसी वजह से अफगानिस्तान नहीं छोड़ सके थे। ऐसी महिलाएं तालिबान से बचने के लिए लगातार जगह बदल रही थीं। तालिबान ने उनके सुरक्षाकर्मियों के हथियार ले लिए थे। उनकी कार भी जब्त कर ली गई थी।

वहीं, अफगान पत्रकार फातिमा फरामार्ज ने कहा कि वहां महिलाओं को जानवर समझा जाता है और तालिबान ही उनके भाग्य का फैसला करता है। एक हाल ही की घटना का जिक्र करते हुए फातिमा ने कहा कि एक विरोध-प्रदर्शन को कवर करने के उनके सहकर्मियों को तालिबान ने बुरी तरह से पीटा था। headtopics.com

उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं का भविष्य बेहद अस्पष्ट और अंधकारमय है। सांसद कारोखैल ने कहा कि अब महिलाओं की स्थिति 20 साल पहले जैसी नहीं रही। उन्हें अपने अधिकारों के बारे में पता है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की आर्थिक गतिविधियां बंद होने से उनकी हालत और खराब हुई है।

कारोखैल का कहना है कि तालिबान और उसके पाकिस्तान, चीन, रूस जैसे समर्थक देशों को इस स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। क्योंकि इस स्थिति के लिए ये सभी जिम्मेदार हैं। अमेरिका को भी अफगानिस्तान में अपनी गलती को स्वीकार करना चाहिए।विस्तार हैं और वो रोजाना नए फरमान जारी कर रहा है। महिलाओं को देश छोड़कर भागना पड़ रहा है। ऐसी ही एक महिला हैं हुमैरा रिजाई जिन्होंने तालिबान के जुल्म से तंग होकर हजारों और लोगों के साथ देश छोड़ दिया। वह नई दिल्ली पहुंची हैं।

विज्ञापनहुमैरा ने कहा कि तालिबान महिलाओं को इंसान ही नहीं समझता। हुमैरा और अफगान सांसद शिनकाई कारोखैल के लिए वो दिन किसी दुस्वप्न से कम नहीं था जब तालिबान ने काबुल पर कब्जा जमा लिया था। उसने काबुल सहित सभी प्रमुख शहरों पर कब्जा कर लिया।हुमैरा कहती हैं, तालिबान ने महिलाओं को पीटा और मौत की सजा दी। उसने हमारे सभी अधिकार छीन लिए। अफगान महिलाएं 2000 के बाद से कड़ी मेहनत कर अपने पैरों पर खड़ी हुई थीं, लेकिन वो सब कुछ खो गया है। देश 100 साल पीछे चला गया है।

इंडियन वूमेन प्रेस कॉर्प्स द्वारा महिला पत्रकारों के साथ आयोजित संवाद कार्यक्रम में सांसद कारोखैल ने याद किया कि महिलाओं को तालिबान शासन में किन हालात में जिंदगी गुजारनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि वहां के हालात बेहद खराब हैं।उन्होंने कहा कि तालिबान महिला कार्यकर्ताओं और राजनीतिज्ञों के घर-घर गया जो किसी वजह से अफगानिस्तान नहीं छोड़ सके थे। ऐसी महिलाएं तालिबान से बचने के लिए लगातार जगह बदल रही थीं। तालिबान ने उनके सुरक्षाकर्मियों के हथियार ले लिए थे। उनकी कार भी जब्त कर ली गई थी। headtopics.com

वहीं, अफगान पत्रकार फातिमा फरामार्ज ने कहा कि वहां महिलाओं को जानवर समझा जाता है और तालिबान ही उनके भाग्य का फैसला करता है। एक हाल ही की घटना का जिक्र करते हुए फातिमा ने कहा कि एक विरोध-प्रदर्शन को कवर करने के उनके सहकर्मियों को तालिबान ने बुरी तरह से पीटा था।

उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं का भविष्य बेहद अस्पष्ट और अंधकारमय है। सांसद कारोखैल ने कहा कि अब महिलाओं की स्थिति 20 साल पहले जैसी नहीं रही। उन्हें अपने अधिकारों के बारे में पता है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की आर्थिक गतिविधियां बंद होने से उनकी हालत और खराब हुई है।

कारोखैल का कहना है कि तालिबान और उसके पाकिस्तान, चीन, रूस जैसे समर्थक देशों को इस स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। क्योंकि इस स्थिति के लिए ये सभी जिम्मेदार हैं। अमेरिका को भी अफगानिस्तान में अपनी गलती को स्वीकार करना चाहिए।आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Purvanchal Expressway से BJP की चुनावी गाड़ी पकड़ेगी रफ्तार? Sultanpur से देखें बुलेट रिपोर्टर

सुल्तानपुर के आसमान में भारतीय वायुसेना के गरजते विमानों की दहाड़ बहुत दूर तक सुनाई दे रही है. पूर्वांचल की धरती का बहुत खास सियासी पड़ाव है सुल्तानपुर. यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना के हरक्यूलिस विमान से उतरे और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. समझने वाले समझ ही गए होंगे कि कहां निगाहें हैं, कहां निशाना है. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के इस लोकार्पण से बीजेपी भी उम्मीद कर रही है कि उसकी चुनावी गाड़ी भी इस बहाने रफ्तार पकड़ेगी. तो जनता की नब्ज पकड़ने के लिए हमारी संवाददाता चित्रा त्रिपाठी की बुलेट भी यहां की ओर दौड़ पड़ी. देखिए बुलेट रिपोर्टर का ये एपिसोड.

तालिबान के 2 टॉप लीडर के जिंदा होने पर सस्पेंस: दुनिया के सामने क्यों नहीं आ रहे मुल्ला बरादर और सुप्रीम लीडर अखुंदजादा; तालिबान प्रवक्ता भी सवालों से बचने लगेतालिबान ने 15 अगस्त को काबुल पर कब्जे के साथ ही हुकूमत कायम कर ली। एक हफ्ते पहले सरकार का भी ऐलान कर दिया। इसका शपथ ग्रहण समारोह होगा या नहीं होगा, कब और कैसे होगा? ऐसे तमाम सवाल लोगों के जेहन में हैं। इससे भी बड़ा सवाल ये है कि तालिबान के बड़े नेता कहां हैं और ये दुनिया के सामने क्यों नहीं आ रहे? | Mullah Baradar- Hibatullah Akhundzada | Where is Taliban leaders Mullah Baradar and Hibatullah Akhundzada; rumors of Baradar and Akhundzada Death Returns Again : तालिबान ने 15 अगस्त को काबुल पर कब्जे के साथ ही हुकूमत कायम कर ली। एक हफ्ते पहले सरकार का भी ऐलान कर दिया। इसका शपथ ग्रहण समारोह होगा या नहीं होगा, कब और कैसे होगा? ऐसे तमाम सवाल लोगों के जेहन में हैं। इससे भी बड़ा सवाल ये है कि तालिबान के नेता कहां हैं? आदरनिये भास्कर जी ,,,,, दिल्ली के 6 आतंकवादी की गिरफ्तारी की कोई खबर नहीं , आपके पहले दुसरे पेज पर , कोई रिश्तेदार थे क्या ? haryana

दावा: जिंदा हैं अफगानिस्तान की महिला गवर्नर सलीमा मजारी, तालिबान के खिलाफ उठाई थी बंदूकसलीमा मजारी अफगानिस्तान में पहली महिला गवर्नरों में से एक रही हैं। उन्हें कुछ साल पहले ही बल्ख के चाहत किंत जिले का

अफगानिस्तान में तालिबान सरकार से ISI के हौसले बुलंद, LOC पर बढ़ीं घुसपैठ की कोशिशेंआईएसआई ने पाकिस्तानी आर्मी की मदद से पाक अधिकृत कश्मीर (POK) और इंटरनेशनल बॉर्डर से आतंकी घुसपैठ के लिए जून से लेकर अगस्त तक 105 बार कोशिश की. भारतीय सुरक्षाबलों ने घुसपैठ की अधिकतर कोशिशें नाकाम कर दीं लेकिन करीब छह जगह आतंकी घुसपैठ करने में सफल भी रहे हैं. jitendra This is fake news a I believe it indian army jitendra Ab UP election hai to yeh Sab Kuchh to hona hi hai

तालिबान के कब्जे में नहीं हैं सलीमा मजारी, चकमा देकर काबुल से निकलींअफगानिस्तान की गिनी-चुनी महिला गवर्नरों में से एक रही सलीमा मजारी इस वक्त अमेरिका में हैं. बीच में अफवाह थी कि तालिबान ने उन्हें पकड़ लिया है, लेकिन ये गलत था. सलीमा मजारी तालिबान को चकमा देकर अफगानिस्तान से बाहर आई हैं.

तालिबान से खौफजदा अफगान नागरिक, 736 ने भारत में शरण के लिए करवाया नया रजिस्ट्रेशनतालिबान के लड़ाकों ने पिछले महीने पूरे अफगानिस्तान में काबुल सहित लगभग सभी प्रमुख कस्बों और शहरों पर कब्जा कर लिया था। तालिबान के शासन के डर से लाखों अफगान नागरिक दूसरे देशों में शरण ले रहे हैं। BHARAT KO BHARAT HI RHNE DO, PRABHU HME IN LOGO SE BACHAYE,OM JI

तालिबान का विरोध: अब कंधार में भी उभरा क्रोध, घर खाली करने के हुक्म के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोगतालिबान का विरोध: अब कंधार में भी उभरा क्रोध, घर खाली करने के हुक्म के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग Afghanistan Pakistan Taliban Kabul ImranKhanPTI POTUS PMOIndia ImranKhanPTI POTUS PMOIndia बनारस में पर्यटक ना आने की वजह से काफी ज्यादा घाटा हो रहा है हस्तकला के जो दुकाने हैं उन्हें काफी ज्यादा नमस्कार हो रहा है कृपया करके पर्यटक के आने की अनुमति दें टूरिस्ट वीजा चालू करें भारत के उत्तर प्रदेश सरकार से रिक्वेस्ट है कृपया करके इंटरनेशनल फ्लाइट चालू करवा ImranKhanPTI POTUS PMOIndia