Cricket, T20worldcup 2021, Teamındia, Cricket, Headlines, Bccı On Rohit Sharma, Rohit Sharma, T20 World Cup 2021, T20 Wc 2021 Bouncer, Virat Kohli, Cricket News İn Hindi, Sports And Recreation, Sports, Cricket

Cricket, T20worldcup 2021

T20 वर्ल्ड कप के बाद कौन होगा टीम इंडिया का कप्तान, नाम आ गया सामने!

T20 वर्ल्ड कप के बाद कौन होगा टीम इंडिया का कप्तान, नाम आ गया सामने! #Cricket #T20WorldCup2021 #TeamIndia

21-10-2021 08:10:00

T20 वर्ल्ड कप के बाद कौन होगा टीम इंडिया का कप्तान, नाम आ गया सामने! Cricket T20WorldCup2021 TeamIndia

ICC T20 World Cup 2021 के बाद विराट कोहली टी20 क्रिकेट की कप्तानी छोड़ने वाले हैं और इसके बाद टीम इंडिया का कप्तान कौन होगा ये तस्वीर भी साफ हो गई है। बीसीसीआइ के अधिकारी ने कहा है कि टी20 फार्मेट में अगले कप्तान रोहित शर्मा होंगे।

एक कप्तान के तौर पर ICC T20 World Cup 2021 विराट कोहली के लिए आखिरी टूर्नामेंट होगा। इस मेगा इवेंट के बाद विराट कोहली टी20 फार्मेट की कप्तानी छोड़ देंगे। विराट कोहली पहले ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ को अपना इस्तीफा सौंप चुके हैं कि जब तक टीम इंडिया का सफर टी20 विश्व कप में जिंदा रहेगा, तब तक वे टीम के कप्तान होंगे और टूर्नामेंट के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ देंगे, लेकिन टीम के लिए खेलते रहेंगे। ऐसे में टीम इंडिया का अगला कप्तान कौन होगा, इसकी तस्वीर साफ हो गई है।

नारायण राणे का दावा, मार्च में महाराष्ट्र में बीजेपी सरकार बनाएगी - BBC Hindi Prayagraj: प्रियंका गांधी ने पीड़ित दलित परिवार से की मुलाकात, कहा- यूपी में गरीबों, दलितों और किसानों की कोई सुनवाई नहीं 'स्टॉप इट डैड', आर्यन खान के दोस्त ने जब NCB दफ्तर से निकलते ही दिया रिएक्शन, देखें VIDEO

यह भी पढ़ेंबीसीसीआइ के एक अधिकारी ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि टी20 विश्व कप के बाद टीम इंडिया के कप्तान टी20 प्रारूप में रोहित शर्मा होंगे। बीसीसीआइ अधिकारी ने इनसाइड स्पोर्ट्स से बात करते हुए कहा, "रोहित शर्मा विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप के कप्तान होंगे, लेकिन मेगा इवेंट के बाद इसकी घोषणा की जाएगी।"

रोहित शर्मा इस समय टीम इंडिया के उपकप्तान हैं और ऐसे में उनकी जगह कौन लेगा, इसकी पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन माना जा रहा है कि टी20 प्रारूप में टीम इंडिया की उपकप्तानी केएल राहुल को सौंपी जा सकती है, क्योंकि वे पहले भी उपकप्तानी कर चुके हैं।यह भी पढ़ेंगौरतलब है कि जब आइपीएल 2020 के बाद आस्ट्रेलिया के दौरे पर रोहित शर्मा चोट के कारण नहीं गए थे तो उनके स्थान पर सीमित ओवरों के लिए केएल राहुल को टीम इंडिया का उपकप्तान बनाया गया था। ऐसे में इस बात की पूरी संभावना है कि केएल राहुल को उपकप्तानी दी जाएगी। हालांकि, इसकी दावेदारी रिषभ पंत ने भी पेश कर रखी है, क्योंकि वे विकेटकीपर हैं और वे विकेट के पीछे से कुछ निर्णय लेने में टीम की मदद कर सकते हैं। केएल राहुल भी विकेटकीपिंग करते आ रहे हैं, लेकिन रिषभ पंत के टीम में होने पर केएल राहुल को फील्ड पर ही रहना पड़ता है। headtopics.com

और पढो: Dainik jagran »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

Sourav Ganguli also every and now Virat Kohli कप्तान वही जो पद को शोभित करे ,ना की बोझा,पीछे सभी कप्तान शानदार रहे,एक से बढकर एक,उम्मीद है,ना उम्मीद नही होगे

कोरोना के कारण रिकार्ड मौतों के बाद रूस में सख्त पाबंदियां लगाने का प्रस्तावरूस में कोरोना संक्रमण का कहर एक बार फिर बढ़ने लगा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के कारण सर्वाधिक 1015 मौतों और 33 हजार से ज्यादा नए मामलों के मिलने के बाद कुछ सख्त पाबंदियां लगाने का प्रस्ताव किया गया है। Has it something to do with Sputnikv?

Kushinagar Airport: अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के उद्घाटन के बाद अब महापरिनिर्वाण मंदिर में पीएम मोदीकुशीनगर को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की सौगात मिल गई है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई narendramodi

ओवैसी के साथ नजर आने के बाद अब ओपी राजभर ने अखिलेश यादव से मिलाया हाथबुधवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव से सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओपी राजभर ने मुलाकात की। जिसके बाद दोनों ने यूपी चुनाव को साथ में लड़ने की घोषणा कर दी है।

फ़र्रूख़ाबाद में बौद्ध तीर्थ क्षेत्र के मंदिर से झंडा उतारने पर विवाद, तोड़फोड़ के बाद तनावउत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले का मामला. बुधवार दोपहर धम्म यात्रा के दौरान बौद्ध अनुयायियों में शामिल कुछ अराजक तत्व संकिसा बौद्ध तीर्थ क्षेत्र में विवादित टीले पर स्थित बिसारी देवी मंदिर पर चढ़े और वहां लगा भगवा झंडा नीचे फेंककर उस पर पंचशील ध्वज लगा दिया. पीएम चादर चढ़ाता है इसके दंगाई भक्त दुसरे धर्मों के धार्मिक स्थल पर दंगा, तोड़ फोड़ करते फिरते हैं। इसका चादर चढ़ाना जरूरी नहीं है इसका अपनें अंड भक्तों को रोकना ज्यादा जरूरी है। 🏹🏹🏹 RedicalHindutva HateCrime hindutvafascism सब जानते हैं कि आज के विश्व के चौथे‌ सबसे बड़े बौद्ध धर्म को उसकी जन्म स्थली/कर्मस्थली से समाप्त करने वाले‌ धूर्त पोंगापाखंडी ही थे‌,जिन्होंने बौद्ध मठों पर कब्जा कर उनको मंदिरो‌ पर बदल‌ दिया? meghnad141120 RamdasAthawale Profdilipmandal. WamanCMeshram हमारी sencitivity high हो चुकी है।

अपनी पार्टी बनाएंगे, भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार: अमरिंदर सिंहकांग्रेस नेता और पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने अमरिंदर सिंह के एक नई राजनीतिक पार्टी बनाने और भाजपा से साथ सीट बंटवारे को लेकर तैयार होने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अगर कैप्टन भाजपा के साथ जाना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं. उन्हें ‘सर्वधर्म सम्भाव’ का प्रतीक माना जाता था. ऐसा लगता है कि उन्होंने अपने अंदर के ‘धर्मनिरपेक्ष अमरिंदर’ को मार दिया है. इनसे कहो G 23 के बूढों को भी अपने साथ ले लें। 80 साल की उम्र में भी संतोष नहीं। घटिया आदमी निकला ये राजा 70 साल तक कांग्रेस ने सब दिया। एक कुर्सी मांग ली तो राजा की तिवरी चढ़ गई अब समय अमरेन्द्र साहब सत नाम वाये गुरु जपने का है न की पार्टी बनाने का ।

प्रसार भारती के पुरानी सामग्री के मौद्रिकरण के ख़िलाफ़ माकपा सांसद, कहा- सही क़दम नहींप्रसार भारती ने आकाशवाणी और दूरदर्शन के अभिलेखागार में संग्रहीत पुरानी रिकार्डेड सामग्री को विभिन्न मंचों को बेचने का निर्णय लिया है, जिसका विरोध करते हुए तमिलनाडु के मदुरै से माकपा सांसद एस. वेंकटेशन ने कहा है कि इस तरह प्रसार भारती के ऐतिहासिक ख़जाने की मार्केंटिंग नहीं होनी चाहिए. प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर का कहना है कि इस पॉलिसी को ग़लत समझा जा रहा है.