Sushantsinghrajput, Noida-Jagran-Special, Shushant Singh Rajput Case, Shushant Singh Rajput, Rhea Chakraborty, Rhea Chakraborty İnterrogation, Cbı, Arushi Murder Case, आरुषि हत्याकांड, सीबीआइ जांच, सुशांत सिंह मर्डर मिस्ट्री, Uttar Pradesh News

Sushantsinghrajput, Noida-Jagran-Special

Sushant Singh Rajput Murder Mystery: क्या आरुषि की तरह रहस्य रह जाएगी सुशांत सिंह राजपूत की मौत

क्या आरुषि की तरह रहस्य रह जाएगी सुशांत सिंह राजपूत की मौत #SushantSinghRajput

14-06-2021 20:00:00

क्या आरुषि की तरह रहस्य रह जाएगी सुशांत सिंह राजपूत की मौत SushantSinghRajput

Sushant Singh Rajput Murder Mystery सच बात तो यह भी है कि एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला कुछ हद तक आरुषि-हेमराज की तरह ही है। दोनों मामलों में कई समानताएं भी हैं। खासकर दोनों ही मामलों में स्थानीय पुलिस की अप्रोच एक सी रही।

ठीक एक साल पहले 14 जून, 2020 को बॉलीवुड एक्टर सुंशात सिंह राजपूत का शव मुंबई के फ्लैट में मिला था। मुंबई पुलिस ने 24 घंटे के भीतर इसे आत्महत्या का केस करार दिया था, जबकि कई सवाल अनसुलझे थे। कुछ महीने बाद सुंशात सिंह राजपूत के पिता केके सिंह मामले की सीबीआइ जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे और आदेश के बाद जांच जारी है, लेकिन अब तक बेनतीजा है। ऐसे में लोग कयास लगा रहे हैं कि कहीं सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की जांच नोएडा के आरुषि-हेमराज मर्डर की तरह न हो जाए। सच बात तो यह भी है कि एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला कुछ हद तक आरुषि-हेमराज की तरह ही है। दोनों मामलों में कई समानताएं भी हैं। मसलन, आरुषि और सुशांत केस में जितने ट्विस्ट और टर्न सामने आए, अब से पहले शायद ही किसी की मौत के केस में आए होंगे। खासकर राज्य की पुलिस और केंद्रीय जांच एजेंसी तक मामलों के जाने के बीच इतना बवाल कभी नहीं हुआ। सबसे बड़ी बात की आरुषि की हत्या का राज 13 साल बाद भी नहीं खुला है, जबकि सुशांत की मौत की जांच एक बाद जहां थी वहीं है। दोनों ही मामलों की जांच सीबीआइ कर रही है।

टोक्यो ओलंपिक गेम्स सबसे अलग कैसे हैं? जानिए - BBC News हिंदी चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पहला तिब्बत दौरा भारत के लिए क्या संदेश है? - BBC News हिंदी 'यह मग्न होने का समय नहीं, आगे का रास्ता ज्यादा चुनौतीपूर्ण : देश की इकॉनमी पर बोले मनमोहन सिंह

पिता के सक्रिय होने और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद जांच में जुटी सीबीआइ ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के केस में CBI ने सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती समेत छह लोगों पर केस दर्ज किया है। वहीं, एक महीने बाद  CBI सबूतों के नाम पर खाली हाथ है। चार्जशीट तो दूर की बात है, इस मामले में अब तक किसी की गिरफ्तारी तक नहीं हुई है। हां, पूछताछ कई लोगों से की गई। कहा तो यहां तक जा रहा है कि CBI अब क्लोजर रिपोर्ट देने की तैयारी में है। 

यह भी पढ़ेंजांच की क़ड़ी में CBI की टीम ने सुशांत के घर पर पूरा क्राइम सीन रीक्रिएट किया था। टीम कूपर अस्पताल भी गई थी और सुशांत की पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर्स की टीम से भी सवाल-जवाब किए गए थे। सुशांत और रिया कुछ समय के लिए मुंबई एयरपोर्ट के पास एक रिसॉर्ट में तीन महीने के लिए रुके थे। उस रिसॉर्ट के मैनेजर और सारे स्टाफ से भी पूछताछ हुई थी, लेकिन नतीजे नाम पर एक साल बाद शून्य है। headtopics.com

वहीं, 15-16 मई, 2008 की रात आरुषि की उसके घर में ही हत्या कर दी गई थी। फिर अगले कुछ घंटों के भीतर घरेलू सहायक हेमराज का शव जलवायु विहार एल-32 घर की छत पर मिला था। उत्तर प्रदेश पुलिस ने हत्या कांड के कुछ दिनों के भीतर ही जांच को लेकर खुलासा किया था कि आरुषि की हत्या उसके पिता ने की है। 14 वर्षीय आरुषि डॉक्टर दंपत्ति राजेश और नूपुर तलवार की बेटी थी। जानकारी के मुताबिक, 16 मई 2008 की सुबह आरुषि का शव उसके ही कमरे में मिला था। घर में आरुषि और उसके माता-पिता के अलावा उनका घरेलू सहायक हेमराज भी रहता था जो हत्या के बाद से घर से गायब था।

यह भी पढ़ेंऐसे में परिवार के कहने पर  आरुषि की हत्या का सीधा शक उसी पर गया, लेकिन अगले ही दिन हेमराज का शव भी इसी घर की छत से बरामद हो गया। इसने हत्या का रहस्य गहरा कर दिया। सीबीआइ जांच के बावजूद 13 साल बाद भी आरुषि-हेमराज की हत्या का राज खुला नहीं है।

आरुषि और सुशांत की हत्या पर बन चुकी है फिल्मदिल्ली से सटे नोएडा के जलवायु विहार के 'एल-32' फ्लैट में 15-16 मई, 2008 की रात आरुषि तलवार और नौकर हेमराज की मर्डर मिस्ट्री 13 साल भी अनसुलझी है। यह महज इत्तेफाक है कि आरुषि और सुंशात की मौत पर फिल्म बन चुकी है। सुशांत पर आधारित न्याय द जस्टिस तो पिछले सप्ताह ही रिलीज हुई।

यह भी पढ़ेंजांच शुरू होने के साथ बढ़ गया सस्पेंसआरुषि और सुंशात दोनों ही मामलों में जांच शुरू होने के साथ ही सस्पेंस बढ़ गया। केंद्रीय जांच एजेंसी (Central Bureau of Investigation) की जांच के दौरान एक-एक कर इतने नाटकीय घटनाक्रम सामने आए कि पूरा मामला क्रिसी थ्रिलर फिल्म जैसा हो गया। सबसे पहले हत्या के तुरंत बाद घर के नौकर हेमराज पर जाहिर किया गया, लेकिन अगले दिन जब हेमराज की लाश घर की छत पर मिली तो ये पूरा मामला घूम गया। जांच में सीबीआइ के मुताबिक, आरुषि और हेमराज का हत्यारा कोई बाहरी व्यक्ति नहीं था। उन्होंने कहा कि हेमराज का शव आरूषि के कमरे से खींचकर छत पर लाया गया। जहां इसे एक कूलर पैनल से ढंककर रखा गया था और छत को जाने वाले दरवाजे पर ताला लगा था। headtopics.com

IND vs SL: भारत ने 2-1 से जीती वन-डे सीरीज, आखिरी मैच में श्रीलंका ने तीन विकेट से हराया मेडिकल साइंस में आस्था का मेल: ऑपरेशन से पहले डॉक्टर ने लड़की से कहा- हनुमान चालीसा पढ़ो, बिना बेहोश किए 3 घंटे चली सर्जरी जंगल बचाने 'शिव' का सहारा: ​​​​​​​छत्तीसगढ़ में 8 किलोमीटर सड़क बनाने के लिए काटे जाने हैं 2000 पेड़; चिपको आंदोलन के बाद अब पेड़ों पर लगा रहे भोलेनाथ के फोटो

यह भी पढ़ेंऐसे देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री बने आरुषि-सुशांत मामलेएक दशक पहले 15-16 मई 2008 की रात सेक्टर-25 के जलवायु विहार में ही 14 वर्षीय आरुषि तलवार और घरेलू नौकर हेमराज की गला काटकर निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई थी। हत्या से पहले दोनों के सिर पर किसी भारी चीज से हमला भी किया गया था। आरुषि का शव 16 मई 2008 की सुबह उसके कमरे में उसके बिस्तर पर सोयी हुई स्थिति में मिला था। उस वक्त नौकर हेमराज का शव बरामद नहीं हुआ था। लिहाजा तलवार दंपती ने थाना सेक्टर-20 में हेमराज के खिलाफ हत्या की नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी। हेमराज को ही हत्यारोपी मानकर नोएडा पुलिस की एक टीम भी नेपाल के लिए रवाना हो गई थी। अगले दिन 17 मई 2008 की सुबह मामले में तब नया मोड़ आ गया जब हेमराज का शव तलवार दंपती के छत पर ही खून से लथपथ पड़ा मिला। नौकर हेमराज का शव अगले दिन बरामद होना यूपी पुलिस की बड़ी लापरवाही थी। इसके बाद यूपी पुलिस की काफी आलोचना हुई। अब भी बहुत से लोगों का मानना है कि पुलिस की लापरवाहियों की वजह से ही आज आरुषि-हेमराज हत्याकांड देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री बन चुका है।

यह भी पढ़ेंआरुषि-हेमराज हत्याः एक दशक बाद भी अनसुलझी है मर्डर मिस्ट्री, सुशांत का केस भी इसी राह पर और पढो: Dainik jagran »

वारदात: Oxygen की कमी से मर रहे थे लोग, अब सरकार के पास नहीं है मौत की वजह का डेटा

एक कहावत है, ना खाता ना बही, जो हम कहें वही सही. बस सरकार का रवैय्या ऐसा ही है. सरकार का कहना है कि राज्य सरकारों ने मरने वालों की मौत की वजह का डेटा नहीं दिया, इसलिए वो इस नतीजे पर पहुंच गए कि देश में ऑक्सीजन की कमी से कोई मरा ही नहीं. तो फिर आप दुनियाभर से ऑक्सीजन क्यों मंगा रहे थे? क्यों ऑक्सीजन के प्लांट लगवा रहे थे? क्यों तब राज्य सरकारों पर आप खुद ऑक्सीजन की हेरा फेरी का आरोप लगा रहे थे? क्यों ऑक्सीजन की कालाबाजारी के नाम पर लोगों को जेल भेज रहे थे? देखें वारदात.

Article likhne se pahle acchi trah se research kr leni chahiye, bhul jao ab kuch bhi bech loge SSR ki family kya khud lawyer hote huye kya ese hi rahne degi? Fake naretive spread karna band kro Paid Media Stop Lies On SSR CBI THIS ORGANISATION IS NOT A TRUSTWORTHY NOW ITS BEEN PROVED OR WE CAN SAY IT IS A RIGGED ORGANISATION WHICH GIVES DESIRED JUSTICE TO THE POWERFUL PEOPLE OR ORGANISATION!!! A BIG Q MARK TO THIS ORGANISATION?

99.9 % ये केस आरुषि हत्याकांड के जैसा रहस्यमय हो गया है। Original Key of Sushant Singh Rajput Rooms door doesn't trace or recovered from the servents. Keys of doors is the case property as well as Main Evidence of Suciside or Murder. nahi .. Sach saamne aayega aur jisne bhi Qatal kia hai wo jail jaega. JusticeForSushantSinghRajput

Shabash Dainik Jagran. Kyun apni credibility khatam karne pe tule hue ho. Lgta to yhi h ab bhagwan hi jane aage kya hoga?

सुशांत डेथ केस में मानवाधिकार आयोग की एंट्री: लॉ स्टूडेंट की मांग- आयोग स्वत: संज्ञान लेकर सुशांत की मौत की निष्पक्ष जांच करेसुशांत सिंह राजपूत की आज पहली पुण्यतिथि है लेकिन उनकी मौत के राज से पर्दा आज तक नहीं उठ सका है। अब उनकी मौत की जांच के लिए एक नई शिकायत मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के पास दर्ज की गई है। इस बार इसे एक लॉ स्टूडेंट आशीष राय ने फाइल किया है। आशीष ने अपनी शिकायत में आयोग से केस की निष्पक्ष जांच के लिए स्वत: संज्ञान लेने की अपील की है। हाल फिलहाल यह केस स्वत: संज्ञान के तहत आयोग की केस डायरी में 9279/IN/... | In Sushant Singh Rajput Death case fresh complaint filed with National Human Rights Commission seeking action under suo-moto cognizance India_NHRC मोदी जी भी सुशांत सिंह राजपूत को न्याय दिलाने में फेल हो गए अब ऊपर वाले पर ही भरोसा है narendramodi AmitShah OfficeofUT TheDeepak2020In DChaurasia2312 republic Swamy39 rashtrapatibhvn कोई दोषी नही बचेगा कितना भी बचा लो उपर वाले के घर देर है अंधेर नही India_NHRC Corruption,Cheating,Frauds,Forgery Of Doc's,Harassment,Molesting Drug Peddling Blackmailing & Threatening Acts By SBI to me & my 80+Sr.Parents,SBI stil Hiding My Home Loan Sanction Letter.Nor RBI,CONSUMER FORUM,Gov.Take Any Action Infact Equaly Supporting&involved In Their Crimes India_NHRC अब पछताये क्या होगा जब चिढीया चूक गई खेत ऐक साल हो गया अबतक न्याय दिलाते रह गए C.B.I N.I.A . सब नही दिला सके और अब मानवाधिकार आयोग दिलायेगा

सुशांत की पुण्यतिथि पर रिया चक्रवर्ती ने लिखा इमोशनल नोट, बोलीं- तुम मेरी दुनिया थे...सुशांत की पुण्यतिथि पर रिया ने लिखा है- आपके बिना जिंदगी का कोई मतलब नहीं है, आप मेरी जिंदगी अपने साथ ही ले गए... RheaChakraborty SushantSinghRajput Kisi ki terhbi hi dekha dete lakho corona ke chopet me lin hogoya ,kitne goya kun goya kitne masoom ne apna maabap khoya koi nehi janta . Bakwas karti hai... इमोशनल गेम खेल रही है ये सब जानती हैं सुशांत के साथ क्या हुआ , अगर इतना ही पछतावा है तो वो नाम बता दे भले ही अपना जान क्यो नही गवना पड़े जब प्रेम ही नही रहा तो फिर जिदंगी का क्या मतलब

पुण्यतिथि: सुशांत सिंह राजपूत केस में कब क्या-क्या हुआ, कहां रुकी है सीबीआई की जांच?पुण्यतिथि: सुशांत सिंह राजपूत केस में कब क्या-क्या हुआ, कहां रुकी है सीबीआई की जांच? SushantSinghRajput CBI SushantSinghRajputDeathAnniversary ⚜️I really like ur tweet 😌... and Plz engage✅ and See 👀my tweets .....🙏 U impress my promise 😇✨ अश्रुपूरित श्रद्धांजलि एवम् कोटि कोटि नमन 😩😩🙏

चमोली आपदा: 'ग्लेशियर टूटने से घाटी में एटम बम की तरह निकली ऊर्जा' - BBC News हिंदीफ़रवरी में चमोली में ग्लेशियर टूटने से आई त्रासदी पर एक अंतरराष्ट्रीय शोध किया गया इसकी रिपोर्ट प्रकाशित की गई है जिसमें बताया गया है कि इस विनाशकारी आपदा के दौरान वास्तव में क्या हुआ होगा. لحظة سقوط اريكسون و انهيار وبكاء زوجة الاعب الدنماركي وردود فعل الجمهور فى المدرجات

सुशांत की पहली डेथ एनिवर्सरी: अंकिता लोखंडे ने अपने घर पर किया हवन, SSR की याद में कैंडल और दीया भी जलायादिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की आज पहली डेथ एनिवर्सरी है। उनके फैंस, फैमिली मेंबर्स, फ्रेंड्स और कई सेलेब्स सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर उन्हें याद कर रहे हैं। इस बीच सुशांत की एक्स गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे ने उनकी पहली बरसी पर अपने घर पर हवन किया है। जिसकी एक वीडियो उन्होंने सोशल मीडिया स्टोरी पर शेयर की है। | Actress Ankita Lokhande keeps havan at her home on Sushant Singh Rajput's first death anniversary, shares video on social media My best hero ever.....I ❤ u...bihar ki saan...... Wonder who is paying her EMIs now?

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को क्लास टीचर ने किया याद, शेयर की स्कूल के दिनों की यादेंSushant Singh Rajput Death Anniversary सुशांत की क्लास टीचर और फीजिक्स की शिक्षिका यशु छाबड़ा उन्हें याद करते हुए उन दिनों में खो जाती हैं। वह कहती हैं सुशांत दूसरे विद्यार्थियों से अलग था। मेधावी होने के साथ साथ वह मिलनसार और सुलझा हुआ भी था जो उसकी खासियत थी। add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k add22k_in69k myogiadityanath w