Rss Flag, Bhu, Bhu Proctor, बीएचयू, आरएसएस, आरएसएस का झंडा

Rss Flag, Bhu

RSS का झंडा हटाने पर BHU की डिप्टी चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज, दिया इस्तीफा

RSS का झंडा हटाने पर BHU की डिप्टी चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज, दिया इस्तीफा...

14.11.2019

RSS का झंडा हटाने पर BHU की डिप्टी चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज, दिया इस्तीफा...

मिर्जापुर के बरकछा स्थित काशी हिन्दू विश्वविद्यालय ( बीएचयू ) के राजीव गांधी दक्षिण परिसर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का झण्डा हटाए जाने के विवाद में देहात कोतवाली में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में डिप्टी चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

संघ के सदस्यों ने झंडा उखाड़ने का विरोध किया और इसे झंडे का अपमान बताया तथा प्रशासनिक भवन के सामने धरने पर बैठ गए. उनकी मांग थी कि डिप्टी चीफ प्रॉक्टर इस्तीफा दें और उन लोगों को अगले दिन से ध्वज लगाकर योगाभ्यास करने दिया जाए. छात्रों ने डिप्टी चीफ प्रॉक्टर पर झंडे का अपमान करने के साथ ही अपने साथ दुर्व्यवहार करने का भी आरोप लगाया. घटना की जानकारी होने पर आरएसएस के सह प्रांत कार्यवाह सोहन मौके पर पहुंचे और कार्रवाई की मांग करने लगे. थोड़ी देर में ही नगर विधायक रत्नाकर मिश्र भी मौके पर पहुंच गए और दोनों ने कार्रवाई की मांग की. मामला बढ़ते देख डिप्टी चीफ प्रॉक्टर ने इस्तीफा दे दिया और झंडा हटाने पर माफी मांगी. इसके बाद संगठन के जिला कार्यवाहक चंद्रमोहन की तहरीर पर देहात कोतवाली पुलिस ने धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया.

देहात कोतवाली निरीक्षक ने कहा कि धाराएं धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने से जुड़ी हैं. मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है और जांच की जा रही है. वहीं, दूसरी ओर डिप्टी चीफ प्रॉक्टर किरण दामले ने कहा,"उन्होंने वर्तमान माहौल को देखकर छात्रों से ध्वज हटाने को कहा था जिसे उन्होंने नहीं हटाया. इसलिए उन्हें ध्वज हटाना पड़ा। ध्वज निकालकर उन्होंने उसे अपने सहायक अटेंडेंट सतीश को दे दिया." उन्होंने कहा,"न तो झंडे का अपमान किया गया है और न ही छात्रों को योग करने से रोका गया है." दामले ने कहा,"उन्होंने अपना इस्तीफा प्रॉक्टर ओपी सिंह को भेज दिया है."

और पढो: NDTVIndia

Ye kathit tor par nahi hai.. Jnu me murti kathit tor per tuti hai..🤣🤣🤣 Madrase par tirnga lagana chahiye RSS ka jhanda tha baba jin logon Bapu ji ko maar diya din dahare to koi uska kuch nhi kar paya to fir himmat kaise hui ke jhanda hata diya jabki woh avi sarkar chala rha Court mai koi case kar de to court RSS k paksh mai apna faisla sunayega aur jhanda utarne wale ko saza milegi...yahi hai aaj ka india

हद हो गई विकास की जहा बलात्कारी के खिलाफ जल्दी केस दर्ज नही होता वहा आम झंडा हटाने पर मामला दर्ज हो जाता है😂😇 Bhu men rss ka jhanda kya kar raha ta. ये है क्या.... भारत का झंडा लगाओ वहां पर Kuch din baad 🇮🇳 bhi replace hoga.from all govt official buildings. Jai Hind. rip democracy. rip constitute. Sare Univercity mein sirf national flag hona chahiye.,

कौनसा राष्ट्रीय ध्वज था।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला, भारत के मुख्य न्यायाधीश का दफ्तर आरटीआई कानून के दायरे में आएगाभारत के मुख्य न्यायाधीश के दफ्तर को सूचना का अधिकार के कानून के अंतर्गत लाया जाना चाहिए या नहीं इस पर सुप्रीम कोर्ट Now any court judge Also in accounting like other IPS IAS officer.. don't know one count given paninsmant other cout given clin shet. Why both judge study same material then why it happened..? 🌹🙏🌹

Sahi hua Aise ko Dando Dena achha huwa RSS kya desh hai? Aur desh ke ilawa jo apna jhanda rakhe wahi tukde tukde gang hai ये आपातकाल से भी भयंकर राजतंत्र है। Sharmnak देशद्रोह जो कर दिया मुँह काला करके जुलूस निकालो इस बेशर्म प्रोफेसर का RSS का झंडा देश का झंडा हो गया? Yeh kya ho raha hai यही दिन देखना बाकी था यह भी दिख गया आई हेट बीजेपी

प्रदूषण का स्तर फिर गंभीर स्थिति में पहुंचा, कई इलाकों में एक्यूआई 500 के करीबएयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) को 301 से 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ माना जाता है केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, गुरुवार को एक्यूआई के गंभीर स्तर तक पहुंचने की संभावना दिल्ली में ऑर्ड-ईवन लागू होने के बाद केवल दो दिन ही एक्यूआई 300 के नीचे गया | Delhi Air Pollution Updates, Delhi-NCR Air Quality severe plus PM 2.5 & PM 10 odd-even scheme

जो धर्म जन्‍म से एक को श्रेष्‍ठ और दूसरे को नीच बनाए रखे, वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है ~ बी. आर. अम्बेडकर आरक्षण_बचाओ_संविधान_बचाओ ये RSS का झंडा नही, हिंदू धर्म पताका है. और नाम है बनारस हिंदू विश्वविद्यालय. दिमागी औकात नाप कर रिपोर्टर को नौकरी दो, ना की JNU की डिग्री देख कर ए नापाक NDTV..

यही है संघ का नया भारत का सपना जिसमें सामंतवाद और फासीवाद को ये BHU जैसे हर केंद्रीय विश्वविद्यालय में वायरस के माफिक फैलाते जा रहे । Good मतलब अब यूनिवर्सिटियों में आरएसएस के झंडे लगेंगे । हटा दिया तो प्रशासक बर्खास्त। ये कौन से नए भारत में आ गए हम? Turant estifa vapas ho , ye rss hai kya एक संस्थान पर आरएसएस के झंडे की जरुरत ही क्या है तिरंगा थोड़ी हटाया है जो कार्यबाही करदी

Gundo se sab ko dar lagta hai 😊 Yeh university hai rss ka ghar nahi इस्लामिक यूनिवर्सिटी से इस्लामिक झंडा भी तो हटाओ,

अयोध्या में विकास के कामों में तेजी, नगर निगम का होगा विस्तारShivendraAajTak पिछले काफी दिनों से न जाने क्यों 🤔 ताजमहल के नीचे से डमरू की आवाज आती है सुब्रमण्यम स्वामी 😂 ShivendraAajTak Yogi is the best cm ShivendraAajTak myogiadityanath myogioffice सरकारी स्कूलों पर कब काम होगा। कब गरीब बच्चो को शिक्षा मिल पाएगी। I need RTE Righttoeducation

NDTV लकडी जल कोयला हुयी कोयला हुआ राख ये NDTV ऐसा ज़ला ,कोयला हुआ ना राख उसको हटाकर तिरंगा लगा देता तो मामला कुछ और होता नात्सी राज का भय। 👏👏

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, RTI के दायरे में रहेगा CJI का दफ्तरनई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने बुधवार को अपने फैसले में कहा कि मुख्य न्यायाधीश का दफ्तर (CJI office) एक पब्लिक अथॉरिटी है जो कि पारदर्शिता कानून और सूचना अधिकार कानून (RTI) के दायरे में आता है। हालांकि इस दौरान दफ्तर की गोपनीयता बरकरार रहेगी। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले को सही ठहराया।

संवैधानिक पीठ का बड़ा फैसला, चीफ जस्टिस का ऑफिस RTI के दायरे में आएगाकोर्ट ने कहा कि सीजेआई का दफ्तर पब्लिक ऑफिस है. वह सूचना के अधिकार के तहत आता है और 2010 का हाई कोर्ट का फैसला बरकरार रखा जाता है. शानदार फैसला।इससे न्यायपालिका में पारदर्शिता बढ़ेगी। Kaha gaye wo log jo bol rahe the RTI khatam kar diya बिना पद (CM) के इज्ज़त कमाना कोई बालठाकरे जी से सीखें,और पद के लिए इज्ज़त गवाना उद्घव ठाकरे से!

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, RTI के दायरे में आएगा सीजेआई का दफ्तरसुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट के 2010 में दिए गए फैसले को बरकरार रखा है. संवैधानिक बेंच ने फैसला सुनाते हुए कहा कि शीर्ष अदालत (Supreme Court) और चीफ जस्टिस (CJI) का दफ्तर सूचना के अधिकार (RTI) के दायरे में कुछ शर्तों के साथ आएगा. | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी BAHUT SUNDAR KYA BAAT HAI What about PM & PMO? will they come under RTI? PMOIndia SupremeCourt SupremeCourtRocks जाते जाते विष बेल बो देना।

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

14 नवम्बर 2019, गुरुवार समाचार

पिछली खबर

खट्टर मंत्रिमंडल का पहला विस्तार; 6 कैबिनेट और 4 राज्यमंत्रियों ने शपथ ली

अगली खबर

रानी मुखर्जी की 'मर्दानी 2' का जबरदस्त ट्रेलर हुआ रिलीज | rani mukerji film mardaani 2 trailer out