Business, Profit, Reliance Industries Result, Reliance Industries Result Q1 Of 2021-2022, Reliance Industries Result, Mukesh Ambani, Corona Impact On Reliance Industries, Rıl

Business, Profit

Reliance Industries पर पड़ी कोरोना की मार, अप्रैल-जून में प्रॉफिट घटा 7%

कंपनी ने बताया कि अप्रैल-जून तिमाही में उसका कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट पिछले साल से तुलना करने पर 7.2% घटकर 12,273 करोड़ रुपये रहा | #Business #Profit

23-07-2021 18:47:00

कंपनी ने बताया कि अप्रैल-जून तिमाही में उसका कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट पिछले साल से तुलना करने पर 7.2% घटकर 12,273 करोड़ रुपये रहा | Business Profit

Reliance Industries पर भी कोरोना की दूसरी लहर का असर दिख रहा है. मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली इस कंपनी ने शुक्रवार को अपने अप्रैल-जून तिमाही परिणामों की घोषणा की. इस अवधि में कंपनी का कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट सालाना आधार पर 7.2% घटा है. जानें पूरी डिटेल

स्टोरी हाइलाइट्स‘अप्रैल-जून में बढ़ा है ऑपरेशनल रिवेन्यू’कोरोना की दूसरी लहर ने अप्रैल और मई में बड़ा कोहराम मचाया. अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने वाली इस लहर के असर से Reliance Industries Limited भी अछूती ना रही. चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में कंपनी का एकीकृत नेट प्रॉफिट बीते साल की तुलना में 7.2% घट गया है.

मेघालय के गवर्नर का बड़ा दावा: सत्यपाल मलिक बोले- अंबानी और RSS से जुड़ी डील में घपला था, मुझे 150-150 करोड़ की पेशकश हुई थी आंदोलन की एकता बनाए रखना सर्वोपरि, फैसले की सामूहिकता का सम्‍मान करता हूं : निलंबन पर योगेंद्र यादव पुतिन का तालिबान पर यह बयान क्या भारत के लिए झटका है? - BBC News हिंदी

Reliance Industries के परिणामReliance Industries ने शुक्रवार को अपने तिमाही परिणामों की घोषणा की. इसमें कंपनी ने बताया कि अप्रैल-जून तिमाही में उसका कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट पिछले साल से तुलना करने पर 7.2% घटकर 12,273 करोड़ रुपये रहा है. पिछले साल इसी तिमाही में ये आंकड़ा 13,233 करोड़ रुपये था. हालांकि इसी अवधि में उसकी आय बढ़ी है.

58% बढ़ी कंपनी की आयReliance Industries ने जानकारी दी कि इस अवधि में उसका ऑपरेशन्स से रिवेन्यू 58.2% बढ़ा है. इस दौरान कंपनी का रिवेन्यू 1,44,372 करोड़ रुपये रहा. पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में ये राशि 91,238 करोड़ रुपये थी.पिछले साल इस तिमाही में देशभर में लॉकडाउन था, जबकि इस साल अप्रैल और मई में देश को कोरोना की भीषण दूसरी लहर का सामना करना पड़ा था. वहीं ऑक्सीजन की भारी किल्लत के चलते इसके औद्योगिक उपयोग पर भी रोक रही. रिलायंस ने इस दौरान अपने जामनगर रिफाइनरी से बड़े स्तर पर मुफ्त में ऑक्सीजन की आपूर्ति की. headtopics.com

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें और पढो: आज तक »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

बाबा रामदेव एक साल में 30000 हजार करोड़ का टर्न ओवर कर गए।

यूरोपीय संघ ने पत्रकारों पर रूस की कार्रवाई की आलोचना की | DW | 23.07.2021यूरोपीय संघ के विदेश मामलों के प्रतिनिधि योसेप बोरेल की प्रवक्ता नबीला मसराली के मुताबिक, 'यूरोपीय संघ रूसी नागरिक समाज, मानवाधिकार रक्षकों और स्वतंत्र पत्रकारों के साथ खड़ा है और उनके महत्वपूर्ण कार्यों में उनका समर्थन करना जारी रखेगा.'

शबनम की फांसी पर विचार की मांग: क्षमा याचना की चिट्ठी राज्यपाल ने योगी सरकार के पास भेजी, वकील की दलील- सूली पर लटकाया तो दुनिया में खराब होगी भारत की छविदेश की पहली महिला को फांसी देने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट की वकील सहर नक़वी ने इस मामले में एक पत्र प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को लिखा था। राज्यपाल ने पत्र का संज्ञान लेते हुए पूरे मामले पर निर्णय लेने के लिए कारागार विभाग को निर्देश दिए हैं। | Governor sent a letter of apology to the UP government, may consider reducing the death sentence; Vakin's argument - If hanged on the cross, the image of Indian women in the world will be spoiled;क्षमा याचना की चिट्ठी राज्यपाल ने यूपी सरकार को भेजी, फांसी की सजा कम करने पर हो सकता है विचार; वकीन की दलील- सूली पर लटकाया तो दुनिया में भारतीय महिलाओं की छवि होगी खराब CMOfficeUP fasi honi chaiye CMOfficeUP But she is women CMOfficeUP और अगर भविष्य में फिर किसी महिला ने ऐसी घिनौनी हरकत को दोहरा दिया तो इसका जिम्मेदार किसको ठहराया जाएगा इस हत्यारन ने अपने पुरे परिवार को बेरहमी से मार डाला,,उस वक्त क्या भारत की छवि को इसने चार चांद लगा दिएथे एक हत्यारन को बचाने के लिए भारत की छवि बिगड़ने की बात करना ठीक नहीं

अफगानिस्तान में कदम-कदम पर खतरा, 'लाइफ लाइन' पर कब्जे की कोशिश में तालिबानतालिबान (Taliban) जानता है कि अगर उसे अफगानिस्तान (Afghanistan) पर कब्जा करना है तो अफगानिस्तान के हाईवे (HighWays) पर कब्जा करना होगा और अफगान फोर्सेज किसी भी कीमत पर ऐसा होने नहीं देना चाहतीं.

पैनलिस्ट पर भड़कीं रूबिका लियाकत, बोलीं- मोदी की दाढ़ी पर खर्च कर रहे हैं समयपेगासस जासूसी मामले पर टीवी डिबेट के दौरान टीएमसी समर्थक पैनलिस्ट ने उठाया मोदी की दाढ़ी का मुद्दा तो एंकर ने लगाई लताड़। BJP का एक-एक कदम BJP की भविष्य की राजनीति तय करेगा। निजीकरण, UP में 1600 शिक्षकों की मौत, 700 किसानों की । Oxygen की कमी से कोई मौत नहीं हुई, Father Stan Swamy की मौत, अयोध्या ज़मीन घोटाला, Pegasus जासूसी कांड, Danik Bhaskar अखबार पर छापा। वो एंकर है कहां

ममता की दिल्ली पर नजर, BJP के खिलाफ नया फ्रंट बनाने की तैयारीटीएमसी शहीद दिवस पर ममता ने विपक्षी दलों के नेताओं से कहा कि लोकसभा चुनाव में अभी 3 साल हैं लेकिन हमें बहुत जल्द शुरुआत करनी होगी. अगर कोरोना के हालात सुधरते हैं तो इस जाड़े में ब्रिगेड परेड मैदान में विपक्षी नेताओं के साथ रैली करेंगे. Anupammishra777 No need front You are becoming backfut Anupammishra777 TMC is a biggest virus Anupammishra777 Woww kya sooch ha

दैनिक भास्कर पर इनकम टैक्स छापों की निंदा: हरियाणा-पंजाब के नेताओं ने कहा-यह प्रेस की आजादी पर हमला, कोरोनाकाल में जनता की आवाज उठाने से डर गई सरकारदैनिक भास्कर ग्रुप पर इनकम टैक्स (आईटी) महकमे की ओर से वीरवार सुबह की गई रेड की हरियाणा और पंजाब के राजनीतिक दलों ने कड़ी निंदा की है। पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर सिंह, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा, पंजाब में शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल और हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के अभय सिंह चौटाला ने इन छापों की कड़ी निंदा करते हुए इसे प्रेस की आजादी पर हमला बताया। ... | Condemnation of income tax raids on Dainik Bhaskar: Haryana-Punjab leaders said - this is an attack on the freedom of the press, the government was afraid of raising the voice of the public during the Public with you. It is an attack on freedom of press and speech under article 19 (1) a , nothing else ! Without freedom democracy is meaningless. कोई डर वर नहीं है दैनिक भास्कर ये सरकार जरा हटके है न खाऊंगा और न खाने दूंगा और अब अखबार का क्या कहें वो दिन गए ,जब अखबार छप कर बिकती थी।