Quadsummit 2021, Know About Quad, What İs Quad, Quad Meeting İn America, Pm Modi İn Quad, Pacific Ocean, America And Quad, Quad News, İndia And Quad, İndia İnterest And Quad, China-Made Vaccine, China Get A New Challenge, Quad Summit, Indo-Pacific Region And China, Quad Summit Was Successful, Us President Biden, Prime Minister Narendra Modi, Pak Sponsored Terrorism, Countries Of The Quad, Jagran Plus, क्‍या है क्वाड, जानें क्वाड के बारे में, अमेरिका में क्वाड वार्ता, क्वाड में पीएम मोदी, प्रशांत

Quadsummit 2021, Know About Quad

Quad Summit 2021: क्वाड शिखर वार्ता की सफलता से बेचैन हुए चीन और पाक, जानें- किन मुद्दों पर हुई खुलकर चर्चा, चौतरफा घिरा ड्रैगन

क्वाड शिखर वार्ता की सफलता से बेचैन हुए चीन और पाक, जानें- किन मुद्दों पर हुई खुलकर चर्चा, चौतरफा घिरा ड्रैगन #QuadSummit2021

27-09-2021 05:00:00

क्वाड शिखर वार्ता की सफलता से बेचैन हुए चीन और पाक, जानें- किन मुद्दों पर हुई खुलकर चर्चा, चौतरफा घिरा ड्रैगन QuadSummit2021

खास बात यह है कि भारत ने संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा में जो बात इशारों में कही वह क्वाड शिखर वार्ता खुलकर रखी। आइए जानते हैं कि इस शिखर वार्ता में क्‍या रहा खास। इसे लेकर क्‍यों तिलमिलाया चीन। किन मामलों में ऐतिहासिक रही शिखर वार्ता।

Quad Summit 2021:चीन की बढ़ती चुनौती को देखते हुए क्वाड शिखर वार्ता भारतीय हितों के लिहाज से बेहद सफल और सकारात्‍मक रही। यह श‍िखर सम्‍मेलन कई मायनों में ऐतिहासिक रहा। शिखर वार्ता में अमेर‍िकी राष्‍ट्रपति बाइडन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात भारत के लिए आर्थिक और रक्षा संबंधों के ल‍िहाज से बेहद उपयोगी साबित हुई। क्वाड के नेताओं ने चीन के खिलाफ अपने संसाधनों को एकजुट करके एक-दूसरे की मदद करने पर सकारात्‍मक माहौल में चर्चा की। खास बात यह है कि भारत ने संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा में जो बात इशारों में कही वह क्वाड शिखर वार्ता में खुलकर रखी। आइए जानते हैं कि इस शिखर वार्ता में क्‍या रहा खास। इसे लेकर क्‍यों तिलमिलाया चीन। किन मामलों में ऐतिहासिक रही शिखर वार्ता।

पाकिस्तान की किसी भी वर्ल्ड कप में भारत के ख़िलाफ़ पहली जीत - BBC News हिंदी T20 WC, Ind Vs Pak: टूट गया दशकों का रिकॉर्ड, वर्ल्डकप मुकाबले में पहली बार पाकिस्तान से हारा भारत समीर वानखेड़े की मुंबई पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी, 'मेरे खिलाफ ना हो कोई कार्रवाई'

1- पाक प्रायोजित आतंकवाद: पाकिस्‍तान के साथ कटघरे में चीनयह भी पढ़ेंप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिखर वार्ता में आतंकवाद एक प्रमुख विषय बनाया। क्वाड के सदस्‍य देशों की बैठक में पीएम मोदी ने अपनी चिंता को जोर से उठाया। भारत ने स्‍पष्‍ट रूप से कहा कि अफगानिस्‍तान में लोकतांत्रिक सरकार के पतन के बाद काबुल एक बार फ‍िर आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाहगार बन सकता है। अफगानिस्‍तान में तालिबान शासन में पाक और चीन की दिलचस्‍पी भारत के लिए खतरनाक है। खासकर शांत कश्‍मीर घाटी में एक बार फ‍िर आतंकवाद सिर उठा सकता है। अफगानिस्‍तान में हिंदू और सिखों के साथ महिलाओं एवं अल्‍पसंख्‍यकों के हितों और उनकी सुरक्षा की आवाज उठाई।

2- सैन्‍य अभ्‍यास: चीन को कराएंगे ताकत का एहसासक्वाड के सदस्‍य देश जल्‍द ही मालाबार अभ्‍यास के जरिए एकजुट होने की तैयारी में हैं। क्वाड शिखर वार्ता में इस बात पर आम सहमति बनी है। इस सैन्‍य अभ्‍यास में भारत, जापान, अमेरिका के अलावा अब आस्‍ट्रेलिया भी हिस्‍सा लेगा। यह सैन्‍य अभ्‍यास इस साल जापान के समीप प्रशांत महासागर में होगा। यह चीन के लिए चिंता का व‍िषय बना हुआ है। इस सैन्‍य अभ्‍यास का मकसद सीधे तौर पर सामरिक रूप से चीन को घेरना है। सैन्‍य अभ्‍यास के जरिए क्वाड के सदस्‍य देश अपनी सामरिक क्षमता का प्रदर्शन करेंगे और हिंद प्रशांत क्षेत्र में मिल रही चुनौती की रणनीति तैयारी करेंगे। headtopics.com

यह भी पढ़ें3- नौसेना की तैयारी: सामरिक रणनीति से चिंतित हुआ चीनक्वाड शिखर वार्ता में चीन का नाम लिए बगैर उसे चौतरफा घेरने की रणनीति बनने पर विमर्श हुआ। क्वाड में शामिल चार देशों- अमेरिका, जापान, भारत और आस्‍ट्रेलिया ने अपनी नौसेना का विस्‍तार करने पर राजी हुए। आस्‍ट्रेलिया को अमेरिका द्वारा दी जा रही परमाणु पनडुब्‍बी को इसी कड़ी से जोड़कर देखा जा रहा है। इसका मकसद हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन को घेरना है। इस बैठक में हिंद और प्रशांत क्षेत्र में समान विचार वाले देशों जैसे वियतनाम, इंडोनेशिया आदि के साथ लाने पर भी विचार किया गया। अमेरिका ने ब्रिटेन और आस्‍ट्रेलिया के साथ मिलकर एक महागठबंधन आकस बनाया है। इस सैन्‍य गठबंधन का मकसद हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन के किसी भी दुस्‍साहस का करारा जवाब देना है। बता दें कि चीन की नौसेना दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना है।

यह भी पढ़ें4- कोरोना वैक्‍सीन: चीनी बाजार को कड़ी टक्‍करचीन निर्मित वैक्‍सीन को एक नई चुनौती मिलेगी। क्वाड शिखर वार्ता में भारतीय कंपनियों को अमेरिकी कंपनी जानसन एंड जानसन की कोरोना वैक्‍सीन की एक अरब डोज बनाने पर सहमति बनी है। क्वाड देशों ने सेमी कंडक्‍टर की सुरक्षित सप्‍लाई के लिए मिलकर काम करने का फैसला लिया है। इससे चीन को कड़ी चुनौती मिल सकती है। खासकर तब जब चीन अपने दोयम दर्जे की वैक्‍सीन से दुनिया के प्रभावित करने में जुटा हुआ है। ऐसे में यह फैसला दुनिया के कई देशों के समक्ष भारत चीन का बेहतर विकल्‍प बन सकता है। अमेरिका की यह रणनीति है कि हिंद प्रशांत क्षेत्र के 33 देशों को सबसे पहले वैक्‍सीन निर्यात होगा। इसका मकसद हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन के प्रभाव को सीमित करना है।

यह भी पढ़ेंआखिर क्‍या है क्वाडक्वाड संगठन की अवधारणा को औपचारिक रूप से साल 2007 में जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे द्वारा पेश की थी। हालांकि, चीन के दबाव के कारण आस्‍ट्रेलिया इसके गठन की प्रक्रिया से पीछे हट गया। इसके चलते संगठन के गठन का विचार टल गया। आबे इस घटना से निराश नहीं हुए। उन्‍होंने साल 2012 में हिंद महासागर से प्रशांत महासागर तक समुद्री सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आस्‍ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका को शामिल करते हुए एक डेमोक्रेटिक सिक्योरिटी डायमंड स्थापित करने का विचार पेश किया था। आखिरकार नवंबर 2017 में क्वाड समूह की स्थापना हुई। इसका मकसद हिंद-प्रशांत क्षेत्र को किसी बाहरी शक्ति के प्रभाव से मुक्त रखने हेतु नई रणनीति बनाना है। क्वाड के सभी चार देश- जापान, भारत, आस्ट्रेलिया और अमेरिका शामिल हैं।

और पढो: Dainik jagran »

प्रकाश झा पर स्याही फेंकी: भोपाल में आश्रम-3 के शूटिंग क्रू पर बजरंग दल का हमला; टीम को पीटा, गाड़ियां तोड़ीं

भोपाल में वेब सीरीज आश्रम-3 की शूटिंग के दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने फिल्म निर्माता प्रकाश झा के साथ झूमाझटकी की। उन पर स्याही फेंकी। शूटिंग पुरानी जेल (अरेरा हिल्स) में चल रही थी। कार्यकर्ताओं ने जेल परिसर के अंदर ही वेब सीरीज की टीम के कर्मचारियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। वैनिटी वैन समेत 5 गाड़ियों में तोड़फोड़ कर दी। हमले में 4 से 5 कर्मचारियों को चोट लगी है। कुछ मीडियाकर्मियों से भी मारपीट की ग... | Bajrang Dal throws ink on film director Prakash Jha in Bhopal

QUAD meeting in US: चीन पर नकेल का नाम है 'क्वाड', जानें 17 साल पहले 'ड्रैगन' के खिलाफ कैसे साथ आए थे ये 4 बड़े देशQUAD meeting in US क्वाड(QUAD) यानी क्वाड्रीलैटरल सिक्योरिटी डायलाग(Quadrilateral Security Dialogue) की अहम बैठक अमेरिका में हुई है। लेकिन आखिर क्वाड है क्या? इससे भारत को क्या फायदा है और चीन इससे इतना डरता क्यों है? जानिए इन सभी सवालों के जवाब।

PM Modi visit to America: 5 बिंदुओं में जानें PM मोदी की US यात्रा क्‍यों रही बेहद खास, भारत की धारदार कूटनीति से च‍ित हुए पाक और चीनऐसे में यह सवाल उठ रहे हैं कि पीएम मोदी की यह अमेरिका यात्रा कितनी सफल रही। क्‍या भारत अमेरिका में अपने कूटनीतिक मिशन में सफल रहा है। सवाल यह है कि आखिर मोदी की यह अमेरिका यात्रा किस मामले में ऐतिहासिक रही। भविष्‍य में इसके क्‍या निहितार्थ होंगे।

राहुल गांधी से चर्चा के बाद पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों के नाम तय : सूत्रपंजाब में मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने अपने मंत्रिमंडल के लिए नामों को अंतिम रूप दे दिया है. सूत्रों के मुताबिक, चन्‍नी ने राहुल गांधी के साथ मिलकर के पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों  के नाम तय किए हैं. कैबिनेट में बदलाव को  लेकरबातचीत के लिए चन्‍नी तीन बार दिल्‍ली आए थे. कितना भी सीएम बना लो गुलामी नहीं जाएगी क्या राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं या पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष आखिर क्यों उनसे पूछ कर कैबिनेट का विस्तार किया जाएगा यह एक गुलामी वाली सोच है

PM Modi Biden Meet : पहली बार मिले तो गर्मजोशी से बाइडन ने किया मोदी का स्वागत, जानें किन मुद्दों पर क्‍या बात हुईपीएम मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ द्विपक्षीय बैठक की। इस बैठक में बाइडन ने कहा कि आने वाले वक्‍त में दो सबसे बड़े लोकतंत्र भारत और अमेरिका के बीच रिश्तों में मजबूती गहराई और निकटता तय है। narendramodi JoeBiden होमगार्ड्स_विभाग- एक वैतनिक स्टाफ हैं जो, कमांडेंट इस्पेक्टर बीओ हवलदार,चपरासी,नाई,मोची, धोबी, फालवर,आदि सब नियमित है। अवैतनिक होमगार्ड्स स्टाफ(स्वयंसेवक) जवान है जो 1962-63 से आज तक नियमित क्यो नही किया गया है? होमगार्ड्स_को_नियमित_करें - PMOIndia

QUAD देशों ने चीन का बिना नाम लिए कैसे साधा उस पर निशाना?इस बैठक की वजह से सबसे ज्यादा मिर्ची चीन को लगी है. जो चीन पहले से इस बैठक का विरोध कर रहा था, उसे फिर तिलमिलाने का मौका दे दिया गया है. QUAD देशों ने बड़ी ही चालाकी से बिना चीन का नाम लिए उसकी रणनीति पर चोट की है. जरूरी है। Because of China all nations have to face big problems like Corona virus and financial problems.

10 PHOTOS में क्वॉड समिट और मोदी-बाइडेन मीटिंग: मोदी ने बाइडेन को बताए गांधी के सिद्धांत, भारत-अमेरिका-ऑस्ट्रेलिया और जापान के लीडर्स के बीच दिखी शानदार केमिस्ट्रीचीन को काउंटर करने के लिए भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान ने रणनीति मजबूत करनी शुरू कर दी है। शुक्रवार को हुई क्वॉड देशों की मीटिंग में ड्रैगन को सख्त संदेश दिया गया। चारों देश इंडो-पैसिफिक में चीन के दबदबे को रोकने पर सहमत नजर आए। बैठक में वैक्सीन से लेकर जलवायु परिवर्तन और वैश्विक सुरक्षा से लेकर आपसी रिश्ते मजबूत करने पर भी चर्चा हुई। | Prime Minister Narendra Modi President Joe Biden PM Scott Morrison & Yoshihide Suga आज भी मोदी को अमेरिका में गांधी का ही सहारा लेना पड़ा. विदेश में ये कभी अपने महापुरुषों के बारे में नहीं बताते “गोलवलकर ये कहते थे, गोडसे ये कहते थे, हेडगेवार ये कहते थे” वहाँ ये गांधी, नेहरू, अंबेडकर के सहारे ही सम्मान पाते हैं गांधी के आगे इनके महापुरुषों की इतनी ही औक़ात है. हम हैं साथ .. कोई नहीं भेद सब समझौते से बात.. सोचे क्या.. दृश्य से अवगत हो देखें जो .. सारे भाव फिर बिछड़े ..उलझे.. मिले.. सब में शेष में ..दिखें खुद के सम्मान⚡ अपने देश की जनता का दुशमन, हिन्दू मुस्लिम दंगा का मास्टर माइंड (गुरू) जो झूठ पर जिन्दा हो, तानाशाह हो उससे कोई उम्मीद रखना ठीक नहीं।