Parivartaniekadashi, Pujavidhi, Spiritual, Puja Path, Parivartani Ekadashi 2021, Parivartani Ekadashi 2021 Puja, Parivartani Ekadashi Puja Vidhi, Right Way Of Ekadashi Vishnu Puja, Vishnu Puja, Ekadashi Puja Vidhi, Lifestyle And Relationship, Spirituality

Parivartaniekadashi, Pujavidhi

Parivartani Ekadashi Puja Vidhi: आज परिवतर्नी एकादशी पर ऐसे करें भगवान विष्णु की पूजा, जानें पूरी विधि

आज परिवतर्नी एकादशी पर ऐसे करें भगवान विष्णु की पूजा, जानें पूरी विधि #ParivartaniEkadashi #PujaVidhi

17-09-2021 09:20:00

आज परिवतर्नी एकादशी पर ऐसे करें भगवान विष्णु की पूजा, जानें पूरी विधि ParivartaniEkadashi PujaVidhi

Parivartani Ekadashi 2021 Puja Vidhi आज भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि है। आज के दिन परिवतर्नी एकादशी का व्रत रहते हैं और भगवान विष्णु की पूजा विधि विधान से करते हैं। आइए जानते हैं कि परिवतर्नी एकादशी की पूजा विधि क्या है।

आज भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि है। आज की तिथि को परिवतर्नी एकादशी या वामन एकादशी व्रत होता है। आज के दिन परिवतर्नी एकादशी का व्रत रहते हैं और भगवान विष्णु की पूजा विधि विधान से करते हैं। आज के दिन ही भगवान विष्णु ने असुरराज बलि से देवताओं की रक्षा के लिए वामन अवतार लिया था, इसलिए इस तिथि को वामन एकादशी भी कहते हैं। आज परिवतर्नी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा होती है। आइए जानते हैं कि परिवतर्नी एकादशी की पूजा विधि क्या है।

किसान आंदोलन के लिए सरकार की भूमिका सकारात्मक नहीं, शरद पवार का केंद्र पर निशाना UP चुनाव: मायावती को बड़ा झटका देने की तैयारी में अखिलेश, सपा ने बसपा के लिए बनाया चक्रव्यूह गुड न्यूज: 26 मार्च 2020 से पहली बार मुंबई में कोरोना से किसी की मौत नहीं, रिकवरी रेट भी 97% पहुंचा

परिवतर्नी एकादशी 2021 पूजा विधिआज प्रात: सबसे पहले स्नान आदि से निवृत होकर स्वच्छ कपड़े पहनें। उसके बाद हाथ में जल, पुष्प और अक्षत् लेकर परिवतर्नी एकादशी व्रत रखने और भगवान विष्णु की पूजा का संकल्प करें। इसके बाद पूजा स्थान पर भगवान विष्णु या वामन भगवान की तस्वीर या मूर्ति स्थापित करें।

यह भी पढ़ेंअब भगवान विष्णु को पुष्प, अक्षत्, रोली, चंदन, तुलसी का पत्ता, हल्दी, पंचामृत, गंगाजल, गाय का दूध, धूप, दीप, गंध, फल, मिठाई, यज्ञोपवीत आदि अर्पित करें। इसके बाद विष्णु चालीसा, विष्णु सहस्रनाम आ​दि का पाठ करें। इसके बाद परिवतर्नी एकादशी व्रत की कथा का श्रवण करें। पूजा के अंत में भगवान विष्णु जी की आरती कपूर या गाय के घी वाले दीपक से करें। headtopics.com

अब भगवान विष्णु को प्रणाम करके अपनी मनोकामना उनके समक्ष प्रकट कर दें। फिर दिनभर फलाहार करते हुए रात्रि के समय भगवत जागरण करें। इसके बाद अगले दिन सुबह सूर्योदय के बाद भगवान विष्णु की पूजा करके ब्रह्मणों को दान-दक्षिणा दें। इसके पश्चात पारण करके परिवतर्नी एकादशी व्रत को पूरा करें।

यह भी पढ़ेंपारण समय18 सितंबर दिन शनिवार को प्रात: 06:07 बजे से प्रात: 06:54 बजे के बीच पारण कर लें क्योंकि इसके बाद द्वादशी तिथि का समापन हो जाएगा। द्वादशी तिथि में ही पारण करना उत्तम होता है।डिस्क्लेमर''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

और पढो: Dainik jagran »

Men's and women's hockey teams will finish on the podium in Paris Olympics: PR Sreejesh

PR Sreejesh, one of the stars of the men's hockey team's historic Olympic bronze medal at the Tokyo Olympics on Friday at the 19th edition of India Today Conclave- said that both the men's and women's hockey teams would secure a podium finish in the Paris 2024 Games.

शिक्षक_ट्रांसफर_पोर्टल_चालू_करो ChouhanShivraj JM_Scindia Indersinghsjp माननीय प्रार्थना है कि आजके पावन दिवस पर एक न्याय का शुभ संकल्प कर सभी ट्रांसफर वंचित शिक्षकों को समानता से पारदर्शिता पूर्ण अवसर प्रदान करके ट्रांसफर पोर्टल पुनः चालू कर दीजिये ,सच्ची आदरांजलि होगी

UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तकआज हमें जनता की जान की चिंता छोड़कर अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की होती राजनीति पर दस्तक देनी है. इसीलिए हमने आज की पहली दस्तक का नाम दिया है- जब तक है जान. यहां तीन तरह की जान है. पहली आम आदमी की जान यानी जिंदगी, जो उत्तर प्रदेश में डेंगू समेत दूसरे संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रही है. लेकिन उसकी जान बचाने की जगह यूपी में अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की चर्चा हो रही है. अब सवाल है कि क्या पेड़ के नीचे इलाज कराती जनता की पीड़ा भी क्या अब्बाजान-चाचाजान की राजनीति में दब जा रही है? देखिए 10 तक का ये एपिसोड. Vaccination के बाद ये आजतक वालों की इतनी फटने क्यों लगी है.. 😆🤣 देखिए 10Tak, Sayeed Ansari के साथ.. अफ़गान स्टेट टीवी के इंटरव्यू में देखा गया मुल्ला बरादर! 😆

मानसून की बारिश से बाढ़ की आफत, ओडिशा और गुजरात समेत कई राज्यों की हालत खराबइस बार मानसून जाने का नाम नहीं ले रहा और तो और अंतिम समय में भी देश के कई इलाकों में भारी बारिश करवा रहा है। इससे देश के कई राज्यों में बाढ़ आ गई है। वहीं हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भूस्खलन हुआ है।

Ola Electric Sale: आज से खरीद सकेंगे ओला इलेक्ट्रिक स्कूटर, जानें क्या है बुकिंग की प्रक्रियाओला इलेक्ट्रिक ने बुधवार तड़के ग्राहकों के लिए इलेक्ट्रिक स्कूटर की एस1 रेंज के लिए अपनी ऑनलाइन बिक्री शुरू कर दी है। बिक्री वैसे तो इस महीने की शुरुआत में खुलने वाली थी लेकिन गड़बड़ियों के चलते इसे आज से शुरू किया गया है

एयर इंडिया बिक्री के लिए बोली लगाने की आखिरी समयसीमा आज, टाटा और स्पाइसजेट दौड़ मेंAir India एयर इंडिया पर 43 हजार करोड़ रुपये का भारी कर्ज है. इसमें से 22 हजार करोड़ रुपये एयर इंडिया एसेट होल्डिंग लिमिटेड को ट्रांसफर किया जाएगा.

Google Doodle: ग्रीन टी की खोज करने वाली जापानी साइंटिस्ट को समर्पित है आज का डूडलGoodle का आज का Doodle जापानी साइंटिस्ट मिशियो सुजिमुरा (Michiyo Tsujimura) को समर्पित है। आज मिशियो सुजिमुरा की 133वीं जयंती है, जिसके खास मौके पर गूगल ने उनको समर्पित अपना खास डूडल पेश किया है। Green tea बकवास है। कई चीजों के घाल मेल को पैक कर दे देते हैं की इस से वज़न कम हो जायेगा कुछ नहीं होता। rrcgroupd_examdate NationalUnemploymentDay वाह

Parivartini Ekadashi 2021 | 17 सितंबर परिवर्तनी एकादशी, जानिए 5 महत्व और 7 फायदेभाद्रपद में शुक्ल पक्ष की एकादशी को परिवर्तनी एकादशी कहते हैं। इसके अलावा इसे जलझूलनी यानी डोल ग्यारस भी कहते हैं। इसके अलावा इसे वामन और पद्मा एकादशी भी कहते हैं। इस बार यह एकादशी 17 सितंबर 2021 शुक्रवार को रहेगी। आओ जानते हैं इसका व्रत रखने के फायदे और महत्व।