Pm Cares Fund, Pm Modi, Modi Government, Rtı, Pm Rahat Kosh

Pm Cares Fund, Pm Modi

PM CARES फंड को लेकर सरकार ने दी जानकारी, कहा- यह सरकारी संपत्ति नहीं

RTI के तहत मांगी गई थी पीएम CARES की जानकारी, सरकार ने दिया यह जवाब...

23-09-2021 05:50:00

RTI के तहत मांगी गई थी पीएम CARES की जानकारी, सरकार ने दिया यह जवाब...

बता दें कि प्रधानमंत्री राहत कोष को लेकर दिल्ली कोर्ट में वकील सम्यक गंगवाल ने एक याचिका दायर की है, जिसमें कहा है कि इस कोष को राज्य का घोषित कियाा जाय। अपनी मांग में इस कोष की पारदर्शिता बनाए रखने के लिए इसे RTI के अधीन लाने की बात कही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पढ़ने वाले शिक्षकों ने उनके बचपन से जुड़े किस्से बताए। (express file)कोविड-19 जैसी महामारी या आपातकाल परिस्थितियों में लोगों की मदद के लिए बनाए गए पीएम केयर्स फंड को लेकर केंद्र सरकार की तरफ से दिल्ली हाईकोर्ट में जानकारी दी गई है कि यह राहत कोष भारत सरकार के अधीन नहीं बल्कि चैरिटेबल ट्रस्ट से जुड़ा हुआ है। इस कोष में आने वाली राशि भारत सरकार की संचित निधि में नहीं जाती है। दरअसल इस फंड को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में वकील सम्यक गंगवाल ने एक याचिका दायर की है, जिसमें मांग की है कि पीएम केयर्स फंड को राज्य का घोषित किया जाय और पारदर्शिता बनाए रखने के लिए इसे RTI के अंदर लाया जाय।

भरतपुरः पिता-भाई को बंधक बनाकर नाबालिग से गैंगरेप, जाते-जाते फसल भी जला गए आरोपी Kaleen Bhaiya का नया टैलेंट, ढोलक बजाते Video वायरल फरीदाबादः सेक्टर 25 इलाके में पड़ा था लावारिस बैग, पुलिस ने खोलकर देखा तो निकली नवजात बच्ची

इस याचिका पर केंद्र सरकार और प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने दिल्ली उच्च न्यायालय में जानकारी दी कि, पीएम केयर्स फंड को न तो सूचना के अधिकार (आरटीआई) अधिनियम के दायरे में “पब्लिक अथॉरिटी” के रूप में लाया जा सकता है, और न ही इसे “राज्य” के रूप में सूचीबद्ध किया जाए। दरअसल संविधान के अनुच्छेद 12 के तहत PM-CARES फंड को ‘राज्य’ का घोषित करने की मांग करने वाली एक याचिका मांग की गई है कि पीएम केयर्स फंड को अपनी वेबसाइट में डोमेन नाम में ‘gov’ का उपयोग करने से रोकना चाहिए।

वहीं कोष को लेकर प्रदीप श्रीवास्तव ने अदालत को बताया कि ट्रस्ट पूरी पारदर्शिता के साथ काम करता है और इसके फंड का ऑडिट एक ऑडिटर द्वारा किया जाता है। कोष में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए इस ट्रस्ट को मिले धन और उसका सारा विवरण आधिकारिक वेबसाइट पर डाला जाता है। headtopics.com

उन्होंने याचिका के जवाब में कहा कि ट्रस्ट को जो भी दान मिले वो ऑनलाइन, चेक या फिर डिमांड ड्राफ्ट के जरिए मिले हैं। ट्रस्ट इस फंड के सभी खर्चों का ब्यौरा अपनी वेबसाइट पर अपडेट करता है।सम्यक गंगवाल द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि प्रधानमंत्री द्वारा मार्च 2020 में कोविड -19 महामारी के मद्देनजर नागरिकों को सहायता प्रदान करने के एक महान उद्देश्य के लिए PM-CARES फंड का गठन किया गया था और इसे अधिक मात्रा में दान मिला। याचिका में कहा गया है कि ट्रस्ट को लेकर दिसंबर 2020 में पीएम-केयर्स फंड की वेबसाइट पर जानकारी दी गई थी कि यह संविधान द्वारा या उसके तहत या संसद द्वारा बनाए गए किसी कानून के अधीन नहीं बनाई गई है।

और पढो: Jansatta »

10तक: सियासत के लिए भी नमक की तरह इस्तेमाल होते हैं किसान!

देश की सियासत में किसान नमक की तरह इस्तेमाल होता है. जरूरत के हिसाब से सियासी दल उसका इस्तेमाल अपने हित के हिसाब से करते हैं. लखीमपुर खीरी का ही उदाहरण लीजिए जहां पहुंचने के लिए विपक्षी दलों में आज होड़ मच गई. मुश्किल में फंसी जनता का हाल जानना हर दल का फर्ज और हक दोनों है लेकिन जनता को कब कितना भाव दिया जाएगा ये चुनाव पर निर्भर करता है. यूपी में चुनाव है तो सभी दलों को किसानों की चिंता है. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भी लखीमपुर खीरी आने को तैयार हैं, लेकिन उनके ही राज्य में पिछले 5 महीनों से आदिवासी किसान आंदोलन कर रहे हैं, उनकी सुध लेने का न तो मुख्यमंत्री को वक्त मिला है और न ही उनकी पार्टी के नेतृत्व ने उनके लिए आवाज उठाई है. देखें 10तक.

अगर PM Cares मोदी जी या भाजपा की निजी सम्पत्ति है तो फिर सरकारी कम्पनियों ने उसको पैसा गिफ़्ट कैसे कर दिया ? तो क्या PM Cares मोदी जी की निजी सम्पत्ति है ? BJP government has nearly killed RTI ACT. Long live kingdom 🙏💙. narendramodi जनसेवक हो न आप तो।। जब चोरी नही की तो हिसाब तो देना पड़ेगा। हम सभी ने दान दिया है। WHO unfoundation wef WorldBank EconomicTimes the_hindu DainikBhaskar pmcares PMOIndia

न्यूजीलैंड की महिला क्रिकेट टीम को मिली बम की धमकी, ECB को मिला था ईमेलन्यूजीलैंड की महिला क्रिकेट टीम को बम की धमकी मिली है। ये मामला लीसेस्टर का है। न्यूजीलैंड क्रिकेट (NZC) ने मंगलवार को पुष्टि की कि इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) को NZC से संबंधित एक धमकी भरा ईमेल मिला है। ECB to England ki h 🤔

राजस्थान: अधिकारियों ने की जनता की समस्याओं की अनदेखी, नाराज नगर अध्यक्ष चढ़े टॉवर परराजस्थान: अधिकारियों ने की जनता की समस्याओं की अनदेखी, नाराज नगर अध्यक्ष चढ़े टॉवर पर Rajasthan Tower President Problem Officer

DC vs SRH Live Score: दिल्ली को लगा बड़ा झटका, खलील ने पृथ्वी को भेजा पवेलियनDC vs SRH Live Score: दिल्ली को लगा बड़ा झटका, खलील ने पृथ्वी शॉ को भेजा पवेलियन IPL2021 SRH DCvSRH DelhiCapitals Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITC4Assam AITC4Delhi AITC4Bihar AITC4Jharkhand AITC4Tripura AITC4UP AITC4Gujarat AITC4Goa AITCofficial AITC_Parliament BanglarGorboMB

ऑस्‍ट्रेलिया ने दिया झटका, पीएम मोदी की शरण में फ्रांस, भारत को मिलेगी परमाणु पनडुब्‍बी?Emmanuel Macron Talks PM Modi On Submarine Dispute: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेर‍िका यात्रा से ठीक पहले फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुअल मैक्रां ने फोन पर बात की है। फ्रांस ने भारत को आश्‍वासन दिया है कि वह भारत की रणनीतिक स्‍वायत्‍तता को मजबूत करने के लिए काम करता रहेगा। narendramodi फ़्रान्स परमाणु पनडुब्बी ख़रीदने के लिए भारत की शरण में आया है क्या? पनडुब्बी भारत ख़रीद रहा है या फ़्रांस? नवभारत टाइम्स का नाम बदलकर “चाटुकार टाइम्स” रख दीजिए। narendramodi भारत की शरण में फ्रांस बोलो मोदी ने भारत बनाया है या भारत ने मोदी को? narendramodi आपदा में अवसर।

अफगानिस्तान में मुल्‍ला बरादर को बंधक बनाने और हैबतुल्लाह अखुनजादा की मौत की खबर: रिपोर्टAfghanistan Crisis इस महीने की शुरुआत में गठित सरकार के प्रमुख मुल्ला हसन अखुंद वास्तविक शक्ति नहीं रखता है। हक्कानी नेटवर्क पर लगाम लगाने वाला कोई नहीं है जो अपने सार्वजनिक बयानों में बहुत अधिक संदेश देता है। start_MP_teachers_transfer_portal narendramodi ChouhanShivraj JM_Scindia Indersinghsjp माननीय सिर्फ चहीतों और मंत्रियों को खुश करनेवालों को ट्रांसफर मिले सुना था मामाजी के लिये सभी भानजे समान हैं?ये कैसा अन्याय? विनती है कि सबके लिये पारदर्शिता सेपोर्टल पुनः चालू कीजिये

माया सभ्यता की अद्भुत इंजीनियरिंग, ज्वालामुखी ने उगली चट्टानें, प्राचीन बिल्डरों ने बनाया पिरामिडMaya Civilization : आज करीब 1500 साल पहले माया बिल्डरों ने एक पिरामिड का निर्माण किया था। इस विशालकाय ढांचे के निर्माण में प्राचीन बिल्डरों ने खास तरह की चट्टानों का इस्तेमाल किया था। ये चट्टानें एक भयानक ज्वालामुखी विस्फोट से बाहर निकली थीं।