Trending, Madhyapradesh, Re, Tea Seller, Chai Sutta, Bar, Franchisee, İncome, İas, İndore, Madhya Pradesh, Business, Model

Trending, Madhyapradesh

MP: माता-पिता चाहते थे कि बेटा कलेक्टर बने, बन गया चाय बेचने वाला, कंपनी का टर्नओवर 100 करोड़

अनुभव और आनंद ने चाय की लत को अपने बिजनेस आईडिया में बदला और करने लगे करोड़ों की कमाई #Trending #MadhyaPradesh #RE

05-08-2021 23:30:00

अनुभव और आनंद ने चाय की लत को अपने बिजनेस आईडिया में बदला और करने लगे करोड़ों की कमाई Trending MadhyaPradesh RE

ऐसा अक्सर कहा जाता है कि जो किस्मत में लिखा है वो ही होगा. कुछ ऐसा ही हुआ मध्य प्रदेश के दो युवाओं के साथ. जो पढ़-लिखकर कलेक्टर बनना चाहते थे. लेकिन बन गए चाय बेचने वाले. अब कमा रहे हैं करोड़ों रुपये.

1/12ऐसा अक्सर कहा जाता है कि जो किस्मत में लिखा है वो ही होगा. कुछ ऐसा ही हुआ मध्य प्रदेश के दो युवाओं के साथ इनके माता-पिता भी चाहते थे कि उनके बेटे पढ़-लिखकर आईएएस ऑफिसर बनें या कहीं अच्छी नौकरी करें. पर दोनों बन गए चाय बेचने वाले. अब कमा रहे हैं करोड़ों रुपये.  

नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत, एक उलझी पहेली... - BBC News हिंदी पंजाब: CM की कुर्सी संभालते ही चन्नी ने दिया सरकारी कर्मचारियों को तोहफा, वेतन में 15 % की बढ़ोतरी ब्रिटेन सरकार के इस नियम पर भारत में गहरी नाराज़गी, क्या है मामला? - BBC Hindi

2/12भारत में आमतौर पर हर घर में चाय पी जाती है और लोगों को इसकी लत भी होती है. अनुभव और आनंद ने चाय की इस लत को अपने बिजनेस आईडिया में बदला और करने लगे करोड़ों की कमाई. 3/12अनुभव दुबे के माता-पिता ने उसे गांव से आगे की पढ़ाई के लिए इंदौर भेजा था. यहां पर उसकी दोस्ती आनंद नायक नाम के युवक से हुई. दोनों साथ में पढ़ाई करते थे पर कुछ दिनों बाद आनंद पढ़ाई छोड़कर अपने किसी रिश्तेदार के साथ बिजनेस करने लगा. अनुभव को उसके माता-पिता ने UPSC की तैयारी के लिए दिल्ली भेज दिया. वो चाहते थे कि उनका एक आईएएस अफसर बने. समय बीतता गया और दोनों दोस्त अपनी अपनी मंजिल को तलाशने में जुट गए. 

4/12कुछ समय बाद अचानक आनंद नायक का फोन अनुभव के पास आया और दोनों में काफी देर तक बातचीत हुई. इसी दौरान आनंद ने उदास मन से बताया कि उसका बिजनेस अच्छा नहीं चल रहा है, हम दोनों को मिलकर कुछ नया काम करना चाहिए. अनुभव के मन में भी कहीं न कहीं बिजनेस का ख्याल पल रहा था और उसने हां बोल दिया और दोनों मिलकर बिजनेस की प्लानिंग करने लगे.  headtopics.com

5/12बिजनेस की प्लानिंग के दौरान दोनों के मन में ख्याल आया है देश में पानी के बाद सबसे ज्यादा चाय पी जाती है. इसकी हर जगह पर खूब डिमांड रहती है और इसे शुरू करने में ज्यादा पैसों की भी जरूरत नहीं पड़ेगी. फिर दोनों ने तय किया कि एक चाय शॉप खोलेंगे. जिसका मॉडल और टेस्ट दोनों यूनीक होगा जो यूथ को टारगेट करेगा. 

6/122016 में तीन लाख की लागत से इन दोस्तों ने इंदौर में चाय की पहली दुकान खोली. आनंद ने अपने पहले बिजनेस की बचत से कुछ पैसे लगाए. अनुभव ने बताया कि उन्होंने गर्ल्स होस्टल के साथ में किराए पर एक रूम लिया. कुछ सेकेंड हैंड फर्नीचर खरीदे थोड़े पैसे दोस्तों से उधार लेकर आउटलेट डिजाइन किया. इस दौरान पैसे खत्म हो गए और इनके पास बैनर तक लगाने के लिए पैसे नहीं थे.  फिर एक नॉर्मल लकड़ी के बोर्ड पर हाथ से ही चाय की दुकान का नाम लिख दिया 'चाय सुट्टा बार'. 

7/12दोनों दोस्तों के लिए यह सब इतना आसान नहीं था अनुभव और आनंद को शुरुआत में काफी परेशानी झेलनी पड़ी. अनुभव ने बताया कि लोग ताने भी मारते थे और माता- पिता को कहते थे कि आप चाहते थे कि बेटा UPSC की तैयारी करे पर ये तो चाय बेचने लगा. अनुभव के पिता भी नहीं चाहते थे कि वो दोनों इस काम को करें. धीरे-धीरे ग्राहक बढ़ने लगे और उन्हें अच्छी आमदनी होने लगी. 

8/12चाय सुट्टा बार नाम धीरे धीर फेमस हो गया और मीडिया में खबरें चलने लगीं. फिर परिजनों से दोनों को सपोर्ट भी मिलने लगा. वे बताते हैं कि आज हमारा सालाना टर्नओवर 100 करोड़ रुपये से ज्यादा का है और  देशभर में इनके 165 आउटलेट्स हैं, जो 15 राज्यों में फैले हैं. साथ ही दोनों ने एक रजिस्टर बनाया हुआ जिसमें उन लोगों के नाम लिखे हैं जो हमें इस काम को करने से मना करते थे. headtopics.com

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि मृत पाए गए, फ़र्जी अखाड़ों के ख़िलाफ़ थे मुखर - BBC Hindi राष्ट्रीय महिला आयोग ने सोनिया गांधी से की अपील, महिला सुरक्षा के लिए खतरा हैं पंजाब के मुख्यमंत्री, उन्हें पद से हटाया जाए PM Modi: महंत नरेंद्र गिरि का देहावसान अत्यंत दुखद, संत समाज को जोड़ने में बड़ी भूमिका निभाई थी

9/12आनंद और अनुभव का कहना है कि जब वो अपने नए आउटलेट की ओपिंग करते हैं वो लोग सब को मुफ्त में चाय और कॉफी पिलाते हैं. यह एक तरह की बिजनेस स्ट्रैटजी भी है. इस बहाने से लोगों को हमारे बिजनेस के बारे में भी पता चलता है और चाय पसंद आने के बाद वे हमारे कस्टमर भी बन जाते हैं. देशभर में हमारे 165 आउटलेट्स और विदेशों में 5 आउटलेट्स हैं. 

10/12आनंद और अनुभव ने बताया कि उनके इस बिजनेस ने 250 कुम्हारों को भी रोजगार दिया है. कुम्हार इनके लिए कुल्हड़ बनाने का काम करते हैं. देशभर के आउटलेट्स में हर दिन 18 लाख कस्टमर्स आते हैं. वो 9 अलग अलग तरह के स्वाद की चाय बेचते हैं. जिसमें अदरक, इलायची, पान, केसर, तुलसी, नींबू और मसाला चाय है. 

11/12चाय सुट्टा बार के मैन्यू में 10 रुपये से लेकर 150 रुपये तक की चाय है. जल्द ही वो लोग अपने आउटलेट्स की संख्या बढ़ाने वाले हैं. उनकी कोशिश है कि देशभर में हर छोटे शहर में भी चाय का एक ऐसा मॉडल हो जिससे गरीबों को भी रोजगार मिल सके.12/12ये लोग फ्रेंचाइजी मॉडल पर काम करते हैं. चाय का फॉर्मूला फ्रेंचाइजी चलाने वाले के पास भेज दिया जाता है. उसके बाद हम कुछ कमीशन चार्ज करते हैं और बाकी का बिजनेस आउटलेट चलाने वाले के हिस्से में चला जाता है. जल्दी जल्दी नए आउटलेट्स खुल रहे हैं. इसकी डिमांड काफी बढ़ गई है फ्रेंचाइजी मॉडल लेने वाले से 2 से 6 लाख रुपये लिए जाते हैं. 

अगली गैलरी और पढो: आज तक »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

Anubhav or anand Parsi Gang ke members hai Ratan Tata mastermind hi inko banaya he, taaki uske Parsi Gang ke liye ye Fund raise kar sake. अगला प्रधान मंत्री इन्ही को चुनना पडेगा शायद।।🤣🤣🤣🤣🤣 ये लो फिर से INCIndia RahulGandhi MamataOfficial yadavakhilesh Mayawati बड़ा तमाचा । freeIndiaFromकोनगरेसस्सपब्स्प्त्म्क

आयुष्मान खुराना नहीं चाहते थे 'नीना गुप्ता' करें 'बधाई हो', तब्बू थीं पहली पसंद'बधाई हो' फ़िल्म में नीना गुप्ता के अभिनय को लोगों ने काफी पसंद किया हालांकि फ़िल्म के लिए वो पहली पसंद नहीं थीं बल्कि सबसे पहले ये फिल्म तब्बू को ऑफर हुई थी। आयुष्मान खुराना नहीं चाहते थे कि नीना गुप्ता उनकी मां का किरदार निभाएं।

रश्मि बंसल का कॉलम: नौकरी छोड़ बिजनेस करना चाहते हैं तो पहले ये बातें जान लें, उद्यमी बनने से पहले यह जानें कि आप में उद्यमी बनने के गुण हैं या नहींसुबह के साढ़े सात बजे, बड़ी मुश्किल से साहबज़ादे बेड से निकले। ब्रश करते-करते अहसास हुआ कि आज भी ऑफिस की बस मिस हो जाएगी। दिन की रेस में भागने का काम शुरू। बस पकड़ भी ली, हांफते-हांफते, मगर कोसते हुए। यह क्या ऑफिस, यह क्या बॉस। क्यों मैं इस फालतू की नौकरी-चाकरी में फंसा हुआ हूं? ऑफिस में सहकर्मी बातें कर रहे हैं। तूने ज़ोमैटो के आईपीओ में एप्लाई किया? नहीं यार। तो अभी पेटीएम का आईपीओ मिस मत करना। चारो... | If you want to leave the job and do business , then first know these things, before becoming an entrepreneur, know whether you have the qualities to become an entrepreneur or not.

UP चुनाव से पहले ही कांग्रेस से अलग होना चाहते थे प्रशांत किशोर, दे दिया था इस्तीफारणनीतिकार प्रशांत किशोर ने एक इंटरव्यू में बताया था उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले ही कांग्रेस आलाकमान को उन्होंने अपना इस्तीफा सौंप दिया था, लेकिन कई चीजों पर असहमति के बाद भी साथ काम करते रहे।

संविधान और शरिया में कौन ऊपर? पैनलिस्ट ने पूछा तो जवाब मिला- गंगा जमुनी तहजीब बिगाड़ना चाहते हैंन्यूज 18 पर एंकर अमिश देवगन ने अवैध धर्मांतरण पर बहस कराई को राजनीतिक विशेषज्ञ के तौर पर शिरकत कर रहे शहजाद पूनावाला ने सवाल किया कि संविधान और शरिया में से कौन ऊपर है।

कांग्रेस में बड़ी भूमिका चाहते हैं प्रशांत किशोर! पार्टी में बदलाव की आहटविशेष सलाहकार समिति में प्रशांत किशोर के अलावा चुनिंदा लोग ही शामिल किए जाएंगे। चर्चा है कि पार्टी के अंदर जल्द ही आमूलचूल संगठनात्मक परिवर्तन हो सकता है। इस पर एक-दो दिन में स्थितियां साफ हो जाएंगी। अध्यक्ष से कम नहीं

जयपुर के आमागढ़ क़िले पर हिन्दू संगठन अपना झंडा क्यों फहराना चाहते हैं? - BBC News हिंदीमीणा समुदाय का आरोप है कि हिंदू संगठन उनके आदिवासी देवताओं को हिंदू धर्म में मिलाना चाहते हैं. दुनियां ओलंपिक में गोल्ड के लिए लड़ रही है तुम झंडे पर ही लड़ते रहो 😡 श्रीराम मंदिर निर्माण की पहली वर्षगांठ I don't know.