Kisan Andolan: 4 दिसंबर को खत्म हो सकता है किसान आंदोलन, संयुक्त किसान मोर्चा के नेता ने दिए संकेत

चार दिसंबर को खत्म हो सकता है किसान आंदोलन, संयुक्त किसान मोर्चा के नेता ने दिए संकेत #FarmLaws #KisanAndolan #FarmersProtest

Farmlaws, Kisanandolan

02-12-2021 19:00:00

चार दिसंबर को खत्म हो सकता है किसान आंदोलन , संयुक्त किसान मोर्चा के नेता ने दिए संकेत FarmLaws KisanAndolan FarmersProtest

Farmers Protest End News अगर कुछ अप्रत्याशित नहीं हुआ तो आगामी चार दिसंबर को कुंडली बार्डर पर होने वाली संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) की बैठक में आंदोलन खत्म करने का एलान हो सकता है। मोर्चा के नेता अभिमन्यु कोहाड़ ने इस बात के संकेत दिए हैं।

Farmers Protest End News: अगर कुछ अप्रत्याशित नहीं हुआ तो आगामी चार दिसंबर को कुंडली बार्डर पर होने वाली संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) की बैठक में आंदोलन खत्म करने का एलान हो सकता है। मोर्चा के नेता अभिमन्यु कोहाड़ ने बताया कि अगर चार दिसंबर तक सरकार मोर्चा की सभी मांगों को पूरा करती है तो उन्हें ठंड में सड़क पर बैठ कर आंदोलन करने का कोई शौक नहीं है। उस दिन बैठक में आंदोलन खत्म करने की घोषणा की जा सकती है। लेकिन, मांगें पूरी नहीं हुईं तो आगामी रणनीति पर निर्णय लिया जाएगा। 

कर्नाटकः हिजाब पहनकर क्लास में जाना राजनीतिक विवाद है या क़ानूनी - BBC News हिंदी

यह भी पढ़ेंसंयुक्त किसान मोर्चा के नेता अभिमन्यु कोहाड़ ने बताया कि मोर्चा ने 21 नवंबर को छह मांगों को लेकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था। सरकार संसद में एमएसपी गारंटी कानून बनाने पर प्रतिबद्धता बताए। कमेटी गठित कर इसकी ड्राफ्टिंग क्लियर करे और समय सीमा तय करे। किसानों पर दर्ज मुकदमे रद करे, आंदोलन में मारे गए लोगों के आश्रितों को मुआवजा और उनका पुनर्वास, शहीद स्मारक बनाने को जगह दे तो फिर किसानों को इतनी भीषण ठंड में सड़कों पर बैठकर आंदोलन करने का शौक नहीं है। उनके साथ बहुत बड़ी संख्या में बुजुर्ग हैं, ठंड में सभी को परेशानी हो रही है।

यह भी पढ़ेंउन्होंने बताया कि मांगें पूरी होते ही चार दिसंबर को आंदोलन समाप्ति की घोषणा कर दी जाएगी। बैठक का एजेंडा तयकोहाड़ ने बताया कि चार दिसंबर की बैठक का एजेंडा तय है। उस दिन तक शेष रहीं मांगों को लेकर मोर्चा के नेता फैसला लेंगे। तय करेंगे कि आंदोलन का स्वरूप क्या रहेगा, आंदोलन कैसे चलेगा। सरकार के सकारात्मक आश्वासन पर विचार किया जा सकता है लेकिन हवा-हवाई और मौखिक बातों को मोर्चा नहीं मानेगा। headtopics.com

यह भी पढ़ेंपंजाब की 32 में से 29 संगठन आंदोलन खत्म करने के पक्ष मेंआंदोलन में शामिल पंजाब के 32 संगठनों में से ज्यादातर अब आंदोलन खत्म कर घर वापसी के पक्ष में हैं। इनके नेता अंदरखाते स्वीकार कर रहे हैं कि अगर सरकार मोर्चा की मांगों पर सकारात्मक रुख अपना रही है तो अब आंदोलन चलाने का फायदा नहीं है।

इस राज्‍य के हर जिले में बनेगा एयरपोर्ट, CM ने किया ऐलान

किसान नेता सुरजीत सिंह फूल, जगजीत सिंह दल्लेवाल और बलदेव सिरसा चाहते हैं कि मांगें पूरी होने तक आंदोलन खत्म नहीं हो। वहीं, 29 संगठनों के नेता आंदोलन को अब लंबा चलाने के पक्ष में नहीं हैं। लेकिन, अधूरी मांगों के साथ भी घर जाने को तैयार नहीं हैं। कोहाड़ ने बताया कि मोर्चा के नेता एकराय हैं। मोर्चा के फैसले से पहले कोई घर नहीं जा रहा।

और पढो: Dainik jagran »

Aaj Tak - #AajKiPopularNews | देखिये आज की popular न्यूज़! | Facebook

अब 4 दिसंबर को संयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में लिए जाएंगे महत्वपूर्ण निर्णय: ​राकेश टिकैतभारतीय किसान यूनियन के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता राकेश टिकैत ने सोशल मीडिया पर जानकारी दी कि 4 दिसंबर को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाएंगे. युवा_मांँगे_रोज़गार यूपी_मांँगे_रोज़गार SaveReservation SaveConstitution BJPHataoDeshBachao ShikshaBachaoDeshBachao StopPrivatisation_SaveGovtJobs 2022 UP Goa Uttarakhand 2024 desh se Bhajpa ke vidai uske baad he dhilaye Wellcome

Kisan Andolan: दिल्ली-एनसीआर के लाखों लोगों के लिए बुरी खबर, अभी खत्म नहीं होगा किसान आंदोलन Kisan Andolan किसान जत्थेबंदियों ने ऐलान किया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य को लेकर कानून बनाने समेत 6 मांगें जब तक पूरी नहीं की जाती तब तक वे आंदोलन वापस नहीं लेंगे लेकिन इसका तरीका बदलने पर विचार हो सकता है। ये तलवे चाटने वाले तुम जैसे समाचार पत्र और अंधभक्तो और तुम्हारे मालिक के लिए बुरी खबर है। ये किसान नहीं दलाल है।इनका मकसद पूर्णतः राजनीतिक है।

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगाराजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी RailMinIndia AshwiniVaishnaw Itehas me pahli bar kaya matlab Cycle se bhijwate the kaya RailMinIndia AshwiniVaishnaw सबसे घटिया न्यूज पेपर जिसके पत्रकार बिना सटीक जानकारी के सनसनी फैलाने झूठी खबरें छाप देते हैं।पांच छः साल पुरानी सड़क की जानकारी वर्तमान कार्य अभियंता से पांच मिनिट में मांगेंगे तो वो उसे घोटाला समझकर यही जवाब देंगे कि कार्य उन्होंने नहीं कराया।दो साल पहले भी यही खबर छपी थी। AgriGoI RailMinIndia AshwiniVaishnaw PmKisanSammanNdhiमेapplyकरने का2साल हो गयाbutअभी तक मेराआवेदनpendingमे हैpleaseआवेदन पास कराने की कृपा करे गरीब का योजना गरीब को ही नहीं मिल रही है Aadhar244534563158 COofficeमेcontactकिएbut कोईresponseनही मिलाrahulias6 saravanakr_n CO sir2साल से सत्यापन ही कर रहे हैAgriGoI

नवनीत गुर्जर का कॉलम: किसान खुश, देश खुश! किसानों को नाराज करके कुछ भी सकारात्मक हासिल नहीं किया जा सकताअनेक प्राकृतिक और मानव जनित आपदाओं के बावजूद सामान्य जन की जिजीविषा का अंत:स्रोत रीता नहीं हुआ। उसने तमाम हादसों, सदमों, विश्वासघातों, प्रतिकूलताओं, असफलताओं और कई अकल्पित घटनाओं से उपजा हलाहल पचाने की क्षमता दिखाई। यही इस राष्ट्र-राज्य की जीवन शक्ति है। | Farmers happy, country happy! Nothing positive can be achieved by angering the farmers. Navneet88727599 बहुत खुश हैं, खुशी झलक रही है Navneet88727599 बहुत ही शानदार लेख

किसान सम्मान निधि की तरह हैं ये तीन और योजनाएं, खरीद सकते हैं खाद, बीज और ट्रैक्टरकिसानों को सरकार ट्रैक्टर खरीदने में आधी सब्सिडी दे रही है। किसानों को ट्रैक्टर की आधी कीमत देनी होगी । अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास आधार कार्ड, पासपोर्ट साइज की फोटो, बैंक की डिटेल, जमीन के कागज होने चाहिए।

अब 4 दिसंबर को संयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में लिए जाएंगे महत्वपूर्ण निर्णय: ​राकेश टिकैतभारतीय किसान यूनियन के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता राकेश टिकैत ने सोशल मीडिया पर जानकारी दी कि 4 दिसंबर को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाएंगे. युवा_मांँगे_रोज़गार यूपी_मांँगे_रोज़गार SaveReservation SaveConstitution BJPHataoDeshBachao ShikshaBachaoDeshBachao StopPrivatisation_SaveGovtJobs 2022 UP Goa Uttarakhand 2024 desh se Bhajpa ke vidai uske baad he dhilaye Wellcome