ICMR किन जगहों पर डेढ़-दो महीने के लिए चाहता है लॉकडाउन - BBC Hindi

सरकारी संस्था ICMR किन जगहों पर डेढ़-दो महीने के लिए चाहती है लॉकडाउन

12-05-2021 19:14:00

सरकारी संस्था ICMR किन जगहों पर डेढ़-दो महीने के लिए चाहती है लॉकडाउन

आईसीएमआर के निदेशक डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा है कि जिन ज़िलों में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले दर्ज किए जा रहे हैं उन ज़िलों में और डेढ़ से दो महीनों के लिए लॉकडउन लगाया जाना चाहिए.

16:05पॉज़िटिविटी दर जिन ज़िलों में 10% से अधिक वहां लगे डेढ़-दो महीनों का लॉकडाउन: डॉक्टर बलराम भार्गवGetty ImagesCopyright: Getty Imagesभारत में कोरोना वायरस की स्थिति पर नज़र रखने वाली संस्था आईसीएमआर (इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रीसर्च) के निदेशक डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा है कि जिन ज़िलों में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले दर्ज किए जा रहे हैं उन ज़िलों में और डेढ़ से दो महीनों के लिए लॉकडउन लगाया जाना चाहिए.

ताकि लोकतंत्र को बड़ी जेल बनने से बचाया जा सके... जयश्री राम न कहने पर दाढ़ी काटने का मामला: राहुल बोले- सच्चे रामभक्त ऐसा नहीं कर सकते, योगी ने कहा- प्रभु की पहली सीख सत्य बोलना, जो आपने कभी नहीं किया चिराग पासवान ने बाग़ी सांसदों को निकाला, पारस धड़े ने चिराग को हटाया - BBC Hindi

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार एक इंटरव्यू के दौरान डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा जिन ज़िलों में संक्रमण की दर 10 फीसदी से अधिक है उन ज़िलों में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए अधिक पाबंदियां लगाने की ज़रूरत है.फिलहाल देश में ऐसे 718 ज़िले हैं जहां कोरोना टेस्ट में पॉज़िटिविटी दर 10 फीसदी से ज़्यादा दर्ज की गई है. इनमें दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू जैसे बड़े शहर शामिल हैं.

माना जा रहा है कि डॉक्टर बलराम भार्गव की ये टिप्पणी किसी आला सरकारी अधिकारी की पहली ऐसी टिप्पणी है जो कोरोना संकट के दौर से निकलने के लिए लॉकडाउन की मियाद बढ़ाने का समर्थन करती है.PALLAVA BAGLA/GETTY IMAGESडॉक्टर बलराम भार्गवImage caption: डॉक्टर बलराम भार्गव headtopics.com

बीते साल लगाए लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था को हुए नुक़सान के बाद मोदी सरकार देशव्यापी लॉकडाउन नहीं लगाना चाहती और केंद्र सरकार ने ये फ़ैसला राज्य सरकारों पर छोड़ दिया था.कोरोना पर लगाम कसने के लिए देश के अलग-अलग राज्यों में अपने स्तर पर लॉकडाउन लगाया है और नियम जारी किए हैं. हर सप्ताह-दस दिन में इन नियमों की समीक्षा कर पाबंदियों को सप्ताह भर के लिए या फिर पंद्रह दिनों के लिए आगे बढ़ाया जा रहा है.

डॉक्टर भार्गव ने कहा,"जिन ज़िलों में कोरोना पॉज़िटिविटी दर अधिक है वहां पूरी तरह तालाबंदी होनी चाहिए. जिन ज़िलों में पॉज़िटिविटी दर पांच से दस फीसदी तक पहुंच गई है वहां राहत दी जा सकती है, लेकिन इसके लिए इस दर तक पहुंचना होगा. और साफ़ तौर पर आने वाले छह से आठ सप्ताह के भीतर ऐसा होता नहीं दिखता."

राजधानी दिल्ली का ज़िक्र करते हुए डॉक्टर भार्गव ने कहा,"अगर दिल्ली में आज पाबंदियों में राहत दे दी गई तो यहां तबाही आ जाएगी."दिल्ली में पॉज़िटिविटी दर 35 फीसदी तक पहुंच गई है लकिन अब ये 17 फीसदी तक नीचे आ गई है.भारत कोरोना महामारी की दूसरी लहर का सामना कर रहा है. यहां रोज़ाना कोरोना संक्रमण के साढ़े तीन लाख से अधिक मामले दर्ज किए जा रहे हैं जबकि क़रीब चार हज़ार मौतें हो रही हैं. हालांकि जानकारों का कहना है कि असल आंकड़े इससे करीब 10 गुना अधिक हैं.

यहां के अस्पताल और शवगृह मरीज़ों और शवों से भरे पड़े हैं, स्वास्थ्यकर्मी बुरी तरह थके हुए हैं और प्रदेश में मेडिकल ऑक्सीजन और दवाओं की कमी है.Video contentVideo caption: कोरोना से ठीक होने के बाद क्या करना चाहिए, क्या नहींकोरोना से ठीक होने के बाद क्या करना चाहिए, क्या नहीं headtopics.com

क्या बीजेपी ने नीतीश के लिए चिराग को छोड़ दिया है? - BBC News हिंदी PFI पर कसा शिकंजा: इनकम टैक्स ने कट्टरपंथी संगठन का रजिस्ट्रेशन रद्द किया, ED ने कहा- PFI ने केरल में टेरर कैंप के लिए फंड इकट्ठा किया Piaggio One इलेक्ट्रिक स्कूटर सिंगल चार्ज में चलता है 100 किलोमीटर, जानें इसकी खूबियां

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच धार्मिक आयोजनों और चुनावी रैलियों में कोविड-19 से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन न करने को लेकर राजनीतिक आयोजनों की मीडिया में आलोचना की गई है.डॉक्टर भार्गव ने मोदी सरकार की आलोचना तो नहीं की लेकिन उन्होंने कहा कि संकट को देखते हुए इस पर लगाम लगाने की कोशिश शुरू करने में देरी हुई.

उन्होंने कहा,"मुझे लगता है कि 10 फीसदी से अधिक पॉज़िटिविटी दर वाले ज़िलों में पाबंदी लगाने को लेकर देरी हुई, लेकिन बाद में लॉकडाउन लगाया गया."उन्होंने बताया कि 15 अप्रैल को कोविड-19 के लिए बनी नेशनल टास्क फोर्स की एक बैठक हुई थी जिसमें 10 फीसदी या उससे अधिक पॉज़िटिविटी दर वाले ज़िलों में लॉकडाउन लगाने की सिफारिश की गई थी.

हालांकि इसके बाद 20 अप्रैल टेलीविज़न पर प्रसारित एक संदेश में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लॉकडाउन को"आख़िरी कदम के रूप में" देखा जाना चाहिए और राज्यों का ध्यान"माइक्रो कन्टेनमेन्ट ज़ोन" पर होना चाहिए.इससे पहले समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने इसी महीने कहा था कि नेशनल सेंटर फ़ॉर डिज़ीज़ कंट्रोल के प्रमुख ने एक प्राइवेट वर्चुअल कार्यक्रम में कहा था कि देश में अप्रैल की शुरुआत से ही सख़्त लॉकडाउन की ज़रूरत थी.

डॉक्टर भार्गव ने किसी राजनेता की तरफ इशारा तो नहीं किया लेकिन कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान बड़ी संख्या में लोगों के इकट्ठा होने जैसे कार्यक्रम स्वीकार नहीं किए जाने चाहिए.उन्होंने कहा ये"ये कॉमन सेन्स है." और पढो: BBC News Hindi »

दंगल: जानिए किन वजहों से Twitter पर लग रहा है IT नियमों की अनदेखी का आरोप

सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म ट्विटर और सरकार के रिश्तों में तल्खी बढ़ती जा रही है. ताजा मामला सरकार की उस नोटिस को लेकर है जिसमे ट्विटर से आईटी नियमों की अनदेखी पर जवाब मांगा गया है. इससे पहले उपराष्ट्रति वैंकेया नायडू और संघ प्रमुख समेत RSS के कई नेताओं के अकाउंट से भी ब्लूटिक लेकर भी विवाद हुआ. हालांकि बाद में सरकार की सख्ती के बाद ब्लू टिक को वापस कर दिया गया है. देखें दंगल.

And international medias are looking israeli because they fear zionists But we dont We will keep going to show this brutality GazaUnderAttack IsraeliTerrorism IsraelTerrorist IsraeliCrimes WeStandWithPalestine PM care fund से आए UP में बिजनौर के सरकारी अस्पतालों में 24 और फीरोजाबाद में 67 ventilator ट्रैनेड मैडिकल स्ताफ्फ़ के ना होने से धूल चाट रहें हैं और मरीज़ बेहाल हैं।

सवाल यह है कि सरकारी संस्था ICMR वैक्सीन बनाने वाली कम्पनी भारत बॉयोटेक से कितने प्रतिशत लाभ प्राप्त करेगी? Lock down means no income sources from poor to low middle class family free ration is not enough milk,vegetables & others food items not provide by any state govt lots of people will die. सुविधा भी मुहैया करा दो की सिर्फ लॉकडाउन ही होगा।

देश जल रहा नरभक्षी अपने रहने के लिए ताजमहल बना रहा है Laga do lockdown Maharastra , rajasthan , bengal aur andhra

कोरोना का कहर: AMU में वायरस ने मचाई तबाही, अब तक 44 की मौत, वीसी ने ICMR को लिखा खतकोरोना की दूसरी लहर (Corona Second Wave) ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) में तबाही मचा रखी है. महामारी की चपेट में आकर अब तक 44 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. मरने वालों में 19 प्रोफेसर और 25 गैर टीचिंग स्टॉफ शमिल हैं. मोदी वेकसिन का बहिष्कार करो। वेकसिन पर भ्रम फैलाओ। वेकसिन मत लगाओ। देश में महामारी फैलाओ।

Covid 19: Poco ने दो महीने तक बढ़ाई स्मार्टफोन की वारंटी, पढ़ें पूरी खबरपोको इंडिया ने अपने एक बयान में कहा है कि उसने दो महीने तक वारंटी बढ़ा दी है। कंपनी ने कहा है कि जिन ग्राहकों के स्मार्टफोन

भारी गलती: मास्क के इस्तेमाल में चूक कर रहे लोग, ग्रामीण इलाकों में बन रहा जानलेवाभारी गलती: मास्क के इस्तेमाल में चूक कर रहे लोग, ग्रामीण इलाकों में बन रहा जानलेवा LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI Sale godi media, sarkar k chamche, phle chunav krwayega gaavo me ab bhosadi k wHi janta ko laparwah bol ra h sala. PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI क्या myogiadityanath जी इस संकट काल मे दिल्ली के सरकारी शिक्षको की तरह उत्तर प्रदेश के शिक्षको को अस्पतालो में ड्यूटी करने को नही कह सकती! दिल्ली के सरकारी टीचर दिन रात अस्पतालो में सेवा दे रहे हैं, शमशान घाट में भी सेवा कार्य मे लगाए गये है । उ.प्र में शिक्षक संभाल सकते है यह

महाराष्ट्र में केस घटे, पर सख्ती नहीं: राज्य में 15 दिन लॉकडाउन बढ़ाने का प्रस्ताव, 18 से 44 साल एज ग्रुप के लिए वैक्सीनेशन रोका गयामहाराष्ट्र में लॉकडाउन आगे बढ़ाने पर बुधवार को कैबिनेट मीटिंग हुई। इसमें स्वास्थ्य विभाग और मंत्रियों ने 15 दिन लॉकडाउन बढ़ाने का प्रस्ताव रखा। बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि इस पर आखिरी फैसला मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लेंगे। उन्होंने बताया कि राज्य में टीके की कमी के कारण 18-44 उम्र के लोगों के लिए वैक्सीनेशन अभी रोक दिया गया है। इस ऐज ग्रुप के लिए राज्य सरकार की ओर से खरीदी गए स... | Lockdown: Coronavirus Outbreak India Cases, Vaccination LIVE Update | Maharashtra Pune Madhya Pradesh Bhopal Indore Rajasthan Uttar Pradesh Haryana Punjab Bihar Novel Corona (COVID 19) Death Toll India Today, Mumbai Delhi Coronavirus News

WHO ने बताया- भारत में फैल रहे कोरोना के वैरिएंट पर कारगर है वैक्सीन - BBC Hindiविश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि दुनियाभर के जानकार लोगों से सलाह करने के बाद उसे लगता है कि कोरोना वायरस के B.1.617 वैरिएंट पर कोरोना की वैक्सीन, इलाज, और जांच के तरीके कारगर हैं. *سعودی عرب سے* *شیخ کا مجھے فون آیا تھا کہہ رہے تھے Oxygen والے ٹینکر کھالی ہو گئے ہوں تو Reliance کا لوگو نکال کر واپس بھیج دو* 🙏 *مہربانی ہوگی* 😜😁😜😁😜😁😜😁😜😁 *ZR MUSKAN 👈✒️🤺* WHO=आरोग्य सेतु, एक विश्व स्तर पर लोगों को गुमराह कर रहा है। दूसरा राष्ट्रीय स्तर पर 🤭 jaikishan2900 ऐक बडे मायाजाल वाले हत्यारे हैं WHO वाले जो भारत की सरकार के साथ मिलकर अगणित रूपया कमा रहे हैं

बड़ी स्क्रीन और बैटरी के साथ Lava Z2 Max लॉन्च, कीमत 7,799 रुपये, जानें फीचर्सकोरोना की दूसरी लहर से देश परेशान है. कई राज्यों ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी है. लॉकडाउन की वजह से स्कूल-कॉलेज सभी बंद है. ऐसे में इसका असर पढ़ाई पर भी पड़ रहा है. ऑनलाइन स्टडी को सपोर्ट करने के लिए देशी ब्रांड Lava ने नया स्मार्टफोन Z2 Max को लॉन्च किया है. Lava Z2 Max बड़ी स्क्रीन और बड़ी बैटरी के साथ आता है.