Supriyapilgaonkar, Entertainment, Entertainment, Tv, Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi, Supriya Pilgaonkar, Actress Supriya Pilgaonkar, सुप्रिया पिलगांवकर, कुछ रंग प्यार के ऐसे भी, Entertainment

Supriyapilgaonkar, Entertainment

Interview: बतौर कलाकार खुद को सीमित नहीं करती: सुप्रिया पिलगांवकर

Interview: बतौर कलाकार खुद को सीमित नहीं करती: सुप्रिया पिलगांवकर #SupriyaPilgaonkar #Entertainment

24-07-2021 18:15:00

Interview: बतौर कलाकार खुद को सीमित नहीं करती: सुप्रिया पिलगांवकर SupriyaPilgaonkar Entertainment

सुप्रिया पिलगांवकर कहती है अगर कोई प्रोजेक्ट हम दोनों के लिए आता है तो हम जरूर करेंगे। यहां तक कि अगर प्रोजेक्ट बहुत अच्छा है और उसमें मेरे लिए कुछ खास नहीं है। फिर भी बेटी के आसपास रहने और उसके साथ वक्त बिताने के लिए मैं उसे कर लूंगी।

अलग-अलग किरदार निभाते हुए इतने वर्षों बाद फिर से ईश्वरी का किरदार निभाने में क्या चुनौतियां रहीं?तीसरा सीजन काफी अंतराल के बाद आया है तो एक नयापन सा लग रहा है। इसमें किरदार वही हैं, लेकिन कहानी नई है। मेरे लिए पहली बार ईश्वरी का किरदार निभाना चैलेंजिंग था, क्योंकि उसमें काफी ग्रे शेड्स थे और उसके विचार सुप्रिया से बिल्कुल अलग थे। मुझे उसके व्यक्तित्व में ढलने में काफी वक्त लगा। अब मैं ईश्वरी को अच्छी तरह से समझने लगी हूं। इसलिए इस सीजन में मुझे उस किरदार को पकड़ना चैलेंजिंग नहीं लगा। ईश्वरी का किरदार मेरे कंफर्ट जोन से बाहर है। कई बार तो मैं खुद ईश्वरी के डायलाग या काम से सहमत नहीं होती हूं, लेकिन ये करने में मुझे मजा आता है। इसके लिए हमेशा मुझे अलर्ट रहना पड़ता है।

पाकिस्तान की किसी भी वर्ल्ड कप में भारत के ख़िलाफ़ पहली जीत - BBC News हिंदी IND vs PAK: टीम इंडिया को पाकिस्तान के हाथों मिली शर्मनाक हार, सोशल मीडिया पर फैंस का छलका दर्द रिश्वत आरोप के बाद मलिक ने कहा- सबको पता है कि कश्मीर में आरएसएस प्रभारी कौन था

यह भी पढ़ेंआप टीवी, सिनेमा, रंगमंच और ओटीटी प्लेटफार्म पर सक्रिय हैं, व्यस्तता के बावजूद संतुलन कैसे बनाती हैं? और पढो: Dainik jagran »

वंदे मातरम्: 250 गोरखाओं के सामने 4000 पाक सैनिकों का सरेंडर, देखें सिलहट की शौर्यगाथा

हथियार हो या न हो, संख्या हो या न हो, हौसला तो है. कभी-कभी वीरता की कहानियां ही दुश्मन के दिलों में खौफ भरने के लिए काफी होती हैं. कभी-कभी रुतबा ही परिचय होता है. आज वंदे मातरम् के इस एपिसोड में 1971 के युद्ध की एक ऐसी ही कहानी बताएंगे, जब भारतीय सैनिकों ने संख्या में खुद से कहीं ज्यादा पाकिस्तानियों को शिकस्त दी थी. ये लड़ाई थी सिलहट की. ऐसा पहली हुआ था, जब भारतीय सेना ने एक ऑपरेशन में अपने सैनिकों को हैलीकॉप्टर के जरिए दुश्मन की जमीन में उतारा था. 1971 की ये पहली ऐसी लड़ाई थी जब पाकिस्तान के सरेंडर का नमूना देखने को मिला था. देखिए ये एपिसोड.

दैनिक भास्कर किसी के आगे नहीं झुका, छापे से आश्चर्य नहीं- बोले जावेद अख़्तरदैनिक भास्कर किसी के आगे नहीं झुका, छापे से आश्चर्य नहीं- बोले जावेद अख़्तर तो लोग प्रवक्ता बता करने लगे ट्रोल DainikBhaskarRaid JavedAkhtar

राहुल गांधी ने कहा- अगर आप भ्रष्ट नहीं हैं तो मोदी से डरने की जरूरत नहींनई दिल्ली। पेगासस जासूसी मामले पर टिप्पणी करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि यदि आप भ्रष्ट नहीं हैं तो आपको प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से डरने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे मोदी से डर नहीं लगता। राहुल के इस बयान को मोदी की तारीफ से जोड़कर देखा जा रहा है।

भास्कर इंटरव्यू: हंगामा-2 शिल्‍पा शेट्टी और परेश रावल के कंधों पर सवार नहीं है, बाकी राज कुंद्रा से मेरा कोई लेना-देना नहीं: रतन जैनशिल्‍पा फिल्‍म की हीरोइन भी नहीं है, वह तो महज एक्‍टर भर है,राज कुंद्रा विवाद के चलते ‘हंगामा 2’ को लोग ज्‍यादा देखेंगे | Hungama 2 producer Ratan Jain on raj kundra porn case controversy: film not on shoulders of Shilpa Shetty and Paresh Rawal and i have nothing to do with rest of Raj Kundra

Oxygen Crisis: 'कोई कैसे कह सकता है कि ऑक्सिजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई है'हाल ही में केंद्र सरकार की ओर से कहा गया कि देश में ऑक्सिजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई है। जिसके बाद विपक्षी पार्टियां केंद्र सरकार के खिलाफ हमलावर हैं। वहीं, कोरोना की दूसरी लहर में अपनों को ऑक्सिजन की कमी से खोने वाले हैरान भी हैं और दुखी भी हैं कि सरकार मौतें पर राजनीति कर रही है। अपनों को याद करके आज भी इन लोगों की आंखें नम हो जाती हैं। एनबीटी संवाददात राहुल आनंद और राजेश पोद्दार ने पीड़ित परिवारों से बात की, तो इनका दर्द छलक उठा। Jo station banne se pahle waha chay bech sakta hai, Jo email aane se pahle color pic mail kar sakra hai wo bhi colour camera aane se pahle.. Wo kuch bhi bol sakta hai🤣🤣 Modi government jesi besharam government ne bol to diya.. Ye to un se pucho jinhone oxigen ke bina apne samne apno ko marte dekha.. Mere papa ki death hui oxigen ki kami se.. Chokidaar sach me chor hai

आज का जीवन मंत्र: खाने-पीने की चीजों में और सुख-सुविधाओं में मन लगा रहता है तो शांति नहीं मिलती हैकहानी - चीन के मशहूर दार्शनिक कन्फ्यूशियस के पास एक बहुत समझदार व्यक्ति पहुंचा। उसने कहा, 'मैं हर काम बहुत सावधानी से करता हूं। मेरा स्वास्थ्य भी ठीक रहता है। मुझे सफलता भी मिल जाती है, लेकिन अशांत बहुत रहता हूं। आपके पास शांति की तलाश में आया हूं।' | aaj ka jeevan mantra by pandit vijayshankar mehta, motivational story of confucius in hindi, prerak prasang बहुत हुई लेट लतीफी अब न्याय चाहिए, waiting list का जल्द न्योता चाहिए। Waiting_List_For_RAS2018 ashokgehlot51 RajCMO SachinPilot GovindDotasra DrShivRathore RPSC1 News18Rajasthan 1stIndiaNews UpenYadav_BM zeerajasthan_ pantlp priyankagandhi शान्ति मंत्र- यह कहां का न्याय है कि जनता के पैसे से पार्टी और सरकार बनाकर अधिकांश जनता को ही उस सरकार रूपी ग्रुप से बाहर कर देते हैं? इसलिए न कि सिर्फ किसी वर्ग विशेष को, बल्कि सबको सरकारी नौकरी देकर सरकार में शामिल करना ही प्रथम सामाजिक न्याय है। बाकी बातें उसके बाद।

आंदोलन के दौरान किसानों की मौत पर बोले कृषि मंत्री- सरकार के पास कोई रिकॉर्ड नहींकृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में लिखित उत्तर में कहा, ‘‘इन कृषि कानूनों के कारण किसानों के मन में पैदा हुई आशंकाओं के कारणों का पता लगाने के लिए कोई अध्ययन नहीं कराया गया है।’’