Tokyo 2020, Tokyoolympics, Olympics, Hockey, Other Sports, Olympics 2020, Hockey India, Haitayyar Indiakagame Tokyo2020 Tokyotogether, Strongertogether, Hockeyınvites, Weareteamındia, Hockey, हॉकी, भारत Vs जर्मनी, भारत बनाम जर्मनी, हॉकी इंडिया, ओलंपिक 2020

Tokyo 2020, Tokyoolympics

India vs Germany Bronze: भारतीय हॉकी टीम ने जीता कांस्य पदक, जर्मनी को 5-4 से हराया, ओलिंपिक में 41 साल बाद पदक

भारतीय हॉकी टीम ने जीता कांस्य पदक, जर्मनी को 5-4 से हराया, ओलिंपिक में 41 साल बाद पदक #Tokyo2020 #TokyoOlympics #Olympics #Hockey पूरी ख़बर:

05-08-2021 06:22:00

भारतीय हॉकी टीम ने जीता कांस्य पदक, जर्मनी को 5-4 से हराया, ओलिंपिक में 41 साल बाद पदक Tokyo2020 TokyoOlympics Olympics Hockey पूरी ख़बर:

India vs Germany Bronze medal: एक समय भारत 3-2 से पिछड़ रहा था, लेकिन भारत ने जबर्दस्त वापसी करते हुए खुद को आगे कर कर लिया. तीसरे क्वार्टर की शुरुआत में पेनल्टी स्ट्रोक को गोल में बदलकर जबर्दस्त वापसी करते हुए भारत ने 4-3 से बढ़त बनाई, तो थोड़ी ही देर बाद सिमरनजीत ने मैदानी गोल दागकर स्कोर को 5-3 कर दिया. इससे पहले भारत ने दूसरे क्वार्टर की समाप्ति पर मुकाबले को 3-3 से बराबरी पर ला दिया था.

खास बातेंतोक्यो: India vs Germany Bronze medal: तोक्यो में जारी ओलिंपिक 2020 खेलों में वीरवार को भारत ने ओलिंपिक में 41 साल का सूखा खत्म करते हुए जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य पदक जीत लिया है. एक  समय भारतीय टीम मुकाबले में 1-3 से पिछड़ रही थी, लेकिन दूसरे क्वार्टर में भारत ने मुकाबले को 3-3 की बराबरी पर  ला दिया. और तीसरे क्वार्टर में भारत ने इस बढ़त को 5-3 करके बहुत हद तक कांस्य सुनिश्चित कर दिया. यहां से जर्मनी ने एक गोल के अंतर को कम जरूर किया, लेकिन वह 5-4 की बढ़त  से आगे नहीं जा सकी. जर्मनी को मैच के आखिरी मिनट में पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन इसे गोलची श्रीजैश ने निस्तेज कर दिया और इसी के साथ पूरा भारत झूम उठा. कांस्य पक्का हो गया.

करनाल: जिला मुख्यालय के बाहर अनिश्चितकाल के लिए धरने पर बैठे किसान, इंटरनेट बंद 1965 के पाक युद्ध में भारत को चीन से क्या डर था - BBC News हिंदी बतौर DM खुद को ज्यादा कामयाब मानते हैं या ओलंप‍ियन? IAS सुहास एलवाई ने बताया

कुछ ऐसा करके दिखाया, खुश हो गया इंडिया|It is indeed a good morning from Tokyo. #HaiTayyar#IndiaKaGame#Tokyo2020#TeamIndia#TokyoTogether#StrongerTogether#HockeyInvites#WeAreTeamIndia#Hockeypic.twitter.com/VCWESFmJ5S— Hockey India (@TheHockeyIndia) August 5, 2021यह भी पढ़ेंभारत ने आखिरी बार 1980 में मॉस्को ओलिंपिक में पदक जीता था, जो स्वर्ण के रूप में आया था. चौथे क्वार्टर की शुरुआत में ही जर्मनी ने पेनल्टी कॉर्नर को भुनाते हुए गोल दागकर भारत की बढ़त का अंतर कम करते हुए 5-4 कर दिया था. इससे पहले भारत ने तीसरे क्वार्टर की शुरुआत में दो गोल दागकर खुद को 5-3 से आगे कर लिया था और यह बढ़त क्वार्टर के खत्म होने तक बरकरार रही. एक समय भारत 3-2 से पिछड़ रहा था, लेकिन भारत ने जबर्दस्त वापसी करते हुए खुद को आगे कर कर लिया. तीसरे क्वार्टर की शुरुआत में पेनल्टी स्ट्रोक को गोल में बदलकर जबर्दस्त वापसी करते हुए भारत ने 4-3 से बढ़त बनाई, तो थोड़ी ही देर बाद सिमरनजीत ने मैदानी गोल दागकर स्कोर को 5-3 कर दिया. इससे पहले भारत ने दूसरे क्वार्टर की समाप्ति पर मुकाबले को 3-3 से बराबरी पर ला दिया था. 

TEAM INDIA HAVE WON THE BRONZE MEDAL IN #Tokyo2020!#GERvIND#HaiTayyar#IndiaKaGame#TeamIndia#TokyoTogether#StrongerTogether#HockeyInvites#WeAreTeamIndia#Hockeypic.twitter.com/qWWOFLL0qv— Hockey India (@TheHockeyIndia) August 5, 2021मैच पहला गोल जर्मनी ने ही किया था, भारत के लिए बराबरी का गोल सिमरनजीत सिंह ने किया था, लेकिन इसके बाद  जमर्नी ने चंद मिनटों के भीतर ही दो गोल दागकर भारत पर 3-1 की बढ़त बनायी. बहरहाल भारत ने जल्द ही दूसरा गोल करके बढ़त के अंतर को 2-3 कर दिया. थोड़ी ही देर बाद भारत ने फिर पेनल्टी कॉर्नर को भुनाते हुए गोल दागकर मुकाबला 3-3 से बराबर कर दिया, जो दूसरा क्वार्टर खत्म होने तक बरकरार रहा. दूसरे क्वार्टर के बाद तक दोनों टीमों को चार-चार पेनल्टी कॉर्नर मिले. जहां जर्मन टीम एक भी पेनल्टी कॉर्नर को गोल में नहीं बदल सकी, तो वहीं भारत ने चार में से दो को गोल में बदला.  headtopics.com

GET. SET. CHAK DE. ????????Let's do this.???????? 0:0 ????????https://t.co/FEfTJeTHxK#GERvIND#HaiTayyar#IndiaKaGame#Tokyo2020#TeamIndia#TokyoTogether#StrongerTogether#HockeyInvites#WeAreTeamIndia#Hockeypic.twitter.com/WhOPVq94Eu— Hockey India (@TheHockeyIndia) August 5, 2021चौथा क्वार्टर: आखिरी मिनट में श्रीजैश का धमाल, भारत ने किया कांस्ट टेस्ट पास!

आखिरी क्वार्टर की शुरुआत में जर्मनी को पेनल्टी कॉर्नर मिला. भारतीय डिफेंडरों की लय यहां पिछले प्रयासों जैसी दिखायी नहीं पड़ी और विंडफेडर ने खेल के 48वें मिनट में मिले इस पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील करके भारत की बढ़त  के अंतर को कम करते हुए स्कोर को 5-4 कर दिया. खेल के 51वें मिनट में संभवत: भारत को मैच का सबसे बेहतरीन मौका मिला था, जब मनप्रीत गेंद को अकेले धकेलते हुए जर्मनी के डी में पहुंच गए. मनप्रीत के आस-पास कोई भी जर्मनी खिलाड़ी नहीं था. और वह मीलों आगे थे! लेकिन डी के पास पहुंचने पर वह सही निशाना नहीं लगा सके और उनकी लेफ्ट फ्लिक गोलची की छाती से जा टकरायी. 

यहां से जर्मनी के हमलों में तेजी आयी और कुछ मिनट बाद उसे पेनल्टी कॉर्नर भी मिला. भारतीय फैंस की धड़कने बढ़ चुकी थीं, लेकिन गोलची श्रीजैश ने इस पेनल्टी कॉर्नर को बेकार कर दिया. राहत की सांस  फैंस में लौटी! लेकिन धड़कनें एक बार फिर से अटक गयीं, जब खेल के आखिरी और 60वें मिनट में जर्मनी को पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन गोलची श्रीजैश ने सबसे जरूरी पलों में इस पेनल्टी कॉर्नर को निस्तेज करके कांस्य पदक सुनिश्चित करने के साथ ही करोड़ों भारतीयों को झूमने पर मजबूर कर दिया. 

तीसरा क्वार्टर:  भारत की धूम, जर्मनी पर बना ली 5-3 की बढ़तमानो जो पेनल्टी कॉर्नर का वरदान दूसरे क्वार्टर में जर्मनी को दूसरे क्वार्टर में मिला था, इसकी भरपायी एक तरह से तीसरे क्वार्टर की शुरुआत में भारत के लिए हो गयी. तीसरे क्वार्टर की शुरुआत में भारत ने हमला बोला. डी में खिलाड़ी पहुंचे और हासिल कर लिया पेनल्टी स्ट्रोक. जमर्नी ने रेफरल लिया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ, पर रुपेंद्र पाल सिंह ने इस स्ट्रोक को गोल में बदलकर भारत को 4-3 से आगे कर दिया. वास्तव में पेनल्टी स्ट्रोक की इससे बेहतर टाइमिंग नहीं ही हो सकती थी. सोचिए जो टीम 3-1 से पिछड़ रही थी, वह 4-3 से आगे हो गयी. भारतीयों के तेवर बदल गए. खिलाड़ियों की बॉडी लैंग्वेज बदल गयी. और शारीरिक स्पीड के साथ ही हमलों की भी गति बढ़ गयी. और पेनल्टी स्ट्रोक के गोल में बदलने के  दो मिनट बाद ही खेल के 34वें मिनट में सिमरनजीत सिंह ने अपना दूसरा मैदानी और भारत के लिए पांचवां गोल करके टीम को 5-3 की बढ़त पर ला दिया.  headtopics.com

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल VIDEO: अवैध कब्जा हटाने गई वाराणसी पुलिस पर टूट पड़ीं महिलाएं, गोबर से जमकर किया हमला झारखंड विधानसभा में सरकार जवाब- ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई कोई मौत

तीसरा क्वार्टर खत्म होने से चंद मिनट पहले ही भारत को एक के बाद एक तीन पेनल्टी कॉर्नर मिले, लेकिन इसका फायदा भारतीय खिलाड़ी नहीं उठा सके और बढ़त 5-3 पर ही अटकी रही. इसके बाद इतने ही पेनल्टी कॉर्नर जर्मनी को भी मिले, लेकिन भारतीय डिफेंडर बीस साबित हुए और भारत ने अपनी बढ़त पर कोई असर नहीं पड़ने दिया. यहां से बाकी बचे करीब तीन मिनट में जर्मनी खिलाड़ियों ने जी-जान लगा दी. डी में भी एक-दो बार पहुंचे, लेकिन गोल करने में सफलता नहीं ही मिली. भारत तीसरे क्वार्टर के बाद 5-3 की बढ़त पर बरकरार.

दूसरा क्वार्टर: भारत की जबर्दस्त वापसी, मुकाबला 3-3 से बराबरी पर आयादूसरे क्वार्टर की शुरुआत में वही तस्वीर देखने को मिली, जो पहले क्वार्टर के  शुरुआती पलों में देखने को मिली थी. अंतर यह था कि इस बार काम को अंजाम भारत ने दिया. जर्मन दूसरे क्वार्टर ने उतरे ही थे कि भारतीयों ने हमला बोल दिया. भारतीयों की बॉडी लैंग्वेज पहले से बेहतर थी और गेंद को खदेड़ते हुए गेंद को के पाले में ले गए. और 17वें मिनट में सिमरनजीत का प्रचंड  प्रहार जर्मनी के गोलपोस्ट में समा गया. इसी के साथ भारत मुकाबले में 1-1 की बराबरी पर आ गया. लेकिन गोल दागते ही भारतीय खिलाड़ी संतुष्ट या लयविहीन दिखायी पड़े. डिफेंस पूरी तरह से बिखरा, टूटा हुआ और उत्साहविहीन दिखायी पड़ा. जर्मनी ने खेल के 24वें मिनट में मूव बनाया.

India make a comeback into the game with 3⃣ wonderful goals in the second quarter.It's going to be an exciting second half.#GERvIND#HaiTayyar#IndiaKaGame#Tokyo2020#TeamIndia#TokyoTogether#StrongerTogether#HockeyInvites#WeAreTeamIndia#Hockeypic.twitter.com/7r0YkGPH0H

— Hockey India (@TheHockeyIndia) August 5, 2021मूव क्या बनाया कहें कि भारतीयों ने अपने कंट्रोल से गेंद गंवा दी. और एन विलेन ने 24वें मिनट में बेहतरीन गोल दागकर जर्मनी को 2-1 से आगे कर दिया. भारतीय टीम इस झटके से संभली भी नहीं थी कि बी. फर्क ने एक ओर मैदानी गोल दागकर जर्मनी को 3-1 से आगे करते हुए भारतीयों के चेहरे पर मुर्दनी परोस दी. लेकिन असल पिक्चर अभी बाकी थी. भारतीयों ने अपनी बॉडी लैंग्वेज पर इस बढ़त का असर नहीं पड़ने दिया. एक तरह से साइलेंट हमले, गति पहले से ज्यादा तेज. परिणाम देखने को मिला. भारत को दूसरे क्वार्टर के आखिरी पलों में 27वें और 29वें मिनट में दो पेनल्टी कॉर्नर मिले. पहले हार्दिक सिंह ने इसे गोल में बदल बढ़त को 2-3 किया, तो दो मिनट बाद ही हरमनप्रीत सिंह ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में बदलकर दूसरे मुकाबले को 3-3 की बराबरी पर ला दिया और यह स्थिति क्वार्टर के खत्म होने तक बरकरार रही.  headtopics.com

पहला क्वार्टर: जर्मनी का जबर्दस्त दबदबा, मिला पेनल्टी कॉर्नर का वरदान!खेल शुरू होते ही जर्मनी ने भारत पर हमला बोल दिया और देखते ही देखते उसके खिलाड़ी कब डी में पहुंच गए, भारतीयों को पता ही नहीं चला और ओरुट टी ने दूसरे ही मिनट के भीतर मैदानी गोल दागकर जर्मनी को 1-0 की बढ़त दिला दी. इस गोल ने भारतीयों को मानों नींद से जगा दिया और टीम मनप्रीत ने भी जर्मनी पर  पलटवार किया. और भारत ने 5वें मिनट में ही पेनल्टी कॉर्नर हासिल कर लिया, लेकिन निराशाजनक बात यह रही कि भारत  इसे  गोल में तब्दील नहीं कर कर सके. वहीं, जर्मनी एक बार फिर से 7वें मिनट में गोल करने से चूक गया या कहें भारतीय गोलकीपर श्रीजैश की तत्परता ने गोल होने से बचा लिया, जब डी में खड़े जर्मन खिलाड़ी से डिफलैक्ट होकर गेंद गोलपोस्ट में जाने ही वाली थी कि श्रीजैश ने तेजी से हाथ से गेंद को बाहर झटक दिया. जर्मनी ने 9वें मिनट में फिर से अच्छा मूव  बनाया, लेकिन श्रीजैश ने इस हमले को भी बेकार कर दिया. क्वार्टर के आखिरी पलों में भारतीय खिलाड़ी लय में नजर आए और अच्छा मूव बनाया, लेकिन कामयाबी नहीं मिली. क्वार्टर खत्म से ठीक पहले जर्मनी ने भी पलटवार किया और हूटर बजा, तो जर्मनी ने रेफरल मांग लिया और इसका फायदा जर्मनी को मिला, जब रेफरल के बाद जर्मनी को पेनल्टी कॉर्नर दे दिया गया, लेकिन भारतीय डिफेंस ने इसे खारिज तो किया, लेकिन गेंद अमितु दास के पैर पर लगी. नतीजा यह रहा कि जर्मनी को फिर से पेनल्टी कॉर्नर मिल गया. मगर बात यहीं खत्म नहीं हुयी. जर्मनी को एक के बाद एक तीसरा पेनल्टी कॉर्नर अंपायर ने दिया. और चौथा भी पेनल्टी कॉर्नर मिला. मानो जर्मनी को किसी ने पेनल्टी कॉर्नर का वरदान दे दिया हो! मगर भारतीय डिफेंडरों ने जर्मनी के एक के बाद एक मिले लगातार चारों पेनल्टी कॉर्नर को गला दिया. बहरहाल, कुल मिलाकर पहले क्वार्टर में जर्मनी का जबर्दस्त दबदबा रहा और गेंद पर उसी के खिलाड़ियों का कब्जा रहा. 

VIDEO: लवलीना ने बुधवार को कांस्य पदक जीता और उनके घर जश्न का माहौल है. Listen to the latest songs, only on JioSaavn.comOther SportsOlympics 2020टिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | कोरोनावायरस के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें |

जन्मदिन पर जयपुर में सचिन पायलट गुट का शक्ति प्रदर्शन, गहलोत गुट ने बनाई दूरी पहलू ख़ान लिंचिंग: बेटों की अपील पर राजस्थान हाईकोर्ट ने बरी हो चुके छह आरोपियों को समन भेजा किन रीति रिवाजों से हुआ था फ़िरोज़ गाँधी का अंतिम संस्कार - BBC News हिंदी

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

आज की पॉजिटिव खबर: रायपुर की पूर्णिमा ने 3 साल पहले बोनसाई प्लांट का स्टार्टअप शुरू किया, अब सालाना 7 लाख रु. का बिजनेस, देशभर में मार्केटिंग

आज कल शहरों में घर के सामने या छत पर गार्डनिंग और प्लांटिंग का क्रेज बढ़ा है। अब तो गांवों में भी लोग अपने घर की खूबसूरती के लिए गार्डनिंग कर रहे हैं। हालांकि कुछ साल पहले तक लोग या तो बड़े प्लांट लगाते थे या फिर सजावट के लिहाज से फ्लॉवर और शो प्लांट्स लगाते थे। जिन्हें गमले में आसानी से सर्वाइव किया जा सकता था, लेकिन अब ट्रेंड बदल रहा है। अब आप एक छोटे गमले में भी वर्षों पुराने पीपल या बरगद के प्... | Poornima of Raipur started the startup of Bonsai plant 3 years ago, now earning Rs 7 lakh annually.

Congratulations team मेडल का रंग मेहनत से बनता है, और यहां पर तो खून पसीना मेहनत सब कुछ थी Jai ho 41 साल से पदक नही जीता था तो क्या देश की जनता जी नही रही थी क्या या देश की अर्थव्यवस्था को कुछ हुआ था और इस बार जीत लिया तो क्या होगा देश की अर्थव्यवस्था पर कोई असर होगा क्या या पेट्रोल डीजल सस्ता हो जाएगा क्या

थैंक्यू मोदीजी। Keep support them Congratulations India शेर की दहाड़ ही अच्छी लगती है.... आज का पदक,स्वर्ण पदक से किसी मायने में कम नहीं है। हॉकी हमारे लिए केवल खेल ही नहीं बल्कि हमारी संस्कृति और जनमानस से जुड़ी आस्था का प्रतीक भी है। 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 Acche din aa gaye.....jay ho. धन्यवाद दो उनको कि उन्होंने आज मैच नहीं देखा 😁

Tokyo Olympics: लवलीना बोरगोहेन ने मुक्केबाजी में भारत को 9 साल बाद दिलाया पदकटोक्यो ओलिंपिक में भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन सेमीफाइनल मैच हारकर इतिहास रचने से चूक गईं। उनको महिलाओं के वेल्टरवेट (69किग्रा) सेमीफाइनल मैच में वर्ल्ड चैंपियन तुर्की की बुसेनाज़ सुरमेनेली ने 0-5 से हरा दिया। इस मुक्केबाज ने पहले ही सेमीफाइनल में पहुंचकर कांस्य पदक सुनिश्चित कर दिया था। LovlinaBorgohai महोदय आपसे अनुरोध है की टेक्निकल बोर्ड डिप्लोमा 1st and 2nd year छात्रों के लिए बोर्ड तत्काल रुप से किसी नतीजे पर पहुंचे हम छात्र इतना भ्रमित हैं कि वैसे भी सत्र अत्यधिक विलंब में है महोदय आपसे अनुरोध है सख्त कार्रवाई करते हुए बोर्ड को आदेशित करें कि वह तत्काल रुप से फैसला ले LovlinaBorgohai Ye kya ho raha tarikh pe tarikh Nyay kab milega ? ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra zeerajasthan_ 1stIndiaNews DainikBhaskar TheUpenYadav REET reet2018_नियुक्ति_दो REET2018_धरनाप्रदर्शन_बीकानेर REET2018_JOINING_DO

Proud of you indian hockey team Congrats to Indian hockey team and especially to C.M of Odisha 👏👏👏👏👏 Congratulations TeamIndia cheerforindia TokyoOlympics2020 Mitroonn 1947 me gold jeete the isse phle bhakt iska credit bi apne pappa ko dene lge. Congratulations भारत माता की जय वन्दे मातरम, आज panoti मैच नहीं देख रहा था ना इस लिए।

Congratulations

टोक्यो ओलंपिकः भारत को आज इन पहलवानों से पदक की उम्मीद - BBC Hindiओलंपिक में भारत की पदक जीतने की कई उम्मीदें अभी भी बरक़रार हैं. बुधवार को कुश्ती के दो खिलाड़ियों ने भारत को पदक की आस जगा दी है. Ye kya ho raha tarikh pe tarikh Nyay kab milega ? ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra zeerajasthan_ 1stIndiaNews DainikBhaskar TheUpenYadav REET reet2018_नियुक्ति_दो REET2018_धरनाप्रदर्शन_बीकानेर REET2018_JOINING_DO Best of luck

उड़ीसा सरकार को खूब-खूब बधाई हो Congratulations

Tokyo Olympics में India ने रचा इतिहास, Men's Hockey Team ने जीता कांस्य पदकटोक्यो ओलंपिक में भारत ने इतिहास रच दिया है. भारत ने पुरुष हॉकी में 4 दशक का सूखा खत्म करते हुए कांस्य पदक जीत लिया है. भारत ने जर्मनी को 5-4 से मात दी. टीम इंडिया की इस मुकाबले में खराब शुरुआत भले रही हो लेकिन फिर उसने लगातार गोल दागकर वापसी की. लेकिन इसके बाद जर्मनी ने दो और गोल कर भारत पर दबाव बना दिया. लेकिन टीम इंडिया ने जबरदस्त वापसी करते हुए महज 2 मिनट में मैच को 5-4 की बढ़त पर ला दिया. जर्मनी ने मैच के पहले मिनट में ही गोल किया था. लेकिन देखें कैसे भारत ने अपने पक्ष में बदला मैच. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

'आपकी बढ़ती उम्र को देख दुख होता है', कोंकणा सेन ने यूजर को दिया मजेदार जवाबयूजर ने लिखा था 'आपकी बढ़ती उम्र को देख दुख होता है....इंडस्ट्री ने आप जैसे कलाकारों के साथ न्याय नहीं किया....आप स्कूल में मेरी क्रश हुआ करती थीं...एक थी डायन के बाद मैं आपकी और फिल्में देखना चाहता था. आप बेहतरीन हैं.' यूजर ने अपने इस कमेंट में कोंकणा की तारीफ भी है लेक‍िन साथ में एक्ट्रेस की उम्र पर भी रोशनी डाली.

एंटीलिया बम केसः एनआईए ने कोर्ट को बताया, आरोपियों को मिल रहीं धमकियां, डरे हुए हैंएंटीलिया बम स्केयर मामले में एनआईए जांच कर रही है। एनआईए ने कोर्ट में बताया कि गवाहों को धमकी मिल रही है और आरोपी बहुत ही खतरनाक लोग हैं।

IND vs ENG LIVE Score: इंग्लैंड को लगा चौथा झटका, शमी ने बेयरस्टो को भेजा पवेलियनIND vs ENG LIVE Score: इंग्लैंड की आधी टीम लौटी पवेलियन, शमी ने लॉरेंस को किया चलता INDvENG ENGvIND