Indian Sign Language, Ncert, Ranveer Singh, Entertainment News İn Hindi, Bollywood News İn Hindi, Bollywood Hindi News

Indian Sign Language, Ncert

Indian Sign Language: रणवीर ने की NCERT की तारीफ, बोले, स्कूली किताबें इस भाषा में मिलना बड़ा कदम

Indian Sign Language: रणवीर ने की NCERT की तारीफ, बोले, स्कूली किताबें इस भाषा में मिलना बड़ा कदम @RanveerOfficial

28-10-2021 07:40:00

Indian Sign Language : रणवीर ने की NCERT की तारीफ, बोले, स्कूली किताबें इस भाषा में मिलना बड़ा कदम RanveerOfficial

हिंदी सिनेमा के हीरो नंबर वन रणवीर सिंह अरसे से एक खास मुहिम में लगे हुए हैं। ये मुहिम है देश के बधिर लोगों की सांकेतिक

गौरतलब है कि भारतीय संविधान में समय समय पर संशोधन करके इसमें विभिन्न क्षेत्रों की भाषाओं का आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया है। संविधान जब बना तो इसमें सिर्फ 14 भाषाएं थीं और अब आधिकारिक भाषाओं की संख्या 22 तक पहुंच चुकी है। आईएसएल को सांविधानिक दर्जा दिए जाने की वकालत करने वालों का कहना है कि देश में सिर्फ 10 लाख लोगो बोडो बोलते है। डोगरी बोने वालों की संख्या करीब 23 लाख है और मैथिली बोलने वाले करीब डेढ़ करोड़ लोग हैं। इन भाषाओं को सांविधानिक दर्जा मिल चुका है लेकिन बधिरों की मातृभाषा कही जाने वाली भारतीय सांकेतिक भाषा (आईएसएल) के 1.8 करोड़ लोगों की भाषा होने के बावजूद इसे सांविधानिक दर्जा नहीं मिल रहा है।

Waseem Rizvi ने इस्लाम छोड़ अपनाया हिंदू धर्म, मंदिर में हुआ धर्म परिवर्तन वैज्ञानिक का दावा- आने वाली महामारी और भी जानलेवा होगी - BBC News हिंदी नगालैंड फायरिंग पर सरकार को पछतावा: शाह ने दोनों सदनों में माना- सेना ने नागरिकों की पहचान में गलती की, आगे ऐसी घटना नहीं होगी

अभिनेता रणवीर सिंह बधिर समुदाय के सामने खड़े मुद्दों को उठाने का काम लगातार करते रहे हैं। वह सरकार से इंडियन साइन लैंग्वेज (आईएसएल) को भारत की 23वीं आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता देने का आग्रह करते रहे हैं। इस नेक कार्य के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से उन्होंने एक याचिका पर हस्ताक्षर भी किए हैं। रणवीर कहते हैं,"एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों को आईएसएल में कक्षा एक से पांच तक के छात्रों के लिए डिजिटल रूप से उपलब्ध कराने की खबर असली इन्क्लूसिव समाज बनाने की दिशा में उठाया गया एक बड़ा कदम है। हमारे नेता इन गतिविधियों को पहचान और मान्यता दे रहे हैं। इस बात को लेकर मुझे गर्व है और मुझे आने वाले समय से भी बड़ी उम्मीदें हैं।“

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने बधिर बच्चों को साइन लैंग्वेज में शैक्षिक सामग्री प्रदान करने के लिए भारतीय सांकेतिक भाषा अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र (आईएसएलआरटीसी) के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं। इंडियन साइन लैंग्वेज (आईएसएल) में एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों की उपलब्धता सुनिश्चित करेगी कि बधिर बच्चों को भी शैक्षिक संसाधन उपलब्ध हो सकें। ये शिक्षकों, शिक्षाविदों, माता-पिता और बधिर समुदाय के लिए एक उपयोगी और बेहद जरूरी संसाधन होंगे। headtopics.com

रणवीर कहते हैं, “राष्ट्रीय शिक्षा नीति एक प्रगतिशील कदम रहा है जिसकी बधिर समुदाय और राष्ट्र को बहुत आवश्यकता थी। मैं इस बड़े कदम की सराहना करता हूं। यह बधिर समुदाय के नागरिकों को समान अवसर उपलब्ध कराने की दिशा में की गई एक महत्वपूर्ण शुरुआत है।”विस्तार

भाषा को सांविधानिक दर्जा दिलाने की। तमाम सामाजिक संगठन इस बारे में केंद्र सरकार को पत्र लिखकर भारतीय सांकेतिक भाषा (इंडियन साइन लैंग्वेज-आईएसएल) को भारतीय संविधान के आठवें अनुच्छेद में शामिल आधिकारिक भाषाओं में शामिल करने की मांग करते रहे हैं। रणवीर सिंह ने इस मांग का लगातार समर्थन किया है और अब वह इस बात से खुश हैं अब राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) की पुस्तकें इस भाषा में उपलब्ध होने जा रही हैं। रणवीर ने इस फैसले को लेकर एनसीईआरटी की मुक्त कंठ से सराहना की है।

विज्ञापनगौरतलब है कि भारतीय संविधान में समय समय पर संशोधन करके इसमें विभिन्न क्षेत्रों की भाषाओं का आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया है। संविधान जब बना तो इसमें सिर्फ 14 भाषाएं थीं और अब आधिकारिक भाषाओं की संख्या 22 तक पहुंच चुकी है। आईएसएल को सांविधानिक दर्जा दिए जाने की वकालत करने वालों का कहना है कि देश में सिर्फ 10 लाख लोगो बोडो बोलते है। डोगरी बोने वालों की संख्या करीब 23 लाख है और मैथिली बोलने वाले करीब डेढ़ करोड़ लोग हैं। इन भाषाओं को सांविधानिक दर्जा मिल चुका है लेकिन बधिरों की मातृभाषा कही जाने वाली भारतीय सांकेतिक भाषा (आईएसएल) के 1.8 करोड़ लोगों की भाषा होने के बावजूद इसे सांविधानिक दर्जा नहीं मिल रहा है।

अभिनेता रणवीर सिंह बधिर समुदाय के सामने खड़े मुद्दों को उठाने का काम लगातार करते रहे हैं। वह सरकार से इंडियन साइन लैंग्वेज (आईएसएल) को भारत की 23वीं आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता देने का आग्रह करते रहे हैं। इस नेक कार्य के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से उन्होंने एक याचिका पर हस्ताक्षर भी किए हैं। रणवीर कहते हैं,"एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों को आईएसएल में कक्षा एक से पांच तक के छात्रों के लिए डिजिटल रूप से उपलब्ध कराने की खबर असली इन्क्लूसिव समाज बनाने की दिशा में उठाया गया एक बड़ा कदम है। हमारे नेता इन गतिविधियों को पहचान और मान्यता दे रहे हैं। इस बात को लेकर मुझे गर्व है और मुझे आने वाले समय से भी बड़ी उम्मीदें हैं।“ headtopics.com

शराब का खाली डिब्बा लेकर संसद पहुंचे बीजेपी सांसद, केजरीवाल पर साधा निशाना शशि थरूर का ऐलान, '12 सांसदों का निलंबन रद्द होने तक ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की मेजबानी नहीं करूंगा' नगालैंड हिंसा पर एक्शन में PM: प्रधानमंत्री मोदी ने हाई लेवल मीटिंग बुलाई, सभी सीनियर मिनिस्टर मौजूद; शाम को दोनों सदनों में जवाब देंगे शाह

ranveer singh- फोटो : instagramराष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने बधिर बच्चों को साइन लैंग्वेज में शैक्षिक सामग्री प्रदान करने के लिए भारतीय सांकेतिक भाषा अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र (आईएसएलआरटीसी) के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं। इंडियन साइन लैंग्वेज (आईएसएल) में एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों की उपलब्धता सुनिश्चित करेगी कि बधिर बच्चों को भी शैक्षिक संसाधन उपलब्ध हो सकें। ये शिक्षकों, शिक्षाविदों, माता-पिता और बधिर समुदाय के लिए एक उपयोगी और बेहद जरूरी संसाधन होंगे।

रणवीर कहते हैं, “राष्ट्रीय शिक्षा नीति एक प्रगतिशील कदम रहा है जिसकी बधिर समुदाय और राष्ट्र को बहुत आवश्यकता थी। मैं इस बड़े कदम की सराहना करता हूं। यह बधिर समुदाय के नागरिकों को समान अवसर उपलब्ध कराने की दिशा में की गई एक महत्वपूर्ण शुरुआत है।”विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

भारत में #OmicronVariant के 21 केस

भारत में #OmicronVariant के 21 केस. #ATLivestream | Sayeed Ansari

चीन में लौटा कोरोना का कहर, 4 लाख की आबादी वाले Lanzhou में लॉकडाउनलांझू। चीन में कोरोनावायरस का कहर एक बार फिर तेजी से बढ़ता दिखाई दे रहा है। 4 लाख की आबादी वाले लांझू (Lanzhou) संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पूरी तरह लॉकडाउन लगा दिया गया है।

Toyota की इस कार ने फुल टैंक में 1360 किलोमीटर की माइलेज देकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्डपहले दिन सफर की शुरुआत करते हुए वेन और बॉब ने एक ही दिन में 473 मील (लगभग 761 किलोमीटर) की दूरी तय की। अगले दिन जोड़ी ने 372 मील (599 किलोमीटर) की ईको-इन्फ्यूज्ड ड्राइविंग को कवर किया। Mileage is distance travelled per litre/ kg. You need to fire your social media team.

बदली गई गोरखपुर की सूरत, योगी सरकार में गोरक्षनगरी को मिली एक लाख करोड़ की परियोजनाएंकरीब साढ़े चार साल पहले योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने तो गोरखपुर में विकास की गंगा बहने लगी। 19 मार्च 2017 से 18 मार्च 2021 तक गोरखपुर के खाते में एक लाख करोड़ रुपये की परियोजनाएं आ चुकी हैैं। Saale tu to bika hua hai लोगो का खून चूस के कितनी भी परियोजनाओं को ले आओ लेकिन असली तलवे चाटुकार की योजना सबसे बड़ा बिकाऊ में प्रथम स्थान प्राप्त करेगा । जूतो से मारना चहोये इन के दलालो को

अमेरिका की HHS बिल्डिंग में बम की सूचना के बाद मचा हड़कंपअमेरिका की HHS बिल्डिंग में बम मिलने की धमकी से हड़कंप मच गया है. कहा गया है कि Humphrey building में बम होने की सूचना मिली है. मौके पर पलिस पहुंच चुकी है और पूरी बिल्डिंग को खाली करवा दिया गया है. अभी के लिए बम नहीं मिला है लेकिन आगे की जांच की जा रही है.

टीवी एक्ट्रेस काम्या पंजाबी की राजनीति में एंट्री, कांग्रेस पार्टी की ज्वॉइनटीवी एक्ट्रेस काम्या पंजाबी ने एक्टिंग के बाद राजनीति में अपनी नई पारी शुरू कर दी है। काम्या पंजाबी ने कांग्रेस पार्टी ज्वॉइन कर ली है। मुंबई कांग्रेस प्रेजिडेंट भाई जगताप, वर्किंग प्रेजिडेंट चरण सिंह सापरा और यूथ लीडर सूरज सिंह ठाकुर ने काम्या का पार्टी में स्वागत किया।

BJP में बागियों की थाह लेने पहुंचे विजय बहुगुणा, मुख्यमंत्री धामी से की मुलाकातदेहरादून। उत्तराखंड भाजपा में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा। पार्टी में बगावतियों की थाह लेने पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा अचानक देहरादून पहुंचे। देहरादून आकर वे भाजपा के राज्य संगठन महामंत्री से मिले और उसके बाद वे पार्टी में असंतुष्ट बताए जा रहे विधायक उमेश शर्मा काऊ और कैबिनेट मंत्री हरक सिंह से मिले। आज सुबह उन्होंने बताया कि पार्टी में बगावत संबंधी खबरें निराधार हैं।