भारतीय सेना, पीएलए, चीनी सेना, गलवान हिंसा के 1 साल, Pla, Indian Army, India-China Stand Off, Galwan Valley Clash, Galwan Clash, Chinese Army At Laddakh, भारत Samachar

भारतीय सेना, पीएलए

Galwan Valley Clash: गलवान झड़प के 1 साल, अब चीन से लंबी लड़ाई की तैयारी कर रही भारतीय सेना

गलवान झड़प के 1 साल, अब चीन से लंबी लड़ाई की तैयारी कर रही भारतीय सेना

14-06-2021 21:06:00

गलवान झड़प के 1 साल, अब चीन से लंबी लड़ाई की तैयारी कर रही भारतीय सेना

भारत न्यूज़: गलवान हिंसा के 1 साल पूरे हो गए हैं, लेकिन अब तक चीन ने एलएसी के पास डेरा डाल रखा है। भारत ने भी अब ड्रैगन से निपटने के लिए लंबी तैयारी शुरू कर दी है। भारत ने पिछले 1 साल में सीमा पर बुनियादी ढांचे को बेहतर किया है।

Subscribeगलवान हिंसा के 1 साल पूरे हो गए हैं, लेकिन अब तक चीन ने एलएसी के पास डेरा डाल रखा है। भारत ने भी अब ड्रैगन से निपटने के लिए लंबी तैयारी शुरू कर दी है। भारत ने पिछले 1 साल में सीमा पर बुनियादी ढांचे को बेहतर किया है।Galwan Valley Clash Video: गलवान घाटी झड़प का एक और वीडियो वायरल, जब आमने-सामने खड़े थे भारतीय और चीनी सैनिक

विजय माल्या के ख़िलाफ़ ब्रिटेन की अदालत का बड़ा फ़ैसला - BBC Hindi पेगासस से जासूसी की लिस्ट में और नाम बढ़े: रिपोर्ट में दावा- ED ऑफिसर, BSF के पूर्व DG और केजरीवाल के चीफ एडवाइजर की भी जासूसी हुई असम-मिजोरम बॉर्डर पर फायरिंग: जमीन विवाद में दोनों राज्यों की पुलिस और नागरिक भिड़े, आंसू गैस और लाठियां चलीं; असम के CM बोले-हमारे 6 जवान मारे गए

Subscribeहाइलाइट्स:चीनी सैनिकों के साथ गलवान में झड़प के 1 साल पूरेअब भारतीय सेना ड्रैगन के साथ लंबी लड़ाई की तैयारी कर रही हैभारतीय सेना एलएसी के पास इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित करने में जुटीनई दिल्लीपूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी की झड़प के एक साल बाद भी चीनी सैनिक वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास डेरा डाले हुए हैं। इस बीच भारत ने भी लंबी अवधि की सोच के साथ उसका मुकाबला करने के लिए खास तैयारी की है। विवाद वाले बिंदुओं पर सीमा विवाद को सुलझाने के लिए भारतीय और चीनी सैन्य प्रतिनिधियों के बीच 11 दौर की बातचीत हुई है। बातचीत में दोनों देश इस विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने पर सहमत हो गए हैं।

भारतीय सेनाने पिछले एक साल में लद्दाख में चीन के साथ किसी भी संभावित लड़ाई का सामना करने के लिए बेहतर तरीके से तैयार होने पर ध्यान केंद्रित किया है। भारत ने सैन्य बुनियादी ढांचे को बढ़ाया है और जवानों की तैनाती 50,000 से 60,000 सैनिकों तक बढ़ा दी है। यही नहीं, भारत ने तेजी से सुरक्षाबल जुटाने के लिए कनेक्टिविटी में सुधार के लिए बेहतर सड़कों के निर्माण कार्य पर भी जोर दिया है। पिछले एक साल से लद्दाख में जमीन पर 50,000 से अधिक सैनिकों की तैनाती के साथ सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर है। headtopics.com

इस दौरान भारतीय जवान कड़ाके की सर्दी के बावजूद भी उन स्थानों पर डटे रहे, जहां तापमान शून्य से 40 डिग्री सेल्सियस नीचे चला जाता है। पिछले महीने, भारतीय सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे ने कहा था कि चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की गतिविधियों पर नजर रखते हुए सेना एलएसी पर हाई अलर्ट पर है। नरवणे ने कहा कि भारत चाहता है कि अप्रैल 2020 की यथास्थिति बहाल हो। उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने चीन को स्पष्ट कर दिया है कि तनाव कम करने पर तभी विचार किया जाएगा, जब दोनों पक्षों की आपसी संतुष्टि के लिए अग्रिम स्थानों से सैनिकों की वापसी का काम पूरा हो जाए।

उन्होंने कहा कि भारतीय सैनिक हाई अलर्ट पर हैं और पैंगोंग नदी से हटने के बाद से तैनाती कम नहीं हुई है। सेना प्रमुख ने कहा कि चीन ने पूर्वी लद्दाख में लगभग 50,000 से 60,000 सैनिकों को तत्काल अंदर के स्थानों पर तैनात किया है, इसलिए भारत ने भी इसी तरह की तैनाती की है। समाधान खोजने के लिए कोर कमांडर स्तर पर 11 दौर की सैन्य वार्ता के बाद भी पैंगोंग में सैनिकों की पीछे हटने के बावजूद पूरी तरह से सैनिकों की वापसी को लेकर कोई सफलता नहीं मिली है। हॉट स्प्रग्सिं, गोगरा और 900 वर्ग किलोमीटर के देपसांग मैदानों जैसे अन्य विवाद वाले क्षेत्रों में सीमा विवादों को सुलझाने के लिए भारतीय और चीनी सेनाएं मिल चुकी हैं।

नरवणे ने यह भी कहा कि हम वर्तमान में हॉट स्प्रग्सिं, गोगरा और देपसांग जैसे अन्य विवाद वाले बिंदुओं पर बकाया समस्याओं को हल करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पैंगोंग झील क्षेत्र में सैनिकों के पीछे हटने से संबंधित समझौते के दौरान भारत का रुख वही रहा है कि अप्रैल 2020 की यथास्थिति को बहाल किया जाना चाहिए। सेना प्रमुख ने यह भी कहा कि दोनों देशों के बीच विश्वास का स्तर कम है, लेकिन उन्होंने कहा कि विश्वास की कमी बातचीत की प्रक्रिया में बाधा नहीं बननी चाहिए। पिछले साल 15 जून को गलवान घाटी में दोनों देशों की सेनाओं के बीच खूनी संघर्ष में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे।

नहीं बाज आ रहा चीन, एलएसी के पास एक बार फिर जुट गया अपनी सैन्य ताकत बढ़ाने मेंइस झड़प में चीन ने अपने चार सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि की थी। हालांकि कई रिपोर्ट्स में चीन के अधिक सैनिक मारे जाने की खबरें सामने आई हैं। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में भारत के शहीद हुए 20 सैनिकों में कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू भी शामिल थे। सैनिकों ने अब यहां सिर्फ 1.5 किमी की दूरी पर खासतौर पर अपना ध्यान केंद्रित किया है। संघर्ष के बाद, पेट्रोल प्वाइंट 14 नो पेट्रोल जोन बन गया और दोनों पक्षों 1.5 किमी पीछे हटे हैं, जिसके बाद यह क्षेत्र बफर जोन में बदल गया है। भारत ने पेट्रोल प्वाइंट 14 के पास चीन की निगरानी चौकी पर आपत्ति जताई थी, जिसके कारण झड़प हुई थी। headtopics.com

कोरोना देश में: एक्टिव केस की संख्या 4 लाख से नीचे आई, महाराष्ट्र एक करोड़ लोगों को वैक्सीन के दोनों डोज देने वाला पहला राज्य बना Tokyo Olympics: शूटिंग में निराशाजनक प्रदर्शन, Hockey में India की जबर्दस्त वापसी 9,000 करोड़ रुपए की बैंक धोखाधड़ी: विजय माल्या को ब्रिटेन की कोर्ट ने दिवालिया घोषित किया, अब दुनियाभर में उसकी संपत्ति जब्त कर सकेंगे भारतीय बैंक

इस झड़प से युद्ध जैसी स्थिति पैदा हो गई थी। पिछले साल अगस्त के अंत तक पैंगोंग झील का क्षेत्र एक युद्ध क्षेत्र में बदल गया था, क्योंकि भारत ने झील के दक्षिणी किनारे पर चीन की यथास्थिति को बदलने के इरादों को देखते हुए कैलाश रेंज में प्रमुख पर्वत शिखर पर अपना कब्जा सुनिश्चित कर लिया था। वर्तमान में पेट्रोल प्वाइंट 14 तक कोई गश्त नहीं की जा रही है। चीनी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए विभिन्न निगरानी विधियों के माध्यम से कड़ी निगरानी रखना आवश्यक है, क्योंकि वे बड़ी संख्या में मौजूद हैं, जो विवादास्पद बिंदु से बहुत दूर नहीं हैं। इसके अलावा, चीन अपनी निगरानी क्षमताओं को भी बढ़ा रहा है।

गलवान घाटी में मार खाए चीनी कमांडर की गीदड़भभकीसूत्रों ने कहा कि इसने पठारी संचालन क्षमताओं के साथ एक मानव रहित हवाई वाहन (यूएवी) विकसित किया है और इसे कैलाश पर्वत श्रृंखला में भारत के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात करने की योजना बनाई है। चीन ने एलएसी के तीन क्षेत्रों - पश्चिमी (लद्दाख), मध्य (उत्तराखंड, हिमाचल) और पूर्वी (सिक्किम, अरुणाचल) में सैनिकों, तोपखाने और अन्य युद्धक सामग्री को भी बढ़ाया है।

सांकेतिक तस्वीरNavbharat Times News App: और पढो: NBT Hindi News »

इन राज्यों में राहत की बारिश बनी भारी आफत? देखें तस्वीरें

बारिश ने पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों के लोगों के सामने लिए बड़ी मुश्किलें लाकर खड़ी कर दी. एक तरफ जहां पहाड़ों पर लोग भूस्खलन से जान गंवा रहे हैं तो दूसरी तरफ मैदानी इलाकों में बाढ़ ने कहर मचा रखा है. दरभंगा में बाढ़ के पानी से कुशेश्वरस्थान के लोग परेशान तो मध्य प्रदेश के कई जिले भी बाढ़ से त्रस्त हैं. सबसे बुरी हालात में महाराष्ट्र है जहां बारिश और बाढ़ से अबतक तकरीबन 112 लोग जान गंवा चुके हैं. इन सबके अलावा कर्नाटक से लेकर तेलंगाना तक में मौसम ने अपना कहर बरपा रखा है. देखें वीडियो.

LoC News: गोलाबारी तो बंद लेकिन एलओसी के पास के गांव अब पानी के लिए परेशानभारत न्यूज़: जम्मू-कश्मीर के तंगधार के 6 गांवों के लोगं पानी की कमी से परेशान हैं। इन गांवों के लोग पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) की तरफ से आ रहे पानी पर खेती के लिए निर्भर हैं। पाकिस्तान के साथ फ्लैग मीटिंग नहीं होने की वजह से इन गांवों में खेती के लिए पानी नहीं पहुंच पा रहा है।

चीन भारत सीमा विवाद: एक साल बाद क्या है गलवान घाटी की स्थिति - BBC News हिंदीभारत और चीन के सैनिकों के बीच बीते साल जून के महीने में गलवान घाटी में हिंसक झड़प हुई थी. कबीरा कहे रहीम से ऐसा भी दिन आयेगा. दूध-घी चढेगा पत्थर पर इंसान मूत्र पी जाऐंगा. कबीरसाहेब_की_52_लीलाएं जनता को याद दिलाने की गलती कर रहे है के साल भर बाद भी चीन भारत की जमीन हड़पे बैठा है और साहेब का लाल आँख काला पड़ गया ,डर नही लगता क्या ,56 इंच का सीना है अपने साहेब का ।

नफ़्ताली बेनेट इज़रायल के नए प्रधानमंत्री बने, बेंजामिन नेतान्याहू के 12 साल का कार्यकाल ख़त्मसंसद में बहुमत हासिल करने के बाद दक्षिणपंथी यामिना पार्टी के 49 वर्षीय नेता नफ्ताली बेनेट ने बीते रविवार को शपथ ली. नई सरकार में 27 मंत्री हैं जिनमें से नौ महिलाएं हैं. बेनेट ने वतर्मान विदेश मंत्री याइर लापिद के साथ एक साझा सरकार के लिए सहमत हुए थे, जिसके तहत बेनेट 2023 तक देश के प्रधानमंत्री के रूप में काम करेंगे, जिसके बाद लापिद 2025 तक यह भूमिका संभालेंगे.

नागपुर में वारदात: सात साल की बच्ची के साथ स्कूल के शौचालय में दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तारमहाराष्ट्र के नागपुर जिले में स्कूल के शौचालय में सात साल की बच्ची के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म करने के आरोप में एक व्यक्ति Kha gya knoon vyavstha kha gaye lagata hai aage bhi aisa hi hoga jab koi baat sunta nahi hai is des ka pradhanmantri modi khuch keh ta nahi kya desh ko sabhal raha hai apni apni bhan betiyo ko drindo se vachao veti hai to sab khuch hai

नागपुर: 7 साल की बच्ची के साथ स्कूल के टॉयलेट में रेप, आरोपी गिरफ्तारमहाराष्ट्र के नागपुर में एक 7 साल की एक बच्ची के साथ रेप की वारदात को अंजाम दिया गया है. लड़की स्कूल के प्ले ग्राउंड में खेल रही थी, तभी एक शख्स ने उसे जबरन उठाकर टॉयलेट में ले जाकर रेप किया. आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

Elon Musk के ट्वीट के बाद Bitcoin के भाव में फिर हुई बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट कीमतएलन मस्क के ट्वीट के बाद Bitcoin की कीमत में 9 प्रतिशत का उछाल आया है। इसकी वजह