Ground Report: अमृतसर में CM चन्नी का चलेगा जादू या केजरीवाल करेंगे कमाल, क्या कहते हैं लोग

ग्राउंड रिपोर्ट: अमृतसर के लोगों से जब चुनावी माहौल को लेकर बात की गई तो उनका कहना था कि यहां सबसे बड़ा मुद्दा बेरोज़गारी का है #GroundReport #Punjab #PunjabPolitics | @JournoAshutosh

Groundreport, Punjab

28-11-2021 11:35:00

ग्राउंड रिपोर्ट: अमृतसर के लोगों से जब चुनावी माहौल को लेकर बात की गई तो उनका कहना था कि यहां सबसे बड़ा मुद्दा बेरोज़गारी का है GroundReport Punjab Punjab Politics | JournoAshutosh

पंजाब के अमृतसर में चमकती इमारतों के बीच भी कई मुद्दे ऐसे हैं, जो लोगों के लिए मायने रखते हैं. चुनावी बयार के चलते ही ये मुद्दे सामने आने लगते हैं. यहां के लोगों का कहना है कि एक बड़ी आबादी के पास कोई काम नहीं है. तमाम युवा बेरोजगार हैं.

स्टोरी हाइलाइट्सलोग बोले: चन्नी से दिखी है उम्मीद की नई रोशनीगर्मियों के मौसम में बिजली समस्या यहां बड़ी समस्या हैपंजाब चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों ने कोशिशें तेज कर दी हैं. सभी पार्टियां विकास के दावे के साथ लोगों के बीच उतर रही हैं. अमृतसर के लोगों से जब चुनावी माहौल से लेकर बात की गई तो उनका कहना था कि यहां सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी का है. पढ़े लिखे युवाओं के पास काम नहीं है. किसान भी परेशान हैं.

यूपी चुनाव: नोएडा में छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के ख़िलाफ़ एफ़आईआर - BBC Hindi

अमृतसर को पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान विकास के बड़े सब्जबाग दिखाए गए थे. कई वादे किए गए थे. बादल की सरकार के सामने कांग्रेस खड़ी थी तो वहीं आम आदमी पार्टी भी चुनाव में उतरी थी. स्थानीय निवासी विक्रमजीत कहते हैं कि अब अमृतसर में विकास बड़े पैमाने पर हुआ है, लेकिन बेरोजगारी सबसे बड़ा मसला है.

विक्रमजीत के मुताबिक, जब से चरणजीत चन्नी मुख्यमंत्री बने हैं, तब से उन्हें उम्मीद की नई रोशनी दिखाई पड़ती है, लेकिन कहते हैं कि पिछले साढे चार सालों में कैप्टन अमरिंदर के कार्यकाल में उन्हें सिर्फ निराशा हाथ लगी. दूसरे निवासी गुरदीप का कहना है कि नए मुख्यमंत्री को आए अभी कुछ महीने ही हुए हैं. ऐसे में उन्हें वक्त दिया जाना चाहिए और मौका दिया जाना चाहिए, क्योंकि वह अच्छा काम कर रहे हैं. headtopics.com

कांग्रेस का वादा अब तक अधूराअन्य कई लोगों ने बताया कि फिलहाल बेरोजगारी अमृतसर के लिए सबसे बड़ा मुद्दा है, क्योंकि इसका वादा 2017 के चुनाव में भी कांग्रेस ने किया था, लेकिन वह वादा पूरा नहीं हुआ. अमृत सिंह मानते हैं कि इस चुनाव में भी ट्रक सबसे बड़ा मुद्दा है, क्योंकि वह धीरे-धीरे गांव गांव में फैल रहा है. इसको लेकर सरकार ने कभी कुछ नहीं किया, फिर चाहे वह बादलों की सरकार रही हो या फिर कैप्टन अमरिंदर के नेतृत्व वाली कांग्रेस की सरकार.

चुनाव आयोग ने पत्रकारों को भी पोस्टल बैलट के जरिए वोट डालने की दी इजाजत - BBC Hindi

अमृतसर के लिए बिजली समस्या भी बड़ा मुद्दाबिजली भी अमृतसर के लिए मुद्दा है. जसवंत मान कहते हैं कि सर्दियों में तो व्यवस्था ठीक है, लेकिन गर्मियों में बिजली कटौती होती है. ज्यादातर लोगों ने कहा कि फिलहाल महंगाई सबसे बड़ा मुद्दा है, क्योंकि पेट्रोल डीजल के साथ घर की दूसरी आवश्यक चीजें इतनी महंगी हो गई हैं, जिससे घर का बजट बिगड़ गया है. कुछ लोगों की राय यह है कि नए मुख्यमंत्री सही राह पर हैं और अगर उन्हें एक और मौका मिलता है तो शायद पंजाब के लिए वह बेहतर काम कर सकें.

एक अन्य नागरिक ने कहा कि आखिर यह महंगाई क्यों हुई. पिछली सरकारों ने काफी कर्जा लिया था. उसका ब्याज चुकाने के लिए केंद्र सरकार को तेल की कीमतें बढ़ानी पड़ीं. अमृतसर के रहने वाले किसान गुरपिंदर सिंह ने कहा कि दाल ₹200 किलो बाजार में मिलती है, लेकिन किसान को ₹32 प्रति किलो कीमत भी नहीं मिलती तो बंगाल में रहकर काम करने वाले सिमरनजीत ने कहा कि यह सब सियासत है. धर्म के नाम पर जाति के नाम पर लोगों को लड़ाने की कोशिश है.

खेतों में काम करने के लिए थोड़ा ज्यादा समय मिलेलोगों का कहना है कि अब जब खेती के लिए पर्याप्त समय नहीं है. ट्रेड बॉर्डर पर काम नहीं है तो ज्यादातर किसान बेरोजगार हैं. खाली हैं. ऐसे में अटारी रेलवे स्टेशन के पास ताश के पत्तों के साथ ही उनका दिन बीतता है. लोगों का कहना है कि बेरोजगारी सबसे बड़ा मुद्दा है जो पिछले चुनाव में भी थी, लेकिन इस तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया. वह यह मांग करते हैं कि उन्हें फेंसिंग के पार अपने खेतों में काम करने के लिए थोड़ा ज्यादा समय दिया जाए. यह इस साल चुनावी मुद्दा भी हो सकता है. headtopics.com

2 बिजनेसमैन और 2 एक्‍टर के पास ही है भारत में Tesla की इलेक्ट्रिक कार

बीएसएफ को मिले अतिरिक्त अधिकार से किसानों को कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन वह चाहते हैं कि सरकार उनकी बातें सुने और फेंसिंग के उस पार जाने वाले किसानों को खेती करने के लिए समय सीमा और बढ़ाई जाए. किसान कहते हैं कि हमें 3 बजे के पहले ही बीएसएफ वापस बुला लेती है और खेती में ज्यादा समय लगता है. हम चाहते हैं समय सीमा कम से कम 2 घंटे और बढ़ाई जाए.

युवाओं का भविष्य संकट में, नहीं है कोई कामसीमा के पास ही 200 मीटर दूर रोडा वाला गांव है. फिलहाल में कुछ पुलिस की भर्तियां निकली हैं, जिसके लिए कुछ बच्चों ने आवेदन भी दिया है, लेकिन इन युवाओं के लिए भी सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी ही है. अरोड़ा वाला गांव के रहने वाले युवाओं ने बताया कि बेरोजगारी इस बार भी सबसे बड़ा मसला है. कई सारे युवा पढ़े लिखे होने के बावजूद भी बेरोजगार हैं.

अमनदीप जैसे कुछ ऐसे युवा भी हैं, जिन्हें लगता है कि अब नौकरियों के लिए व्यवस्था होने लगी है, क्योंकि पुलिस समेत कई महकमों में भर्तियां निकाली गई हैं. कैप्टन अमरिंदर के नेतृत्व में कांग्रेस ने घर-घर रोजगार गारंटी कार्ड भी भिजवाए थे. पांच साल बाद जनता बेरोजगारी कार्ड लेकर खड़ी है. सीमावर्ती किसानों के अपने मसले हैं तो शहरी आबादी अपने मुद्दों के साथ चुनाव में नेताओं का इंतजार कर रही है.

Live TV

और पढो: AajTak »

UP Chunav 2022: Akhilesh Yadav के दांव से BJP को बड़ा झटका? देखें स्पेशल रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश से आज दो तस्वीरें सामने आईं. एक तस्वीर गोरखपुर में दलित के घर योगी आदित्यनाथ के खिचड़ी भोज की आई और दूसरी तस्वीर लखनऊ में बीजेपी के बागियों के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की. आज स्पेशल रिपोर्ट में हम आपको तस्वीरों के सियासी मतलब बताएंगे, यानी चुनाव से पहले इन तस्वीरों के मयाने क्या हैं? चुनाव से पहले टीम योगी के कई खिलाड़ी पाला बदल चुके हैं. अब ये मैच किसके लिए टफ होगा, किसके लिए आसान, ये देखना दिलचस्प होगा.

कोरोना के नए वैरियंट के कारण भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरे पर मंडराए संकट के बादलसाउथ अफ़्रीका में इस सप्ताह कोविड-19 का नया प्रकार सामने आया है। साउथ अफ़्रीका को यात्रा करने वालों के लिए यूके की लाल सूची में जोड़ा जाना है और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंध भी लगने की उम्मीद है।

कौन हैं उस्मान कवाला जिन्हें तुर्की के लिए ख़तरा मानते हैं अर्दोआन - BBC News हिंदीकवाला पर 2013 में तुर्की में हुए सरकार विरोधी प्रदर्शनों को अंजाम देने के आरोप हैं. अदालत ने उन्हें आरोपों से बरी भी कर दिया था पर सरकार ने कुछ ही घंटों में जासूसी और तख़्तापलट के नए आरोप उन पर लगा दिए. Ye Turkey ke prasidh Kauwa Vikreta hai 😬😳

'पाप का घड़ा फूटने वाला है' : नवाब मलिक के 'फंसाने की साजिश' के आरोप पर BJPमलिक ने आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की तरह कुछ लोग उन्हें झूठे मामले में फंसाने की कोशिश कर रहे हैं. Yes, lekin bjp ka OnlyMSPCanSaveFarmers FarmersProtest Karm ka fal to milta hi hai एकदम बराबर, भंगारसेठ तयार रहो

Amazon India के हेड को ED का समन, फ्यूचर ग्रुप डील में अनियमितता के आरोपअमेज़न इंडिया के खिलाफ फेमा का मामला इस साल जनवरी में दर्ज किया गया था. प्रवर्तन निदेशालय का यह समन दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा अमेज़न और मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के बीच अदालती लड़ाई पर कुछ टिप्पणियों के बाद आया है.

कोविड-19 के नए स्वरूप ‘ओमीक्रॉन’ के डर से दुनिया के देशों ने लगाईं यात्रा पाबंदियांविश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक समिति ने कोरोना वायरस के नए स्वरूप को ‘ओमीक्रॉन’ नाम दिया है और इसे ‘बेहद संक्रामक चिंताजनक स्वरूप’ क़रार दिया है. इस वायरस की सबसे पहले जानकारी 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में मिली. इससे संक्रमण के मामले बोत्स्वाना, बेल्जियम, हांगकांग और इज़रायल में भी मिले हैं. उoप्रo में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 8 माह पूर्व अप्रैल 2021 में संपन्न हुआ था जिसमें लगे 10,000 प्रांतीय रक्षक दल के पीआरडी जवानों नें ड्यूटी किया था जिसका मानदेय अभी तक नहीं मिला l युवा_कल्याण विभाग व सरकार से निवेदन है कि भुगतान करने की कृपा करें❗

डिस्को संगीत के 'किंग' हैं बप्पी लाहिरीबप्पी लाहिरी उन गिने-चुने संगीतकारों में शुमार किए जाते हैं जिन्होंने ताल वाद्य-यंत्रों के प्रयोग के साथ फिल्मी संगीत में पश्चिमी संगीत का सम्मिश्रण करके 'डिस्कोथेक' की एक नई शैली ही विकसित की bappilahiri HappyBirthday