FCRA: मोदी सरकार ने छह सालों में क्या NGO के लिए एक मुश्किल दौर बनाया है? - BBC News हिंदी

FCRA: मोदी सरकार ने छह सालों में क्या NGO के लिए एक मुश्किल दौर बनाया है?

28-09-2020 18:36:00

FCRA: मोदी सरकार ने छह सालों में क्या NGO के लिए एक मुश्किल दौर बनाया है?

राज्यसभा में एफ़सीआरए बिल बुधवार को पारित किया गया है जो ग़ैर-सरकारी संस्थाओं के विदेशी फ़ंडिंग को लेकर है. सिविल सोसायटी इस नए क़ानून को देश के एनजीओ के लिए बड़ा ख़तरा मान रही है.

इस बदलाव के पीछे क्या राजनीतिक मंशा है?इस नए संशोधन में फ़ंड्स को सब-ग्रांट करने पर भी रोक लगा दी गई है. जिसका मतलब है कि अब बड़ी एनजीओ छोटी एनजीओं को फ़ंड नहीं दे सकेंगी. आम तौर पर कई बार कई सारी एनजीओ मिलकर काम करती हैं और मिलने वाले फ़ंड बड़ी संस्थाओं की ओर से छोटी संस्थाओं को दे दिया करती थीं.

Saran: रवि किशन बोले- राम मंदिर देख कर मरूंगा, जीते जी मोक्ष मिल गया निकिता मर्डर केस: आरोपी रसूखदार, इंसाफ कब होगा सरकार? मुंबई में आतंकी हमले का अलर्ट, पुलिस ने ड्रोन उड़ाने पर लगाई एक महीने की रोक

सब-ग्रांटिंग पर लगी रोक को लेकर अमिताभ कहते हैं, ‘’सबग्रांट पर रोक है यानी बड़ी एनजीओ जो छोटी एनजीओ को ग्रांट बाँट दिया करती थीं वह रोक दिया गया है. ऐसे में जो मिलकर समन्वय के साथ काम करने की धारणा थी वो ख़त्म कर दी जा रही है. अब बड़ी संस्थाएं जो दिल्ली, बेंगलुरु, मुंबई में बैठी हैं उन्हें नए लोगों को नौकरी पर रखकर संस्था का फैलाव कराना होगा. अब तक हमें अगर पाँच करोड़ मिल गए तो हम सुदूर इलाक़ों में काम करने वाली छोटी संस्थाओं को बाँट देते थे और वह संस्थाएं ज़मीन से जुड़ कर काम करती थीं, लेकिन अब हम ये नहीं कर सकते. इन नए संशोधन में ऐसे बदलाव क्यों किए गए हैं इसका कोई तर्क नहीं समझ आता लेकिन फिर भी इसे क़ानून बना दिया गया है. ये एक के बाद एक ऐसे फ़ैसले किए जा रहे हैं जिनके पीछे कोई तर्क नज़र नहीं आता.‘’

‘’देखिए बिना राजनीतिक मंशा को समझे इस नए संशोधन को समझा ही नहीं जा सकता. आख़िर क्यों सरकार चाहती है कि छोटी एनजीओ को सब ग्रांट ना किया जाए, अगर मैं दिल्ली में बैठ कर फ़ंड का आवंटन, दुमका-झारखंड, बिलासपुर- छत्तीसगढ़ में ऐसी संस्थाओं को दे रहा हूं जो वहां के लोगों की मदद करें तो इसमें दिक़्क़त क्या है, मक़सद तो यही है कि ज़रूरतमंदों की मदद हो.‘’

इमेज स्रोत,Getty Imagesइनग्रिट श्रीनाथ भी सब-ग्रांटिंग पर लगी रोक पर हैरानी जताते हुए कहती हैं, ‘’ये नियम पहले से ही तय हैं कि उन्हीं एनजीओ को सब-ग्रांट दिया जाता है जो FCRA के तहत रजिस्टर्ड हैं. ये डेटा सरकार की वेबसाइट पर होता है. लेकिन सब ग्रांट पर रोक लगा दिया गया है इससे छोटी-छोटी संस्थाएं ख़त्म हो जाएंगी, वो संस्थाएं जो सक्षम नहीं हैं सीधे फ़ंडिंग पाने में वो बड़ी संस्थाओं के ज़रिए जैसे सेव द चाइल्ड, ऑक्सफ़ैम, प्रथम, अक्षयपात्र जैसी संस्थाओं के ज़रिए ही तो मदद पाती हैं. वो भी छीन लिया गया है. ‘’

नियमों के मुताबिक़ उन्हीं संस्थाओं को सब ग्रांट दिया जा सकता है जो FCRA के तहत रजिस्टर्ड हों. गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर हर तीन महीने में हर एनजीओ को अपना फ़ंड का ब्यौरा अपलोड करना पड़ता है.अमिताभ कहते हैं, ‘’मैं मानता हूं कि बाक़ी सेक्टर से ज़्यादा जवाबदेही सिविल सोसाइटी सेक्टर पर रखी जाए क्योंकि हम सवाल पूछते हैं और हमारे घर पहले साफ़ होने चाहिए. लेकिन क्या छोटे एनजीओ को सब ग्रांट नहीं देने से जवाबदेही बढ़ जाएगी? क्या एसबीआई की नई दिल्ली ब्रांच में ही विदेशी फ़ंड आने से जवाबदेही बढ़ जाएगी? आप ये कहना चाह रहे हैं कि स्टेट बैंक को छोड़ कर किसी और बैंक पर यक़ीन नहीं है सरकार को. ये कितनी हैरानी वाली बात है कि सरकार कह रही है अन्य नैशनलाइज़्ड बैंक, बड़े प्राइवेट बैंक जो आरबीआई के नियमों के तहत काम करते हैं वो ट्रांज़ैक्शन में पारदर्शिता नहीं रख पाएंगे. ये हँसने जैसा तर्क लगता है. संदेह है तो सवाल पूछिए. हर तीन महीने में चैरिटी करने वाले से और कितने पैसे मिले इसका ब्यौरा सरकार की वेबसाइट पर हमें शेयर करना होता है और इससे ज़्यादा जवाबदेही क्या हो सकती है."

ये भी पढ़ें और पढो: BBC News Hindi »

पूर्व सॉलिसिटर जनरल 65 साल के साल्वे 56 साल की आर्टिस्ट से शादी करेंगे, सिर्फ 15 मेहमान आएंगे

देश के पूर्व सॉलिसिटर जनरल हरीश साल्वे दूसरी शादी करने जा रहे हैं। 38 साल लंबी शादीशुदा जिंदगी के बाद वह जून में अपनी पत्नी मीनाक्षी साल्वे से कानूनी रूप से अलग हो गए थे। उनकी होने वाली हमसफर कैरोलिन ब्रोसार्ड लंदन में रहती हैं और पेशे से आर्टिस्ट हैं। दोनों 28 अक्टूबर को चर्च में शादी करेंगे। | Harish Salve Wife: Advocate Harish Salve Second Marriage Announcement Update | Know Who Is Caroline Brossard

ईति भीति जनु प्रजा दुखारी।। प्रधानमंत्री केअर फंड में जितना पैसा दानियों ने दान किया है क्या प्रजा में वितरित कर दिया गया होता तो प्रजा दुःखी रहती राज के लिए दो गज की दूरी ताक पर रखी जा रही है क्या जनसभा में दो गज की दूरी बन पाएगी Yes एनजीओ हमारे देश को गलत रास्ते पर ले जाते हैं विदेशी बनियों की तरह देश चलाते हैं विदेशी ताकतों की बात सुनते हैं विदेश का एजेंडा हमारी हां चलाते हैं

NGO के नाम पर भारत विरोधी पैसा आता है जो आंदोलन के नाम पर आतंक और देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त होते हैं। ये सामाजिक कार्य कम दंगे में इस्तेमाल होते हैं। NGO जनकल्याण के नाम पर धर्मांतरण कराते थे. इन मिशनरियों को सीधे सोनिया माइनो का संरक्षण प्राप्त था. ये NGO धर्मान्तरण तो कराते ही थे देश विरोधी कार्यों में भी लिप्त रहते थे. हम सरकार के कार्यों का समर्थन करते हैं.

बिल्कुल उन NGO के लिए जरूर मुश्किलें खड़ी हुई है जो धर्मांतरण में लगी थीं, भोलेभाले लोंगो को ईसाई बना रही हैं। हम सरकार के इस कदम का स्वागत करते हैं और अपेक्षा करते हैं कि जो भी संस्थाए धर्मान्तरण में लगी हैं उन पर और कठोर कार्यवाही होना चाहिए। Modi ne PMOPG/E/2017/0343230 me likha ki 70yrs old cancerpatient Ex army man ki jamin hadapna uske bete ka apharan murder ang Varanasi men(samvidhan ke tino ango ke numayindo dwara) bechna crime nahin hai CASE CLOSED without FIR/CBI Inq in support of criminals adgpi aajtak

मोदी ने देश के लिए अल्प समय में जितना काम किया है वह पूर्व में किसी ने नहीं किया इसलिए मोदी पर भारत वासियों को गर्व है Ye to hona hi ta koi Marta h mare sarkar ke konse apne bacche h...gareeb h phle se hi Marte aaye h aj kch nya hoga is ummid se aj Mar jayege FCRA का पैसा कोई भी परियोजना के सैंक्शन होने वा बजट अप्रूवल के बाद ही मिलता हैं,इसका ऑडिट विभिन्न स्तर पर हर वर्ष होता है,अक्सर यह पैसा सरकारी सामाजिक उद्देश्य (MOU द्वारा)को प्राप्त करने के लिए NGO अपनी Tec, Managerial &Operational support देती है,आतंकवाद से जोड़ना हास्यास्पद है

Rumer only,some people and media is against development of India. कशमीर में सेकलुरिज्म की सारेआम हत्या मुस्लमानों, वामपंथियों व कांग्रेसियो ने मिलकर कर दिया तो क्या मुसलमानों वामपंथियों व कांगरेसियों के रहते भारत का सेकलुरिज्म सुरक्षित रह पायेगा मोदी जी की बेहतरीन कामों में से एक हैं आतंकवाद व हवाला पोषड़ करनेवाले NGOs की ऐसी तैसी करना

NGO की आड़ मे आतंकवाद व हवाला का धंधा करने वालोँ की तहें दिल से बजा कर रखा दिया मोदी जी ने और पता नहीं क्यों बिलबिला बीबीसी रहा हैं। निश्चित रूप से क्योंकि सारा कडा बदलवा गैर सरकारी के लिए बाकी राजनैतिक दल के लिए कोई खास फर्क नही पड़ा उसी का परिणाम है कि राजनैतिक दलों के विदेशी चंदे बड़े हैं। दूसरा सरकार संगठनो को कमजोर कर अपने निर्णय के किसी विरोध करने वालो को कम करती जा रही है।

हां फर्जी एनजीओ बंद हो गए है मोदी सरकार ने छह सालों में क्या NGO के लिए एक मुश्किल दौर बनाया है? Is this your ouestion ? or your Answer ? Aab sach me lag rha h ki BBC ko v milne wala fund band ho rha h😂😂😂 राजनीतिक पार्टियों के चंदे पर भी कानून बनना चाहिए एवं उसपर निगरानी के लिए विशेष कार्यालय और कार्यकुशल अधिकारी नियुक्त होने चाहिए। fraud_is_the_new_trend_of_canarabank

Boycott BBC news channels AND UK नकेल कस दिया जो बाहरी पैसे एनजीओ के नाम पर लेते थे लेकिन सरकार को इसके खर्च का विवरण नहीं देते है और यह बात संसद में मनमोहन जी ने स्वीकारें थे लेकिन सोनिया जी के कारण कोई ठोस कार्रवाई नहीं किए आज ईमानदार एनजीओ अच्छे से काम कर रहे है और बेइमान एनजीओ मुश्किल के दौर से गुज़र रहें है

ingridsrinath 'बाप का, मा का, चाचा का, दादा का सब का बदला लेगा तुम्हारा फैजल' ः अमित शाह जनकल्याण की आड़ में विदेशी षड्यंत्रकारियों से चंदे के नाम पर पैसा लेकर भारत के खिलाफ इस पैसे का इस्तेमाल देश में आतंकवाद, प्रगति को रोकने और धर्म परिवर्तन के लिए किया जा रहा है। मोदी सरकार द्वारा उठाए गए सख्त कदम सराहनीय और देश की एकता अखंडता उन्नति के लिए अति आवश्यक है।

We appeal to Maruti_Corp MSArenaOfficial to support the youths of Haryana Mewat district by setting up their factory plant in Mewat which will create jobs for the youth. MewatNeedMarutiPlant Flutebaba02 Districtnuh cmohry guddu_siddiqui narendramodi mlkhattar अरे वाह East India Company नहीं स्किल डेवलपमेंट की योजना में कई लोगो को रोजगार दिया साथ ही छात्रों को प्रशिक्षण के बाद जॉब भी मिली। बूम आया था ngo में कितने ही संस्थान खुले थे कुकुरमुत्ते की तरह बीबीसी को फंडिंग में दिक्कत आई है लगता है चीन और अलकायदा से।?

Arre BBC Pakistan ke dalle ye rules terrorists fund ko rokne ke liye Hai 😂 बच्चों की फोटो अपने एजेंडे के लिए यूज करना अब नया नहीं है। NGO वाले काले धन को सफ़ेद और सफ़ेद धन को काला करने का खेल करते आये हैं ये हिन्दूस्तान विरोधी चैन्नल की जरुरत नही है अब। कल राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद कृषि बिल कानून बन गया। जिस किसान के घर आय का अतिरिक्त कोई साधन नही है उसके पास कर्ज और बदहाली के अलावा खोने को कुछ भी नही है।इसलिए यह बिल शुद्ध किसानों का नुकसान तो कर ही नही सकता, इससे लाभ क्या होगा यह भविष्य बताएगा।

अब मुझे यकीन हुआ की मोदी ने FCRA का कोई नया कानून बनाया है। और BBC अगर इसके खिलाफ है तो मतलब कुतिया बिलबिला रही है मतलब इंट सही जगह लगी है। FCRA is open for golden temple gurudwara..now foreigners can donate money & feed the poor people & it's clotfor rice bags converter Han conversation & Naxal finance mafia ki halat kharab ho gayi h

Tu chu.. hai BBC walo

सब ठीक है तो लद्दाख में भारत-चीन के तनाव का हल क्या है?सबकुछ ठीक है तो लद्दाख में भारत-चीन के तनाव का हल क्या है? यह सवाल जितना गंभीर है, पूर्व विदेश सचिव शशांक जैसे कूटनीति PMOIndia डंडा चड़ाए रखना ही एक मात्र हल है । IndiaChinaBorderTension ChinaIndiaFaceoff PMOIndia चिन अंतरराष्ट्रीय अस्तर पर कुख्यात हो गया है, जिसमें चीन एक मौन विश्व युद्ध लड़ रहा है। भारत-चीन सीमा पर भारतीय सैनिकों की तैनाती, और चीन पर विश्व आर्थिक प्रतिबंधों की पहल, वर्तमान के लिए चीन को झटका देगी। PMOIndia सब तो ठीक का क्या करें जब राजा को नाम तक लेने से डर लग रहा हो

देशभर में जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच कृषि बिलों को राष्ट्रपति ने दी मंजूरीभारत न्यूज़: president approves agricultural bill: किसानों और राजनीतिक दलों के लगातार विरोध के बीच राष्ट्रपति ने मॉनसून सत्र में संसद से पास किसानों और खेती से जुड़े बिलों पर अपनी सहमति दे दी है। किसान और राजनीतिक दल इस विधेयकों को वापस लेने की मांग कर रहे थे। rashtrapatibhvn Black day for Democracy rashtrapatibhvn भारत देश में महामहिम राष्ट्रपति बिना हड्डी का जानवर है जो अपने मन से कुछ भी नहीं कर सकता। 303 के डर से उसे सब कुछ वही मानना पड़ता है जो वह चाहते हैं।

रिपोर्ट में खुलासा: उइगरों के सफाये के लिए चीन में 8,500 मस्जिदें ध्वस्त या बंदचीन ने अपने देश में उइगर जातीय समुदाय को खत्म करने का अभियान छेड़ते हुए हाल के वर्षों में कई प्रमुख धर्मस्थल और मस्जिदों जो हिटलर की राह चलेगा वो कुत्ते की मौत मरेगा फारूक अब्दुल्ला को चीन बहुत अच्छा लग रहा है इसको भेजो उधर वैसे भी ये सिर्फ आतंक ही फैलाते है10 में से 7 तो उसी काम लगे रहता है ।यदि मुसलमानों को अपनी और अपने कोम कि इज्जत प्यारी है तो इनको अपने सोच में बदलाव करना होगा ।धर्म के आधार पर सोचना बंद करना होगा ।अपने कि साबित करना होगा कि वो कहीं भी रहे वो मानवता के साथ है ना कि नरसंहार के साथ

Kshitij Prasad के आरोपों के बाद जांच एजेंसी भी सवालों के घेरे में, देखें रिपोर्टकरण जौहर के पूर्व कर्मचारी क्षितिज के वकील के सनसनीखेज बयान से एनसीबी भी घिर गई. बडे वकील सतीश मानशिंदे ने कहा कि - क्षितिज को करण जौहर का नाम लेने के लिए टॉर्चर किया गया. एनसीबी ने मानशिंदे के आरोप को गलत बता दिया. लेकिन अब जांच एजेंसी भी सवालों के घेरे में जरूर आ गई. रविवार को कोर्ट में पेशी के दौरान क्षितिज प्रसाद ने मजिस्ट्रेट के सामने सनसनीखेज आरोप लगाकर करण जौहर का मामला फिर से गर्मा दिया. क्षितिज प्रसाद के वकील सतीश मानेशिंदे ने आरोप लगाया कि NCB क्षितिज पर करण जौहर का नाम लेने का दबाव बना रही है. उनको परेशान किया गया, थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया गया, ब्लैकमेल भी किया गया. देखें वीडियो. ये माल शब्द भी कमाल हैं. हम गांव वाले माल अपने पालतू पशुओं को कहते हैं. अमली लोग नशे को माल कहते हैं. परन्तु ये दीपिका जी पता नहीं किस समाज से आई हैं जो सिगरेट को माल, पतली सिगरेट को हेश कहती हैं पर गांजा, और कोकीन के अर्थ भी बता देगी. 😂😂😂 WHO SAVE TO WHOM & WHY DELHI POLICE BEHIND HIWARKAR WHY !

पंचक क्या है, क्यों लगता है, क्या होता है असरधनिष्ठा, शतभिषा, उत्तरा भाद्रपद, पूर्वा भाद्रपद व रेवती नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग को 'पंचक' कहा जाता है।

शिवसेना अगर नहीं मानती है तो पवार को एनडीए के साथ आना चाहिए: रामदास अठावलेशिवसेना अगर नहीं मानती है तो पवार को एनडीए के साथ आना चाहिए: रामदास अठावले BJPShivsena RamdasAthawale NDA PawarSpeaks BJP4India rautsanjay61 PawarSpeaks BJP4India rautsanjay61 kindly kind attention sir Aapko pura Gachh lakar Mila Dena chahate hai.maltimedia world. PawarSpeaks BJP4India rautsanjay61 तब वैचारिकता का क्या होगा PawarSpeaks BJP4India rautsanjay61 पवार एनडीए में तभी आयेंगे जब उनके चेकलिस्ट में सब ओके होगा....लेकिन तब एनडीए ही खण्ड खण्ड हो जायेगा।